News Today Time

Headline Today

Translate

Join us

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

चेक बाउंस मामले में महिला अभिभाषक दंडित, जेल

Written By News Today Time on Thursday, March 5, 2015 | 8:46 PM

    रतलाम/मप्र।। अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी रितुराजसिंह चौहान ने एक महिला अभिभाषक को धारा 138 के तहत दोषी पाते हुए उसे छह महीने के साधारण कारावास से दंडित करने के साथ ही 62 हजार रुपए क्षतिपूर्ति के रूप में अदा करने के आदेश भी दिए हैं।
    चौहान की अदालत में अंबिका नगर निवासी अभिभाषक हंसा पाठक के खिलाफ बिबडौद निवासी दशरथ कौशल ने परिवाद दायर किया था। परिवादी के अभिभाषक ओपी भट्ट ने बताया कि हंसा पाठक ने 24 जनवरी 211 को शांतिलाल चौधरी के माध्यम से परिवादी से 5 हजार रुपए उधार लिए थे। उसने आश्वासन दिया था कि नागपुर में रहने वाले दामाद से रुपए आने वाले है, जिससे वह उधारी चुका देगी। दामाद का चेक दिखाकर परिवादी को उसकी फोटोकापी भी दी गई थी।
    उधार ली गई राशि के भुगतान के लिए भारतीय स्टेट बैंक की कलेक्टोरेट शाखा का 15 फरवरी 211 का चेक दिया था, जिसे परिवादी ने सतपुड़ा नर्मदा क्षेत्रीय बैंक की चांदनी चौक शाखा में जमा किया, तो खाते में राशि नहीं होने से 3 जून 211 को बैंक ने चेक वापस लौटा दिया। परिवादी ने इस पर हंसा पाठक को नोटिस भेजा, लेकिन उसने राशि नहीं लौटाई। इस पर न्यायालय की शरण ली गई।
8:46 PM | 0 comments | Read More

कांग्रेस विधायक समेत डेढ़ सौ लोगों के खिलाफ मुकदमा

   जयपुर।। जयपुुर के ज्योतिनगर थाना पुलिस ने कल राजस्थान विधान सभा के समक्ष पुलिस के साथ हाथापाई करने, बैरिकेड तोडऩे और महिला पुलिसकर्मियों से धक्का-मुक्की करने के आरोप मेंं कांग्रेस विधायक अशोक चांदना समेत डेढ़ सौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया हेै।
     ज्योतिनगर थाना पुलिस ने आज बताया कि युवक कांगे्रस के आह्वान पर विधानसभा के समक्ष प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस विधायक अशोक चांदना सहित डेढ़ सौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि मामला जनप्रतिनिधि के खिलाफ होने के कारण मामले की जांच सीआईडी (सीबी) को सौप दी गई है।
गौरतलब है कि राजस्थान युवक कांग्रेस की ओर से भूमि अधिग्रहण समेत अन्य मुददों को लेकर कल विधान सभा के समक्ष प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। लाठीचार्ज में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट एवं कांग्रेस विधायक अशोक चांदना समेत बीस से अधिक लोग घायल हो गए थे।
8:44 PM | 0 comments | Read More

पूर्व विधायक विजय सिंह जाटव गिरफतार

   जयपुर।। पुलिस ने स्पवास के पूर्व विधायक विजय सिंह जाटव सहित दो लोगों को शराब पी कर हंगामा करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।
     भरतपुर पुलिस के थानाधिकारी नियाज मोहम्मद के अनुसार पूर्व विधायक विजय सिंह जाटव और उनके साथी लोकेश को कल हंगामा करने पर हिरासत में लेकर मेडिकल करवाया गया, जिसमें उनके शराब पीए होने की रिपोर्ट मिलने पर मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया।
दोनों को बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया।
8:43 PM | 0 comments | Read More

16 दिसंबर सामूहिक बलात्कार के दोषी का साक्षात्कार : राजनाथ ने तिहाड़ के डीजी को तलब किया

    नई दिल्ली।। सोलह दिसंबर की घटना के दोषी के साक्षात्कार से उपजे हंगामे के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज तिहाड़ जेल के महानिदेशक को तलब किया है, जहां यह डॉक्यूमेंट्री फिल्माई गई है। समझा जाता है कि महानिदेशक आलोक कुमार वर्मा ने गृहमंत्री को इस बारे में जानकारी दी कि दोषी मुकेश सिंह का साक्षात्कार लेने की इजाजत कैसे दी गई और यह कैसे हुआ,
    आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दस मिनट की मुलाकात के दौरान वर्मा ने गृहमंत्री को जेल नियमों के विभिन्न पहलुओं और बाहरी व्यक्ति द्वारा एक कैदी से मिलने की प्रक्रिया के बारे में भी बताया।
     इससे पहले गृहमंत्री ने संसद के दोनों सदनों में दिए बयान में एक ब्रिटिश फिल्म निर्माता द्वारा साक्षात्कार लेने की परिस्थितियों के बारे में बताया और कहा कि सरकार ने इसके प्रसारण को रोकने के लिए कार्रवाई की है। गृहमंत्री ने कहा कि जुलाई 213 में मुकेश का साक्षात्कार लेने के लिए किस प्रकार इजाजत दी गई, इस बाबत जांच के आदेश दिए गए हैं और इस संबंध में जिम्मेदारी भी तय की जाएगी।
    साक्षात्कार में 23 वर्षीय लड़की से बर्बर बलात्कार करने और उसकी हत्या करने के जुर्म में मौत की सजा पाए मुकेश ने कहा कि बलात्कार के लिए वह महिलाएं जिम्मेदार हैं जो देर रात को बाहर निकलती हैं और छेड़छाड़ करने वाले पुरूषों को आकर्षित करती हैं। उसने कहा, '' बलात्कार के लिए एक लड़की एक लड़के से कहीं ज्यादा जिम्मेदार है।
8:39 PM | 0 comments | Read More

लो हो गया........... एक और तेलगी कांड

    अवैध वसूली/खंडणी और ब्लैकमेल करने के लिये फर्जी दस्तावेज़ और नकली सरकारी स्टैम्प, बोगस नोटरी स्टैम्प आदि बनाने वाले गिरोह के सरगना वकील सागर सूर्यवंशी और अन्य के खिलाफ I.P.C. की धारा 255, 467, 468, 469, 471, 474, 120B, 34 के तहत कार्यवाही हेतु आवेदन

     भ्रष्टाचारी प्रशासनिक व्यवस्था व माफिया लॉबी की मिलीभगत की एक जीती जागती मिसाल जो आम नागरिकों को मानसिक व शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने के साथ-साथ आत्महत्या करने को मजबूर करती है|
    हमारे देश में भ्रष्ट प्रशासनिक व्यवस्था के साथ मिलकर माफिया लॉबी ऐसे बिल्डरों या भू-मालिकों को डरा-धमकाकर अवैध वसूली के काम करती है, जो अपनी पारिवारिक या निजी संपत्ति को बेचने जाते हैं| यह माफिया लॉबी फर्जी दस्तावेज तैयार करके अदालत में Suit File कर देती है जिससे आम नागरिक त्रस्त होकर व डरकर इन माफिया लॉबी द्वारा मांगी गई रकम को देकर इनसे अपना पिंड छुड़ाना ही अपनी नियती समझते हैं| ये शोषित समुदाय मजबूर हैं इस भ्रष्ट प्रशासनिक व्यवस्था के भ्रष्टाचार की वजह से जहाँ यदि कोई शिकायत करने पहुँच भी जाये तो यह भ्रष्ट अधिकारी माफिया लॉबी से मिलकर पीड़ित को ही डराने-धमकाने का कार्य शुरू कर देते हैं|

     ऐसा ही एक मामला पूना के श्री. कैविन पिंटो का आया है जिस मामले में कैविन पिंटो द्वारा एक संपत्ति बेची गई मगर माफिया लॉबी के वकीलों द्वारा फर्जी दस्तावेज दाखिल करते हुये एक Suit पिंटो को भेजा गया जिसे देखकर पिंटो आश्चर्यचकित रह गये| उस Suit File के अनुसार पिंटो द्वारा फर्जी MOU उच्च न्यायालय में दाखिल किया गया था और उन कागजातों में एक Notarized पेपर भी मौजूद था जिसमें कहा गया था कि पिंटो उन्हें वह संपत्ति बेच रहे हैं और जिसकी अग्रिम राशि उन्होंने Cheque द्वारा प्राप्त भी किया है मगर पिंटो ने ऐसा कुछ किया ही नहीं था अतः वे थोड़ा घबड़ा गये और विमानतळ पुलिस थाने, पूने में जाकर मामले की शिकायत की, शिकायत करते समय तो पुलिस अधिकारी ने यकीन दिलाया कि हम निष्पक्ष रूप से जाँच करते हुये फर्जीवाड़ा करने वाले आरोपियों को सज़ा जरूर दिलवायेंगे|

     पुलिस अधिकारी द्वारा प्राथमिक दौर पर तो बेहतरीन तरीके से छानबीन करते हुये सारे सबूत इकट्ठे किये गये जिसमें साफ-साफ नजर आ गया कि Suit में शामिल कागजात फर्जी हैं जैसे Notary करनेवाले के हस्ताक्षर, Notary के समय उपयोग किया जाने वाला स्टैम्प पैड भी पूरी तरीके से नकली थे, जिसका इकरारनामा पुलिस अधिकारी द्वारा Notary से प्राप्त कर लिया गया था| Notary के लिये उपयोग किया जाने वाला स्टैम्प पेपर की जब तफ्तीश Treasury द्वारा करवाई गई तो उसके द्वारा साफ-साफ बताया गया कि इस प्रकार का स्टैम्प पेपर आज तक उपयोग नहीं किया गया है|
     Treasury द्वारा कुछ सांकेतिक चिन्ह भी बताये गये जिससे स्टैम्प पेपर की मौलिकता(originality) का पता चला सके| जैसेः 2014 के बाद से स्टैम्प पेपर पर एक Water Mark भी लगाया जा रहा है जो इस पेपर पर मौजूद नहीं था| स्टैम्प पेपर में कहीं भी 2014 या वर्ष नहीं लिखा जाता है जबकि इस पेपर पर 2014 लिखा हुआ हैं| स्टैम्प पेपर पर जो महाराष्ट्र का Serial No. दिखाया जा रहा है वह Serial No. अभी तक उपयोग ही नहीं किया गया|
    संगठन ने संबंधित मामले में F.I.R. दर्ज करने के लिये महाराष्ट्र के डी.जी.पी. को सारे सबुतों के साथ एक शिकायत पत्र दिया है जिससे F.I.R. दर्ज हो सके और पीड़ित को जल्द से जल्द न्याय मिल सके| साथ ही संगठन मानवाधिकार आयोग, मुख्यमंत्री(महाराष्ट्र), राज्य सर्तकता आयोग, राज्यपाल(महाराष्ट्र), प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति व देश के गृहमंत्री को शिकायत-पत्र भेज रहा है|
  

