News Today Time

Headline Today

Language Translation

Loading...

Join us

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शिया थीं मुमताज, इसलिए हमारा है ताज, संप्रदाय के लोगों की मांग

Written By Bureau News on Monday, November 24, 2014 | 10:12 PM



    आगरा।। अखिलेश सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर आजम खान ने हाल ही में मांग की थी कि ताजमहल को सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को सौंप दिया जाना चाहिए. आजम के बाद अब शिया संप्रदाय के लोगों ने मांग उठाई है कि ताज को शिया वक्फ बोर्ड को दिया जाना चाहिए. लखनऊ के इमाम-ए-रजा कमिटी के प्रेजिडेंट फय्यर हैदर ने दलील दी कि मुमताज शिया थीं, इसलिए ताजमल को शिया वक्फ बोर्ड को सौंप दिया जाना चाहिए. हैदर की इमाम-ए-रजा कमिटी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को इस बारे में चिट्ठी भी लिखी है.
   हैदर ने अपने बयान में ताजमहल को एक ‘शिया इमारत’ करार दिया है. उन्होंने कहा कि ताजमहल निश्चित तौर पर एक मकबरा है और इसके पश्चिमी भाग में मस्जिद है. मस्जिद के पास एक हौज (पानी का टैंक) है. पारंपरिक रूप से देखा जाए तो शिया ही नमाज से पहले वजू (हाथ मुंह धोने की प्रक्रिया) करते हैं. अपनी इस बात को साबित करने के लिए उन्होंने ताजमहल के आर्किटेक्ट से जुड़े ‘सबूत’ भी दिए. उन्होंने कहा, ताज के पूर्वी हिस्से में एक हॉल है जहां धार्मिक सभाओं और मुहर्रम के दौरान मातम (शोक मनाने) के लिए लोग इकट्ठे होते हैं. हैदर ने कहा कि मुमताज को पहले अस्थाई तौर पर बुराहपुर में दफनाया गया था. उसके बाद मुमताज का शरीर ताज में लाकर दफनाया गया. हैदन ने दावा किया कि यह भी एक शिया रिवाज है जिसे ‘मिट्टी सौंपना’ कहते हैं.
    शिया धर्मगुरुओं का समर्थन प्राप्त इस कमिटी के धर्मगुरुओं के मुताबिक, सबको मालूम है कि ताज मुमताज एक शिया थीं और महल उनके लिए बनवाया गया था. इसलिए इसे शिया वक्फ बोर्ड को सौंप दिया जाना चाहिए. हालांकि ताज में शाहजहां की भी कब्र है जो कि एक सुन्नी थे. फिर भी कम से कम ताज का आधा हिस्सा तो शिया वक्फ बोर्ड को सौंपा ही जाना चाहिए. इस समय ताज की जिम्मेदारी आर्कियॉलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के पास है.
10:12 PM | 0 comments | Read More

पत्रकार से मारपीट मामले में पत्रकारों ने एसपी से मांगा न्याय

   सिरसा।। पत्रकार राम माहेश्वरी से मारपीट मामले को लेकर पत्रकारों ने सोमवार को एस.पी. मितेश जैन से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपकर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। एस.पी. ने पत्रकारों को न्याय का आश्वासन दिया और मामले की जांच डी.एस.पी. को सौंप दी। ज्ञापन में पत्रकारों ने जिक्र किया है कि बीती 16 नवम्बर रविवार की रात सुरतगढिय़ा बाजार में पंजाब केसरी (जांलधर) के संवाददाता राम माहेश्वरी के साथ रानिया रोड निवासी सुरखाब के पूर्व ठेकेदार रमेश अरोड़ा एवं उसके साथियों ने शराब के नशे में न केवल मारपीट की, बल्कि जान से मारने की धमकियां भी दी। इस बाबत तमाम पत्रकारों की ओर से 17 नवम्बर को शहर थाना प्रभारी सुरेश पाल को शिकायत सौंपी गई, मगर थाना प्रभारी द्वारा इस मामले में उचित कार्रवाई नहीं की गई। कार्रवाई के नाम पर औपचारिकता का निर्वहन किया गया। पत्रकारों ने एस.पी. से मांग की कि मामले में उचित कार्रवाई की जाए, ताकि चौथे स्तम्भ के कलमकारों को न्याय मिले। एस.पी. ने तुरंत मामले की जांच डी.सी.पी को सौंपते हुए उचित कार्रवाई का भरोसा पत्रकारों को दिलाया। इससे पूर्व मीडिया सैंटर में सभी पत्रकारों ने बैठक की। बैठक के बाद सभी एस.पी. को ज्ञापन सौंपने के लिए रवाना हुए।
10:12 PM | 0 comments | Read More

पंजाब में भाजपा का मिशन 2017 शुरू - अकाली दल में होगी सेंधमारी

   सिरसा।। हरियाणा विधानसभा चुनाव में भाजपा की सहयोगी शिरोमणी अकाली दल (बादल) की भाजपा विरोधी जनसभाओं से खफा भाजपा ने अकाली दल को राजनीतिक झटका देने के लिए मिशन-पंजाब 2017 पर अमली जामा पहनाने का काम शुरू कर दिया है। हरियाणा में भाजपा को सत्ता तक पहुंचाने के लिए डेरा सच्चा सौदा की अहम् भूमिका रही है। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत गुरमीत राम रहीम सिंह का अकाली दल से छत्तीस का आंकड़ा है और पिछले 8 वर्ष से उन्होंने पंजाब में जाने से दूरी बनाई हुई है। डेरा मुखी भाजपा की बैसाखी के सहारे पंजाब में दस्तक देना चाहते है और भाजपा भी डेरामुखी की मदद से पंजाब में अकाली दल को हरियाणा में भाजपाई विरोध का सबक सिखाना चाहती है। भाजपाई दिग्गज, जहां अकाली दल की सरकार को आड़े हाथों ले रहे हैं, वहीं भाजपा ने संघ की मदद से अकाली दल के वोट बैंक में सेंधमारी शुरू कर दी है। 
    पंजाब में गठित नए युनाईटिड अकाली दल को इस कडी में देखा जा रहा है, हालांकि नवगठित युनाईटिड अकाली दल ने राजनीति में गंदगी को साफ करना उद्देश्य बताया है। यूनाईटिड अकाली दल में जुड़े ज्यादातर राजसी दिग्गज शिरोमणी अकाली दल से संबंधित रहे है। इन राजसी दिग्गजों ने पंजाब की मौजूदा स्थिति के बादल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि कमजोर और दिशाहीन हो चुकी परिवारवाद की राजनीति से पंजाब दिन-प्रतिदिन पिछड़ रहा है। भाजपा ने अकाली दल से चल रही आंख मिचौली के चलते बादल का विकल्प ढूंढना शुरू कर दिया है। भाजपा ने अकाली दल से खफा तथा विरोधी राजसी दिग्गजों से भाजपाई का जनसंपर्क अभियान शुरू हो चुका है और उन्हें बादल एंड कंपनी के राजनीतिक पर कुतरने के लिए कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है, पर मंथन शुरू किया जाने लगा है। सिख मतदाताओं से संपर्क बढ़ाने के लिए भाजपा तथा संघ ने सक्रियता बढ़ा दी है। 
   सूत्रों के मुताबिक पंजाब की मौजूदा राजनीतिक तस्वीर में शिरोमणी अकाली दल के ग्राफ में दिख रही गिरावट से भाजपा को उम्मीद है कि वे मोदी लहर के झूले में झूलकर विजयी परचम लहरा सकती है। शिरोमणी अकाली दल ने पंजाब मिशन 2017 से निपटन के प्रयास शुरू कर दिए है। श्री अकाली तख्त साहिब सचिवालय से 17 मई 2007 को जारी हुकमनामा में हुई तबदीली को राजनीतिक कार्ड के रूप में देखा जा रहा है। श्री अकाल तख्त साहिब द्वारा जारी आदेश के दूसरे पैराग्राफ में पंजाब, हरियाणा, व केंद्र सरकार को तोडऩा का उल्लेख था, मगर शिरोमणी गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के विद्वान लेखक सचिव के रूप में पहचान रखने वाले स. रूप सिंह द्वारा नव संपादित पुस्तक हुकमनामे आदेश, संदेश श्री अकाल तख्त साहिब के पृष्ठ नम्बर 256 पर प्रकाशित है, जिसमें बड़ी चतुराई से इस हुकमनामे में मात्र किसी प्रकार का धार्मिक, सामाजिक, भाईचारक या राजसी संबंध न रखने को कहा गया है। स. रूप सिंह कहते है कि उन्होंने जिसका जिक्र किया है, वह उन्हें श्री अकाल तख्त साहिब के सचिवालय से प्राप्त हुआ है। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के विरूद्ध जारी 17 मई 2007 के अहम् हुकम में तबदीली संकेत देती है कि अकाली दल डेरामुखी के प्रति नर्म हो गया है, ताकि पंजाब में डेरा के श्रद्धालु भी उनके प्रति नर्म रूख बनाए रखें। पंजाब में भाजपा का अकाली वोट बैंक में सेंधमारी के प्रयास तथा अकाली दल द्वारा बचाव के प्रयासों की तीव्रता ने राज्य की राजनीति में उथल-पुथल मचा दी है।
9:30 PM | 0 comments | Read More

झारखंड की 13 सीटों के लिए चुनाव प्रचार समाप्त

    रांची।। झारखंड विधानसभा के लिए हो रहे चुनावों के प्रथम चरण में कल 13 सीटों पर मतदान होना है और इन सीटों के लिए चुनाव प्रचार थम गया है। अधिकतर सीटों पर बहुकोणीय मुकाबला है। रविवार की शाम पलामू मंडल, लातेहार और गुमला की कुल 13 नक्सल प्रभावित विधानसभा सीटों के लिए चुनाव प्रचार थम गया है। इन सीटों पर मतदान कल होगा जिसके लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। डाल्टनगंज और लातेहार के चंदवा में 21 नवंबर को अपनी चुनावी सभाओं में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सत्ताधारी झारखंड मुक्ति मोर्चा की 'बाप-बेटे की राजनीति और कांग्रेस के 'परिवारवाद' पर हमला बोलकर यहां प्रचार अभियान में गर्मी ला दी थी। इसके जवाब में कल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने डाल्टनगंज और गुमला में अपनी सभाओं में मोदी को 'सिर्फ शब्दों का बाजीगर' बताते हुए आरोप लगाया कि वास्तव में भाजपा सरकार ने ही झारखंड को बर्बाद किया और केन्द्र में सरकार बनने के बाद जनहित के कोई कार्य नहीं किए।
    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान झारखंड की खनिज संपदा की तुलना आस्ट्रेलिया की प्राकृतिक संपदाओं से की और कहा कि इतनी अकूत संपदा होने के बावजूद यदि झारखंड आज पिछड़ा है तो उसका कारण यहां की राजनीतिक अस्थिरता है। पलामू में जहां कांग्रेस अपने तेजतर्रार नेता और विधायक कृष्णानंद त्रिपाठी की छवि तथा परिश्रम पर भरोसा कर रही है वहीं भाजपा मोदी की लहर के भरोसे है। पहले दौर के लिए चुनाव प्रचार में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जहां प्रधानमंत्री मोदी पर लोगों के हाथ में विकास के नाम पर झाड़ू पकड़ाने का आरोप लगाया वहीं राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने भाजपा पर सांप्रदायिकता फैलाने का आरोप लगाया। 
   इस दौरान नक्सलियों ने भी कुछ नेताओं के प्रचार वाहनों में आग लगाकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में कल जिन 13 सीटों पर मतदान होना है वहां कुल 199 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें लोहरदग्गा से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखदेव भगत, हुसैनाबाद से पूर्व मंत्री और भ्रष्टाचार के आरोपों में जेल जा चुके कमलेश सिंह, डाल्टनगंज से पूर्व विधानसभाध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी के बेटे दिलीप सिंह नामधारी शामिल हैं। छतरपुर :सु: से भाजपा ने कांग्रेस से आए राधाकृष्ण किशोर को राजद के मनोज सिंह के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारा है। छतरपुर से ही जदयू के टिकट पर सुधा चौधरी और सपा के टिकट पर पूर्व नक्सली तथा पूर्व सांसद कामेश्वर बैठा चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे हैं। गढ़वा में राजद के प्रदेश अध्यक्ष गिरिनाथ सिंह का मुकाबला भाजपा के सत्एन्द्र नाथ तिवारी से है जो झाविमो से आए हैं। लातेहार (सु) सीट से भाजपा ने पूर्व सांसद ब्रजमोहन राम को झाविमो के पूर्व विधायक प्रकाशराम और झामुमो के मोहन गंजू के खिलाफ उतारा है।
     पांकी में कांग्रेस के विदेश सिंह और भाजपा के अमित कुमार तिवारी आमने सामने हैं। मनिका (सु) सीट पर भाजपा ने अपने निवर्तमान विधायक हरिकृष्ण सिंह को मैदान में उतारा है जबकि वहां से झामुमो ने शिल्पा कुमार और कांग्रेस ने मुनेश्वर उरांव को टिकट दिया है। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सीपी सिंह ने दावा किया कि पूरे देश की तरह ही झारखंड में भी भाजपा की लहर है और नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में, प्रथम चरण की तेरह सीटों में से अधिकतर सीटें उनकी पार्टी जीतेगी। दूसरी तरफ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत और झामुमो के नेता एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपनी अपनी पार्टियों की बहुमत से जीत का दावा किया है।
9:28 PM | 0 comments | Read More

जम्मू...कश्मीर चुनाव : पहले चरण में तीन हजार से ज्यादा कश्मीरी पंडित पंजीकृत मतदाता

    जम्मू।। जम्मू...कश्मीर विधानसभा के पहले रचरण के चुनाव में कम से कम 3441 कश्मीरी पंडित मतदाता बैलट मतपत्रों के माध्यम से अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। प्रथम चरण के तहत कल मतदान होगा। कश्मीर घाटी के पांच विधानसभा क्षेत्रों में 25 नवम्बर को पहले चरण में मतदान होगा। इसके साथ ही जम्मू और लद्दाख क्षेत्र के नौ अन्य विधानसभा क्षेत्रों में भी कल ही मतदान होना हैं। 15 विधानसभा क्षेत्रों में 1900 मतदान केंद्र बनाए गए हैं जहां कुल मतदाताओं की संख्या दस लाख 50 हजार 250 है जिनमें पांच लाख 49 हजार 698 पुरूष और पांच लाख 539 महिलाएं हैं। 123 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनमें सात मंत्रियों सहित 12 वर्तमान विधायक हैं।
    राज्य चुनाव विभाग से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक कश्मीर घाटी के बांडीपुरा और गांदरबल जिले के पांच विधानसभा क्षेत्रों के चार में कल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए 3441 कश्मीरी पंडित पंजीकृत हैं। बांडीपुरा जिले के दो विधानसभा क्षेत्रों में 1597 कश्मीरी पंडित मतदाता के रूप में पंजीकृत हैं और गांदरबल जिले के दो विधानसभा क्षेत्रों में 1844 ऐसे मतदाता पंजीकृत हैं। आंकड़ों के मुताबिक बांडीपुरा विधानसभा क्षेत्र में 1349 कश्मीरी पंडित पंजीकृत हैं जिसके बाद बांडीपुरा जिले के सोनावारी में 203 कश्मीरी पंडित मतदाता के रूप में पंजीकृत हैं, कंगन में 852 मतदाता और गांदरबल विधानसभा क्षेत्र में 992 ऐसे मतदाता पंजीकृत हैं। आंकड़ों के मुताबिक बांडीपुरा जिले के गुरेज विधानसभा क्षेत्र में कोई भी कश्मीरी पंडित मतदाता पंजीकृत नहीं है।
9:25 PM | 0 comments | Read More

कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे चिदंबरम

   नई दिल्ली।। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता पी चिदंबरम के इस बयान पर पार्टी के महासचिव दिग्विजय सिंह ने प्रतिक्रिया दी है और एक तरह से चिदंबरम को सोनिया गांधी के खिलाफ अध्यक्ष पद के लिए होने वाले चुनाव में उतरने की चुनौती दी है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस में चिदंबरम सहित किसी भी नेता को पार्टी का प्रमुख बनने के लिए होने वाले चुनाव में लड़ने से रोका नहीं गया था। दिग्विजय ने कहा कि चिदंबरम और कोई भी दूसरा गैरगांधी नेता पार्टी अध्यक्ष का चुनाव लड़ने के लिए पूरी तरह आजाद है और कोई उनको नहीं रोक रहा। 
   दिग्विजय की इस प्रतिक्रिया के बाद बीजेपी को चुटकी लेने का मौका मिल गया है। पार्टी ने पूछा है कि क्या राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता को लेकर कांग्रेस के अंदर ही सवाल उठने लगे हैं। दिग्विजय सिंह ने साफ कहा कि चिदंबरम या गांधी परिवार से बाहर का कोई भी शख्स आकर चुनाव लड़े तो इससे गांधी परिवार को भी कोई आपत्ति नहीं होगी। गांधी परिवार उसे चुनाव लड़ने से नहीं रोकेगा और चुनाव जीतकर कोई भी नेता कांग्रेस का अध्यक्ष बन सकता है। दिग्विजय के इस बयान पर कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा कि एक लोकतांत्रिक पार्टी में इस तरह की बयानबाजी स्वाभाविक है। ऐसी छोटी-छोटी बातों को ये कहकर दिखाना कि पार्टी में मतभेद हैं, ठीक नहीं है।
9:20 PM | 0 comments | Read More