(सोनिका क्रांतिवीर)
8:28 PM | 0 comments | Read More

गौमाता प्रेमियों की भावनाओं से ऊपर नहीं है बॉलीवुड - गौभक्त

गौ हत्या प्रतिबन्ध के विरोध में उतरा बॉलीवुड...
     फरहान अख्तर, आयुष्मान खुराना और रिचा चड्ढा समेत कई बॉलीवुड हस्तियों ने महाराष्ट्र में गोमांस पर लगे प्रतिबंध का विरोध करते हुए मंगलवार को इसे "मानवाधिकारों का उल्लंघन" बताया..
   महाराष्ट्र में गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने से जुड़ा विधेयक कई सालों से अटका हुआ था.. इसे सोमवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंजूरी दे दी.. फिल्म निर्देशक ओनिर ने ट्विटर पर लिखा, ‘"गोमांस पर प्रतिबंध मानवाधिकारों का उल्लंघन है" मैं क्या खाऊं यह सरकार तय नहीं कर सकती, लगता है कि भारत का ‘लोकतांत्रिक’ संविधान विविधता सुनिश्चित नहीं करता.. गोमांस पर प्रतिबंध एक निराशाजनक कदम है.. ’रिचा ने कहा, ‘मैं शाकाहारी हूं और गोमांस पर प्रतिबंध सांप्रदायिक राजनीति है.. ’ स्टैंड अप कॉमेडियन वीर दास ने ट्वीट किया है , ‘प्रिय सरकार आइए गोमांस के साथ दांतों पर प्रतिबंध लगाते हैं.. हम ऊबली सब्जियों पर जी सकते हैं और इस तरह आपके नेता नफरत फैलाने वाला भाषण नहीं दे सकेंगे.. ’अभिनेता रणवीर शौरी ने ट्विटर पर लिखा, ‘सरकार खाने पर प्रतिबंध लगाना बंद करें.. शुक्रिया।
   फरहान अख्तर ने ट्वीट किया, ‘तो अब महाराष्ट्र में आपको किसी से शिकायत (बीफ) हो सकती है लेकिन आप किसी के साथ बीफ (गोमांस) खा नहीं सकते (यू कैन हैव बीफ (शिकायत) विद समवन, बट यू कांट हैव बीफ विद समवन).. ’निर्देशक शिरीष कुंदरा ने गोहत्या प्रतिबंध का मजाक उड़ाते हुए लिखा, ‘गायों को अगर अगले चुनाव में मतदान का अधिकार दे दिया जाए, तो हैरान मत होना’
    आयुष्मान खुराना ने लिखा है अब मैं क्या खाऊँ ये मेरा पसंदीदा भोजन है, वहीं बहुचर्चित शो 'सत्यमेव जयते' में देशवासियों को जगाने का ढोंग करने वाले आमिर खान ने कहा है की गौ हत्या पर प्रतिबन्ध से महाराष्ट्र में भोजन की कमी उत्पन्न होगी...
गौमाता प्रेमियों का दृष्टिकोण
    वही गौमाता प्रेमियों को लगता है गौहत्या पर पूरे विश्व में प्रतिबन्ध लगना चाहिये, किसी जीव की हत्या पर प्रतिबन्ध लगाने से मानवाधिकारों का उलंघन कैसे हो सकता है? कैसी विडंबना है की आयुष्मान खुराना के पास गौमांस के सिवा कुछ और खाने को नहीं है... खुद को देशप्रेमी होने का दावा करने वाले आमिर खान शायद यह नहीं जानते कि हमारे देश की पहचान "गौमाता" हैं.. आमिर खान की सोच पर घिन्न आती कि गौ हत्या पर प्रतिबन्ध से महाराष्ट्र में भोजन की कमी उत्पन्न होगी... राज्य में अगर गोहत्या पर प्रतिबन्ध लगा दिया जाये तो क्या लोग भूख से मर जाएंगे...? अगर आप भी गौहत्या के खिलाफ है और इस पर प्रतिबन्ध को उचित कदम मानते है तो भारतीयों की भावनाओं का मजाक बनाने वाले इन लोगों कि फिल्मों का त्याग करके इन्हें सबक जरूर सिखाएं..






5:57 PM | 0 comments | Read More

डीपी यादव के भांजे ने कराई थी हब्बू की हत्या, पुलिस ने किया खुलासा

   बुलंदशहर।। बुलंदशहर प्रोपटी डीलर राजकुमार हब्बू की हत्या पूर्व मंत्री डीपी यादव के भांजे मनोज यादव ने भाडे के शूटरों से कराई थी। पुलिस ने एक शूटर को गिरफ्तार कर चर्चित हब्बू हत्याकांड का आज खुलासा कर दिया।
    एसएसपी अनंत देव ने जानकारी देते हुए बताया कि हब्बू की हत्या के लिए मनोज यादव ने आचरु के अशोक प्रधान के जरिए ऊपरकोट के राशिद लंबू व सिकंद्राबाद के छोटा दानिश और मौसीन को 10 लाख रुपए की सुपारी दी थी।
    उन्होने बताया कि शहर में एक प्रापर्टी को लेकर मनोज यादव हब्बू से नाराज था, एक माह पहले उसे घर पर बुलाकर पीटा भी था। राशिद लंबू पुलिस की गिरफ्त में आने से बचने के लिए जेल चला गया, छोटा दानिश फरार है और मोसीन को गिरफ्तार कर लिया गया है।
    एसएसपी ने बताया कि सफेदपोश मनोज यादव और अशोक प्रधान 120बी के आरोपी बनाए गए है, दोनों फरार है। मनोज यादव के यहा लक्ष्मीनगर पर पुलिस ने आज सुबह भी दबिश दी। गौरतलब है कि राजकुमार हब्बू की हत्या 4 माह पूर्व ऐन दीपावली के दिन शिवपुरी स्थित आवास के बाहर कर दी गई थी। घटना का खुलासा ना होने से पुलिस की किरकिरी हो रही थी। मनोज यादव और राजकुमार हब्बू दोनों प्रोपर्टी का काम करते थे और पार्टनर थे। हत्या मे प्रयुक्त स्कूटी और रिवाल्वर पुलिस ने बरामद कर लिया है।
5:12 PM | 0 comments | Read More

21 मार्च से अपराधियों तथा भ्रष्टाचारियों पर चलेगा शनि का डंडा

    नई दिल्ली।। हिन्दू नव वर्ष गुड़ी पड़वा (21 मार्च) के दिन शनि ग्रहों के राजा होंगे। शनि (राजा) मंगल (मंत्री) शुक्र, बुध, चंद्र तथा सूर्य ग्रह पर शनि का अधिपत्य होगा। शनि न्याय के देवता है। उनके राजा बनते ही अपराधियो तथा भ्रष्टाचारियों पर शनि भगवान का डंडा चलेगा। शनि के राजा बनने पर न्याय का राज होगा। लंबे समय से अपराधों में लिप्त किन्तु पाक साफ बने राजनेताओं, अधिकारियों तथा उद्योगपतियों को शनि के दंड का फल भुगतने तैयार हो जाना चाहिए। कर्म का फल शनि के प्रभाव में आते ही। मिलना तय है। अच्छे कर्मो का अच्छा फल तथा बुरे कर्मो का बुरा फल देना न्याय के राजा शनि करते हैं। इनकी नजरों से बच पाना किसी के लिए भी संभव नहीं है। राजनैतिक उथल पुथल-राजनीति के कारण ग्रह मंगल की राशि वृश्चिक में शनि के होने से राजनीति में उथल पुथल की स्थिति निर्मित होगी। केंद्र एवं राज्यों में सत्ता परिवर्तन तथा मंत्रियों के बनने बिगड़ने का सिलसिला ग्रहों के कारण तय है। विक्रय संवत्सर 2072 में न्याय व्यवस्था मजबूत होगी। अपराध एवं भ्रष्टाचारियों पर न्यायालय का डंडा चलेगा।
    इस साल हिन्दू नव वर्ष गुड़ी पड़वा पर ग्रहों के नये मंत्री मंडल का गठन होगा। जिसमें पूरे ब्रह्मांड के एकमात्र न्याय के देवता शनि महाराज राजा के रूप में होंगे। ज्योतिष की मानें तो शनि महाराज न्याय प्रिय देवता होने के कारण इस वर्ष न्याय पालिका, भ्रष्टाचार, अपराध आदि क्षेत्रों में सख्त रूख अख्तियार करेगी। फलस्वरूप, अपराधी, एवं भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई तेज होगी। यह संवत्सर कीलकनाम संवत्सर के नाम से जाना जाए। नये वर्ष संवत्सर का आगाज कर्क लग्र में होगा जो कि वर्ष लग्र भी है। जिससे अनेक कठिनाइयों के बाद भी प्रगति पथ पर आगे बढ़ेगा। कर्क का गुरु अनुसंधान आदि क्षेत्रों में प्रगति लाएगा। वृश्चिक का शनि व्यापार के लिए अच्छे संकेत दे रहा है। इसमे निर्यात वृद्धि के योग हैं। पड़ोसियों के साथ संबंध मधुर होंगे, लेकिन आतंकवाद एवं घुसपैठ के मुद्दे पर भारत सख्त रुख अख्तियार करेगा। राजनैतिक उथल पुथल तेज होगी।
4:55 PM | 0 comments | Read More

चार सालों में 28 विमान दुर्घटनाएं, एक हजार करोड़ से अधिक का नुकसान

    नई दिल्ली।। 2011 से रक्षाबलों के 28विमान एवं 14 हेलीकाप्टर क्षतिग्रस्त हुए है तथा दुर्घटनाओं में 42 लोगों की मौत हुई थी। दुर्घटनाग्रस्त 28 विमानों में 14 पुराने एमआईजी थे जिन्हें लम्बे समय पहले हटा देना चाहिए था। रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने लोकसभा में एक लिखित जबाव में बताया कि अभी तक हुई 26 दुर्घटनाओं में सरकार को लगभग 1127.37 करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है। इन दुर्घटनाओं के लिए मानवीय त्रुटियों तथा तकनीकी कमियों को जिम्मेदार ठहराया गया था। दूसरे शब्दों मेें पायलटों को अपर्याप्त प्रशिक्षण, पुराने विमानन तथा नकली सामानों का चलन ऐसी दुर्घटनाओं का प्रमुख कारण है। 
    पर्रिकर ने बताया कि रक्षा अधिग्रहण परिषद ने पिछले अगस्त में रणनीतिकहितो एवं तत्कालिक महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर निर्णय लिया है। जिसके अंतर्गत तत्कालिक आवश्यकता द्वारा सेना एवं भारतीय वायुसेना के लिए नये हेलीकाप्टर अधिग्रहीत किए जाएगें तथा शेष का निर्माण घरेलू स्तर पर किए जाएगा। सबसे अधिक भयानक दुर्घटना की दर डेल्टा विंग एमआईजी 21एस की थी जिनकी डिजाइन 1960 के दशक में की गयी। भारतीय वायुसेना में लगभग 780 एमआईजीएस शामिल किए गए थे। 380 से अधिक विमान 1971-12 से दुर्घटना ग्रस्त हो चुके है। भारतीय वायुसेना में अब भी लगभग 260 एमआईजी -21 एस विमान है। हल्के युद्धक विमान देशी तेजा में देरी से भारतीय वायुसेना को अपग्रेडेड एमआईजी 21 विसंस से लगभग एक अन्य दशक तक उड़ान भरना पड़ेगा। वर्ष 2011-12 में 12 विमान दुर्घटा ग्रस्त हुए थे। जिसमें 5 एमआईजीएस तथा दो हेलीकाप्टर शामिल थे। वहीं वर्ष 2012-13 में दो एमआईजीएस सहित चार विमान एवं पांच हेलीकाप्टर दुर्घटना का शिकार हुए थे। साल 2013-14 में दुर्घटना ग्रस्त विमानों की संख्या 6 थी जिसमें तीन एमआईजी थे। इसी वर्ष दो हेलीकाप्टर दुर्घटना ग्रस्त हुए। साल 2014-15 के दौरान तीन एमआईजी सहित 6 विमान एवं पांच हेलीकाप्टरों की दुर्घटना हो चुकी है।
4:54 PM | 0 comments | Read More

लडकियों की सुरक्षा के लिए नागौर में 'लाडोरानी' योजना

     जयपुर।। राजस्थान के नागौर जिला प्रशासन ने समाज में लड़कियों के प्रति कुंठित विचारधारा दूर कर बालिकाओं के बेहतर लालन पालन और लिंग के आधार पर भेदभाव नहीं करने के लिए 'लाडोरानी' योजना शुरू की है। जिला कलेक्टर राजन विशाल ने बताया कि 'लाडोरानी' के अतंर्गत प्रशासन सरकारी चिकित्सालयों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर बालिकाओं के जन्म पर एक किट निशुल्क दिया जाएगा। किट में 'डायपर' और केन्द्र तथा राज्य सरकार द्वारा बालिकाओं के लालन-पालन के लिए चलाई जा रही 66योजनाओं की एक बुकलेट होगी। 
   बुकलेट के माध्यम से परिजन बालिका का लालन पालन बेहतर ढंग से कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि नागौर जिले में वर्ष 213-14 मेेंंं सरकारी अस्पतालों में 45 हजार 634 प्रसव हुए जिनमें से 21 हजार 317 लड़कियां हैं। विशाल ने बताया कि ग्रामीण इलाकों में लड़कियों को समान दर्जा दिलाने के प्रयासों के बावजूद समाज में अब भी लड़के और लड़कियों के बी़च फर्क किया जाता है।
4:52 PM | 0 comments | Read More

देश में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 1075 पहुंची

     नई दिल्ली।। देशभर में स्वाइन फ्लू से रविवार 34 और लोगों की मौत के साथ एच-1 एन-1 विषाणु से इस साल अब तक मरने वालों की कुल संख्या 1075 तक पहुंची, जबकि इस बीमारी से पीडि़तों की कुल संख्या 20 हजार के आंकड़े के करीब है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, वर्ष 2015 में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 1075 हो गई जबकि स्वाइन फ्लू से प्रभावितों की संख्या 28 फरवरी तक 19972 है। 
    मंत्रालय ने कहा था कि 27 फरवरी तक मरने वालों की संख्या 1041 थी जबकि इस विषाणु से संक्रमित लोगों की संख्या 19046 थी। आज के आंकड़ों से पता चला कि इस बीमारी से मरने वालों की संख्या के मामले में गुजरात ने राजस्थान को पीछे छोड़ दिया। गुजरात राज्य सरकार के अधिकारियों ने अहमदाबाद में कहा कि 10 और लोगों की मौत के बाद स्वाइन फ्लू से राज्य में मरने वालों की संख्या 275 हो गई। गुजरात में 247 नये मामले प्रकाश में आने के साथ प्रभावितों की कुल संख्या 4614 हो गई।
ये है आंकड़े
राज्य मौत प्रभावित
राजस्थान 261 5528
मध्य प्रदेश 153 1010
महाराष्ट्र 143 1735
तेलंगाना 57
पंजाब 42
दिल्ली 10 2891
कर्नाटक 46
हरियाणा 21
आंध्र प्रदेश 12
हिमाचल प्रदेश 08
जम्मू कश्मीर 07
केरल 07
प.बंगाल 16 131
ओडिशा 04
उ.प्रदेश 614
4:51 PM | 0 comments | Read More

वेतन नहीं मिला तो होली के दिन भीख मांगेंगे लालइमली के कर्मचारी

    कानपुर।। गर्म कपड़े बनाने के लिए अपने जमाने की मशहूर सरकारी कंपनी 'लाल इमली' के करीब 12 कर्मचारी पिछले आठ महीने से वेतन नहीं मिलने से परेशान हैं और अब उन्होंने फैसला किया है कि वह ना तो होली मनायेंगे और ना ही अपने अधिकारियों को मनाने देंगे बल्कि उस दिन अपने परिवार के साथ शहर के चौराहों पर भीख मांगेंगे। भारत सरकार के कपड़ा मंत्रालय के अन्तर्गत आने वाली कंपनी लाल इमली के कर्मचारी पिछले कई महीनों से वेतन के लिए आंदोलन कर रहे है। कर्मचारियों का कहना कि सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है। लाल इमली की सूती मिल मजदूर यूनियन के अध्यक्ष बी एम त्रिपाठी ने बताया कि पिछले आठ महीने से कर्मचारियों को एक भी पैसा नहीं मिला है। अब परिवार के लिए दो वक्त की रोटी जुटाना मुश्किल हो गया है। 
    त्रिपाठी ने कहा कि इस लिए कर्मचारियों ने फैसला किया है कि वे ना तो होली मनाएंगे और ना ही कंपनी के किसी अधिकारी को मनाने देंगे। कर्मचारी और उनके परिवार होली के दिन लाल इमली के सामने और शहर के प्रमुख चौराहों पर भीख मांगेंगे। कर्मचारी नेता ने बताया कि अंग्रेजों द्वारा स्थापित यह कंपनी एक समय अपने गर्म कपड़ों के लिए पूरे देश में मशहूर थी। इसकी सहयोगी धारीवाल कंपनी पंजाब में थी और लाल इमली धारीवाल के नाम से कपड़े बाजार में आते थे। 1992 में यह कंपनी रूग्न इकाई घोषित कर दी गई। त्रिपाठी के अनुसार लाल इमली के 12 कर्मचारी और धारीवाल के 5 पिछले आठ महीने से वेतन नही मिला है। उन्होंने बताया कि कुछ समय पहले लाल इमली की जमीन बेची गई थी और उसका करीब 3 करोड़ रूपया कंपनी के पास जमा है। कर्मचारियों ने लाल इमली के कार्यवाहक महाप्रबंधक राजा मित्रा से आग्रह किया है कि उसी में से उन्हें वेतन दे दिया जाए। पहले भी कई बार ऐसा किया जा चुका है।
   त्रिपाठी के अनुसार मित्रा ने इस पर आला अधिकारियों से बात करने का आश्वासन दिया था। मजदूर नेता ने कहा कि लाल इमली के पुनरूद्धार का मुददा 25 से कैबिनेट के समक्ष विचाराधीन है लेकिन अब तक कुछ नहीं हुआ। इस बीच, मित्रा ने कहा कि अधिकारियों और सुपरवाइजरों का आठ महीने का और कर्मचारियों का सात महीने का वेतन बाकी है। कार्यवाहक महाप्रबंधक ने कहा कि हम भारत सरकार के कपड़ा मंत्रालय पर निर्भर हैं। हमने अपने अधिकारियों के माध्यम से कर्मचारियो की मांगों से मंत्रालय को अवगत करा दिया है। अब मंत्रालय जो भी कहेगा, उसके आधार पर काम किया जाएगा।
4:44 PM | 0 comments | Read More

कानून...व्यवस्था के मुद्दे पर शोर...शराबे के कारण कांग्रेस विधायक निलंबित

   गांधीनगर।। राज्य में कानून...व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा कराने की मांग करते हुए विधानसभा की कार्यवाही में बाधा डालने वाले कांग्रेस के कई सदस्यों को आज एक दिन के लिए गुजरात विधानसभा से निलंबित कर दिया गया।
   विधानसभा का सत्र आज शुरू होते ही कांग्रेस नेता शंकर सिंह वाघेला ने कानून...व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा कराने की मांग की। उन्होंने अहमदाबाद में एक दलित महिला की दिनदहाड़े हुई हत्या का हवाला देते हुए चर्चा कराने की मांग की।
   स्वाइन फ्लू की बीमारी से ठीक होने के बाद आज सदन लौटे विधानसभा अध्यक्ष गणपत वासवा ने वाघेला से कहा कि प्रश्न काल को जारी रहने दीजिए। प्रश्नकाल के बाद वाघेला ने फिर से महिला की हत्या का मुद्दा उठाया और राज्य में कानून...व्यवस्था की खराब होती स्थिति पर चर्चा कराने की मांग की।
   विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि विपक्षी दल के सदस्यों को चर्चा के लिए पहले नोटिस देना चाहिए ताकि संबंधित मंत्री मुद्दे पर तैयारी कर आएं। चर्चा को अनुमति देने के वसावा के इंकार के बाद कांग्रेस के करीब 3 सदस्य सदन में अध्यक्ष के आसन के समीप पहुंच गए। उन्होंने नारे लगाए, कागज फेंके और विरोधस्वरूप अध्यक्ष के आसन के समीप बैठ गए।
   इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने विरोध कर रहे कांग्रेसी सदस्यों को निलंबित करने के आदेश दिए और मार्शल से उन्हें सदन से बाहर निकालने को कहा। सदन के मार्शल ने कांग्रेस सदस्यों को सदन से बाहर निकाला और उनमें से कुछ को जबरन बाहर ले जाना पड़ा।
  इसके बाद वाघेला सहित कांग्रेस के वे तीन...चार नेता अध्यक्ष की कार्रवाई के विरोध में सदन से बाहर चले गए जो पहले विरोधस्वरूप अध्यक्ष के आसन के समीप नहीं गए थे।
4:43 PM | 0 comments | Read More

राष्ट्रपति भवन में पुलिसकर्मियों को बंधक बनाकर मारपीट

    नईदिल्ली।। राष्ट्रपति भवन परिसर में पुलिसकर्मियों को बंधक बनाकर मारपीट करने का मामला सामने आया है। राष्ट्रपति भवन में काम करने वाले स्टॉफ के परिवार ने पुलिसकॢमयों के साथ मारपीट कर उनकी वर्दी फाड़ दी। बचने के लिए पुलिसकर्मियों ने खुद को राष्ट्रपति भवन के गेट पर बने पुलिस बूथ में बंद कर लिया था। आरोपियों ने दोनों को बाहर निकालकर पीटने के लिए बूथ का शीशा भी तोड़ दिया। भारी पुलिस बल को वहां बुलाकर बंधक पुलिसकर्मियों को मुक्त कराया जा सका। पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरप:तार कर लिया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि यह वारदात 27 फरवरी मध्यरात्रि में हुई। 
     राष्ट्रपति भवन परिसर में मौजूद रीक्रिएशन क्लब में एक शादी समारोह चल रहा था। इसी बीच रात करीब साढ़े 11 बजे वहां से झगड़े की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को मिली। झगड़ा डीजे वाले व शादी में आए कुछ लोगों के बीच गाना बजाने को लेकर हुआ था। मामला शांत करने के लिए चाणक्यपुरी थाने से एएसआइ रोहताश और सिपाही अश्विनी वहां पहुंचे। उनसे लोगों ने मारपीट की। पुलिस के मुताबिक दोनों पक्षों के लोग शराब के नशे में थे और राष्ट्रपति भवन के अंदर ही शोर-शराबा कर रहे थे। उन्हें शांत कर पुलिसकर्मी थाने ले जाने लगे। तभी डीजे ब्वॉय रवि के परिवार की चार महिलाएं व तीन पुरुष वहां आ गए और पुलिसकॢमयों से मारपीट करने लगे। सिपाही अश्वनी की वर्दी फाड दी गई। उसकी पिस्तौल छीनने का भी प्रयास किया गया।
4:42 PM | 0 comments | Read More

जासूसी कांड- पाक को मिल रही थी रक्षा की खूफिया जानकारी

    नई दिल्ली।। पेट्रोलियम मंत्रालय सहित विभिन्न मंत्रालयों में सेंधमारी और जासूसी की जांच के दौरान पता चला है कि रक्षा मंत्रालय में भी कतिपय लोगों ने जासूसी की थी। यहां से महत्वपूर्ण जानकारी पाकिस्तान को लीक की गई थी। सूत्रों के मुताबिक फरवरी 2015 में तत्कालीन रक्षा मंत्री ए के एटंनी की जासूसी हुई। यही नहीं उस वक्त के सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम ङ्क्षसह की भी जासूसी की गई।
    बताया जा रहा है कि इन दोनों के बीच हुई खुफिया बातचीत लीक हो गई। ये खुफिया जानकारी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के हाथ भी लग गई थी। इससे पहले फरवरी 2012 में भी रक्षा मंत्री के दप:तर में जासूसी का मामला सामने आया था, जिसकी जांच के आदेश दिए गए थे।
4:12 PM | 0 comments | Read More

होली पर मोदी और केजरीवाल पिचकारी की धूम

    नई दिल्ली।। रंगों का त्योहार होली अब नजदीक ही है और बाजारों में भी इसकी रंगत दिखाई देने लगी है। तरह-तरह के रंग, गुलाल और पिचकारी की दुकानेें सज गई हैं। इस बार इस त्योहार पर राजनीति का रंग भी छाया हुआ है। केंद्र की सत्ता पर काबिज नरेंद्र मोदी और दिल्ली वासियों का दिल जीतने वाले आम आदमी पार्टी के नेता व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के चित्र व कार्टून वाली पिचकारियां खूब नजर आ रही है। यानि इस बार बच्चे मोदी और केजरीवाल की पिचकारी से एक -दूसरे पर रंग डालते नजर आएंगे। यही नहीं होली के लिए अन्य टोपियों के साथ ही आम आदमी पार्टी की टोपी भी बिक रही है, जो अलग-अलग रंगों में है। 
     रंग और पिचकारी के थोक विक्रेताओं के अनुसार उनके पास कई तरह के रंग और पिचकारियां है। पिचकारी की कीमत 20रुपए से शुरु हैै। मोदी और केजरीवाल के चित्र वाली गन पिचकारी की बाजार में अच्छी डिमांड है। मोदी पिचकारी की कीमत 250 से 300 रुपए है और केजरीवाल पिचकारी 150 से 200 रुपए में खरीदी जा सकती है। बच्चों में डोरेमान, छोटा भीम, क्रिश, प्रेशर गन, शॉवर जैसी पिचकारियों की भी क्रेज़ है। वहीं रंग और गुलाब में हर्बल को महत्व दिया जा रहा है। व्यापारियों ने बताया कि पिछले साल की तुलना में इस साल रंग और पिचकारी की कीमतों में ज्यादा अंतर नहीं आया है। उल्लेखनीय है कि इस बार देश भर में 6मार्च को होली मनाई जाएगी। उत्तर भारत में तो इसकी धूम- धाम शुरू भी हो गई है।
4:11 PM | 0 comments | Read More