वटसअप और फेसबुक पर सक्रिय है जिस्मफरोशी के दलाल

     सिरसा।। जिस्मफरोशी के धंधे में शामिल लोगों के लिए अब सोशल साइट्स भी सबसे बड़ा जरिया बन गया है। सैक्स रैकेट चलाने वाले लोग फेसबुक और वट्असप को खुलकर इस्तेमाल कर रहे है। ऐसा नहीं है कि सिर्फ दलाल ही इन साइट्स का प्रयोग करते है, दरअसल वो लड़कियां भी शामिल है, जो डायरेक्ट डील करती है। शहर के भी कई लोग अब इस सुविधा का खासा लाभ उठा रहे है। पूछने पर कहते है कि इन साइटस से उन्हें बहुत आसानी हो गई है।
ऐसे करते है प्रयोग
    शहर में सैक्स रैकेट चलाने वाले लोगों की तादाद कम नहीं है। उनके धंधे में दिल्ली व पंजाब की लड़कियां ज्यादा शामिल है। फेसबुक के जरिए पहले ये ग्राहक तलाशते है और फिर जब विश्वास कायम हो जाता है, तो उन्हें अपना वट्सअप नंबर दे देते है। इसके बाद डिलीवरी करने वाली लड़कियों की इमेजिस को वे संबंधित के पास भेजते है और साथ ही उनकी कीमत भी दर्शा देते है। सब कुछ फाइनल होने के बाद चयनित लड़की को वे ग्राहक तक भेज देते है। लिहाजा जिस्मफरोशी ऐसे लोगों के लिए काफी आसान हो चुकी है।
ये हुई आसानी
    धंधे से जुड़े लोगों की मानें, तो कहते है कि पहले उन्हें बड़ी दिक्कत आती थी। चूंकि 'मालÓ लाने-ले जाने के लिए कई पापड़ बेलने पड़ते थे और एक डिलीवरी के लिए तीन चार एकस्ट्रा लड़कियां साथ ले जानी पड़ती थी। तब ग्राहक एक पंसद करते अपने साथ ले जाता था, मगर अब तो उनके पास ऑपशन है और वे अब वट्सअप के जरिए लड़कियों की तस्वीरें भेज देते है और कॉलर भी अपनी कॉल के लिए च्वाइस कर उन्हें मैसेज के जरिए बता देता है, जिससे वही उसके पास भेज दी जाती है। बहरहाल, इस बात में कोई दोराय नहीं है कि सैक्स रैकेट भी इस सोशल साइट्स पर सक्रिय हो गया है यहीं नहीं इन लोगों की जड़े भी जम चुकी है और अब ये लोग खुद के लिए इन साइट्स के जरिए रिलीफ महसूस करतेे है।
 
 
(अरूण भारद्वाज)
9:19 PM | 0 comments | Read More

केंद्र ने राज्यों से अवैध रेत उत्खनन की जानकारी मांगी

    नई दिल्ली।। केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा है कि वे उनके यहां अवैध रेत उत्खनन की जानकारी तत्काल उपलब्ध कराएं, साथ ही यह भी बताएं कि पिछले तीन सालों के दौरान ऐसे मामले में क्या कार्रवाई की गई।
    खान मंत्रालय द्वारा राज्यों को भेजे गये पत्र मे कहा गया है कि हालांक रेत खनन का मामला राज्य सरकारों के दायरे में आता है, ऐसे में यह महसूस किया जा रहा है कि राज्य सरकारों से समस्य पर विचार विमर्श किया जाएगा। और ऐसे रास्ते तलाशे जाएं जिनसे राज्यों को अवैध उत्खनन रोकने में मदद मिल सके। उल्लेखनीय है कि जल संसाधन व इस्पात एवं खदान पर संसद की स्थायी समिति की हाल की बैठक मे देश भर में अवैध रेत उत्खनन के मामले में बहस के लिए पेश हुए थे। खदान अनूप के पुजारी ने पत्र में कहा है कि राज्यों को अवैध रेत उत्खनन मामलों में पिछले साल के दौरान उठाये गये कदमों की विस्तृत जानकारी मुहैया करानी चाहिए तथा कितना जुर्माना वसूला गया यह भी उल्लेख किया जाए। इससे पहले महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में यह स्वीकार किया था कि पर्यावरण क्लियरेंस हासिल करने की आवश्यकता के चलते अवैध खनन के मामलों में वृद्धि हुई है।
9:18 PM | 0 comments | Read More

'आप' पार्टी ने शुरू किया वेकेशन फॉर नेशन

    नई दिल्ली।। विधानसभा चुनावों के दौरान आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों के प्रचार के लिए पार्टी को बड़ी तादाद में युवा वॉलंटियर्स की जरूरत है। इस कमी को पूरा करने के लिए पार्टी एक बार फिर नए सिरे से युवाओं को टारगेट कर रही है। इसके लिए पार्टी की यूथ विंग ने एक नया मेनिफेस्टो की स्क्रूटनी करके यह भी देखेंगे कि उन पार्टियों ने छात्रों और युवाओं के लिए क्या एजेंडा सेट किया है। पार्टी की यूथ विंग छात्र युवा संघर्ष समिति (सीवाईएसएस) का दावा है कि उसके इस नए कैंपेन को काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है और अब तक 4 हजार से ज्यादा युवा इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। इनमें डीयू, जेएनयू, जामिया और आईपी यूनिवर्सिटी से लेकर निजी शिक्षण संस्थानों में पढ़ने वाले छात्र भी शामिल हैं। इस महीने की शुरुआत में लॉन्च किए गए इस कैंपेन से यूपीएससी से लेकर सीए और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को भी जोड़ा जा रहा है। 
   यूथ विंग के लीडर्स का दावा है कि बड़ी तादाद में युवा अपनी इच्छा से इस प्रोग्राम से जुड़ रहे हैं। चूंकि दिसंबर में मिड ट्रर्म एग्जाम्स के बाद यूनीवर्सिटीज में विंटर वेकेशन शुरू होने जा रहे हैं, ऐसे में युवाओं के लिए भी एक नया अनुभव हासिल करने का यह एक अच्छा मौका साबित होगा। यूथ विंग का दावा है कि वेके प्रोग्राम 'वेकेशन फॉर नेशन' शुरू किया है, जिसके तहत युवाओं को विंटर वेकेशन के दौरान बतौर वॉलंटियर आम आदमी पार्टी से जोड़ा जाएगा और उन्हें पार्टी उम्मीदवारों के चुनाव प्रचार के काम में लगाया जाएगा। साथ ही ये लोग अन्य पार्टियों के चुनावी शन फॉर नेशन प्रोग्राम के तहत अब तक जिन 4 हजार से ज्यादा छात्रों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है, उनमें डीयू के करीब 1500, जेएनयू के 450, जामिया मिलिया इस्लामिया के 250 और आईपी यूनिवर्सिटी के 150 छात्र के अलावा यूपीएससी की तैयारी कर रहे 300 और सीए की तैयारी कर रहे 150 छात्र भी शामिल हैं। अभी तक 1210 ऑनलाइन एंट्रीज रिसीव की जा चुकी हैं, जबकि ऑफ लाइन तरीके से भी बड़ी तादाद में युवा इस प्रोग्राम से जुड़ रहे हैं। यूथ विंग के मुताबिक दिसंबर में एग्जाम्स खत्म होने के बाद वेकेशन फॉर नेशन कैंपेन शुरू किया जाएगा, जो जनवरी के अंत तक चालू रहेगा। संभव है कि इस दौरान दिल्ली में विधानसभा चुनाव हो जाएंगे। ऐसे में इस प्रोग्राम से जुड़ने वाले युवाओं को चुनाव प्रचार की जिम्मेदारी भी सौंपी जा सकती है।
9:17 PM | 0 comments | Read More

ट्रैफिक पुलिस और फैमिली में हुई भिड़त

   नई दिल्ली।। दिल्ली के रानी बाग इलाके में ट्रैफिक पुलिस और एक फैमिली में भिड़ंत हो गई। ट्रैफिक पुलिस के रवैये से नाराज फैमिली ने इलाके में सड़क जाम कर दिया। तकरीबन आधे घंटे तक यहां ट्रैफिक जाम रहा। लोकल और ट्रैफिक पुलिस की तमाम कोशिशों के बाद किसी तरह दोबारा ट्रैफिक नॉर्मल करवाया गया। डीयू में इंग्लिश छात्रा हिमाक्षी (20) ने बताया कि वह अपने पिता ललित आनंद (49) के साथ कार से जा रही थीं। रानी बाग बस स्टॉप के किनारे कार रोककर ट्रैफिक पुलिस वालों ने दोनों को उतारने की कोशिश की। 
   हिमाक्षी का आरोप है कि कार का शीशा नीचे करते ही उनके पिता को गाली दी गई। जब उन्होंने आपत्ति की तो कांस्टेबल ने उन्हें भी धक्का दिया। हिमाक्षी हैंडीकैप्ड हैं और उनके पिता को पुलिस का यह रवैया बेहद नागवार गुजरा। फिर हिमाक्षी और उनके पिता ने 100 नंबर पर कॉल करने के अलावा सड़क जाम करने की कोशिश की। शाम साढ़े छह बजे हुई इस बहस के बाद हालात बदतर होते जा रहे थे लेकिन तभी रानी बाग पुलिस और ट्रैफिक पुलिस ने स्थिति को काबू किया। ट्रैफिक पुलिस के एसीपी ने घटना की पुष्टि की है।
9:16 PM | 0 comments | Read More

सभापति का चुनाव बुधवार को

बांसवाड़ा नगर परिषद सभापति के चुनाव हेतु अधिसूचना जारी
    बांसवाड़ा।। बांसवाड़ा नगर परिषद आम चुनाव 2014 के अंतर्गत बांसवाड़ा नगर परिषद के सभापति के चुनाव हेतु लोक सूचना जारी कर दी गई है जिसके अंतर्गत उक्त चुनाव 26 नवबंर, बुधवार को होगा।
    रिटर्निंग अधिकारी श्रीमती रूकमणी रियाड़ ने बताया कि इसके लिए 26 नवंबर बुधवार को प्रातः 10 बजे नगरपरिषद के सभापति पद सामान्य महिला को भरने के लिए निर्वाचन प्रक्रिया नगर परिषद परिसर के पंण्दीनदयाल उपाध्याय सभाभवन में निर्वाचित सदस्यों की बैठक आयोजित की जाएगी। 
  इसके लिए किसी भी अभ्यर्थी या उसके प्रस्थापक द्वारा नाम निर्देशन पत्र रिटर्निग अधिकारी या सहायक रिटर्निग अधिकारी तहसीलदार बांसवाड़ा को 26 नवबंर, बुधवार को 10 से 11 बजे तक की समयावधि में नामांकन पत्र प्रस्तुत किए जा सकेंगे और साढ़े ग्यारह बजे पूर्वान्ह उक्त स्थल पर ही नामांकन पत्रों की संवीक्षा होगी तथा अभ्यर्थिता को वापस लेने की सूचना स्वयं अभ्यर्थी द्वारा दोपहर 2 बजे तक अपने नामांकन पत्र की वापसी हो सकेगी।
   रिटर्निग अधिकारी श्रीमती रियाड़ ने बताया कि निर्वाचन लड़े जाने की दशा में ढाई बजे से शाम पांच बजे तक सभापति पद के लिए मतदान कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि मतदान समाप्ति के तुरन्त पश्चात उक्त स्थान पर मतगणना होगी।
9:11 PM | 0 comments | Read More

रामपाल के आश्रम में मिली नकदी, हथियार, बुलेट प्रूफ जैकेट

    बरवाला/हरियाणा।। स्वयंभू संत रामपाल के सतलोक आश्रम से आज यहां नकदी, हथियार, बुलेट प्रूफ जैकेट और कमांडो परिधान बरामद किए गए जबकि लाकरों को भी खोला गया। 19 नवंबर को रामपाल की गिरफ्तारी के बाद पहली बार पुलिस उसे यहां आश्रम में लेकर आई। पुलिस ने बताया कि उन्होंने रामपाल से साक्ष्य एकत्र किए तथा परिसर में मौजूद लाकरों एवं अलमारियों के बारे में सूचना एकत्र की। उन्होंने कहा कि लाकर एक मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में खोले गए। बारह एकड़ स्थित आश्रम परिसर में 63 वर्षीय रामपाल को एक घंटे तक रखा गया। इस दौरान हरियाणा पुलिस के विशेष जांच दल ने उससे पूछताछ की और इसके आधार पर हथियार एवं कारतूसों सहित विभिन्न सामान की बरामदगी की गई। हिसार रेंज के पुलिस महानिरीक्षक ए के राव ने बताया कि आश्रम में तलाशी के दौरान .315 बोर की चार राइफल, .12 बोर की पांच बंदूक एवं कुछ कारतूस बरामद किए गए। रामपाल की गतिविधियों को लेकर चल रहे मौजूदा तलाशी एवं जांच अभियान के सिलसिले में राव सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने पुलिस महानिदेशक एस एन वशिष्ठ के साथ एक बैठक की। राव ने बताया कि तीन बुलेट प्रूफ जैकेट एवं कुछ कमांडो परिधान भी बरामद किए गए हैं। यह पूछे जाने पर कि रामपाल एवं उसके निजी कमांडो तनातनी के माहौल के दौरान क्या पुलिस के साथ सीधे टकराव की तैयारियां कर रहे थे, उन्होंने कहा, ऐसा हो सकता है अथवा यह भी एक तथ्य हो सकता है कि वे किसी खतरे :उनके खिलाफ पुलिस की कार्रवाई: को लेकर आशंकित हों। राव ने कहा कि चूंकि बुलेट प्रूफ जैकेट नागरिक प्रयोग के लिए खरीदी नहीं जा सकती, पुलिस इस बात की जांच करेगी कि उन्हें कहां से हासिल किया गया। ''इसके अलावा हमें कुछ कमांडो परिधान मिले हैं।
    नकदी की बरामदगी के बारे में उन्होंने कहा कि कुछ धन मिला है लेकिन तलाशी संपन्न होने के बाद ही नकदी की वास्तविक मात्रा बताई जा सकती है। रामपाल को 19 नवंबर को आश्रम से गिरफ्तार किया गया था। आश्रम में पिछले चार दिनों से व्यापक तलाशी चल रही है। रामपाल को गिरफ्तारी के अगले रोज उसे अदालत की अवमानना मामले में पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में पेश किया गया। उस पर नए मामले लगाए जाने के बाद हिसार की एक अदालत ने उसे पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने बताया कि उन्हें आश्रम से हजारों लाठियां, 100 से अधिक हेलमेट, कमांडो के 20 परिधान, तेजाब की बोतलें एवं अन्य सामग्री मिली हैं। उन्होंने कहा कि तलाशी अभियान कुछ और दिन चलेगा क्योंकि आश्रम बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। अभी तक रामपाल के करीब 900 अनुयायियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। उनमें 31 निजी कमांडो शामिल हैं जो गत मंगलवार को झड़प में घायल हो गए थे और उन्हें बाद में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इन लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद आज गिरफ्तार किया गया। रामपाल के अनुयायियों एवं पुलिस के बीच तनातनी एवं बाद में झड़प में पांच महिलााएं एवं एक बच्चे की मौत हो गई जबकि 200 से अधिक लोग घायल हो गए थे।
9:07 PM | 0 comments | Read More