जाने होली का वैज्ञानिक कारण

   भारत पर्वो का देश है। प्रत्येक पर्व विशेष खगोलीय घटना से बनते हैं। जब सूर्य चन्द्रमा एवं पृथ्वी किसी विशेष अंशात्मक स्थिति में आकर कोण बनाते हैं तो कोई पर्व बनाते हैं। भारतीय जनमानस इन पर्वो को भक्तिरस में डूबकर मनाता है। जब सूर्य कुम्भ राशि में एवं चन्द्रमा सिंह राशि में होकर 180 पर आमने-सामने पड़ते हैं तो होली मनायी जाती है। यह पर्व चैत्र कृष्ण प्रतिपदा को मनाया जाता है। इस प्रकार भारत में प्रत्येक पर्व के कारण में `खगोल विज्ञान´ एवं अभिव्यक्ति में धर्मनिहित होता है।
    होली दो दिन मनाये जाने वाला त्यौहार है | जहा रात में होलिका दहन होता है और अगले दिन तडके रंग-अबीर का खेल शुरू होता है |
     बहुत से आधुनिक लोग होली को अवैज्ञानिक, समय की बर्बादी और फूहड़ त्यौहार कह कर मुह मोड़ लेते है पर वैज्ञानिकों का कहना है कि हमें अपने पूर्वजों का शुक्रगुजार होना चाहिए कि उन्होंने वैज्ञानिक दृष्टि से बेहद उचित समय पर होली का त्योहार मनाने की शुरूआत की। लेकिन होली के त्योहार की मस्ती इतनी अधिक होती है कि लोग इसके वैज्ञानिक कारणों से अंजान रहते हैं।
होलिका दहन --
     होली पर्व पूर्ण रुप से वैज्ञानिक स्तर पर आधारित है जाड़े की ऋतु-समाप्त होती है और ग्रीष्म ऋतु का आगमन होता है। ऋतु बदलने के कारण अनेक प्रकार के संक्रामक रोगों का शरीर पर आक्रमण होता है जैसे चेचक, हैजा, खसरा आदि। इन संक्रामक रोगों को वायुमण्डल में ही भस्म कर देने का यह सामूहिक अभियान होलिका दहन है पूरे देश में रात्रि - काल में एक ही दिन होली जलाने से वायुमण्डलीय कीटाणु जलकर भस्म हो जाते हैं यदि एक जगह से उड़कर ये दूसरी जगह जाना भी चाहें तो भी इन्हें स्थान नहीं मिलेगा क्योंकि प्रत्येक ग्राम और नगर में होली की अग्नि जल रही होगी।
     अग्नि की गर्मी से कीटाणु भस्म हो जाते हैं जो हमारे लिए अत्याधिक लाभकारी हैं अतः वैज्ञानिक दृष्टि से भी होली का त्योहार उचित है। जलती होलिका की प्रदक्षिणा करने से हमारे शरीर में कम से कम 140 फारेनहाइट गर्मी प्रविष्ट होती है या हमें काटते हैं तो उनका प्रभाव हम पर नहीं होता बल्कि हमारे अंदर आ चुकी उष्णता से वे स्वमं नष्ट हो जाते हैं।
    होलिका दहन की परिक्रमा में 150-200 डिग्री तापक्रम के चारों ओर पंच परिक्रमा से शरीर में अधिक ऊष्मा प्रवेश करती है और प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है|
रंगों की होली ( धुलंडी) ---
     होली में पलाश (ढाक, टेशू) के फूल के अर्क को निकालकर उसे शरीर पर डाला जाता था। पलाश के पुष्प का अर्क चर्मरोगों के लिए औषधि होता है। जाड़े की समाप्ति के समय शरीर में अनेक चर्मरोगों का प्रकोप हो जाता है। इससे मुक्ति के लिए पलाश के पुष्प के लाल अर्क को शरीर पर डालते थे एवं सरसो के उबटन से शरीर को मालिश करते थे यह शरीर को निरोग एवं हष्ट पुष्ट रखता है। इस प्रकार होली शरीर को निरोग रखने का अच्छा माध्यम है |
3:30 PM | 0 comments | Read More

नमन है नारी शक्ति को ... ...एक नारी अगर ठान ले तो क्या न कर दे

Written By News Today Time on Wednesday, March 4, 2015 | 6:42 PM



    अहमदाबाद।। मित्रो, अहमदाबाद के नरोड़ा पाटिया केस में एक आरोपी किरपाल सिंह छाबड़ा थे .. वो कई सालो से जेल में बंद थे और परिवार के पास इतने पैसे नही थे वो महंगे वकीलों का खर्च उठा सके.
  फिर किरपाल सिंह की बहन मीनाक्षी सिंह ने अपने भाई को जेल से आज़ाद करवाने की ठानी ... लेकिन वो सिर्फ १२ पास थी .. और उपर से शादीशुदा दो बच्चों की माँ ... उन्होंने खुद ही वकील बनकर अपने भाई के लिए लड़ने का ठाना ... और गुजरात विश्वविद्यालय की एलएलबी एन्ट्रन्स परिक्षा में भाग लिया और उन्होंने क्वालीफाई भी किया ... फिर उन्होंने बच्चो को सम्भालते ...घर का सारा काम करते हुए प्रथम श्रेणी में एलएलबी की परिक्षा पास कर ली ... फिर उन्होंने अपने भाई का केस लड़ा ... और आज अपने भाई को १२ सालो के बाद जेल से आज़ाद करवा दिया ...
    आज मीनाक्षी सिंह एलएलएम भी कर रही है और खुद वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी भी उनकी प्रतिभा से काफी चकित है .. क्योकि नरोड़ा पाटिया केस में अब तक सिर्फ दो लोग ही जेल से बाहर आ सके .. एक मायाबेन कोदनानी जिनका केस खुद राम जेठमलानी और महेश जेठमलानी जैसे वरिष्ठ वकील लड़े और दूसरा किरपाल सिंह छाबड़ा जिनका केस उनकी बहन ने लड़ा और कोर्ट के जोरदार दलीले दी ..
नारीशक्ति को नमन ... भगवान ऐसी बहन सबको दे



(J.P. Singh)

6:42 PM | 0 comments | Read More

दिल्ली को अपने नियंत्रण में रखना चाहती है केंद्र सरकार

केजरीवाल को नहीं मिलेगा मनपसंद मुख्य सचिव
     नई दिल्ली।। केंद्र सरकार दिल्ली के मुख्यमंत्री को राज्य की स्वतंत्रता देने तैयार नहीं है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार को मुख्य सचिव के लिए 3 नामों का पैनल भेजा था। केंद्र सरकार अरविंद केजरीवाल द्वारा भेजे गये पैनल को खारिज कर अपनी पसंद के अधिकारी को दिल्ली का मुख्य सचिव बनाना चाहती है। दिल्ली वेंसद्र शासित प्रदेश के अन्तर्गत आता है। अत: केंद्र सरकार दिल्ली के मुख्यमंत्री पर नकेल कसने के लिए अपने भरोसेमंद अधिकारी को नियुक्त करना चाहती है। वहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इसे राज्य सरकार के अधिकारों पर कुठाराघात मान कर केंद्र सरकार का अनावश्यक हस्तक्षेप तथा राजनैतिक बदले की कार्यवाही मानकर उसका विरोध कर रहे हैं।
    केंद्र सरकार राजनैतिक बदले तथा केंद्र एवं राज्य के संघीय अधिकारों पर अनावश्यक हस्तक्षेप कर रही है। दिल्ली के मुख्य सचिव की नियुक्ति को लेकर वेंसद्र और दिल्ली सरकार में टकराहट बढ़ गई है। आम आदमी पार्टी की सरकार राज्य के नये मुख्य सचिव पद के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से भेजे गये तीन वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों के पैनल को खारिज करना चाहती है। वहीं केजरीवाल 1984 बैच के प्रशासनिक अधिकारी आरएस नेगी की इस पद पर नियुक्ति करने की मांग पर अड़े हैं। इस शीर्ष प्रशासनिक पद पर नियुक्त करने में कुछ गलत नहीं है क्योंकि वे अरुणाचल प्रदेश के मुख्य सचिव के तौर पर काम कर रहे हैं। सूत्रों ने कहा कि सरकार ने गृह मंत्रालय की ओर से भेजे गये तीन वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों के पैनल को खारिज करने का फैसला किया है। केंद्र शासित प्रदेश होने से दिल्ली में शीर्ष प्रशासनिक नियुक्तियों गृह मंत्रालय करता है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने गुरुवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर उनसे नेगी को दिल्ली का मुख्य सचिव बनाने का अनुरोध किया है। बहरहाल, केंद्र तथा राज्य सरकार में राजनैतिक प्रतिस्पर्धा के चलते टकराहट बढ़ना शुरू हो गई है।
4:10 PM | 0 comments | Read More

बलात्कारी को विशेष परिस्थिति में कम सजा दी जा सकती है: न्यायालय

     नई दिल्ली।। उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि बलात्कार के जुर्म के दोषी को कम सजा दी जा सकती है यदि अदालत को लगता है कि ऐसा करने की 'पर्याप्त और विशेष' वजह हैं। न्यायमूर्ति एम वाई इकबाल और न्यायमूर्ति पिनाकी चंद्र घोस की खंडपीठ ने हालांकि 2 साल पुराने बलात्कार के मामले में रवीन्द्र की दोषसिद्धि बरकरार रखी लेकिन जेल में बिताई गई अवधि की सजा सुनाते हुए उसे रिहा करने का आदेश दे दिया। न्यायालय ने ऐसा करते समय 'पर्याप्त और विशेष' वजहों के मद्देनजर इस तथ्य पर विचार किया कि मुकदमा काफी लंबा खिंचा था और दोषी तथा पीडि़त दोनों का ही अलग अलग विवाह हो चुका है।
     न्यायालय ने इसके साथ ही दोनों के बीच समझौता हो जाने के तथ्य को भी महत्व दिया। भारतीय दंड संहिता की धारा 376 :2::जी: में प्रावधान है कि अदालतें पर्याप्त और विशेष कारणों का फैसले में जिक्र करते हुए दस साल से कम की कैद की सजा सुना सकती हैं। न्यायाधीशों ने कहा, ''हमारी राय है कि अपीलकर्ता का प्रकरण कम सजा देने के लिए धारा 376:2::जी: का प्रावधान लागू करने का उचित मामला है क्योंकि यह घटना 2 साल पुरानी है और संबंधित पक्षों का विवाह हो चुका है और उनमें समझौता हो गया है। इसलिए यह पर्याप्त और विशेष कारण हैं।
    रवीन्द्र को 24 अगस्त, 1994 को खेत में काम कर रही एक महिला से बलात्कार के जुर्म में निचली अदालत ने उम्र कैद की सजा सुनाई थी। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने रवीन्द्र की अपील 213 में खारिज करते हुए उसकी दोषसिद्धि बरकरार रखी थी। शीर्ष अदालत ने इस तथ्य से सहमति व्यक्त की कि रवीन्द्र और पीडि़त के बीच समझौता हो गया है और वह दोषी के खिलाफ मामला आगे नहीं बढाना चाहती है और इसे बंद करना चाहती है क्योंकि अब दोनों की अलग अलग शादी हो चुकी है और उनके घर बस चुके हैं।
4:09 PM | 0 comments | Read More

प्रशांत भूषण का आरोप, एक व्यक्ति चला रहा आप पार्टी

     नई दिल्ली।। आम आदमी पार्टी में अंर्तकलह तेज होती जा रही है। पार्टी पर वरिष्ठ नेता प्रशांत भूषण ने सोमवार को पत्र लिखकर केजरीवाल पर निशाना साधा है। भूषण ने दिल्ली चुनावों के दौरान अरविन्द केजरीवाल के इर्द-गिर्द 'एक व्यक्ति केंद्रित' अभियान चलाने का आरोप लगाया, जो उसके सिद्धांतों के विपरीत है। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति केंद्रित प्रचार अभियान के कारण पार्टी अन्य पारंपरिक पाॢटयों की तरह हो गयी है। उन्होंने संगठन के भीतर और 'स्वराज' की हिमायत की। 
    भूषण ने आप की राष्ट्रीय कार्यकारणी के सदस्यों को एक पत्र में लिखा है कि एक व्यक्ति केंद्रित प्रचार से हमारी पार्टी अन्य दूसरी पारंपरिक पार्टियों की तरह बनती जा रही है जो एक व्यक्ति पर केंद्रित है। भिन्नता इतनी है जिसके बारे में हम दावा कर सकते हैं कि स्वराज का सिद्धांत जो उनके पास नहीं है। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति केंद्रित अभियान असरदार हो सकता है लेकिन तब क्या अपने सिद्धांतों को उचित ठहराया जा सकता है? अगर हम सुप्रीमो नियंत्रित पार्टी से आगे जाना चाहते हैं तो हमें इसमें सुधार पर सहमति बनानी होगी।
3:22 PM | 0 comments | Read More

दिल्ली में लगेगा सबसे कम वैट

    नई दिल्ली।। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि आने वाले समय में दिल्ली में देश के अन्य राज्यों की तुलना में वैट सबसे कम होगा। सरकार ने तय किया है कि सभी वस्तुओं पर वैट की दरें बढ़ाने के बजाय कम की जाएंगी। मुख्यमंत्री ने अलीपुर में आयोजित समारोह में अपनी 15 दिनों की सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि केंद्र की 9 महीने की सरकार और दिल्ली में 15 दिनों की सरकार की उपलब्धियों की तुलना हो तो दिल्ली की सरकार हर मायने में बेहतर है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने बजट में आम आदमी की पूरी तरह उपेक्षा की है। यह उद्योगपतियों के लिए पेश किया गया बजट है। हमें इससे बहुत निराशा हाथ लगी है। 
     केजरीवाल ने दिल्ली स्टील टूल्स एंड हार्डवेयर ट्रेडर्स एसोसिएशन के 40वें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में खुद को व्यापारी परिवार का बताते हुए कहा कि उनके दादा, नाना, मामा, चाचा सभी व्यापार से जुड़े रहे हैं। व्यापारी वर्ग की सोच, उनकी समस्याओं का उन्हें भलीभांति ज्ञान है। यह ऐसा वर्ग है, जो धाॢमक सामाजिक कार्यों के लिए खुले हाथों से दान कर पुण्य कमाने की चाहत रखता है। सरकार को इस वर्ग के सहयोग की सख्त जरूरत है। व्यापारी सरकार के खजाने में खुलकर राशि जमा करें। व्यापारी वर्ग के लिए सबसे बड़ा पुण्य का कार्य कर जमा करना है। इस पैसे का इस्तेमाल सरकार सामाजिक कार्यों में करेगी। स्कूल- कॉलेज व अस्पताल खोले जाएंगे।
3:20 PM | 0 comments | Read More

देश में अगर धर्मनिपेक्षता और लोकतंत्र चाहते हैं तो हिन्दू का बहुसंख्यक होना जरुरी - स्वामी

इसमें विवादित क्या है ?
    नई दिल्ली।। दिल्ली में विश्व हिंदू परिषद के एक कार्यक्रम में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि, 'हम इस देश में हिंदू की बहुसंख्या क्यों चाहते हैं? क्योंकि जब तक इस देश में हिन्दू बहुसंख्या में रहेगा तभी तक इस देश में लोकतंत्र रहेगा। जहां मुस्लिम बहुसंख्यक है वहां लोकतंत्र भी नहीं है और धर्म निरपेक्षता भी नहीं है। हमारे देश के अंदर भी जहां मुस्लिम बहुसंख्यक हैं, जैसे कश्मीर और केरल में लोकतंत्र नहीं है और हिंदुओं का हाल बुरा है। इसलिए देश में अगर धर्मनिपेक्षता और लोकतंत्र चाहते हैं तो हिन्दू का बहुसंख्यक होना जरुरी है।'


(जनार्दन मिश्रा)
3:19 PM | 0 comments | Read More

राहुल की ताजपोशी होते ही बदलेगी आधा दर्जन राज्यों में कमान !

     नई दिल्ली।। कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष के लिये राहुल गांधी की ताजपोशी जल्द हो सकती है। वर्तमान में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल और एआईसीसी के सम्मेलन से पहले पार्टी संगठन में पेसरबदल की शुरुआत हो गई है। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस हाईकमान जल्द आधा दर्जन प्रदेश कांग्रेस कमिटी अध्यक्षों को हटाने की तैयारी में है। इसके जरिये कई गुटों को जगह दिए जाने का भी संकेत दिया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इन नियुक्तियों के बारे में मोटे तौर पर फैसला राहुल गांधी के छुट्टी पर जाने से पहले ही हो गया था। जिन राज्यों के कांग्रेस अध्यक्षों को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है, उनमें पंजाब के नेता पी बाजवा भी हैं। उनकी जगह कैप्टन अमरिंदर सिंह को पार्टी अध्यक्ष बनाया जा सकता है। इस बीच, गुजरात के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अर्जुन मोधवाडिया की जगह भरत सिंह सोलंकी को अध्यक्ष बना दिया गया है। जिन और प्रदेश अध्यक्षों को हटाया जा सकता है, उनमें जम्मू-कश्मीर के सैपुसद्दीन सोज भी शामिल हैं। पार्टी का यह कदम ऐसे वक्त पर आया है, जब पी चिदंबरम गुट तमिलनाडु प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष इलांगोवन को हटाने की मांग कर रहा है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष बाजवा राहुल गांधी की पसंद थे। 
     राज्य के नगर निकाय चुनावों में अकाली-बीजेपी के हाथों मिली करारी हार के बाद अमरिंदर गुट ने बाजवा पर हमले तेज कर दिए हैं। कैप्टन सिंह पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनने को लेकर काफी उत्सुक हैं। हालांकि, एआईसीसी ने एक बीच का फॉम्र्युला सुझाया है। इसके तहत कैप्टन अमरिंदर सिंह के समर्थक और राज्य कांग्रेस के सीनियर नेता लाल सिंह को पीसीसी चीफ बनाकर अमङ्क्षरदर ङ्क्षसह आगामी विधानसभा चुनाव में प्रचार कमिटी के चेयरमैन बन सकते हैं। पार्टी की पंजाब यूनिट में इस तरह का पेसरबदल अपनी गलतियों को सुधारने को लेकर राहुल गांधी द्वारा नर्मी बरते जाने का संकेत है। एक और अहम घटनाक्रम के तहत 10 जनपथ के करीबी और पार्टी के सीनियर नेता अशोक गहलोत ने दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बताया कि मुझे विश्वास है कि राहुल गांधीजी की अच्छी टीम देखने को मिलेगी। जैसा कि इंदिरा जी और राजीव जी के वक्त हुआ था, राहुल जी की टीम में भी युवा और अनुभवी नेता मिले-जुले तौर पर होंगे। कांग्रेस महासचिव अजय माकन भी राहुल गांधी की भर्ती ही हैं और उन्हें दिल्ली प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जाना भी तय माना जा रहा था।
3:13 PM | 0 comments | Read More

सोने की तस्करी करने के प्रयास में महिला यात्री गिरफ्तार

      मुंबई।। संयुक्त अरब अमीरात से देश में लगभग 94.94 लाख रूपए मूल्य के 3.84 किलोग्राम सोने की तस्करी करने के कथित प्रयास में मुंबई अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक महिला यात्री को गिरफ्तार किया गया है।
   सीमा शुल्क के एक अधिकारी ने आज बताया कि शनिवार और रविवार की दरम्यानी रात में वायु खुफिया इकाई (एआईयू) के अधिकारियों ने संदेह के आधार पर एक महिला यात्री नीताबेन देसाई को गिरफ्तार कर लिया। वह एतिहाद एयरवेज के एक विमान से अबू धाबी से मुंबई के छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंची थी।
   अधिकारी ने बताया कि उसके सामान की जांच के दौरान सोने की 33 छड़ें पाई गईं जिनका वजन 3.874 किलोग्राम था। जब्त किए गए सोने की कीमत लगभग 94.94 लाख रूपया है।
     यात्री ने खासतौर से तैयार एक बैल्ट पहनी हुई थी जिसमें बनाए गए खाली स्थानों में सोना छिपाया गया था। वह सोना तस्करी करने वालों के लिए कूरियर का काम कर रही थी और उसे यह सोना मुंबई में एक व्यक्ति को सौंपना था। यात्री ने अपराध स्वीकार कर लिया है और इसके बाद उसे सीमा शुल्क की विभिन्न धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।
3:11 PM | 0 comments | Read More

राजस्थान में स्वाइनफ्लू से मरने वालों की संख्या 277 पहुंची

     जयपुर।। राजस्थान में गत 24 घंटों के दौरान स्वाइनफ्लू के 1 और रोगियों ने दम तोड़ दिया जिससे इस साल स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या बढकर 277 हो गई है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में 15556 मरीजों की जांच की गई जिसमें 5715 लोग इस रोग से संक्रमित पाए गए।
    उन्होंने बताया कि स्वाइनफ्लू मरीजों में से सबसे अधिक जयपुर में 55, अजमेर में 32, जोधपुर में 3, नागौर में 25, बाडमेर में 21, कोटा में 13, पाली में 1, चित्तोडग़ढ़ और सीकर में 9-9, भीलवाडा और चूरू में 7-7, टोंक और बांसवाड़ा में 6-6 रोगियों की मौत हुई। विभाग से प्राप्त आंकडों के अनुसार 33 जिलों में से प्रतापगढ़, झालावाड़, सिरोही और धौलपुर में स्वाइनफ्लू के कारण किसी मरीज की मौत नहीं हुई है।

3:11 PM | 0 comments | Read More

अद्दभुत डेड सी




    समुद्र तल से 400 मीटर नीचे, दुनिया का सबसे निचला बिंदु कहा जाने वाला डेड सी (मृत सागर) विदेशी सैलानियोंं के आकर्षण का केंद्र रहा है। 65 किलोमीटर लंबा अौर 18 किलोमीटर चौड़ा यह सागर अपने उच्च घनत्व के लिए जाना जाता है, जिससे तैराकों का डूबना असंभव होता है। डेड सी में मुख्यत: जॉर्डन नदी अौर अन्य छोटी नदियां आकर गिरती हैं। हालांकि इसमें कोई मछली जिंदा नहीं रह सकती, लेकिन इसमें बैक्टीरिया की 11 जातियां पाई जाती हैं। इसके अलावा डेड सी में प्रचुर मात्रा में खनिज पाए जाते हैं। ये खनिज पदार्थ वातावरण की मदद से कई स्वास्थ्यवर्धक चीजें मुहैया कराते हैं। डेड सी अपनी विलक्षण खासियतों के लिए कम से कम चौथी सदी से जाना जाता रहा है, जब विशेष नावों द्वारा इसकी सतह से शिलाजीत निकालकर मिश्रवासियों को बेचा जाता था।
     यह चीजों को सड़ने से बचाने, सुगंधित करने के अलावा अन्य दूसरे कार के उपयोग में आता था। इसके अलावा डेड सी के अंदर की गीली मिटटी को क्लेयोपेट्रा की खूबसूरती के राज से भी जोड़ा जाता है। यहां तक कि अरस्तू ने भी इस सागर के भौतिक गुणों का जिक्र किया है। हाल के समय में इस जगह को हेल्थ रिज़ॉर्ट के तौर पर विकसित किया गया है।
    इसके पास अनेक स्पा, क्लिनिक अौर होटल बनाए गए हैं। हर समय यहांं लोगों की भीड़ लगी रहती है। छुटियों अौर मौज–मस्ती के अन्य मौकों पर लोग सागर में तैराकी का लुत्फ उठाते हैं। किनारों पर आकर लोग इसका काला कीचड़ अपने शरीर व चेहरे पर लगाते हैं। माना जाता है कि यह कीचड़ न सिफ‍र् त्वचा को निखारता हैं, बिल्क इसमें कई बीमारियों को खत्म करने का भी गुण है।
     आम पानी की तुलना में डेड सी के पानी में 20 गुना ज्यादा ब्रोमीन, 50 गुना ज्यादा मैग्नीशियम अौर 10 गुना ज्यादा आयोडीन होता है। ब्रोमीन धमनियों को शांत करता है, मैगनीशियम त्वचा की एलर्जी से लड़ता है अौर श्वासनली को साफ करता है, जबकि आयोडीन कई ग्रंथियों की क्रियाशीलता को बढ़ाता है। सौंदर्य अौर स्वास्थ्य के लिए डेड सी के गुणों की सिद्धि की वजह से ही कई कंपनियां डेड सी से ली गईं चीजों पर आधारित ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाती हैं। इसके गर्म सल्फर सि्ंग अौर कीचड़ कई बीमारियों के इलाज में अहम भूमिका निभाते हैं, खासकर आर्थराइटिस अौर जोड़ों से संबंधित बीमारियों के इलाज में।
3:01 PM | 0 comments | Read More