ममता का हमला, कहा केंद्र ने कराया बर्द्धमान धमाका


    कलकत्ता।। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए कहा है कि उसने पश्चिम बंगाल में दंगे भड़काने के लिए बर्द्धमान धमाका करवाया.
    पिछले दिनों नैशनल सिक्यॉरिटी अडवाइजर अजित डोभाल ने पश्चिम बंगाल के हालात पर चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि मुख्यमंत्री को इस बात की खबर ही नहीं है कि उनके राज्य में आतंकी संगठन कुकरमुत्तों की तरह पनप रहे हैं।
    शनिवार को कोलकाता में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में ममता बनर्जी ने कहा कि सीमाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्र की है लेकिन उसने जानबूझ कर अवैध घुसपैठियों को बंगाल में विस्फोटकों के साथ घुसने दिया. इतना ही नहीं ममता ने कहा कि इन घुसपैठियों को बम बनाने के लिए उन्हें घर ढूंढकर दिया गया. ममता ने इसके सुबूत गिनाते हुए कहा कि केंद्र की मोदी सरकार के गठन के बाद जुलाई में घुसपैठियों को किराये पर घर दिलाया गया. ममता में सवालिया लहजे में पूछा खागरागढ़ में किराए पर मकान कब लिया था? जुलाई में, मोदी सरकार के सत्ता संभालने के बाद।’ ममता ने कहा, ‘आप उन्हें आने देते हैं, उन्हें किराए पर घर दिलवाते हैं, बम बनाने देते हैं और फिर पूजा के दौरान दंगे करवाने की कोशिश भी करते हैं।’
बीजेपी ने ममता के इस बयान को सारदा स्कैम और सरकार की अन्य नाकामियों से ध्यान भटकाने की कोशिश करार दिया है। पार्टी नेता नलिन कोहली ने कहा, ‘शारदा घोटाले की जांच की आंच तृणमूल कांग्रेस और उनके ऑफिस तक पहुंच चुकी है। ऐसे में ममता अब इस तरह के बयान देकर घोटाले से लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही हैं। ‘


8:16 PM | 0 comments | Read More

अनुच्छेद 370 पर विरोधाभासी रूख जम्मू कश्मीर में डुबो देगा भाजपा की नाव - उमर

    श्रीनगर।। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अनुच्छेद 370 पर किसी भी बयान से बचने के बीच मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने आज कहा कि भाजपा इस विवादास्पद मुद्दे पर किसी भी प्रकार की प्रतिबद्धता से भाग रही है और इसके विपरीत वह जम्मू कश्मीर में 'दो नावों पर पैर' रखकर चल रही है जिसका आमतौर पर डूबना तय माना जाता है। नेशनल कांफ्रेंस के कार्यकारी अध्यक्ष मुख्यमंत्री उमर ने भाजपा को एक ''मौकापरस्त" पार्टी करार दिया जिसके साथ उनका मानना है कि कोई संबंध नहीं हो सकता। कांग्रेस के साथ राज्य में गठबंधन सरकार चला रहे उमर ने प्रदेश को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के संबंध में विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा द्वारा अलग अलग सुरों में बात किए जाने के संबंध में पूछे गए एक सवाल के जवाब में यह बात कही। भाजपा चुनाव प्रचार के दौरान इस मसले पर कोई सीधा बयान देने से बचती आ रही है। 
   उमर ने कहा, '' निश्चित रूप से , वे इस मुद्दे पर पकड़ में आने से बचना चाहते हैं क्योंकि यह उनके लिए समस्या होगा। जम्मू में , अनुच्छेद 370 एक राष्ट्रीय मुद्दा बन गया है, जम्मू के उूपरी इलाकों में वे इस पर चुप हैं और कश्मीर में उनके उम्मीदवार कहते हैं, ''यदि आपने अनुच्छेद 370 को छुआ तो हम बंदूक उठा लेंगे इसलिए वे राज्य में अलग अलग जगह अपने आप से ही विरोधाभास दिखा रहे हैं। उमर ने विधानसभा चुनाव में अपने तूफानी प्रचार अभियान के दौरान यह बात कही। 44 वर्षीय उमर ने कहा, '' वे किसी एक रूख पर अपनी जबान नहीं देना चाहते। लेकिन दो नावों की सवारी करने से आपका डूबना तय है।
     जम्मू क्षेत्र के किश्तवाड़ में कल प्रधानमंत्री मोदी ने अनुच्छेद 370 पर कोई भी राजनीतिक बयान नहीं दिया था। राज्य में 25 नवंबर से पांच चरणों में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं और व्यापक स्तर पर ऐसा माना जा रहा है कि 23 दिसंबर को चुनाव परिणाम त्रिशंकु विधानसभा की घोषणा करेंगे। लेकिन उमर ने कोई भविष्यवाणी करने से बचते हुए केवल इतना कहा, ''मैं कभी भविष्यवाणियां नहीं करता। यह कभी मेरी आदत नहीं रही। स्कूल में भी मैंने कभी अपने परीक्षा परिणाम को लेकर कोई भविष्यवाणी नही की और मैंने कभी भी अपने चुनाव परिणामों की भी घोषणा नहीं की।  हालांकि मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि त्रिशंकु विधानसभा की सूरत में वह भाजपा के साथ कोई संबंध नहीं जोड़ेगी जिसने उन पर भ्रष्ट होने का आरोप लगाया था। उमर ने कहा, '' देखिए , मैं कोई अनुमान नहीं लगाना चाहता कि चुनाव के बाद क्या होगा। मुझे लगता है कि इंतजार करना चाहिए कि विधानसभा क्या आकार लेती है और उसके बाद फैसला करेंगे कि क्या करना है।
    उन्होंने कहा, '' मुझे पता है कि लोग यह जानने को बेहद बेताब हैं कि हम भाजपा के साथ क्या करेंगे। जहां तक मेरा संबंध है , जो पार्टी अनुच्छेद 370 को समाप्त करने का आह्वान कर रही है , हमारे संविधान और ध्वज को ध्वस्त करना चाहती है और जो ऐसा सोचती है कि मैं एक चोर हूं तो वह अछूत पार्टी है। मैं ऐसा इंसान नहीं हूं कि जिस पर किसी और ने नहीं बल्कि प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाया हो और एक महीना बाद , मैं जाउूं और उन्हीं से हाथ मिला लूं। उमर ने कहा, '' मैं भाजपा की तरह मौकापरस्त नहीं हूं। महाराष्ट्र में वे राकांपा को राष्ट्रवादी भ्रष्ट पार्टी कहते हैं और आज वे उनके समर्थन से राज्य में सरकार चला रहे हैं। ए मेरी राजनीति नहीं है। यदि मैं आज भ्रष्ट हूं तो मैं तीन महीने बाद भी भ्रष्ट रहूंगा। और यदि भाजपा मेरे बारे में ऐसा सोचती है तो निश्चित रूप से मैं वो नहीं हूं जो उनके साथ किसी भी प्रकार का संबंध बनाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा लगाए गए आरोपों के जवाब में उमर ने कहा, '' आप - भाजपा पिछले छह महीने से केंद्र में सत्ता में हैं। कृपया हमें बताएं कि हमने (कहां प्रदेश को लूटा है)। 
   अमित शाह लोगों का पीछा करने और फोन टेप करवाने के लिए मशहूर हैं। इसे साबित करें (आरोपों को)। एक अन्य सवाल के जवाब में उमर ने तुरंत 2010 के गर्मियों के आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा कि यह घटना उन्हें लंबे समय तक परेशान करेगी। उत्तरी कश्मीर के माछिल में सेना की कथित फर्जी मुठभेड़ के बाद यह आंदोलन भड़का था। इस मुठभेड़ में तीन नागरिकों को मार गिराया गया था और उन्हें उग्रवादी बता दिया गया था।
7:54 PM | 0 comments | Read More

रक्षा मुद्दों में गलती कतई बर्दाश्त नहीं : मनोहर पर्रिकर

    गुडग़ांव।। ''कई सारी चीजों" का वादा करते हुए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने आज गैरआक्रामक लेकिन मजबूत भारत के बहुविध दृष्टिकोण को रेखांकित किया और साफ किया कि रक्षा संंबंधी मुद्दों में ''गलती कतई बर्दाश्त नहीं होगी। पर्रिकर ने यहां नौसेना के 'सूचना प्रबंधन एवं विश्लेषण केन्द्र (आईएमएसी) के उद्घाटन के मौके पर नौसैनिकों को संबोधित करते हुए कहा, ''एक चीज का मैं वादा करूंगा। मुझे एक काम सौंपा गया है। मैं भारत को मजबूत करने का अपना काम देखूंगा, ऐसी स्थिति जहां लोग भारत के साथ आंख मिलाने की हिम्मत नहीं करें... हमारा आक्रामक होने को इरादा नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत ने किसी अन्य देश पर शासन नहीं किया है और यह बात ''संभवत: भारत और कुछ हद तक चीन के लिए अद्वितीय है। पर्रिकर ने कहा, ''रामायण में भी, जब भगवान राम लंका गए तो उन्होंने वहां शासन नहीं किया। उन्होंने शासन के लिए इसे विभीषण को दे दिया। इस देश का अन्य देशों पर शासन करने का इतिहास नहीं है।
    पर्रिकर ने कहा कि सबसे बड़ी सुरक्षा मजबूत होना होता है। उन्होंने कहा, ''मैं वादा करता हूं कि मुझे जो काम दिया गया है, मैं उसे पूरा करूंगा... आप बहुत सारी चीजों की उम्मीद कर सकते हैं। यह पूछे जाने पर कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें क्या विशेष काम सौंपा है, पर्रिकर ने कहा, ''रक्षा :मामला: ऐसा क्षेत्र है जिसमें बहुत गोपनीयता की जरूरत होती है। हालांकि पर्रिकर ने कहा कि जिम्मेदारी के तहत यह सुनिश्चित करना है कि रक्षा क्षेत्र को अपना बकाया हासिल हो और यह भारत को स्वावलंबी बनाने वाली मजबूत शक्ति बने। उन्होंने कहा, ''ऊर्जा सुरक्षा और आपकी अपनी सुरक्षा एक दूसरे पर निर्भर नहीं हो सकती। आप अपनी सभी खरीद के लिए कुछ देशों पर निर्भर नहीं हो सकते।
    पर्रिकर ने कहा कि रक्षा उपकरण 20 से 30 वर्ष के लिए खरीदे जाते हैं। उन्होंने कहा, ''आप अचानक से खुद को ऐसी स्थिति में फंसा नहीं पा सकते कि जिस पक्ष ने आपको उपकरणों की आपूर्ति की, उसे संघर्ष क्षेत्र में आपूर्ति के लिए कुछ नाकेबंदी या कुछ प्रतिबंधों का सामना करना पड़ रहा है। पर्रिकर ने आईएमएसी की प्रशंसा की और कहा कि वह प्रणाली के ''शीघ्र एवं तेज प्रतिपादन" की तारीफ करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह पहले से पता लगाकर 2008 मुंबई आतंकी हमलों जैसी घटनाओं को ''99.99 प्रतिशत" रोकना सुनिश्चित करेगी। उन्होंने रेखांकित किया कि ''गलती को कतई बर्दाश्त" नहीं किया जाना चाहिए। पर्रिकर ने कहा कि जिन देशों के पास अच्छी नौसेनाएं हैं, वे दुनिया पर शासन करते हैं। उन्होंने कहा, ''आज संभवत: यही कारण है कि हमारे पड़ोसी देश हिन्द महासागर एवं अन्य क्षेत्रों में हर जगह अपनी नौसेनाओं की मौजूदगी दर्ज कराने का प्रयास कर रहे हैं। हाल के समय में, चीन की पनडुब्बियां श्रीलंका में मौजूद हैं जिस पर भारत ने चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि आईएमएसी सुनिश्चित करेगी कि नौसेना के पास बहुत डेटा उपलब्ध होगा।
7:51 PM | 0 comments | Read More

माओवाद की समस्या का समाधान विकास से - सोनिया

   डाल्टनगंज/गुमला/झारखंड।। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज कहा कि माओवाद की समस्या का समाधान विकास से संभव है तथा देश की जनता के विकास के लिए प्राकृतिक संसाधन लोगों के हाथ में होने चाहिए। झारखंड के डाल्टनगंज और गुमला में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए सोनिया ने कहा, ''नक्सल समस्या महज कानून व्यवस्था की समस्या नहीं है। उन्होंने कहा कि माओवाद की समस्या का समाधान विकास से और संविधान की रूपरेखा के भीतर तलाशा जा सकता है। उन्होंने कहा कि गुमराह हुए युवाओं को मुख्यधारा में लौटाया जा सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जब 14 साल पहले झारखंड बनाया गया था, तो केवल तीन जिले समस्या से पीडि़त थे और अब यह लगभग पूरे राज्य में ही फैल गई है। सोनिया ने कहा कि कांग्रेस की पहल पर आदिवासियों, गरीबों, दलितों, पिछड़ा वर्ग के लोगों और अल्पसंख्यकों को भूमि अधिग्रहण अधिनियम के तहत अधिकार दिए गए थे लेकिन केंद्र की भाजपा सरकार इसमें संशोधन करने का विचार कर रही है।
     उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा छोटानागपुर और संथाल परगना काश्तकारी कानूनों में बदलाव का प्रयास कर रही है जिसमें झारखंड में आदिवासियों की जमीन का संरक्षण का प्रावधान है। सोनिया ने यहां 25 नवंबर को होने वाले पहले चरण के मतदान के लिए प्रचार के आखिरी दिन पार्टी उम्मीदवारों के समर्थन में कहा, ''हम अधिनियम में किसी भी बदलाव का विरोध करते हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि पिछली संप्रग सरकार के प्रयासों और उसकी विकास योजनाओं से ही आज देश को विकसित देश बनने की दिशा में बढऩे में मदद मिल रही है। झारखंड की समस्याओं के लिए भाजपा पर हमला बोलते हुए सोनिया ने कहा कि लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि राज्य में 14 साल में 11 साल भाजपा सत्ता में रही है लेकिन यहां समस्याएं जस की तस रहीं। उन्होंने आरोप लगाया, ''जब संप्रग सरकार केंद्र में थी तो झारखंड को बिजली, सड़क, पेयजल तथा स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में कार्यक्रमों के क्रियान्वयन के लिए करोड़ों रूपए दिए गए थे लेकिन भाजपा शासित राज्य में उसका कोई इस्तेमाल नहीं किया गया। सोनिया ने कहा, ''उन्होंने :भाजपा ने: रोजगार के अवसर भी पैदा नहीं किए। झारखंड में 40 लाख बीपीएल परिवार हैं। यह चिंता की बात है।
7:50 PM | 0 comments | Read More

मार्क्सवाद व इस्लाम को जहरीला बताने वाला पर्चा बांटा, कहा ये हैं हिंदुओं के दुश्मन

   नई दिल्ली।। दिल्ली में विश्व हिंदू कांग्रेस के दौरान घृणा फैलाने वाला एक पर्चा बांटा गया है जिसमें मार्क्सिस्ट, मिशनरीज, मैटेरियलिज्म, मैकॉलयवाद और मुस्लिम अतिवाद को हिंदुओं का सबड़ा दुश्मन बताया गया है.
   विश्व हिंदू कांग्रेस का आयोजन दिल्ली में 21-23 नवम्बर को आयोजित हुआ जिसमें विश्व हिंदू परिषद के नेता अशोक सिंघल ने एक विवादित बयान दिया था कि 800 वर्षों के बाद भारत में पहली बार हिंदुओं का शासन शुरू हुआ है. सिंघल के इस विवादित बयान की भी चर्चा चल ही रही ती कि इसी बीच घृणा फैलाने वाले इस पर्चे ने एक और सनसनी फैला दी है.
   टू सर्किल डॉट नेट के अनुसार एक पन्ने के दोनों तरफ प्रकाशित इस पर्चे को प्रोग्रेसिव फाउंडेशन ने प्रकाशित किया है जिसमें अपमानजनक शब्दों का उपयोग करते हुए ‘मलेसियस-5′ यानी पांच दुष्ट का उल्लेख किया गया है.
   इस पर्चे को शनिवार के दिन शिक्षा पर आयोजित सत्र के दौरान बांटा गया. पर्चे में उल्लेखित ‘पांच दुष्टों’ के बारे में विस्तार से चर्चा की गयी है. हिंदुत्व के खिलाफ पहले दुष्ट मार्क्सिजम के बारे में बताया गया है कि यह यह हिंदू धर्म और हिंदू समाज को कमजोर करने और तोड़ने के प्रयास में जुटा है.