इंडिगो ने शिशु से वसूले 9,000 रुपये

     नई दिल्ली।। यात्रा के दौरान माता-पिता को बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र न ले जाना मंहगा पड़ गया एवं इंडिगो एयरलाइन के कर्मचारियों ने उनसे 9 हजार रुपये वसूल लिए। ग्राहक ने इसकी शिकायत विमान प्राधिकरण से की है।शिकायतकर्ता संजय शर्मा का यह भी आरोप है कि कंपनी ने सीट नंबर के बगैर एक कन्फम्र्ड टिकट (बुङ्क्षकग संदर्भ क्यू2यू14वाई) जारी किया। 
   उसने कहा, 'शिशु टिकट को महज इसलिए वयस्क टिकट में तब्दील कर दिया गया और 9,115 रपये वसूले गए क्योंकि मेरी पत्नी ने बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र अपने साथ नहीं रखा था।शर्मा ने पिछले सप्ताह डीजीसीए से की गई शिकायत में आरोप लगाया कि जब उन्होंने विरोध में पहले से बुक दो वापसी के टिकटों को निरस्त करवा दिया तो विमानन कंपनी ने 3,600 रूपये उसमें से और काट लिए थे। इंडिगो के अधिकारियों के मुताबिक शिशु के लिए नए सिरे से टिकट आरक्षित किया गया क्योंकि बच्चे की मां के पास यात्रा के समय जरूरी शिशु का जन्म प्रमाण पत्र नहीं था ।
2:56 PM | 0 comments | Read More

आलू-प्याज का स्टॉक बनाएगी सरकार

    नई दिल्ली।। दिल्ली सरकार ने आलू-प्याज की कीमतों को कंट्रोल में रखने के लिए एक स्पेशल स्टॉक बनाने का फैसला किया है। इसके तहत अब आलू-प्याज का उत्पादन करने वालों राज्यों से आलू-प्याज लेकर स्टॉक किया जाएगा। जब कभी भी बाजार में इनकी कीमतें बढ़ेंगी या नियंत्रण से बाहर होंगी, तो सस्ती दरों में आलू-प्याज बिक्री के लिए बाजार में उतारा जाएगा। इससे इसकी कीमत कंट्रोल में रहेंगी। दिल्ली सरकार ने यह फैसला सोमवार को एक बैठक में लिया है। 
    उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने फूड एंड सप्लाई डिपार्टमेंट, दिल्ली एग्रीकल्चर मार्केटिंग बोर्ड और किसानों के साथ एक रिव्यू बैठक की। इसका मकसद कीमतों को कंट्रोल करना था। इस मौके पर सिसौदिया ने कहा कि किसानों को उनके उत्पाद की उचित कीमत मिले और दिल्ली के लोगों को सही दरों पर प्रॉडक्ट मिले, इसके लिए सभी जरूरी स्टेप उठाए जाएंगे। उन्होंने इसके लिए अधिकारियों को आदेश भी दिए।
2:55 PM | 0 comments | Read More

24 साल बाद पाकिस्तान से लौटे पति-पत्नी गिरफ्तार

    जम्मू।। पाकिस्तान में 24 साल बिताने के बाद कश्मीर लौटे एक व्यक्ति को उसकी पाकिस्तानी पत्नी के साथ पुंछ जिले में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मंडी तहसील के सौजियां निवासी मोहम्मद सशीर भट्ट और उसकी पाकिस्तानी पत्नी को कल उस समय गिरफ्तार किया गया, जब वे नेपाल के रास्ते अपने चार बच्चों के साथ यहां लौटकर आए। अधिकारी ने कहा, ''भट्ट अपनी पाकिस्तानी पत्नी नौशीन भट्ट, एक बेटे और तीन बेटियों के साथ अपने गांव लौटकर आया।
    उन्हें वैध दस्तावेज न होने पर गिरफ्तार किया गया। भट्ट वर्ष 1991 में सीमा के उस पार :पाक अधिकृत कश्मीर: में चला गया था। पुलिस ने कहा, ''शुरूआती पूछताछ में पता चला है कि उसने किसी तरह पाकिस्तानी पासपोर्ट हासिल कर लिया था और फिर नेपाल पहुंच गया था। वहां से उसने नेपाल सीमा को पार किया और भारत पहुंच गया। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है।
2:54 PM | 0 comments | Read More

क्या मणिशंकर पर कोर्ट की अवेलना का केस नही बनता ?


   नई दिल्ली।। कांग्रेस पार्टी किस देश की सरकार के सुर में सुर मिलाती है? आज गांधी परिवार के प्रवक्ता श्री मणिशंकर अय्यर ने अफजल गुरु को निर्दोष बताया, इससे पहले एक और प्रवक्ता दिग्विजय सिंह ने बाटला हाउस के आतंकवादियो को निर्दोष बताया था, इन्होने बम्बई में एक प्योजन में बम्बई नरसंहार के आरोपियों को भी निर्दोष बताया था, सोनिया गांधी जी को राजीव हत्याकांड में शामिल लोग निर्दोष दिखाई पड़ते थे इसलिए उनके हस्तक्षेप से उनकी फ़ासी माफ़ करवा दी गई।
     गुजरात में मारी गई लस्कर की आतंकीइशरत जहा और सैयद शोहराब्दीन को इन्होने निर्दोष बता कर पुलिस आफिसर्स को जेल भेजा, पंजाब कांग्रेस वहा चुनाव में इंदिरा गांधी का पोस्टर लगाने और नाम लेने में डरती है जबकि सतवंत सिंह और बेंत सिंह के सालाना भोग में बकायदा कांग्रेस के लोग भाग लेते है। यदि कांग्रेस लोकसभा का चुनाव जीत जाती तो इटली के उन हत्यारों को भी छुडवा लेती जो केरल के निर्दोष मछुवारो की ह्त्या की थी, क्या कांगेस का हाथ देश के दुश्मनों के साथ है ? जिस प्रकार रक्षा मंत्रालय की पूरी बात पाकिस्तान पहुच जाता था या पहुचा दी जाती थी (मोदी सरकार आने के बाद ये जगजाहिर हुआ) उपरोक्त बातों से तो लगता है की गांधी परिवार अपनी सत्ता के लिए देश के खिलाफ भी जा सकती है।
आज मणिशंकर अय्यर ने कहा कि अफजल के साथ नाइंसाफी हुई थी !
    संसद भवन के बाहर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि अफजल गुरु के खि‍लाफ पर्याप्त सबूत नहीं थे और उनका ऐसा मानना है कि अफजल के साथ नाइंसाफी हुई थी। ये सभी जानते है कि अफजल को फांसी देश की सुप्रीमकोर्ट के आदेश के तहत दी गई थी क्या मणिशंकर पर कोर्ट की अवेलना का केस नही बनता "?


(Amardeep Yadav)

2:53 PM | 0 comments | Read More

सचिवाालय में मीडिया की एंट्री पर हटा बैन

   नई दिल्ली।। दिल्ली सरकार ने दिल्ली सचिवालय में मीडिया की एंट्री पर से बैन हटा लिया है। एंट्री एक निश्चित समय यानी दोपहर 3 बजे के बाद होगी। सरकार एक महीने के अंदर इस एंट्री की समीक्षा करेगी। उम्मीद जताई जा रही है कि एक महीने के बाद इस बैन को पूरी तरह से हटा लिया जाएगा। 
   केजरीवाल सरकार आते ही मान्यता प्राप्त पत्रकारों के कार्ड से एंट्री पर बैन लगा दिया गया था, केवल अपॉइंटमेंट लेकर ही एंट्री की इजाजत दी जा रही थी। सचिवालय में कैमरों की एंट्री अभी भी बैन है। खास मौके जैसे प्रेस कॉन्फ्रेंस के समय कैमरों का सचिवालय के अंदर आने की इजाजत दी जाएगी।
2:17 PM | 0 comments | Read More

केजरीवाल समर्थक का योगेंद्र पर निशाना, जारी किया ऑडियो

    नई दिल्ली।। आम आदमी पार्टी की कार्यकारिणी बैठक होने से एक दिन पहले ही पार्टी में मतभेद एक नए स्तर पहुंचता दिखाई दे रहा है। मिली जानकारी के अनुसार आप नेता योगेंद्र यादव के खिलाफ दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के एक वफादार ने रिकॉर्डिंग जारी की है। इस रिकॉर्डिंग में योगेंद्र यादव को एक पत्रकार के साथ अनऔपचारिक बैठक में बात करते पाया गया है।आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाए हैं कि यादव ने इस बैठक के दौरान पार्टी की अहम जानकारी मीडिया को दी है। वहीं ये बातचीत अनऔपचारिक थी, लेकिन चुपके से इसे रिकॉर्ड कर लिया गया। योगेंद्र यादव पर आप दिल्ली सचिव दिलीप पांडे ने आरोप लगाए थे। गौरतलब है कि इससे पहले पांडे ने अनुशासनात्मक समिति को खत भी लिखा था, जिसमें उन्होंने यादव के खिलाफ पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप लगाए थे।वहीं आम आदमी पार्टी अपने दो वरिष्ठ नेताओं योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण के भविष्य का फैसला करने के लिए बुधवार को राष्ट्रीय कार्यकारिणी की एक बैठक आयोजित करेगी। दोनों नेताओं पर आप प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना करने का आरोप है। सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में पार्टी के प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा था कि केजरीवाल को पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक पद से हटाने की साजिश पिछले छह से आठ माह से चल रही थी।





1:59 PM | 0 comments | Read More

वैज्ञानिकों ने टीके की नई विधि विकसित की

     मुंबई।। वैज्ञानिकों ने टीका लगाने की एक नई विधि विकसित की है, जिसमें इंजेक्शन की जरूरत नहीं पड़ेगी और टीके की खुराक को जीभ पर रखना होगा, जहां से यह घुल कर नदारद हो जाएगी। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि इस तरह से कई टीकों की खुराक सीधे रक्त प्रवाह में पहुंचाई जा सकती है। इसके लिए केवल एक घुलनशील फिल्म को जीभ में रखना होगा। यह विधि पीड़ादायक इंजेक्शन से बचा सकती है। 
    एक खबर में कहा गया है कि मुंह से टीका दिए जाने की प्रौद्योगिकी वैज्ञानिकों ने यह पता चलने के बाद विकसित की कि वे फ्लू और तपेदिक सहित कई बीमारियों के टीके देने के लिए अच्छे बैक्टीरिया का उपयोग कर सकते हैं। बेसिलस स्पोर्स बैक्टीरिया पर आधारित टीके या तो नेजल स्प्रे के जरिये या मुंह से लिए जाने वाले तरल द्रव के जरिये या फिर कैप्सूल के तौर पर लिए जा सकते हैं। वैकल्पिक तौर पर ये टीके एक नन्हीं घुलनशील फिल्म के जरिये लिए जा सकते हैं। यह फिल्म आधुनिक ब्रीथ प्रेसशनर्स की तरह ही जीभ में रखी जा सकती है।
1:51 PM | 0 comments | Read More

दिल्ली विश्वविद्यालय अब देगा मुफ्त कानूनी सलाह

     नई दिल्ली।। कानून से जुड़े मसलों पर लोगों की दुविधाओं को दूर करने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) ने कानूनी सहायता केंद्र खोले हैं जिसमें अब न सिर्फ विश्वविद्यालय से संबद्ध बल्कि सभी लोगों को मुफ्त कानूनी सलाह मिलेगी। डीयू में यह केंद्र दिल्ली राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (डीएसएलएसए)  के सहयोग से डीयू के गांधी भवन और कैंपस लॉ सेंटर में खोले गए हैं जो डीयू के कानून के छात्रों और शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण स्थल का भी काम करेंगे। डीयू के गांधी भवन की उप डीन (शैक्षिक) निशा त्यागी ने बताया, ''डीएसएलएसए इन केंद्रों पर हर शुक्रवार को दोपहर तीन से शाम पांच बजे के बीच एक वकील को उपलब्ध कराएगा जो लोगों के प्रश्नों के जवाब देंगे और यह केंद्र केवल डीयू से संबद्ध लोगों के लिए नहीं बल्कि सभी को अपनी सेवाएं देंगे।
     निशा ने बताया, ''जब बात कानून की आती है तब पढ़े लिखे लोग भी कानून की जानकारी के अभाव में अनपढ़ की तरह ही होते हैं। ऐसे बहुत से मुद्दे हैं जैसे कि संपत्ति कानून, प्रताडऩा कानून, घरेलू हिंसा वगैरह जिसके बारे में आम लोग जानना चाहते हैं लेकिन जब बात कानून की किताबों की आती है तब इसे पढऩा-समझना बड़ा भारी काम होता है। लोगों को कानूनी सहायता उपलब्ध कराने के लक्ष्य को ध्यान रखते हुए डीएसएलएसए ने पहले भी ऐसे केंद्र खोले हैं जिनमें जेल में खोले गए केंद्र भी शामिल हैं। डीयू के इन केंद्रों में वरिष्ठ प्रोफेसर, कानूनी सहायक और प्रशिक्षु कानून अभ्यर्थियों की टीम मौजूद रहेगी।
1:49 PM | 0 comments | Read More