    पर्च में कहा गया है कि ये ‘पांच दुष्ट’ अपनी पांच उंगलियों से हिंदुओं पर अलग-अलग रूप में हमला बोलते हैं. मार्क्सवाद, माओवादियों के रूप में गुरिल्ला बन कर आक्रमण करता है जबकि दूसरी तरफ यह जिहादी के रूप में हिंदुओं पर आक्रमण करता है. जबिक उसकी एक उंगली हमारी संस्कृति पर ‘किस ऑफ लव’ से प्रहार करती है.
   पर्चे में प्रोग्रेसिव फाउंडेशन ने दवा किया है कि इन ‘पांच दुष्टों’ को हिंदू संगठन भलिभांति पहचानते हैं. इस फाउंडेशन का विश्व हिंदू परिषद से सम्पर्क के बारे में स्प्ष्ट रूप से पता नहीं चला है.
मार्क्सवाद का दानव पंजा
   इस पर्चा में मार्क्सवाद को दानवी पंजा कहके संबोदित करते हुए बताया गया है कि मार्क्सवाद की भूमिका इस पंजे में अंगूठे के समान है जो कभी कम्युनिस्ट के रूप में तो कभी समाजवाद, उदारवाद और माओवाद के रूप में सामने आता है. पर्चे के अनुसार वामपंथ ने शिक्षा, पत्रकारिता और पर्यावरण समेत भारत के विभिन्न तंत्रों को अपने कब्जे में ले रखा है.
   पर्चे में कहा गया है कि मार्क्सवाद अकसर मुसलमानों के पक्ष में खड़ा हो जाता है और उन्हें मदद पहुंचाता है. यह वही मार्क्सवाद है जो इस्लाम के खूनी इतिहास पर भी पर्दा डालता है. पर्चे में यहां तक कहा गया है कि वामपंथियों हमेशा हिंदुओं को साम्प्रदायिक और मुसलमानों को सेक्युलर घोषित करता रहा है.
इस्लाम का जहर
   इस पर्चे में ‘मालेसियस-5′ के आखिरी एम’ यानी मुस्लिम अतिवाद का उल्लेख करते हुए ‘एम-5′ को इस्लाम का जहरीला फल घोषित किया गया है. इसमें कहा गया है कि यह मुसलमानों का ब्रेनवाश करता है ताकि वे जिहाद के नाम पर ब्लैकमेल कर सकें. पर्चे में कहा गया है कि ये पांचों दानव मिलकर हिंदू राष्ट्रवाद के उभार को पस्त करने में लगे हैं. पर्चे में इस्लाम के खिलाफ लम्बी लड़ाई की बात कही गयी है.
ईसाई मिशनरी पर हमला
   मिशनरीज यानी ईसाइयों के बारे में भी इस पर्चे में ऐसे ही घृणित शब्दों से संबोधित किया गया है और बताया गया है कि मिशनरीज पूरब में ईसाइयत के रूप में पांव पसार रही है. मिशनरीज के बारे में विस्तार देते हुए आरोप लगाया है कि उसने भारत में मैकाले की शिक्षा नीति के जरिये अपने उद्देश्य पूरे करने में लगा है जो भारत के हिंदू समाज के खिलाफ है.
   तीन दिनों तक चलने वाले इस विश्व हिंदू कांग्रेस में चालीस देशों के 1500 नुमाइंदों ने हिस्सा लिया. इस अवसर पर आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद और भारतीय जनता पार्टी के कई बड़े नेताओं ने भी भाग लिया.
7:49 PM | 0 comments | Read More

आउटडोर विज्ञापन नीति के उल्लंघन पर जुर्माना नहीं लगा सकती एमसीडी - अदालत

    नई दिल्ली।। दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा है कि दिल्ली नगर निगम :एमसीडी: के पास आउटडोर विज्ञापन नीति के उल्लंघन के लिए जुर्माना लगाने का कोई अधिकार नहीं है। न्यायालय ने एमसीडी द्वारा 2010 में खेल से जुड़े परिधान बनाने वाली एक कंपनी के खुदरा केंद्र पर लगाए गए 7.36 लाख रूपए के जुर्माने को दरकिनार करते हुए यह आदेश पारित किया। न्यायमूर्ति विभु बखरू ने 'लाकोस्टे' नाम के ब्रांड से खेल परिधान बनाने वाली कंपनी स्पोट्र्स एंड लीजर अपैरल लिमिटेड की अर्जी पर यह आदेश दिया। 
   कंपनी ने अपने उूपर लगाए गए जुर्माने को चुनौती दी थी। बहरहाल, एमसीडी ने दलील दी थी कि आउटडोर नीति के तहत सोच-विचार कर विज्ञापन दिखाने पर जुर्माना और नियमन शुल्क लगाया गया। आउटडोर विज्ञापन नीति उच्चतम न्यायालय के एक निर्देश के बाद तैयार की गई थी। निर्देश में कहा गया था कि सड़क सुरक्षा यात्रियों के लिए सर्वोपरि है और खतरनाक होर्डिंग हटाए जाने की जरूरत है।
7:46 PM | 0 comments | Read More

घरेलू नौकरों को रखने से पूर्व करें जांच - पुलिस

     मुंबई।। के नागरिकों को सावधान करते हुए पुलिस विभाग ने अपने घरों में किराएदार या घरेलू नौकरों को रखने से पूर्व उनकी पूरी जानकारी निकालने का आवाहन किया है। पुलिस ने सलाह दी है कि जब तक लोग अपने किराएदार या घरेलू नौकरों की पूरी पड़ताल न कर लें, तब तक वे खुद भी असुरक्षित ही रहेंगे।
     इस बाबत पुलिस का कहना है कि घरेलू नौकरों द्वारा अपने मालिक के घरों में लगातार की जाने वाली चोरियों, लूट व कई बार जानलेवा हिंसा के बाद उनके फरार हो जाने के बाद मालिकों के पास दोषी नौकरों की कोई भी पुख्ता जानकारी नहीं रहती है। ऐसे में इन फरार आरोपी नौकरों की तलाश कर पाना पुलिस के लिए मुश्किल होता है। इसी तरह अपने फ्लैट या कमरे को किराए पर देने से पहले लोगों का पर्याप्त विवरण निकाले व उसकी पुष्टि किए बिना उन्हें किराएदार बनाना भी खतरनाक हो सकता है।
     नवी मुंबई शहर को हर खतरे से बचाए रखने के काम में पुलिस ने आम जनता से भी सहयोग करने व संदेहास्पद व्यक्तियों पर नजर रखने की अपील की है। आतंकी गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने हेतु इस शहर में छिपकर रह रहे आपराधिक पृष्ठिभूमि वाले किराएदारों को खोज निकालने के लिए यह सब सावधानी बरतनी जरूरी है। पुलिस ने कहा है कि अपना काम निकालने की फिराक में बैठे अपराधियों व संभावित आतंकियों द्वारा घरेलू नौकरों को आसानी से बहलाया-फुसलाया जा सकता है। ऐसे में उनके मालिकों को सलाह दी जाती है कि वे अपने घर के नौकरों पर आंख मूंद कर भरोसा न करें, बल्कि उनकी हर बात व गतिविधि पर गुप्त नजर रखते रहें।


7:44 PM | 0 comments | Read More

आय से अधिक धन रखने के आरोप में आईएएस निलंबित

   कोयंबटूर।। वरिष्ठ आईएएस अफसर टीओ सूरज को निलंबित कर दिया गया है. केरल के पब्लिक वर्क्स महकमे के सचिव सूरज पर निगरानी ने उनके ज्ञात स्रोतों से ज्याद दौलत जमा करने की रिपोर्ट सौंपी थी.
   इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार निगरानी ने उनके अनेक ठिकानों पर छापा मारा जिसके दौरान उसे कई ऐसी दस्तावेज मिली जो उसकी रिपोर्ट की पुष्टि करती हैं.
  समझा जाता है कि सूरज इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के नेता और सीपीआईएम नेतृत्व के करीबी हैं. कहा जा रहा है कि लीग के नेता और पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट के मंत्री वीके इबराहीम सूरज के ठिकानों पर हुई छापामारी से नाराज हैं.
   इससे पहले निगरानी ने शुक्रवार को सूरज से घंटों पूछताछ की थी. निगरानी ने सूरज के दस बैंक अकाउंट के बारे में भी जानकारी ली और उसके बाद छापेमारी की.
  पिछले हफ्ते केरल के ही एक आईपीएस अफसर राहुल नायर को भी निलंबित कर दिया गया था. उनपर आरोप था कि उन्होंने एक व्यापारी से 17 लाख रुपये रिश्वत लिया था
7:35 PM | 0 comments | Read More

लो आ गया अब आरटीआई ऐप

   नई दिल्ली।। साल 2005 में सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून लागू हुआ था जिससे आम आदमी को भ्रष्टाचार से लड़ने में काफी मदद मिली। यह एक ऐसा सशक्त हथियार है जिसके जरिए सरकारी महकमों के कामकाज की सारी हकीकत सामने आ जाती है।
    सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको एक आवेदन फार्म भरने की जरूरत होती है। ‌इसके लिए थोड़ी मशक्कत करनी पड़ती थी, लेकिन अब इस काम को दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर गुरुपित सिंह टुटेजा ने और भी आसान बना दिया है।
    जाकिर हुसैन कॉलेज के सहायक प्रोफेसर ने एंड्रॉयड यूजर्स के लिए ‘आरटीआई गुरू’ (RTI Guru) नाम से एक एप्लिकेशन तैयार की है। इसके जरिए आप आरटीआई दाखिल करने की पूरी प्रक्रिया स्मार्टफोन के आसानी के साथ कर सकते हैं।यहां हिंदी और अंग्रेजी दोनों तरह के ऑनलाइन फार्म की सुविधा दी गई है। आवदेन करने के बाद यूजर्स आरटीआई गुरू के जरिए आवेदन प्रक्रिया को ट्रेक भी कर सकते हैं।
   इस ऐप में आरटीआई मैनेजर नाम से एक खास फीचर दिया गया है, जिसके जरिए यूजर्स अपनी आरटीआई से संबंधित जानकारी को सुरक्षित भी कर सकते हैं।
   यह ऐप सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून 2005 की जानकारी के साथ-साथ अन्य महत्वपूर्ण वेबसाइट्स की भी जानकारी देने का काम करती है।
7:34 PM | 0 comments | Read More

35 वर्षीय इसाई की पुलिस की हिरासत में रहस्यमय परिस्थितियों में मौत

    लाहौर।। पाकिस्तान के लाहौर में, नशीली दवाइयां बेचने के एक आरोपी, 35 वर्षीय इसाई की पुलिस की हिरासत में रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई.
   उसके परिवार ने आरोप लगाया है कि शहजाद मसीह उर्फ मिठू को प्रताड़ित किया गया था जिससे उसकी मौत हो गई.
    हालांकि पुलिस ने कहा कि शहजाद मसीह को पुलिस ने शुक्रवार को ग्रीन टाउन इलाके में नशीली दवाएं बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया था. कल ग्रीन टाउन पुलिस थाने में दिल का दौरा पड़ने के बाद उसकी मौत हो गई.
   मृतक के एक रिश्तेदार रहमत मसीह ने बताया ‘‘सहायक उप निरीक्षक रउफ अहमद ने उसकी (शहजाद की) रिहाई के लिए धन की मांग की थी. हमने मना कर दिया जिसके बाद अहमद और अन्य पुलिस कर्मियों ने उसे प्रताड़ित किया जिससे उसकी मौत हो गई.’’ शहजाद के परिवार वालों ने तथा समुदाय के अन्य लोगों ने पुलिस थाने के सामने प्रदर्शन किया और पथराव किया. नाराज प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाए, शीशे तोड़े और पुलिस थाने के बाहर की सड़क अवरूद्ध कर दी.
   वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले की निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया जिसके बाद स्थिति नियंत्रित हो सकी.  एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हैदर अशरफ ने बताया ‘‘एएसआई अहमद तथा तीन अन्य सिपाहियों को शहजाद के परिवार वालों की शिकायत के आधार पर निलंबित कर दिया गया है. ऐसा लगता है कि मसीह की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई.’’ उन्होंने बताया कि मसीह का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है जिसकी रिपोर्ट आने के बाद आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी.
7:32 PM | 0 comments | Read More

फ्री ट्रांसप्लांट होगी गरीबों की किडनी


    प्रदेश के 109 साल पुराने चिकित्सा संस्थान किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के चिकित्सकों ने शनिवार को पहला गुर्दा प्रत्यारोपण कर एक और उपलब्धि हासिल कर ली।
    इस मुकाम तक पहुंचने के लिए केजीएमयू के चिकित्सक कई महीनों से कवायद कर रहे थे। शनिवार को करीब छह घंटे की सर्जरी के बाद बहन की किडनी भाई को प्रत्यारोपित की गई।
    मरीज और उसकी बहन चिकित्सकों की निगरानी में हैं। अमेठी निवासी खुशीराम (28) के दोनों गुर्दे लगभग डेढ़ साल पहले खराब हो गए थे।
    केजीएमयू के नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. संत पांडेय की देखरेख में पहले दवाएं और फिर डायलिसिस के सहारे उसके एक-एक दिन कट रहे थे। इसी बीच केजीएमयू को अंग प्रत्यारोपण की इजाजत मिल गई। ऑर्गन ट्रांसप्लांट डिपार्टमेंट के गुर्दा प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. मनमीत के संपर्क में करीब चार महीने पहले खुशीराम आए।
   इसके बाद उनके ट्रांसप्लांट की तैयारी शुरू की गई। सबसे बड़ी दिक्कत यह थी कि खुशीराम के पास ज्यादा पैसे नहीं थे। इसलिए वह हिचक रहे थे।
   वीसी प्रो. रविकांत से दवाओं व अन्य मदद की झंडी मिलने पर खुशीराम और उनके परिवार को प्रत्यारोपण के लिए तैयार किया गया। डॉ. मनमीत ने बताया कि वीसी ने एक लाख रुपये से अधिक दवाओं के मद में मंजूर किए। 


7:29 PM | 0 comments | Read More

केंद्रीय विद्यालयों में जबरदस्ती नहीं पढ़ाई जाएगी संस्कृत

    नई दिल्ली।। शिक्षा का भगवाकरण किए जाने के आरोपों को खारिज करते हुए केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने स्पष्ट कर दिया है कि संस्कृत को अनिवार्य विषय नहीं बनाया जाएगा और उन्होंने इस मांग को खारिज कर दिया है।
   स्मृति ईरानी ने कहा, ‘जो लोग मुझ पर संघ का प्रतीक या प्रतिनिधि होने का आरोप लगा रहे हैं, दरअसल वे हमारी ओर से किए जा रहे अच्छे कामों से लोगों का ध्यान हटाना चाहते हैं। मैं जानती हूं कि आगे भी मेरी आलोचनाएं जारी रहेंगी और मुझे इससे कोई समस्या नहीं है।’
   देश के करीब 500 केंद्रीय विद्यालयों में जर्मन भाषा की जगह संस्कृत को तीसरी भाषा के रूप में लाए जाने के विवादास्पद फैसले के संबंध में उनसे सवाल पूछे गए थे। उन्होंने बताया कि वर्ष 2011 में हस्ताक्षरित एक सहमति पत्र के तहत जर्मन पढ़ाया जाना संविधान का उल्लंघन है। इसकी जांच के आदेश पहले ही दे दिए गए हैं कि इस सहमति पत्र पर हस्ताक्षर कैसे हुए।
   संस्कृत को अनिवार्य भाषा बनाए जाने की मांगों के जवाब में ईरानी ने कहा कि तीन भाषा का फॉर्मूला पूरी तरह स्पष्ट है कि संविधान की आठवीं अनुसूची के तहत आने वाली किसी भी भाषा का विकल्प चुना जा सकता है। मगर उन्होंने इस बात को दोहराया कि जर्मन को विदेशी भाषा के तौर पर पढ़ाया जाना जारी रहेगा।
   स्मृति ईरानी ने कहा, ‘हम फ्रेंच पढ़ा रहे हैं, हम मंदारिन पढ़ा रहे हैं, उसी तरीके से हम जर्मन पढ़ाते हैं। मुझे यह समझ नहीं आता कि लोगों को वह बात क्यों नहीं समझ आ रही है, जो मैं कह रही हूं।’
   ईरानी ने इससे पूर्व जर्मन के स्थान पर संस्कृत को लाए जाने के फैसले को मजबूती से सही ठहराते हुए कहा था कि मौजूदा व्यवस्था संविधान का उल्लंघन करती है। नई राष्ट्रीय शिक्षा प्रणाली के संबंध में उन्होंने बताया कि शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े सभी लोगों व विशेषज्ञों से चर्चा चल रही है। इस प्रणाली को अगले साल से लागू करने पर विचार चल रहा है।
बच्चे के दाखिले के लिए स्मृति को भी देना पड़ा था इंटरव्यू
   देश की शिक्षा मंत्री होने के बावजूद स्मृति ईरानी को अपने बच्चों के दाखिले के लिए स्कूल में बाकी अभिभावकों की तरह इंटरव्यू देना पड़ा था। उन्होंने कहा, ‘मुंबई से दिल्ली शिफ्ट होना काफी मुश्किल भरा रहा। सबसे पहले हमें अभिभावक के रूप में इंटरव्यू देना पड़ा।
   इसके बाद अध्यापकों और प्रधानाचार्य ने बच्चों का इंटरव्यू लिया।’ ईरानी ने आगे कहा, ‘मुझे लगता है कि यह सही है कि प्रत्येक नागरिक के लिए एक निश्चित प्रक्रिया तय है। मैं अभिभावक अध्यापक बैठक में भी नियमित रूप से जाती हूं।’




4:13 PM | 0 comments | Read More

जो पुरुष करता है स्त्री से जुड़ी ये 3 चीजें, उस पर प्रसन्न होती है मां लक्ष्मी

    हिन्दू धर्म में किसी भी स्त्री का सम्मान व सेवा अहम जीवन मूल्य बताया गया हैं। धर्म परंपराओं में देवी के कई रूप हो या फिर सांसारिक नजरिए से माता से शुरू होकर बहन सहित स्त्री से अलग-अलग रूपों में रिश्ते, हर इंसान के लिए ताउम्र स्त्री की अहमियत बताते हैं। देवीपुराण के अनुसार इस संसार की उत्पति माता से हुई है। बिना मां जगदंबा के इस सृष्ठी की कल्पना नहीं की जा सकती है। ठीक वैसे ही जैसे बिन महिला के ये दुनिया आगे बढ़ाने की बात नहीं सोची जा सकती है। इसलिए नवरात्र के दिनों में घर में कन्याओं के पैर का पूजन किया जाता है। साथ ही, उन्हें भोजन भी करवाया जाता है ताकि लोग स्त्रियों का सम्मान करना सीखें।
    खास तौर पर गृहस्थी का तो केन्द्र ही स्त्री को माना गया है। देवी-देवताओं के स्मरण जैसे राधा-कृष्ण या सीता-राम में पहले देवी नामों को बोलना भी पुरुष के जीवन में स्त्री के सम्मान और उससे जुड़े किसी भी रिश्ते की गरिमा बनाने रखने का संदेश देते हैं। इसी कड़ी में हिन्दू धर्मशास्त्रों में बताए 3 ऐसे सूत्र हर इंसान खास तौर पर पुरुष के लिए अपनाना जरूरी बताया गया है, जिनके जरिए न केवल स्त्री और घर को नुकसान से बचाया जा सकता है, बल्कि इन 3 बातों पर ही पुरुष के सुख भी निर्भर है।
कहा गया है- बुद्धिप्राणमनोदेहाहंकृतीन्द्रियत: पृथक्।
अद्वितीयश्चिदात्माहं शुद्ध एवेति निश्चितम्।
     देवी पुराण के इस श्लोक में माता जगदंबा ने कहा है कि बुद्धि, प्राण, देह, अहंकार और इंद्रियों से अलग शुद्ध और अद्वितीय आत्मा मैं ही हूं ऐसा पूर्ण निश्चित है। स्त्रियों को माता का ही अंश माना गया है। इसलिए स्त्रियों का सम्मान करने से मां जगदंबा प्रसन्न होती है। घर की स्त्री को प्रसन्न रखने पर वे हर तरह का सुख प्रदान करती हैं।
हिन्दू धर्मशास्त्र में लिखा गया है कि-
शोचन्ति जामयो यत्र विनश्यत्याशु तत्कुलम्।
न शोचन्ति तु यत्रैता वर्धते तद्धि सर्वदा।
    यानी जिस कुल या घर में नारी दु:खी रहती हो, वह घर बहुत जल्द बर्बाद हो जाता है। जहां ऐसा नहीं होता वह कुल व वंश खूब फलता-फूलता है।
    स्पष्ट है कि गृहस्थ जीवन स्त्री-पुरुष के बेहतर तालमेल से ही सुखद बनाना संभव होता है। इसलिए जरूरी है कि कोई भी पुरुष जिस तरह स्त्री से रिश्तों में निष्ठा व समर्पण चाहता है, उसी तरह उसका व्यवहार भी स्त्री से सम्मान, संवेदना और भावनाओं से भरा हो।
अथर्ववेद कहता है कि-
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:।
यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफला: क्रिया:।।
   यानी जहां स्त्री की पूजा, सम्मान व सेवा की जाती है, वहां स्वयं भगवान वास करते हैं। जहां ऐसा नहीं होता वहां सारे काम बिगड़ जाते हैं।
   गृहस्थी के लिए तो यह बात बेहद मायने रखती है, क्योंकि अगर बात-बात पर पुरुष स्त्री को ठेस पहुंचाए या अपमान करता रहे तो इससे फैला क्लेश अन्य परिजनों व संतानों पर भी बुरा असर डालता है।
    ऐसे हालात पारिवारिक माहौल बिगाडक़र असफलता, रोग व तंगहाली की वजह बनते हैं। इसलिए पुरुष स्त्री के साथ ऐसा सुखद व्यवहार करे, जिससे स्त्री के जरिए ऐसे संस्कार और जीवन मूल्य संतानों तक पहुंचे जो कई पीढ़ियों को भी खुशहाल कर दे।

3:50 PM | 0 comments | Read More

यह है PM मोदी के 10 दिवसीय दौरे की 10 अहम उपलब्धियां

     नई दिल्ली।। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों के दौरे के बाद गुरुवार को स्वदेश लौट आए. 10 दिवसीय विदेश यात्रा के दौरान उन्होंने म्यांमार, ऑस्ट्रेलिया और फिजी की यात्रा की. सिडनी के ऑलफोंस एरिना में दिए गए मोदी के भाषण ने देश-विदेश में खूब सुर्खियां बटोरीं. उनकी लोकप्रियता देखकर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट ने कहा कि उन्होंने आज तक किसी नेता के लिए ऐसी दीवानगी नहीं देखी.
    ऑस्ट्रेलियाई अखबारों ने तो यहां तक कह दिया कि ऑस्ट्रेलिया में जैसा स्वागत मोदी का हुआ, वैसा कभी अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को भी नसीब नहीं हुआ. बात सिर्फ ऑस्ट्रेलियाई पीएम और मीडिया तक सीमित नहीं है, बल्कि खुद ओबामा भी मोदी के मुरीद हो गए. म्यांमार में मुलाकात के दौरान उन्होंने मोदी को 'मैन ऑफ एक्शन' कहा. इसमें शक नहीं है कि मोदी अंतरराष्ट्रीय मंच पर प्रभावी तौर से उभर रहे हैं, लेकिन कुछ सवाल पीएम मोदी की छवि से इतर भी हैं. सवाल यह है कि मोदी 10 दिन के विदेश दौरे से क्या लेकर आए हैं ?
   28 साल में पहली बार भारतीय पीएम ऑस्ट्रेलिया गया तो वहां से क्या लेकर आया? 33 साल बाद फिजी जाने के मायने क्या हैं और चीन के बेहद करीबी म्यांमार में मोदी को कुछ हासिल भी हुआ या नहीं? आइए जानते हैं पीएम मोदी के 10 दिवसीय दौरे की उपलब्धियां.
1. सामाजिक सुरक्षा, सजायाफ्ता कैदियों के हस्तांतरण, कला संस्कृति, पर्यटन और नशीली दवाओं के काले कारोबार पर रोक लगाने संबंधी अहम समझौतों के अलावा भारत और ऑस्ट्रेलिया यूरेनियम निर्यात तथा फ्री ट्रेड की दिशा में काफी आगे बढ़े हैं.
2. पीएम मोदी के दौरे पर एक प्रश्नचिन्ह लग रहा है कि ऑस्ट्रेलिया ने भारत में निवेश की कोई घोषणा नहीं की, लेकिन सबसे अहम बात यह है कि टोनी एबॉट ने अपने संबोधन में विशेष तौर पर ‘मेक इन इंडिया’ का उल्लेख किया. 
3. भारत ने 2013 में ऑस्ट्रेलिया को 10.2 अरब डॉलर का एक्सपोर्ट किया था, जबकि 2014 में यह 22 फीसदी गिर गया. पीएम मोदी की यात्रा के बाद माना जा रहा है कि 2015 में ऑस्ट्रेलिया के साथ व्यापार 40 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है.
4. पीएम मोदी ग्लोबल लीडर बनने की ओर तेजी से बढ़ रहे हैं. सिडनी के ऑलफोंस एरिना में उनका जलवा देखकर ऑस्ट्रेलियाई पीएम से लेकर ओबामा तक प्रभावित दिखे. यह मोदी की छवि का असर है कि पहले ही दौरे में वह ऑस्ट्रेलियाई शीर्ष नेतृत्व पर छाप छोड़ने में सफल रहे.
5. नरेंद्र मोदी ने सिडनी में भाषण के दौरान रेलवे में 100 प्रतिशत एफडीआई का ऐलान किया. यह निश्चित रूप से हर भारतीय के लिए अच्छी खबर है. अब इस कदम से रेलवे की हालत कितने दिन में बदलेगी यह देखने वाली बात होगी.
6. ऑस्ट्रेलिया और फिजी के लोगों को वीजा ऑन अराइवल की घोषणा को भी आर्थिक जानकार बेहद अहम मान रहे हैं. इससे न केवल पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा बल्कि बड़े अनिवासी भारतीय कारोबारियों का विश्वास भी जगेगा.
7. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दस दिन में तीन देश की यात्रा के दौरान 40 राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात की. इस दौरान करीब 20 द्विपक्षीय मुलाकातें हुईं. ब्रिस्बेन में जी-20 के मंच के साथ ही इन मुलाकातों में भी मोदी ने काले धन समेत कई अहम मुद्दों को उठाया. 
8. फूड सिक्योरिटी पर अमेरिका भारत के साथ हो गया है. अमेरिकी दौरे के बाद म्यांमार में भी ओबामा के साथ मुलाकात के दौरान मोदी ने इस संबंध में चर्चा की थी.
9. पीएम मोदी का म्यांमार दौरा भले ही आर्थिक समझौतों की दृष्टि से अहम नहीं रहा, लेकिन इसका अपना कूटनीतिक महत्व है. विपक्ष की नेता आंग सान सू की के साथ मोदी की मुलाकात बेहद अहम रही. वह लोकतांत्रिक नेता हैं और भविष्य में राजनीतिक समीकरण बदलने का माद्दा रखती हैं.
10. प्रधानमंत्री ने आसियान और जी-20 के माध्यम से चीन को भी चुनौती दी. मोदी की मौजूदगी में वियतनाम और फिलिपींस ने दक्षिण चीन सागर का मुद्दा उठाया तो ऑस्ट्रेलियाई संसद में भी भारतीय पीएम को चीन के बराबर सम्मान दिया गया. खुद ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने उभरती ताकतों में चीन के साथ भारत का नाम लिया.
3:47 PM | 0 comments | Read More

नहीं पहुंचा हो आधार कार्ड या गुम हो जाए एनरोलमेंट स्लिप, जानिए क्या करें

     नई दिल्ली।। सरकार आधार कार्ड को गैस सब्सिडी सीधे अपने बैंक अकाउंट में पाने के लिए जरूरी करने का विचार कर रही है। ये नियम जनवरी से लागू हो सकता है। इतना ही नहीं, पासपोर्ट बनवाने के लिए भी आधार कार्ड जरूरी करने पर विचार चल रहा है। ऐसे में यदि आपका आधार नहीं बना है तो जल्दी ही इसे बनवा लें। यदि आपने अपने आधार कार्ड के आवेदन किया है और कार्ड घर नहीं पहुंचा या फिर एनरोलमेंट स्लिप ही गुम हो गई हो तो परेशान न हों। आप ई-नंबर डाउनलोड करके कार्ड और नंबर ले सकते हैं। इसके लिए आप अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी के जरिए नेट से आपना ई-आधार बना सकते हैं। साथ ही एनरोलमेंट नंबर भी डाउनलोड कर सकते हैं। यूआईडीएआई ने भारतीय नागरिकों के लिए वेबसाइट पर कॉल क्वेरी सॉफ्टवेयर के जरिए ये सुविधा शुरू की है। इससे आधार कार्ड धारकों को राहत मिलेगी।
क्या है एनरोलमेंट
   लोगो का आधार कार्ड बनाने के पहले एनरोलमेंट प्रक्रिया अपनाई जाती है। सेंटर पर आधार कार्ड बनाने के लिए दर्ज होने वाली जानकारी के बाद जो पर्ची दी जाती है उसे एनरोलमेंट पर्ची कहा जाता है। इस नंबर पर आप अपना आधार कार्ड स्टेटस जान सकते हैं। यह सुविधा भी वेबसाइट पर है।
क्या करना होगा
   जिनके आधार कार्ड बन गए हैं वो आधार नंबर से और जिनके बनकर नहीं आए हैं वे एनरोलमेंट (ईआईडी) पर्ची के नंबर से डुप्लीकेट कार्ड या पर्ची निकलवा सकते हैं।



3:44 PM | 0 comments | Read More

बोलो अभी एक फोन पर हर ब्रांड के दारू की होम डिलीवरी हो जाएगी

   अहमदाबाद।। आज मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने जिस लीलापुर गाँव को गोद लिया उस गाँव में नरेंद्र मोदी अपने राजनितिक कैरियर में पहली बार गये थे .. २००१ में मुख्यमंत्री बनने के बाद उनका पहला दौरा उसी गाँव का था ... और गाँव में उनसे एक नशे में धुत शराबी ने खूब देर तक बाते की थी .. अधिकारी उस नशे में धुत आदमी को हटाने लगे तो मोदी जी ने मना कर दिया था और बोला की ये नशे में काफी सच्चाई बता रहा है .. इसे बताने दो .. बाद में उस शराबी की बातो की जाँच में चार अधिकारी सस्पेंड हुए थे ..
   सबसे मजे की बात उस शराबी ने बोला था "साब गुजरात में शराबबंदी है न मेरे कु पता है .. बोलो अभी एक फोन पर हर ब्रांड के दारू की होम डिलीवरी हो जाएगी .. बोलो तो अभी फोन करके मंगवा लू .. आपके पास ये जो पुलिस वाले है न ये सब हप्ता लेते है."
 
 
 
(J.P. Singh)
3:40 PM | 0 comments | Read More

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने सीआईडी टीम को दिए अपने बयान से सबको चौंका दिया है...

    नई दिल्ली।। साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने सीआईडी टीम को दिए अपने बयान से सबको चौंका दिया है। साध्वी प्रज्ञा पर जेल के अंदर अत्याचार और अमानवीयता की खबरों के बीच मानवाधिकार आयोग की शिकायत पर यह बयान दर्ज किए गए।
    प्रज्ञा ने सीआईडी के सामने महाराष्ट्र एटीएस के टॉर्चर की जो दास्तां सुनाई, उसके मुताबिक, एटीएस जवानों ने न सिर्फ उनकी पिटाई की बल्कि उनके लिए 'वेश्या' शब्द का भी इस्तेमाल किया। 2008 के मालेगांव ब्लास्ट के आरोप में 6 साल से जेल में बंद साध्वी का बयान दर्ज करने महाराष्ट्र से आई टीम के साथ दो महिला पुलिस अधिकारी भी थीं।
   बयान के मुताबिक, प्रज्ञा को 10 अक्टूबर 2008 को मुंबई एटीएस की टीम ने फोन करके सूरत बुलाया था। वहां एटीएस ने उनके द्वारा 4 चार पहले बेची गई बाइक के बारे पूछताछ की। बाद में, एटीएस की टीम उन्हें यह कहकर अपने साथ मुंबई ले गई कि वह अधिकारियों के आगे यह जानकारी दे दें, इसके बाद वह लौट सकती हैं।
   साध्वी प्रज्ञा अपने शिष्य भीम भाई पसरीचा के साथ उसी दिन मुंबई पहुंची। साध्वी प्रज्ञा के मुताबिक, मुंबई एटीएस की टीम ने 11 अक्टूबर 2008 से उनके साथ पिटाई और अमानवीयता का दौर शुरू किया जो 23 अक्टूबर तक जारी रहा। मुंबई एटीएस के अधिकारी चाहते थे कि साध्वी प्रज्ञा मालेगांव ब्लास्ट में अपनी भूमिका स्वीकार कर ले लेकिन ऐसा नहीं करने पर पहले उनकी पिटाई की गई।
  जब प्रज्ञा ने उनकी बात नहीं मानी तो एटीएस के एक अधिकारी ने उन्हें भद्दी गालियां भी दीं। साध्वी प्रज्ञा को 23 तारीख को नाशिक ले जाकर कोर्ट में पेश किया गया। एटीएस ने यहां उनकी गिरफ्तारी सूरत में बताई। कोर्ट में उन्हें कुछ बोलने नहीं दिया गया। गिरफ्तारी दिखाए जाने के बाद एटीएस के कालाचैकी ऑफिस में साध्वी प्रज्ञा को वहां पहले से ही बंद कुछ पुरुष अपराधियों के साथ खड़ा किया गया। वहां उन्हें अश्लील ऑडियो सीडी सुनाई गई। इस दौरान गैर कानूनी ढंग से प्रज्ञा के दो नार्को टेस्ट, ब्रेन मैपिंग, पॉलीग्रफी व साइकॉलजी टेस्ट कराए गए।