कालेधन को लेकर तृणमूल सांसदों ने किया प्रदर्शन

Written By News Today Time on Tuesday, March 3, 2015 | 9:41 PM

    नई दिल्ली।। विदेश में जमा काले धन की वापसी की मांग को लेकर तृणमूल कांग्रेस एक बार सरकार के खिलाफ मैदान में उतर आई है। सोमवार को तृणमूल कांग्रेस के सभी सांसद संसद भवन पहुंचे और काले धन की वापसी की मांग को लेकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। तृणमूल के सभी सांसद संसद परिसर के भीतर प्रवेश द्वार पर खड़े हो कर प्रदर्शन कर रहे थे। संसद में बजट पेश होने के बाद सोमवार को तृणमूल कांग्रेस के सांसद पहले ही संसद भवन पहुंच गए। इनके हाथों में काली टोकरी थी। इसके अलावा इनके हाथों में एक पेपर भी था, जिस पर लिखा था 'काला धान वापस लाओ'। 
   इसका अलावा तृणमूल ने भाजपा सांसद साध्वी प्राची के विवादित बयान पर राज्यसभा में नोटिस दिया है। दरअसल सांसद साध्वी प्राची ने देहरादून में कहा था कि लव जेहाद के लिए बॉलीवुड के तीनों खान अभिनेता जिम्मेदार हैं। इसके उन्होंने ङ्क्षहदुओं से उनकी फिल्में नहीं देखने का भी आह्वान किया। उधर तृणमूल कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन पर सरकार ने भी पलटवार किया है। कैबिनेट मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस को पहले ये बताना चाहिए कि शारदा घोटाले का काला धन कहां गया। उल्लेखनीय है कि इसके पहले भी तृणमूल ने काले धन को लेकर अपना विरोध जताया था। इससे पहले के सत्र में भी ये सांसद इस मुद्दे को लेकर सरकार के समझ अपना विरोध जता चुके हैं।
9:41 PM | 0 comments | Read More

कांग्रेस ने 5 प्रदेशों में बदली कमान

राज्यस्तरीय अध्यक्षों के नाम घोषित
    नई दिल्ली।। राहुल गांधी को कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने से पूर्व ही संगठन ने 5 राज्यों में प्रदेशस्तर पर अध्यक्ष पद पर नामों की घोषणा कर दी है। जिसके तहत अजय माकन को दिल्ली कांग्रेस की कमान सौंपी गई है। इसके अलावा संजय निरुपम को महाराष्ट्र, अशोक चव्हाण को मुंबई प्रदेश, गुलाम मीर को जम्मू-कश्मीर और उत्तम कुमार को तेलंगाना कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है।सूत्रों की मानें तो ये पांचों नेता राहुल गांधी की पसंद के हैं। खबरों के मुताबिक इन बदलावों के बारे फैसला राहुल गांधी के छुट्टी पर जाने से पहले ही हो गया था। गुजरात में पहले ही अर्जुन मोधवाडिया की जगह भारत ङ्क्षसह सोलंकी को प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा चुका है।
    दिल्ली में कांग्रेस की कमान अरविन्द सिंह लवली के पास थी, लेकिन विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट न मिलने का खामियाजा लवली को भुगतना पड़ा। हालांकि अब प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए माकन भी विधानसभा चुनाव में अपनी सीट नहीं बचा पाए थे। अभी तो पांच प्रदेश अध्यक्ष ही बदले गए हैं, लेकिन जल्द ही पंजाब के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भी बदले जा सकते हैं। पंजाब में पार्टी पी बाजवा की जगह पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमङ्क्षरदर ङ्क्षसह को प्रदेश अध्यक्ष बना सकती है। बताया जाता है पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष बाजवा राहुल गांधी की पसंद थे, लेकिन नगर निकाय चुनावों में करारी हार के बाद अमङ्क्षरदर गुट ने बाजवा पर हमले तेज कर दिए हैं।
9:41 PM | 0 comments | Read More

मरीज की मौत के 20 साल बाद अस्पताल और डॉक्टर दोषी

   मुंबई।। इलाज के दौरान हुई एक महिला की मौत के 20 साल बाद अस्पताल और डॉक्टर की गलती ठहराई गई है। इस प्रेगनेंट महिला की खून की कमी के कारण मौत हो गई थी। अब स्टेट कन्जयूमर कमिशन ने इस मामले में नालासोपारा के एक अस्पताल को इस मामले में दोषी पाया गया है। मृतक महिला के परिवार वालों को मुआवजे के तौर पर 16 लाख रुपये मिलेंगे। बोरिवली निवासी परिवार को अस्पताल और संबंधित डॉक्टर मिलकर मुआवजे की राशि देंगे। स्टेट कन्जयूमर कमिशन की बेंच के पीबी जोशी और नरेंद्र कावडे ने टाटे अस्पताल और डॉक्टर राजेश टाटे को अपने काम में कोताही बरतने का आरोपी पाया। 34 वर्षीय मृतका मयूरी ब्रह्मभट्ट को दूसरे बच्चे की डिलीवरी के लिए परिजनों ने 20 सितंबर 1995 को टाटे अस्पताल में भर्ती कराया था। उनका ब्लड ग्रुप ए नेगेटिव था, जो कि काफी मुश्किल से मिलता है। अस्पताल में उनके ऑपरेशन से पहले खून का इंतजाम नहीं किया गया। कमिशन ने उन्हें इसी बात का दोषी माना है। 
   अपने फैसले में कमिशन ने अस्पताल और डॉक्टर को मौत के लिए 5 लाख रुपये, पति का साथ छूटने के लिए 2 लाख रुपये, दोनों बेटियों को मां का प्यार न मिलने पर 3-3 लाख रुपये, बेटियों की देखभाल और खाना बनाने के लिए एक महिला की सेवाएं लेने पर 2 लाख रुपये, घरेलू नौकर रखने के लिए 1 लाख रुपये और कानूनी लड़ाई के खर्च के लिए 15,000 रुपये का मुआवजा देने को कहा है। महिला को 20 सितंबर 1995 को सुबह 5.30 बजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था और सुबह 9.30 पर उन्हें बेटी हुई। इसके बाद महिला की तबीयत बिगड़नी शुरू हई। महिला से मिलने आए उनके एक परिचित डॉक्टर ने टाटे अस्पताल के डॉक्टरों से महिला को भगवती अस्पताल में रेफर करने को कहा। परिजनों और दोस्तों ने खून की 18 बोतलों का इंतजाम कर भगवती अस्पताल में उनके इलाज की तैयारी भी कर ली थी, लेकिन टाटे अस्पताल ने दोपहर तीन बजे से पहले महिला को रेफर करने से मना कर दिया। शाम 4.30 बजे भगवती अस्पताल पहुंचने तक महिला की मौत हो गई थी।
9:34 PM | 0 comments | Read More

आरएसएस ने धर्मांतरण विरोधी कानून बनाने की मांग दोहराई

    नई दिल्ली।। मदर टेरेसा पर मोहन भागवत की टिप्पणी से उत्पन्न विवाद के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने देश में धर्मांतरण की बढ़ती घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए धर्मांतरण-विरोधी कानून की अपनी मांग आज दोहराई। आरएसएस के अखिल भारतीय सहसेवा प्रमुख सुहासराव हिरेमाथ ने एक आगामी विशाल कार्यक्रम की घोषणा करने के लिए यहां बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में संघ की यह मांग दोहराई। इस विशाल कार्यक्रम में आरएसएस से जुड़े करीब 8 सामाजिक सेवा संगठन हिस्सा लेंगे। हिरेमाथ ने कहा, ''झूठे वादों, जबर्दस्ती या किसी गलत तरीके से होने वाले धर्मांतरण को रोकने के लिए धर्मांतरण विरोधी कानून की मांग पुरानी मांग है। हमारा उन लोगों से कोई बैैर नहीं है जो स्वेच्छा से अपना धर्म बदलते हैं। लेकिन (गलत तरीके से होने वाले) ऐसे धर्मांतरण की बढ़ती घटनाओं को ध्यान में रखकर सरकार को कानून बनाना चाहिए। 
     भागवत की इस टिप्पणी से कि मदर टेरेसा द्वारा गरीबों की सेवा के पीछे ईसाई बनाना ही मुख्य उद्देश्य था, से बहुत बड़ा विवाद पैदा हो गया और विपक्ष ने सरकार पर करारा प्रहार किया। हिरेमाथ ने कहा, ''कुछ राज्यों ने पहले ही ऐसे कानून बनाए हैं। वर्तमान सरकार ने भी संसद में यह मुद्दा उठाया है...... उसे भी इस संबंध में नियोगी समिति की रिपोर्ट की सिफारिशें लागू करने पर विचार करना चाहिए। पहले विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के 'घरवापसी' कार्यक्रम पर विवाद के बीच सरकार ने कहा था कि वह बलात धर्मांतरण के विरूद्ध विधेयक लाने पर विचार कर सकती है। तीन दिवसीय विशाल कार्यक्रम 'राष्ट्रीय सेवा संगम' का उद्घाटन चार अप्रैल को माता अमृतानंदमई करेंगी और उसमें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत एवं विप्रो अध्यक्ष अजीम प्रेमजी एवं अन्य लोग हिस्सा लेंगे। पहला राष्ट्रीय सेवा संगम वर्ष 21 में बेंगलूर में हुआ था। आरएसएस के आनुषंगिक संगठन राष्ट्रीय सेवा भारती के तत्वाधान में आयोजित इस कार्यक्रम में करीब 3 प्रतिनिधियों के हिस्सा लेने की संभावना हैं। यह आयोजन बाहरी दिल्ली में राष्ट्रीय राजमार्ग एक के आसपास होगा।
9:33 PM | 0 comments | Read More

ज्यादा स्ट्रेस से 300 हुई केजरीवाल की शुगर

    नई दिल्ली।। चीफ मिनिस्टर अरविंद केजरीवाल का डायबिटीज लेवल 300 तक पहुंच गया है। ग्लूकोज लेवल बढ़ने से उनके डॉक्टर भी परेशान हैं। ओरल मेडिसिन और इंसुलिन के बाद भी मुख्यमंत्री का ग्लूकोज लेवल बढ़ने की वजह स्ट्रेस हो सकता है। लगातार काम में व्यस्त होने की वजह से डॉक्टर उनका इंसुलिन का डोज फिक्स नहीं कर पा रहे हैं। डिप्टी चीफ मिनिस्टर मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि ग्लूकोज लेवल 300 होने के बाद भी रविवार को पूरे दिन केजरीवाल काम करते रहे। यह दिल्ली की जनता का प्यार ही तो है। अरविंद केजरीवाल के डॉक्टर विपिन मित्तल ने कहा कि रात डिनर से पहले उनकी रीडिंग ली गई थी, जो 300 थी। 
    उन्होंने कहा कि दवा दी जा रही है, इंसुलिन भी दिया जा रहा है, खाने-पीने के टाइम पर भी ध्यान रखा जा रहा है, फिर भी उनका ग्लूकोज बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि स्ट्रेस की वजह से यह सब हो रहा हो। वह लगातार काम कर रहे हैं और ब्रेक ले नहीं रहे हैं। अपनी जिम्मेदारी के प्रति फोकस्ड हैं। जरूर स्ट्रेस एक बड़ा कारण हो सकता है। डॉक्टर मित्तल ने कहा कि अगर वेन से ब्लड लेकर जांच करते हैं तो फास्टिंग में ब्लड शुगर 100 होना चाहिए, लेकिन अगर ग्लूकोमीटर से किया जाए तो ब्लड शुगर 110 होना चाहिए। खाने के बाद ब्लड शुगर 140 के आसपास होना चाहिए, लेकिन केजरीवाल का 300 तक पहुंच गया है, इसलिए यह चिंता की बात है। डॉक्टर मित्तल ने कहा कि हम उनसे समय मांग रहे हैं, लेकिन वह समय नहीं दे पा रहे हैं। हम उनका इंसुलिन का डोज फिक्स करना चाहते हैं। इसके लिए इंसुलिन मॉनिटर करना जरूरी है। इसलिए उनके ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर के बाद ब्लड शुगर की जांच करनी होगी और इसके लिए पूरा समय देना होगा। तभी एक इंसुलिन का डोज फिक्स हो सकेगा। डॉक्टर का कहना है कि मुख्यमंत्री नैचुरोपैथी और आयुर्वेद पर भरोसा करते हैं। दो साल पहले उन्हें नैचुरोपैथी के लिए भेजा गया था, जबकि उस समय वे इंसुलिन पर भी नहीं थे, लेकिन अब जब इंसुलिन पर हैं तब भी वे इसके लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं। हमने उनसे कहा है कि कुछ दिन का समय निकाल कर इलाज कराएं।
9:31 PM | 0 comments | Read More