3:39 PM | 0 comments | Read More

देश में धर्म - अध्यात्म के नाम पर जमकर चलती है ढोंगियों की बाबागिरी

Written By Bureau News on Sunday, November 23, 2014 | 9:39 PM


   धर्म, विश्वास तथा आस्था के विषय पर भारतीय समाज की सहिष्णुता व लचीलापन सर्वविदित है। और भारतवासियों के सर्वधर्म स्वीकार्यता के इसी मिज़ाज ने न सिर्फ़ भारत को विश्वस्तीय ख्याति दिलाई है बल्कि पूरी दुनिया से विभिन्न धर्मों,आस्थाओं तथा विश्वासों के मानने वाले लोग यहां आकर अपना प्रभाव बनाते देखे गए हैं। भारतवर्ष विश्व का अकेला ऐसा देश है जो अनेकता में एकता(Unity in diversity) के लिए जगप्रसिद्ध है। परंतु अफ़सोस की बात तो यह है कि भारतीय समाज के इस लचीले स्वभाव का लाभ भारत के तमाम पाखंडी,धनलोभी,अय्याश तथा दुराचारी प्रवृति के चतुर बुद्धि लोग उठाने लगे हैं। जिधर देखो उधर इस प्रकार के लोग अपनी अलग ‘ढाई ईंट की मस्जिद’ बनाए बैठे हैं। स्वयं को भगवान या ईश्वर बताना या ईश्वर का स्वयंभू अवतार बनना तो गोया भारत में मज़ाक सा बन गया है। जबसे हमारे देश में निजी टीवी चैनल्स की संख्या में इज़ाफ़ा हुआ है तथा 24 घंटे का प्रसारण शुरु हुआ है तबसे जहां इन पाखंडी बाबाओं को अपने धन-बल के माध्यम से स्वयं को टीवी पर प्रचारित करने का आसानी से मौक़ा मिला है वहीं यही टीवी चैनल्स इनके पाखंडों को उजागर कर इनकी वास्तविकता को जनता तक पहुंचाने का काम भी बखूबी अंजाम दे रहे हैं। कभी कोई बाबा स्वयं को ब्रह्मचारी बताने के बावजूद महिलाओं के साथ रंगरलियां मनाता देखा जा रहा है तो कोई भगवा वस्त्रधारी बहुरूपिया बनकर बाकायदा अंतर्राष्ट्रीय स्तर का सेक्स रैकेट चलाता नज़र आ रहा है। कोई प्रवचन कर्ता स्वयं तीन-चार पत्नियां रखकर अपने भक्तों को पत्नी धर्म निभाने की सीख दे रहा है तो कोई पाखंडी तथाकथित अध्यात्मवादी अपनी धन-दौलत व संपत्ति के साम्राज्य का विस्तार करते हुए अपने भक्तों को मोहमाया त्यागने की सीख दे रहा है। कोई ढोंगी बाबा हत्या के केस में शामिल देखा जा रहा है तो कहीं अयोध्या जैसी पवित्र नगरी में गद्दी हड़पने की खातिर चेलों द्वारा अपने ही गुरुओं की हत्याएं की जा रही है। क्या इसी प्रकार के धर्म,अध्यात्म तथा विश्वास के चलते भारत को किसी ज़माने में विश्वगुरु कहा जाता था? क्या ऐसी ही प्रवृति के लोगों की वजह से भारतवर्ष दुनिया के लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र था? सवाल यह है कि आज हमारे देश के लोगों को ऐसी स्थिति का सामना क्यों करना पड़ रहा है तथा ऐसे पाखंडीे लोगों से निजात पाने के तरीके आिखर क्या हो सकते है ? 
       सर्वप्रथम तो हमें यह मान लेना चाहिए कि आज के पाखंडी धर्मगुरु तथा स्वयंभू ढोंगी बाबा आज के नेताओं की ज़रूरत बन चुके हैं। ऐसे ढोंगी,दुराचारी,हत्यारे व अय्याश बाबा सीधे व सादे लोगों को अपने मीठे-मीठे बोल वचनों में फंसाकर अपना जनाधार बढ़ाते हैं। ज़ाहिर है नेताओं को ऐसे लोगों की ज़रूरत होती है जिनके पास अपना जनाधार हो। चाहे वह बंदूक के बल पर हो,चाहे धर्म-जाति की राजनीति करने वालों के माध्यम से हो या फिर तथाकथित बाबाओं के ढोंगपूर्ण प्रवचनों के द्वारा अर्जित किया गया हो। प्राय:यह देखा जाता है कि ऐसे बाबाओं के द्वार पर उनके भक्तों के समक्ष राजनेता पहुंच कर जहां ढोंगी तथाकथित गुरुओं का मान-सम्मान उनके अंधभक्तों की नज़रों में बढ़ाते हैं वहीं नेताओं को भी इस उपकार के बदले में बाबाओं द्वारा अपने भक्तों का समर्थन खासतौर पर चुनावों के दौरान समर्थन दिए जाने का काम किया जाता है। और धर्म व राजनीति का यही खतरनाक गठजोड़ न केवल देश की राजनीति को चौपट किए जा रहा है बल्कि धर्म व अध्यातम जैसे पवित्र,गंभीर तथा संवेदनशील विषय को भी कलंकित कर रहा है। इस प्रकार के ठग,दुराचारी,अपराधी व धनलोभी प्रवृति के राजनैतिक संरक्षण प्राप्त ढोंगी बाबा समय-समय पर न कवेल शासन-प्रशासन को ठेंगा दिखाने लगते हैं बल्कि कभी-कभी तो इन्हें अपने अंधभक्तों के समर्थन व राजनेताओं की सरपरस्ती के चलते कानून को भी ठेंगा दिखाने में कोई हिचकिचाहट महसूस नहीं होती। कई बार ऐसी स्थिति देखी जा चुकी है जबकि किसी बाबा का नाम किसी अपराध में शामिल हुआ हो और उसने अपने समर्थकों के बूते पर कानून से टकराने का दुस्साहस किया है। गोया भारतीय क़ानून केवल कमज़ोर,असहाय,ग़रीब लोगों के लिए ही रह गया हो और यह स्वयंभू अवतार रूपी अनपढ़ बाबा क़ानून से अपने को ऊपर समझने लगे हों।
पिछले दिनों एक बार ऐसे ही दृश्य की पुनरावृति हरियाणा के हिसार जि़ले के बरवाला कस्बा स्थित सतलोक आश्रम में देखने को मिली। हत्या के मामले में वांछित इस आश्रम का प्रमुख रामपाल नामक व्यक्ति कई महीनों से कानून को ठेंगा दिखाता आ रहा था। वह अदालत में पेश होने से आनाकानी कर रहा था। और जब अदालत ने उसके विरुद्ध गैर ज़मानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया तो वह अपने समर्थकों के बल पर गिरफ़तारी से बचने की कोशिश करने लगा। परंतु सरकार व क़ानून से बच पाना भी इतना आसान नहीं होता।आख़िरकार उसे गिरफ़्तार किया गया। परंतु प्रशासन व रामपाल के समर्थकों की रस्साकशी के बीच पांच लोगों की जानें चली गईं तथा सैकड़ों लोग घायल अवस्था में अस्पताल में दािखल किए गए। रामपाल अपने-आप को केवल कबीरपंथी संत ही नहीं कहता बल्कि वह स्वयं को कबीर के बाद ईश्वर का दूसरा अवतार भी बताता है। संत कबीर के अंधविश्वास विरोधी विचारों का प्रचार-प्रसार करने से अथवा संत कबीर की महानता का बयान करने से आिखर किसी को क्या आपत्ति हो सकती है? स्वयं भगवान राम का अवतार समझे जाने वाले प्रथम जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी रामानंदाचार्य ने ही कबीर को अपना शिष्य स्वीकार किया था और उसी के बाद कबीर, संत कबीर कहलाए। परंतु कबीर के मिशन को चलाने का अर्थ यह कतई नहीं कि आप भगवान कृष्ण,भगवान राम अथवा स्वामी दयानंद या स्वामी विवेकानंद जैसे महापुरुषों का निरादर व अपमान करने लग जाएं और उनकी शान में गुस्तािखयां करने लगें। स्वयंभू संत रामपाल यही किया करता था। इसी वजह से उसके सबसे अधिक विरोधी उसी के अपने कस्बे यानी बरवाला क्षेत्र में खासतौर पर सतलोक आश्रम के आसपास के ही थे। कुछ समय पूर्व इसके विरुद्ध आर्यसमाजी विचारधारा के लोग रामपाल की ऐसी ही बकवासबाजि़यों से क्रोधित होकर इसके आश्रम को बंद करने की मांग करने लगे थे। उस समय पुलिस ने इसके आश्रम में जब छापेमारी की तो गुफानुमा इसके अपने गुप्त स्थान से ब्लूफ़िल्में ,महिलाओं के अंडर गारमेंटस तथा अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई थी।
रामपाल अपने अंधभक्तों ख़ासतौर पर अशिक्षित भक्तों को शब्दजाल में फंसाने का बहुत माहिर था। कुछ माह पूर्व इसने कुछ टीवी चैनल्स को पैसे देकर एक स्वयंभू इस्लामी स्कॉलर ज़ाकिर नाईक को टीवी पर बहस करने की चुनौती देने का ज़बरदस्त प्रचार कराया। इत्तेफाक से मैं भी उस टीवी प्रचार के झांसे में आ गया तथा अपना एक घंटे का समय बरबाद कर रामपाल बनाम ज़ाकिर नाईक की होने वाली संभावित बहस देखने हेतु टी वी के सामने बैठा रहा। जब निर्धारित समय पर कार्यक्रम शुरु हुआ तो ज़ािकर नाईक का तो टीवी पर कोई नाम-ो-निशान ही नहीं था। जबकि रामपाल अकेला ही ज़ाकिर नाईक को चुनौती देता हुआ अपना पक्ष रखे जा रहा था। बड़ी ही चतुराई के साथ उसने कुरान शरीफ की कुछ ऐसी आयतों का चुनाव किया जिसमें अरबी के ‘कबीर’ शब्द का उल्लेख किया गया है। गौरतलब है कि कबीर तथा अकबर शब्द अरबी भाषा के शब्द हैं जिनका अर्थ बड़ा या महान होता है। जैसे अल्लाह-ो-अकबर यानी अल्लाह सबसे बड़ा है। और दूसरा उदाहरण जैसे गुनाहे कबीरा यानी बड़ा पाप। इसी प्रकार कुरान शरीफ में ‘असगर’ व ‘सगीर’ शब्दों का भी उल्लेख है जिसका अर्थ कबीर या अकबर के विपरीत यानी ‘छोटा’ होता है। मुझे रामपाल की इन बातों पर बड़ा आश्चर्य हुआ कि वह कबीर शब्द को उसके अर्थ के रूप में नहीं बल्कि यह कहकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहा था कि यह संत कबीर का जि़क्र है जो क़ुरान शरीफ़ में किया गया है। और एक दो नहीं बल्कि कई बार उसने कबीर के शाब्दिक अर्थ को गलत ढंग से परिभाषित करने की कोशिश की। मुझे उस दिन और भी विश्वास हो गया कि रामपाल केवल ढोंगी ही नहीं बल्कि ऐसा चतुर अज्ञानी व्यक्ति भी है जो शब्दों की बाज़ीगरी के द्वारा अपने शरीफ़ व भोले-भाले भक्तों को अपने अज्ञान के जाल में फंसाए रखने की महारत रखता है।
सतलोक आश्रम की घटना एक बार फिर शरीफ,सज्जन व भोले-भाले धर्मभीरू लोगों के लिए यह सबक़ पेश करती है कि वे ऐसे नए-नवेले आश्रमों,उनके गद्दीनशीन ढोंगी धर्मगुरुओं तथा अपराधी व धनलोभी व पाखंडी बाबाओं से स्वयं को दूर रखें तथा इनके बहकावे में आकर इनके मुरीद अथवा भक्त बनने व इनके कहने पर किसी प्रकार के राजनैतिक निर्णय लेने से बाज़ आएं। क्योंकि धर्म व राजनीति का मिश्रण देश व समाज को बरबादी की राह पर ले जा सकता है।
9:39 PM | 0 comments | Read More

पाक क्रिकेट टीम ५६ आएसआई एजेंटो के साथ भारत दौरे पर आयी थी

   नई दिल्ली।। पिछले दिनो जब पाकिस्तानी टीम के भारत दौरे की बात चली तो बीसीसीआई को हरे हरे नोट नजर आने लगे थे. जब दौरे का विरोध हुआ तो उसके एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि जब १९७१ और कारगिल जंग के बाद भी हम खेलते रहे थे तो अब कौन सी आफत आ जाएगी. भारत सरकार ने यह रहस्योद्घघाटन किया कि २००५ में पाकिस्तानी क्रिकेट टीम अपने साथ आएसआई के ५६ एजेंट भी लेकर आयी थी और उनमें कोई भी वतन नही लौटा, सभी देश मे आतंकी काररवाई में लिप्त हैं और वे भयानक कांड करने की जुगत में है. गत २६अगस्त को गृह मंत्रालय के प्रपत्र मे इसका खुलासा होने के बाद हड़कंप मचा हुआ है और बोर्ड के उक्त अधिकारी मुंह छिपाए घूम रहे हैं. 
   सर्कुलर मे कहा गया है कि सभी के वोटर आई कार्ड बन गए हैं और मुजफ्फरनगर मे उनकी गहरी पैठ हो चुकी है. साथ ही सभी के नये हिंदू नाम भी हैं अपना तो यही मानना रहा है कि जब तक पाकिस्तान दिल से दोस्ती का सुबूत न दे दे तब तक उसके साथ खेल संबंध रखना २६/११ कांड को दोहराने जैसा होगा. बाला साहब ठाकरे की विचार धारा बहस का विषय हो सकती है लेकिन जब वह पाकिस्तान से खेल संबंध के विरोध की बात कहते थे उसमें दम था. समय ने साबित कर दिया कि ठाकरे कितने सही थे. सचमुच हाल के वर्षों में क्रिकेट ने देश में कितने निरीह मासूमों की जान ले ली. गंगा- संधु का बहुत जल बह चुका, अब तो हम चेतें. प्रधानमंत्री होने के बाद गुजरात क्रिकेट संघ की कमान अमित शाह को सौंप चुके नरेंद्र मोदी के दौर मे शायद ही पाक को खेल के नाम पर और नापाक धतकरम करते हम देखें. ५० हजार करोड़ की ब्रैंड वैल्यू वाली बीसीसीआई की पहली वरीयता अब देश ही होगी, पैसा नहीं, यह मान कर चला जा सकता है.
9:37 PM | 0 comments | Read More

अब कोर्ट के निशाने पर डेरा सच्चा सौदा वाले 'स्वयंभू गॉड' राम रहीम

रामपाल के बाद कोर्ट का अगला मिशन
    सिरसा।। लगता है 'खुद को ईश्वर' बताने वाले बाबाओं के बुरे दिन चल रहे हैं. विवादित 'स्वयंभू गॉड' रामपाल के बाद हरियाणा के ही एक और बाबा कोर्ट के निशाने पर आ गए हैं. सिरसा में डेरा जमाए सच्चा सौदा के मुखिया गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ पंचकुला की सीबीआई कोर्ट ने शिकंजा कस दिया है. 15 नवंबर को दिए अपने फैसले में कोर्ट ने कहा कि राम रहीम के खिलाफ रेप और हत्या के मामलों की अलग-अलग सुनवाई होगी.
    राम रहीम के खिलाफ डेरा निवासी के यौन उत्पीड़न के मामले की अगली सुनवाई कोर्ट ने 29 नवंबर को तय की. वहीं, दो हत्याओं के मामले की सुनवाई 6 दिसंबर को होगी. हालांकि राम रहीम इस दौरान सुनवाई के लिए कोर्ट में उपस्थित नहीं हुए, बल्कि सिरसा से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपनी उपस्थिति दर्ज कराई.
   इससे पहले 14 नवंबर को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने रेप, हत्या और कोर्ट की अवमानना के मामले में वांछित बाबाओं को कोर्ट में पेश करने के मामले में नाकाम हरियाणा सरकार को लताड़ लगाई थी. अक्टूबर महीने में कोर्ट ने राम रहीम के खिलाफ रेप और हत्या के मामले से जुड़े सारे दस्तावेज मांगे थे.
    14 नवंबर को राम रहीम के खिलाफ ताजा याचिका पर सुनवाई के दौरान जस्टिस के. कन्नन ने कहा, 'अदालतें बाबाओं के आदेश से नहीं चलती. फर्जी बाबा लोग अपने आपको समझते क्या हैं? उन्हें पता होना चाहिए कि भगवान कृष्ण ने भी कुछ समय जेल में बिताया था. अदालतों को न्यायाधीश चलाते हैं, बाबा नहीं.'
   गौरतलब है कि साल 2002 में राम रहीम के दो भक्तों ने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंजाब के मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर राम रहीम के खिलाफ यौन शोषण का आरोप लगाया था. इसके बाद कोर्ट ने सितंबर 2002 में सीबीआई जांच का आदेश दिया था, इस मामले में 30 जुलाई 2007 को चार्जशीट फाइल हुई थी. राम रहीम पर चौटाला का हमला
   उधर, हरियाणा के नेता विपक्ष और इनेलो लीडर अभय चौटाला ने विधानसभा चुनाव में बीजेपी का समर्थन करने वाले राम रहीम के खिलाफ जंग छेड़ दी है. गुरुवार को सोनीपत में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए चौटाला ने कहा, 'डेरा के समर्थन ने हरियाणा में राजनीतिक समीकरण बदल दिए और इनेलो को इसकी कीमत चुकानी पड़ी.'
   चौटाला ने कहा, 'इनेलो का रास्ता रोकने वाला बाबा बच नहीं सकता. एक बाबा जेल चला गया, दूसरा भी उसी के रास्ते पर जाएगा. बीजेपी भी उसे बचा नहीं पाएगी.'
9:34 PM | 0 comments | Read More

भाजपा की जीत की राह तय करेंगे ये 36 मुस्लिम

   जम्‍मू।। कश्मीर चुनावों में जी जान से जुटी भाजपा ने रियासत में अपनी रणनीति भी बदली है। अभी तक हिंदुत्वादी राजनीति और विकास के मुद्दे पर आगे बढ़ती रही पार्टी ने कश्मीर चुनावों में भाजपा ने पूरी तरह अपना चोला बदल लिया है। पार्टी कश्मीर चुनावों में पूरे सोशल इंजीनियरिंग के तहत काम कर रही है। यही कारण है कि लोकसभा चुनावों में एक भी मुस्लिम को टिकट न देने वाली पार्टी ने कश्मीर चुनावों में 36 मुसलमानों को टिकट ‌थमा दिया है। हैरत की बात ये है कि अभी तक हिंदुत्व को ही अपना प्रमुख वोट बैंक मानती रही पार्टी कश्मीर में मुसलमानों को टिकट देने में सबसे आगे निकल गई है। इनमें से 6 उम्‍मीदवार जम्‍मू संभाग के हैं जहां पार्टी काफी मजबूत मानी जा रही है। ऐसे में पार्टी की पूरी निगाह इन्हीं 36 मुस्लिम उम्‍मीदवारों पर टिकी है। क्योंकि इनमें से आधे भी अगर जीत कर आते हैं तो पार्टी इस मुस्लिम बहुल राज्य में पहली बार अपना झंडा बुलंद कर सकती है।
    जम्‍मू विधानसभा में सबसे ज्यादा कश्मीर संभाग से 46 सीटें हैं, इसके बाद जम्‍मू संभाग से 37 और लद्दाख संभाग से 4 विधानसभा सीटें आती हैं। गत लोकसभा चुनावों में जम्‍मू और लद्दाख क्षेत्र में पार्टी का प्रदर्शन शानदार रहा है और यहां से पार्टी ने तीनों सीटों पर कब्जा जमाया। भाजपा वर्तमान चुनावों में भी यहां अपनी वही पुरानी स्थिति मानकर चल रही है, ऐसे में पार्टी का सारा फोकस कश्मीर चुनावों पर है। यही कारण है कि भाजपा ने मुस्लिम बहुल कश्मीर क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए यहां सबसे ज्यादा 30 मुसलमानों को टिकट दिया है। जम्‍मू कश्मीर में पार्टी के सत्ता में आने की सारी उम्‍मीद इन्हीं 30 उम्‍मीदवारों पर टिकी हैं। इनमें से अगर आधे जीतकर भी आते हैं तो पार्टी को फिर जम्‍मू और लद्दाख क्षेत्र में बढ़त लेने में ज्यादा मुश्किल नहीं होगी। पार्टी के इन मुस्लिम सिपहसलारों में कई बड़े और प्रबुद्ध नाम भी हैं, जिनके पीछे पुराना सियासी रसूख भी जुड़ा है।
    कश्मीर चुनावों में भाजपा की नई सोशल इंजीनियरिंग देखने को भी मिल रही है। इसका अंदाजा विधानसभा चुनावों के लिए जारी की गई पार्टी की पांचों सूची को देखकर लगाया जा सकता है। जिसमें पार्टी ने बाकी सबको पीछे छोड़ते हुए सबसे ज्यादा 36 मुसलमानों को तो‌ टिकट दिया ही है। कश्मीर में बड़े और अभी तक उपेक्षित रहे कश्मीर पंडित समुदाय को भी चार टिकट दिए गए हैं। कश्मीर में अभी भी 93 हजार के करीब कश्मीरी पंडित निवास कर रहे हैं। ऐसे में अगर भाजपा इन्हें अपने पक्ष में मोड़ने में सफल रही तो उसकी राह आसान हो सकती है। इसके अलावा पार्टी ने कश्मीर में एक सिख और बौद्ध बहुल लद्दाख में तीन बौद्धों को भी टिकट दिया है। श्रीनगर में जहां अभी भी अच्छी खासी तादाद में सिख आबादी निवास करती है वहीं लद्दाख क्षेत्र में बौद्ध उम्‍मीदवार उसके लिए उम्‍मीद की नई किरण बन सकते हैं।
9:31 PM | 0 comments | Read More

बगैर परीक्षा ली डिग्री, चयनित शिक्षकों के अंगूठों का हो रहा है मिलान

नंबर वन हरियाणा: जेबीटी शिक्षक भर्ती
    सिरसा।। हरियाणा की पूर्व हुड्डा सरकार द्वारा वर्ष 2010 में किए गए जेबीटी के फर्जीवाडे से चयनित शिक्षकों पर संकट के बादल मंडराने लगे है, क्योंकि अध्यापक पात्रता परीक्षा में धांधली का मामला पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट पहुंचने पर अदालत के आदेश पर जांच शुरू हो गई, जिसमें पात्रता परीक्षा पास करने वाले सभी शिक्षकों के अंगूठों का मिलान अनिवार्य था। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग के जांच दल द्वारा करीब 6 हजार शिक्षकों के अंगूठों का मिलान किया गया, जिसमें भिवानी के 802, हिसार के 425, रोहतक के 201, झज्जर के 83, कुरूक्षेत्र के 18, पलवल के 5, अंबाला के 8, यमुनानगर के 2, सोनीपत के 124, गुडग़ांव के 88, फरीदाबाद के 55, पानीपत से 45, करनाल के 108, नारनौल के 14 तथा फतेहाबाद के 68 जेबीटी शिक्षकों के अंगूठों का मिलान पात्रता परीक्षा के साथ नहीं हुआ है। जांच दल के समक्ष कुछ ऐसे भी मामले आए है, जिनमें डिग्री हासिल करने वाले पात्र शिक्षक का फोटो भी परीक्षा फार्म पर लगे फोटो से मेल नहीं खाता था। जेबीटी शिक्षक भर्ती घोटाले के उजागर होने का ठीकरा सरकार ने आईपीएस अधिकारी लायक राम डबास पर फोडा और उन्हें अपने से हटाना पड़ा था। शिक्षा विभाग हरियाणा द्वारा जिलावर नियुक्त हुए जेबीटी शिक्षकों के अंगूठे का मिलान करवाया जा रहा है। दरअसल वर्ष 2008 में एक बार और वर्ष 2009 में दो बार पात्र परीक्षा का आयोजन हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी द्वारा किया गया। शिक्षा बोर्ड ने जब यह परीक्षाएं ली थी, तो आवदेन फार्म में इस बात का स्पष्ट उल्लेख था कि पात्रता परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थियों को डिग्री अंगूठों के निशान की जांच उपरांत दी जाएगी, मगर उनकी अनदेखी की गई थी। वर्ष 2010 में हुड्डा सरकार ने लगभग 9600 जेबीटी शिक्षकों की भर्ती का रिजल्ट 16 सितंबर 2010 को जारी किया और इसमें 8401 का चयन हुआ। चयन में धांधली को लेकर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में दस्तक दी गई, तो हाईकोर्ट के आदेश पर जांच शुरू हुई है।
9:27 PM | 0 comments | Read More

साढे 15 हजार करोड रूपए की लागत से 800 तोप खरीदेगा भारत

   नई दिल्ली।। बोफोर्स तोप सौदे में दलाली के "भूत" से बाहर निकलते हुए रक्षा मंत्रालय ने ढाई दशक बाद साढे 15 हजार करोड रूपए से अधिक की लागत से तोप खरीदने का बड़ा निर्णय लिया है। रक्षा मंत्री बनने के बाद मनोहर पार्रिकर की अध्यक्षता में शुक्रवार को रक्षा खरीद परिषद की पहली बैठक हुई. जिसमें सेना की तोपों की कमी को पूरा करने के लिए 15,750 करोड रूपए की लागत से 155 एमएम 52 कैलिबर की 814 तोप खरीदने का निर्णय लिया गया। लगभग दो घंटे चली बैठक में 7 हजार करोड़ रूपए की लागत से वायुसेना के लिए एकीकृत वायु कमान, नियंत्रण प्रणाली तथा एयर सेंसर खरीदने को भी मंजूरी दी गई।
   रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 56 एवरो विमानों तथा पिलेटस प्रशिक्षु विमानों की खरीद के प्रस्तावों को अगली बैठक तक के लिए टाल दिया गया है। भारतीय सेना ने 1986 के बाद से अब तक एक भी तोप नहीं खरीदी है और विभिन्न सरकारें बोफोर्स तोप सौदे में दलाली के जंजाल को ध्यान में रखते हुए इस बारे में फैसलों को बार-बार टालती रही है।
   शुक्रवार को लिये गये निर्णय के अनुसार ये तोप खरीद और देश में उत्पादन के आधार पर खरीदी जायेंगी। इसके तहत पहले 100 तोप खरीदी जायेंगी और इसके बाद तकनीक हासिल कर इनका देश में ही निर्माण किया जायेगा। देश की तोप बनाने वाली तीन बड़ी कंपनियों टाटा, लार्सन एंड ट्यूर्बो तथा भारत फोर्ज के इस प्रोजेक्ट की दौड़ में शामिल होने की संभावना है।
9:20 PM | 0 comments | Read More

विजयी प्रत्याशी नहीं निकाल पाएंगे जुलूस

नगर परिषद आम चुनाव 2014
    बांसवाड़ा।। बांसवाड़ा नगर परिषद आम चुनाव 2014 के अन्तर्गत 25 नवबंर को होने वाली मतों की गणना के परिणाम के पश्चात विजयी उम्मीदवार अपने विजयी जुलूस नहीं निकाल पाएंगें।
    रिटर्निग अधिकारी श्रीमती रूकमणी रियाड़ ने बताया कि नगर परिषद आम चुनाव प्रक्रिया सम्पन्न होने तक बांसवाड़ा शहरी सीमी क्षेत्र में धारा 144 प्रभावी होने के कारण मंगलवार को होने वाली मतों की गणना के पश्चात विजयी उम्मीदवार अपने विजयी जुलूस नहीं निकाल पाएंगेंं।
    उन्होंने बताया कि नगर परिषद आम चुनाव अभी तक शांतिपूर्ण रूप से सम्पन्न हुए हैं और किसी तरह की कोई समस्या नहीं आई है । उन्होंने लिफाफे की छटनी कार्य के दौरान उपस्थित राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों एवं चुनाव लड रहे अभ्यर्थियों एवं उनके द्वारा नामित व्यक्तियों को इस बात से स्पष्ट रूप से अवगत करा दिया गया है कि कोई भी विजयी उम्मीदवार अपना विजयी जुलूस नहीं निकाले।
9:18 PM | 0 comments | Read More

कलेक्ट्रेट के रिकार्ड रूम में आग, दस्तावेज जले

    भोपाल।। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कलेक्टर कार्यालय के रिकार्ड रूम में आज सुबह आग लगने से वहां रखे राजस्व संबंधी कुछ दस्तावेज जल कर राख हो गए। अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी बी एस जालौद ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया, ''यह आग बिजली के तारों में शार्ट सर्किट होने से लगी। यह छोटी आग थी, जैसे ही हमें रिकार्ड रूम में आग लगने की सूचना मिली। हमने आग बुझाने के पर्याप्त बंदोबस्त कर दिए और कुछ ही मिनटों में इस पर काबू पा लिया गया।
    उन्होंने कहा कि इस आग से मिसरौद गांव के राजस्व संबंधी कुछ दस्तावेज जलकर राख हो गए। जालौद ने उन रिपोटों का भी खंडन किया, जिसमें बताया गया था इस आग से तीन गांवों के राजस्व संबंधी रिकार्ड पूरी तरह से नष्ट हो गए हैं। उन्होंने कहा कि हालांकि, आग को बुझाने के लिए तीन दमकलों को बुलाया गया था, लेकिन उनके पहुंचने से पहले ही आग पर काबू पा लिया गया।
6:05 PM | 0 comments | Read More

पाक के सिंध में हिंदू मंदिर को लगाई आग

    कराची।। पाकिस्तान के दक्षिण सिंध सूबे में अज्ञात व्यक्ति ने एक छोटे हिंदू मंदिर में आग लगा दी। इसके विरोध में हिंदुओं और सियासी दलों ने प्रदर्शन किए। यह हिंदू मंदिर हैदराबाद के बाहरी इलाके तांदो मोहम्मद खान जिले में स्थित है। पाकिस्तान हिंदू परिषद के एक नेता रमेश वंखवानी ने बताया, ‘बृहस्पतिवार देर रात इस हिंदू मंदिर पर हमला कर इसमें रखी मूर्ति और धार्मिक ग्रंथ को जला कर राख कर दिया गया। हमें नहीं मालूम कि इस हरकत के पीछे कौन है। हालांकि पुलिस ने हमारी शिकायत पर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।’
   वंखवानी ने बताया कि प्रत्यक्षदर्शियों ने मंदिर को आग लगाने के बाद चार लोगों को दो मोटरसाइकिलों पर फरार होते देखा। वरिष्ठ पुलिस अफसर नसीम आरा पनवहर ने कहा कि एक प्रत्यक्षदर्शी ने पुलिस को बताया कि उन्होंने इस हादसे के तुरंत बाद चार लोगों को दो मोटरसाइकिलों पर इलाके से फरार होते देखा। नसीम ने बताया कि ये लोग मंदिर पर हमले में शरीक बताए जाते हैं।
   नसीम ने इस हमले को ज्यादा तूल न देते हुए ‘डॉन’ अखबार से कहा, ‘जिस जगह आग लगाई गई पक्की तौर पर यह नहीं कहा जा सकता कि वह मंदिर ही था। यह मूर्तियों को रखने के लिए बनाया गया एक ऊंचा मंच था। इस साल के शुरू में मंदिरों पर हमलों के मद्देनजर हमने इस मंदिर के पुजारियों से इसकी चारदीवारी को ऊंचा कराने को कहा था। हमने इस मंदिर के पुजारियों से यह भी कहा कि वे इसमें पवित्र हिंदू ग्रंथों और मूर्तियों को न ही रखें तो बेहतर होगा। हिंदू पंचायत के नेताओं डॉ. गिरधारी लाल मिर्चोमल गल, बाबू पटेल और मोहन लाल ने इस मंदिर को आग लगाए जाने की इस घटना को दंगों को भड़काने की साजिश बताया है। इन हिंदू नेताओं ने धैर्य बरत कर इस तरह की कोशिशों को नाकाम करने का वादा किया।’
    आग लगाने वाले अज्ञात लोगों के खिलाफ तांदो मोहम्मद खान पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है। सिंध के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ज्ञानचंद के भतीजे मोहन लाल ने कहा कि मंदिर को आग के हवाले किए जाने के बाद बृहस्पतिवार को मंत्री ने वहां मामले की जांच के लिए एक टीम भेजी थी। उन्होंने बताया कि मंदिर की दीवार बमुश्किल तीन से चार फुट उंची है। इसमें एक छोटा दरवाजा लगा है। उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि पुलिस ने स्थानीय हिंदू बाशिंदों से मंदिर की उंची चारदीवारी के लिए कहा था लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।
    इस बीच, विभिन्न राष्ट्रीय दलों के कार्यकर्ताओं और हिंदू समुदाय के लोगों ने हिंदू समुदाय की सुरक्षा और गुनाहगारों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। इन सभी का कहना था कि इस तरह की घटनाओं का मकसद हिंदुओं को प्रताड़ित करना और उन्हें डरा कर सिंध के लिए पलायन करना है। इसी साल 28 मार्च को भी फतेह चौक हैदराबाद में एक छोटे हिंदू मंदिर को जला दिए जाने के बाद हिंदुओं ने बड़े प्रदर्शन किए थे।
6:05 PM | 0 comments | Read More

आतंकवाद का गढ़ बन गया है पश्चिम बंगाल - आदित्यनाथ

    कोलकाता।। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांगे्रस सरकार पर तुष्टीकरण की राजनीति करके राज्य को 'आतंकवाद का गढ़' बनाने का आरोप लगाते हुए भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि राज्य सरकार वोट बैंक की राजनीति के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रही है। आदित्यनाथ ने यहां एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, ''वोटबैंक और तुष्टीकरण की राजनीति की वजह से प्रदेश आतंकवाद के गढ़ में तब्दील हो गया है। यहां हूजी, सिमी, लश्कर, जमात और कई अन्य आतंकवादी संगठनों ने अपने अड्डे बना लिए हैं और बद्र्धमान विस्फोट से यह बात साबित हो गई है। उन्होंने कहा, ''आज बंगाल देश का सबसे असुरक्षित राज्य है। यहां कोई बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमले के बारे में बात नहीं करता। बांग्लादेश में हिंदुओं के संहार पर पश्चिम बंगाल में जिस तरह की प्रतिक्रिया की अपेक्षा थी, वैसी देखने को नहीं मिल रही।
    आदित्यनाथ ने कहा, ''लेकिन तृणमूल कांग्रेस नीत राज्य सरकार बांग्लादेशी घुसपैठियों को संरक्षण दे रही है। राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में यह बंद होना चाहिए। उन्होंने केंद्र में पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर भी निशाना साधा और एक समुदाय विशेष के तुष्टीकरण के लिए भारत के इतिहास और संस्कृति को बदलने की कोशिश करने का आरोप लगाया। भाजपा सांसद ने कहा, ''हिंदुओं की भावनाएं राम मंदिर मुद्दे से जुड़ी हैं। कोई इसे खारिज नहीं कर सकता। अयोध्या में राम मंदिर बनेगा। भाजपा ने अपने घोषणापत्र में उल्लेख किया है कि संवैधानिक नियमों का पालन करते हुए अयोध्या में राम मंदिर बनाया जाएगा। आदित्यनाथ ने कहा कि केरल और पश्चिम बंगाल समेत अन्य राज्यों में गौकशी के खिलाफ एक राष्ट्रीय कानून की जरूरत है। उन्होंने कहा, ''यह बड़ी दुखदाई बात है कि हिंदू धर्म में मां की तरह पूजी जाने वाली गाय को किस तरह बंगाल में निर्ममता से काटा जा रहा है।
6:03 PM | 0 comments | Read More

"मैंने शराब पीनी छोड़ दी तो प्रदेश का मुख्यमंत्री बन गया"

   रांची।। बिहार के मुख्यमंत्री जीत राम मांझी ने एक चुनाव सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने शराब पीना छोड़ दिया तो प्रदेश का मुख्यमंत्री बन गया। मांझी ने समारोह में भुइयां व मुसहर जाति के लोगों से शराब छोड़ देने की अपील की। उन्होंने कहा कि हम हम भुइयां जाति के हैं। हम भी शराब पीते थे। बाद में छोड़ दी तो प्रदेश का मुख्यमंत्री बन गया। आप भी शराब पीना छोड़ दीजिए। बच्चों को पढ़ाईए, लिखाईए और राजनीति में लेकर आईए और प्रदेश के विकास में साथ दीजिए। भाजपा पर साधा निशाना
   मांझी ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में कालाधन वापस लाने का वादा करने वाली भाजपा का काला धन कहां गया। उन्होंने कहा कि पता चला है कि 465 लोगों की सूची में से केवल 5-6 खातों में ही पैसा है। निकाली गई राशि भाजपाइयों की थी। इसलिए खुलासा होने से पहले ही काला को उजला बना दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा ने झूठे चुनावी वादों के सहारे जदयू के वोटों को प्राप्त कर लिया। भाजपा की सोच दोरंगी है। जदयू विकास की राजनीति करती है। जदयू ने जिस तरह बिहार में गरीबों को हक दिलाया है उसी प्रकार झारखंड में भी गरीबों को हक मिलेगा।
6:02 PM | 0 comments | Read More

राजस्थान के 46 निकायों के चुनाव मेंं हुआ रिकार्ड मतदान

   जयपुर।। राजस्थान के 46 निकायों के लिए कल सम्पन्न हुए चुनाव में रिकार्ड 67;90 प्रतिशत मतदान हुआ। यह मतदान गत दो निकाय चुनाव मेें हुए मतदान से अधिक है। राजस्थान राज्य निर्वाचन आयोग के अनुसार कल सम्पन्न हुए चुनाव में 67;90 प्रतिशत मतदान हुआ यह वर्ष 2009 में हुए निकाय चुनाव के मुकाबले 6;11 प्रतिशत और वर्ष 2004 में हुए मतदान से 11;94 प्रतिशत अधिक है। वर्ष 2014 मेंं 67;90,वर्ष 2009 में 61;79 और वर्ष 2004 मेंं 55;96 मतदान हुआ था। 
   आयोग के अनुसार कल सम्पन्न हुए चुनाव में सबसे अधिक अस्सी प्रतिशत मतदान अजमेर जिले की पुष्कर और कोटा जिले की कैथुन नगर पालिका में हुआ जबकि सबसे कम साठ प्रतिशत मतदान जयपुर नगर निगम में हुआ है। आयोग के अनुसार पुष्कर नगर पालिका में वर्ष 2009 मेंं 86;14 ,वर्ष 2004 मेंं 84;10 ,कोटा जिले की कैथुन नगर पालिका में वर्ष 2009 मेंं 82;82 प्रतिशत तथा वर्ष 2004 मेंं 82;51 प्रतिशत मतदान हुआ था।
5:44 PM | 0 comments | Read More

20 हजार रूपए में एक प्लेट खाने की देकर फंड जुटा रहे हैं केजरीवाल

   नई दिल्ली।। दिल्ली चुनाव में लड़ने के लिए आम आदमी पार्टी ने फंड इकट्ठा करने का एक नया तरीका ढूंढा निकाला है। आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने फंड जुटाने के लिए डिनर कराने का फंडा शुरू किया है। इसके चलते केजरीवाल अगले हफ्ते मुंबई में 27 नवंबर को 200 लोगों को डिनर पार्टी देंगे। इस डिनर पार्टी में केजरीवाल हीरा व्यापारियों, बॉलीवुड स्टार्स और बैंकर्स को होस्ट करते नजर आएंगे। साथ ही पार्टी में आने वाले लोगों को डिनर की एक प्लेट के लिए 20 हजार रूपए देने होंगे।
    ये डिनर पार्टी 27 नवंबर को सनविले बैंक्वेट हॉल में की जाएगी। आप की महाराष्ट्र इकाई का कहना है किबैंक्वेट हॉल के जिस द रॉयल रूम में डिनर पार्टी का आयोजन किया जा रहा है, उसकी क्षमता 200 लोगों की है। आप लीडर प्रीती शर्मा मेनन ने कहा, "27 नवंबर को मुंबई डिनर पार्टी से हम सिर्फ 40 लाख ही जुटा सकेंगे क्योंकि हमारे पास सिर्फ 200 लोगों को सर्व करने की ही जगह है। वहीं महाराष्ट्र यूनिट के अकेले ही 5 करोड़ रूपए जुटाने का टारगेट है।" आम आदमी पार्टी को ऑनलाइन मिलने वाले फंड में आई गिरावट के चलते अब उसे दिल्ली चुनाव में भाजपा से भिड़ने के लिए अलग तरीके अपनाने पड़ रहे हैं।
   मुंबई डिनर के बाद केजरीवाल दिल्ली, दूसरे राज्यों और दूसरे देशों में भी डिनर के लिए जाएंगे। केजरीवाल को दूसरे देशों मसलन, दुबई, हांगकांग, सिंगापुर, अमेरिका, इंग्लैंड आदि से भी डिनर पार्टी के इनविटेशन मिल रहे हैं। गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी 15 मार्च को कर्नाटक के बेंगलुरू में डिनर पार्टी कर चुकी है। उस समय भी 20,000 रूपये लिए गए थे।
5:43 PM | 0 comments | Read More

थार एक्सप्रेस में पाकिस्तानी नागरिक से सोना जब्त

   बाड़मेर।। बाडमेर में सीमा शुल्क विभाग ने शनिवार को थार एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे एक पाकिस्तानी नागरिक से 117 ग्राम सोना पकड़ा है। बाजार में सोने की कीमत 2.86 लाख रूपए आंकी गई है। बाड़मेर में सीमा शुल्क विभाग के सहायक आयुक्त सुनील शर्मा ने बताया कि मुनाबाव प्लेटफार्म पर सुरक्षा जांच के दौरान पाकिस्तान से भारत आ रहे पाकिस्तानी नागरिक जयराम से छिपाकर लाया जा रहा अघोषित एक सौ सत्रह ग्राम सोना बरामद किया गया।
    गौरतलब है कि बीते सप्ताह थार एक्सप्रेस से सीमा शुल्क विभाग ने 4.32 लाख रूपए कीमत का 198 ग्राम सोना बरामद किया था।
5:42 PM | 0 comments | Read More

हड़ताल : 2 दिसंबर से 5 दिसंबर तक बंद रहेंगे सभी बैंक

   नई दिल्ली।। वेतन में बढ़ोतरी की मांग कर रहे सरकारी बैंकों के कर्मचारी एक बार फिर हड़ताल पर जाने की तैयारी कर रहे हैं। 12 नवंबर की देशव्यापी हड़ताल के बाद अब बैंक कर्मचारी यूनियंस चार दिन के लिए हड़ताल पर जाने की तैयारी में है। यूनियंस जहां पहले 25 प्रतिशत वेतन वृदि्ध की मांग कर रही थीं, अब वे 23 प्रतिशत की मांग कर रही हैं, लेकिन भारतीय बैंक संघ 11 प्रतिशत वृदि्ध से आगे नहीं बढ़ रहा है।
   ऑल इंडिया बैंक कर्मचारी संघ के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने कहा, "हम 2 से 5 दिसंबर तक आंचलिक स्तर पर क्रमवार हड़ताल पर रहेंगे। यह बैंकिंग उद्योग में अपनी तरह की पहली हड़ताल होगी।"
   हड़ताल की शुरूआत 2 दिसंबर को दक्षिण अंचल से होगी, इसके बाद 3 दिसंबर को उत्तरी अंचल में, 4 दिसंबर को पूर्वी अंचल और 5 दसंबर को पश्चिमी अंचल में होगी। देश भर में 27 सरकारी बैंक हैं जिनमें कुल 8 लाख कर्मचारी काम करते हैं। इन बैंकों की 50000 से भी अधिक शाखाएं हैं।
5:41 PM | 0 comments | Read More

बेंगलुरू में महिला टीचर ने किया 6 साल की बच्ची से दुराचार

     बेंगलुरू।। बेंगलुरू में मासूमों के साथ यौनशोषण के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. ताजा केस नॉर्थ बेंगलुरू के आरटी नगर थाना क्षेत्र का है, जहां महिला टीचर पर 6 साल की बच्ची के यौनशोषण का मामला दर्ज किया गया है. यह घटना शुक्रवार को 10.30 से 2.30 बजे के बीच हुई थी, उसी दिन बच्ची ने प्राइवेट पार्ट में दर्द की बात कही. इसके बाद परिजन बच्ची को पुलिस के पास लेकर पहुंचे और रिपोर्ट दर्ज कराई. पुलिस ने बच्ची को मेडिकल जांच के लिए भेज दिया है.
   पुलिस कमिश्नर एमएन रेड्डी ने कहा कि आरोपी महिला टीचर की गिरफ्तारी अभी तक नहीं की गई है. हम मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं, उसके बाद बच्ची के बयान के आधार पर उचित एक्शन लिया जाएगा. दूसरी ओर गिरफ्तारी नहीं होने से स्थानीय लोगों में रोष है.
   पुलिस का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज करने के बाद उसने स्कूल के कई टीचर्स को हिरासत में लेकर पूछताछ की है, लेकिन अभी गिरफ्तारी नहीं हो सकी है. पुलिस कह रही है कि वह जल्द ही बच्ची से महिला की टीचर की पहचान कराएगी और फिर मेडिकल रिपोर्ट आते ही उचित कार्रवाई की जाएगी.
5:40 PM | 0 comments | Read More

ये तीन पुरुष नष्ट हो जाते हैं, इन्हें न सुख मिलता है और न शांति

     सुख और दुख हमारे द्वारा किए गए कर्मों का ही फल है। अत: वर्तमान में हमें ऐसे कर्म करना चाहिए, जिनसे भविष्य में सुख प्राप्त किया जा सके। ऐसे कर्मों और भावों से बचना चाहिए, जिनसे व्यक्ति नष्ट हो जाता है। श्रीमद्भगवद् गीता में श्रीकृष्ण ने अर्जुन को तीन ऐसे पुरुषों के विषय में बताया है जो भविष्य में नष्ट हो जाते हैं। इन्हें न सुख मिलता है और न ही कभी शांति मिल पाती है।
श्रीकृष्ण कहते हैं कि-
अज्ञश्चाश्रद्दधानश्च संशयात्मा विनश्यति।
नायं लोकोऽस्ति न परो न सुखं संशयात्मन:।।
    इस श्लोक में श्रीकृष्ण ने अर्जुन से कहा है कि जो पुरुष अज्ञ यानी आत्म ज्ञान से हीन है, अज्ञानी है, धर्म नहीं जानता है, उपदेशों का पालन नहीं करता है, वह बहुत ही जल्दी नष्ट हो जाता है। अज्ञानी व्यक्ति कभी भी सफलता और शांति प्राप्त नहीं कर पाता है। अज्ञान के कारण ही दुखों में वृद्धि होती रहती है। अत: हमेशा अज्ञान को दूर करने के प्रयास करते रहना चाहिए। ज्ञान प्राप्त करते रहने से कल्याण हो जाता है।
   नष्ट होना वाला दूसरा व्यक्ति वह है जो ज्ञान की वृद्धि करने वाले उपायों में श्रद्धा नहीं रखता है। जो व्यक्ति उपदेश देने वाले ज्ञानी लोगों के प्रति हीन भावना रखता है, भगवान के प्रति श्रद्धा नहीं रखता है, वह इंसान बहुत ही जल्दी नष्ट हो सकता है। भगवान की कृपा के बिना व्यक्ति का कल्याण नहीं हो पाता है, ऐसे लोग कभी सुख प्राप्त नहीं कर पाते हैं। यदि हम परमात्मा पर विश्वास रखते हुए सही काम करेंगे तो सफलता मिलने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं।
   तीसरा व्यक्ति वह है जो हमेशा संशय में रहता है। जो पुरुष सदैव शंका में रहते हैं और कर्मों के लिए सोचते हैं कि सफलता मिलेगी या नहीं। काम होगा या नहीं। ये काम करूं या ना करूं। जो लोग भगवान की भक्ति के संबंध में भी संशय रखते हैं, वे नष्ट हो जाते हैं। संशय करने वाले व्यक्ति का मन कभी भी शांत नहीं रहता है। शंका का कोई समाधान नहीं है। अत: इस भावना से जितनी जल्दी हो सके, मुक्ति पा लेनी चाहिए। कोई भी काम एक मन बनाकर शुरू कर देना चाहिए। कर्म करना हमारे वश में हैं, कर्म के फल के विषय में सोचने या शंका करने से असफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ती हैं।
-श्रीकृष्ण कहते हैं कि:
योगसंन्यस्तकर्माणं ज्ञानसंछिन्नसंशयम्।
आत्मवतं न कर्माणि निबध्नन्ति धनञ्जय।।
   इस श्लोक में श्रीकृष्ण ने बताया है कि जिस व्यक्ति ने आत्म ज्ञान से अपने संशय को दूर कर लिया है, उसका कल्याण हो जाता है। संशय को दूर करने के बाद व्यक्ति को शांति और सुख प्राप्त होता है। संशय यानी शंका को दूर करने के लिए हमें ज्ञान को बढ़ाते रहना चाहिए। जिस व्यक्ति ने आत्मा और ईश्वर की एकता का दर्शन कर लिया है, आत्मा और ईश्वर एक ही है, इस बात को समझ लिया है, उसके सभी संशय दूर हो जाते हैं। श्रीकृष्ण ने अर्जुन से कहा कि जो व्यक्ति आत्म ज्ञान और पवित्र बुद्धि के आधार पर सही कर्म करता है, उसे किसी भी प्रकार के संशय का सामना नहीं करना पड़ता है।


10:54 AM | 0 comments | Read More

Jaipur News

Crime News

Industry News

The Strategist

Commodities

Careers