'आप' में गृहयुद्ध, प्रशांत भूषण ने पत्र में जताया विरोध

    नई दिल्ली।। आम आदमी पार्टी में अंदरूनी कलह और उठापटक तेज होने के बीच प्रशांत भूषण ने पार्टी को एक चिठ्ठी लिखकर अपना विरोध जताया है। भूषण की चिठ्ठी में पार्टी के फैसलों का विरोध और उनकी असहमति साफ दिखाई दे रही है। चिठ्ठी यह बताने के लिए भी काफी है कि पार्टी के भीतर योगेंद्र यादव और खुद भूषण को लेकर विवाद अंतिम दौर में पहुंच चुका है। भूषण ने पार्टी को एक व्यक्ति (अरविंद केजरीवाल) पर केंद्रित बताते हुए चिठ्ठी में लिखा, पार्टी ने अपने सभी अकाउंट को वेबसाइट पर जारी करने की बात की थी, लेकिन आरटीआई के अंतर्गत आने के बहुत बाद में भी हम ऐसे नहीं कर सके हैं। हमने चंदे के बारे में तो बता दिया लेकिन खर्च कितना किया, यह अभी भी पर्दे में है। सीनियर ऐडवोकेट ने अपने पत्र में 2 साल पहले 30 सदस्यों की एक्सपर्ट कमिटी का भी जिक्र किया है, जो पार्टी की नीतियों को तय करने लिए बनाई गई थी। उन्होंने लिखा है कि कमिटी ने 18 महीने पहले अपनी रिपोर्ट भी दे दी लेकिन अभी तक उसे औपचारिक रूप नहीं दिया जा सका है क्योंकि हम में से कुछ लोगों के पास वक्त ही नहीं है।
     प्रशांत भूषण ने आप की राष्ट्रीय पार्टी बनने की चाहत पर भी हमला बोला और लिखा कि हम राष्ट्रीय दल बनें इससे पहले देश के अहम मुद्दों पर हमारी सोच का स्पष्ट होना भी जरूरी है। फंड्स को लेकर सवाल उठाते हुए भूषण ने लिखा है कि हम अभी तक फंड्स के खर्च को लेकर न ही कमिटियों को सशक्त बना सके हैं और न ही निण:य लेने की प्रणाली विकसित कर सके हैं। पार्टी के सभी फैसलों को व्यवस्थित और लोकतांत्रिक तरीके से लिए जाने पर भी भूषण ने जोर दिया है। आप की नैशनल एग्जेक्युटिव और पीएसी की बैठकें लगातार हों इसकी भी मांग उन्होंने की है। भूषण ने लिखा है कि हाल ही में हुई पीएसी की बैठकों के लिए कुछ सदस्यों को सूचित ही नहीं किया गया। भूषण ने सिद्धांतों का हवाला देते हुए पत्र में लिखा कि हमारी पार्टी आदर्शवाद, एक मिठास और हजारों कार्यकर्ताओं के आंसुओं से बनी है। कार्यकर्ताओं ने एक अलग पार्टी बनाने के लिए बहुत कुछ कुर्बान किया है। 
    प्रशांत भूषण के साथ ही पार्टी की पीएसी में विरोध झेल रहे योगेंद्र यादव ने भी अपने फेसबुक पेज पर टिप्पणी की है। उन्होंने लिखा है कि पिछले दो दिन से प्रशांत और मेरे बारे में चल रही खबरें सुन रहा हूं, पढ़ रहा हूं नई-नई कहानियां गढ़ी जा रही ह आरोप मढ़े जा रहे हैं षड्यंत्र खोजे जा रहे हैं। ये सब पढ़कर हंसी भी आती है और दुख भी होता है। योगेंद्र ने कहानियों को मनगढ़ंत और बेतुका बताते हुए लिखा है कि कहानी गढ़ने वालों के पास टाइम कम होगा और कल्पना ज्यादा लेकिन, इन आरोपों और कहानियों की नीयत को देखकर दुख होता है। योगेंद्र ने लिखा है कि जनता ने हमें इतनी बड़ी जीत दी है। आज का वक्त बड़ी जीत के बाद, बड़े मन से, बड़े काम करने का है। देश को हमसे बहुत उम्मीद है। मैं यही अपील कर सकता हूं कि हम अपनी छोटी हरकतों से अपने आप को और इस आशा को छोटा न होने दें। दूसरी तरफ, आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने इस पूरे विवाद और दोनों नेताओं के बयान को गलत ठहराते हुए उन्हें पार्टी के मंच पर बोलने की नसीहत दी है। प्रशांत के लीक हुए पत्र और योगेंद्र यादव के फेसबुक पोस्ट को सिंह ने गलत ठहराया है।
9:31 PM | 0 comments | Read More

राहुल ने 'सामने आने में बहुत लंबा समय लिया' - पुस्तक

    नई दिल्ली।। कांग्रेस में राहुल गांधी की भावी भूमिका को लेकर छिड़ी बहस के बीच एक नई किताब में कहा गया है कि युवा नेता ने ''सामने आने में बहुत समय लिया और वर्ष 214 के लोकसभा चुनाव में उनका प्रचार अभियान हालिया समय का ''सर्वाधिक खराब" अभियान था। वरिष्ठ पत्रकार वीर सांघवी की जल्द ही आ रही नई पुस्तक 'मैंडेट: विल ऑफ द पीपुल' में हाल के राजनीतिक इतिहास की कई घटनाओं का जिक्र है। इसमें कहा गया है कि साल 24 में सोनिया गांधी के प्रधानमंत्री बनने से इंकार करने और बड़े मुद्दों पर राहुल गांधी के दुविधा में रहने की प्रवृति ने परिदृश्य में भाजपा के उभरने का मार्ग प्रशस्त किया। लेखक का कहना है कि राहुल ने सामने आने में ''बहुत लंबा" समय लिया और जब वह सामने आए तो यह स्पष्ट नहीं था कि वह मनमोहन सिंह सरकार के पक्ष में हैं अथवा खिलाफ में हैं। उन्होंने साल 214 के लोकसभा चुनाव में राहुल के प्रचार अभियान को हाल की स्मृति में 'सबसे खराब' करार दिया।
     सांघवी लिखते हैं, ''प्रेस से दूरी बनाए रखते हुए और प्रमुख मुद्दों पर अपने नजरिए को हमसे साझा करने से इंकार करने वाले राहुल ने अपने पहले साक्षात्कार में राजनीतिक रूप से आत्महत्या कर ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लेकर सांघवी लिखते हैं, ''उन्हें हर उस पैमाने पर परखा गया जो उन्होंने वर्ष 29 में अपने लिए तय किए थे। मनमोहन सिंह एक त्रासदी रहे। पहले शानदार कार्यकाल के बाद उन्होंने भारतीय इतिहास में सबसे खराब प्रधानमंत्री के तौर पर अपनी पारी खत्म की। सांघवी ने सिंह की उस घोषणा का विरोध किया है जहां उन्होंने कहा था कि समकालीन विचारों के विपरीत इतिहास उनके साथ उदारता से पेश आएगा। सांघवी ने कहा, '' साफ कहूं तो मुझे संदेह है। उन्हें एक ऐसे इंसान के रूप में याद किया जाएगा जिसने भारत को निराश किया। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक 'रहस्य' करार दिया है। लेखक ने लिखा है, ''वह बेहद निजी जीवन से निकलकर कांग्रेस को उबारने के लिए आई थी और दो चुनावों :24 एवं 29: में कांग्रेस की जीत की अगुवाई की। जब ए सबकुछ हो रहा था तो वह कहां थीं? उनका राजनीतिक सहज ज्ञान कहां था? क्या उन्हें यह नहीं दिख रहा था कि कांग्रेस विनाश की ओर बढ़ रही है ? उन्होंने कहा, ''इन सवालों का जवाब वास्तव में कोई नहीं जानता है।
     सांघवी के अनुसार सोनिया के लिए यही सही होता कि वह संप्रग 2 के शासनकाल के बीच में ही प्रधानमंत्री को बदलने की पार्टी की मांग को स्वीकार कर लेतीं। लेखक का कहना है, ''शायद वह मनमोहन सिंह के इस्तीफा देने का इंतजार कर रही थीं। लेकिन ए वही मनमोहन सिंह थे जिन्होंने खीझकर यह मांग की थी कि पार्टी उनके परमाणु करार के लिए बहुमत जुटाए और ऐसा नहीं होने पर इस्तीफा देने की बात कही थी लेकिन अब वह अपनी कुर्सी को जकड़ कर बैठ गए थे। यहां तक कि उनकी प्रतिष्ठा लगातार गिर रही थी लेकिन उन्होंने इस्तीफा देने पर विचार तक करने से इंकार कर दिया। सांघवी का मानना है कि अगर कांग्रेस 214 में बेहतर प्रचार अभियान के साथ मैदान में उतरती तो शायद कुछ और बेहतर कर पाती। वह लिखते हैं, ''परंतु जब चीजें गलत होती हैं तो पूरी तरह गलत होती चली जाती हैं। और इसलिए धमाकेदार शुरूआत करने वाली संप्रग का अंत भी धमाकेदार हुआ। फर्क केवल इतना था कि इस बार धमाके की गूंज में नरेन्द्र मोदी के आगमन का ऐलान था। इस पुुस्तक में आपातकाल, संजय गांधी के उत्थान और पतन, पंजाब में आतंकवाद, इंदिरा गांधी की हत्या और इसके बाद के दंगों के बारे में बात की गई है। इसमें राजीव गांधी के उदय और बोफोर्स मामले के बाद उनकी हार को लेकर भी बात की गई है। पुस्तक में उन घटनाक्रमों को भी खंगाला गया है कि कैसे पी वी नरसिंह राव प्रधानमंत्री बने। सांघवी कहते हैं, '' यह किताब मतदान के रूख या चुनावी नतीजों के बारे में नहीं है। यह लोगों  घटनाओं और उन ताकतों के बारे में है जिसने उस भारत को आकार देने में योगदान किया जिसमें आज हम रह रहे हैं।
9:30 PM | 0 comments | Read More

बाघों को पालतू जानवरों की तरह घर में रखने के लिए मंत्री ने की कानून की मांग

    नई दिल्ली।। मध्य प्रदेश की एक मंत्री ने विचित्र सुझाव देते हुए ऐसा कानून बनाए जाने की मांग की है जो लोगों को शेरों और बाघ जैसे विशालकाय जानवरों को घरों में पालतू जानवरों की तरह रखने की अनुमति दे। ऐसा उन्होंने बाघों के संरक्षण का हवाला देते हुए कहा है। पशुपालन , बागवानी और खाद्य प्रसंस्करण मंत्री कुसुम मेहदले ने राज्य के वन विभाग को भेजे एक प्रस्ताव में थाइलैंड जैसे दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों और कुछ अफ्रीकी देशों में ऐसे कानूनी प्रावधान होने का हवाला देते हुए देश में भी ऐसे कानून की मांग की है। उनका कहना है कि जिन देशों में पहले से ऐसा कानून है वहां इन विशालकाय जानवरों की आबादी को बढ़ाने में मदद मिली है। देश में बाघों के संरक्षण के लिए विभिन्न परियोजनाओं की ओर ध्यान दिलाते हुए मंत्री ने कहा है कि इन परियोजनाओं पर करोड़ों रूपए खर्च किए जा चुके हैं लेकिन बाघों की संख्या में कोई आश्चर्यजनक वृद्धि नहीं हुई है। मंत्री ने कहा है कि थाइलैंड और कुछ अन्य देशों में लोगों को शेरों और बाघों को पालतू जानवरों के तौर पर रखने के लिए कानूनी मान्यता है। 
    उन्होंने इसके साथ ही कहा है कि इन देशों में ऐसे जानवरों की संख्या में आश्चर्यजनक तरीके से वृद्धि हुई है। राज्य के वन मंत्री गौरीशंकर शेजवार को पिछले वर्ष सितंबर में भेजे गए प्रस्ताव में मंत्री ने कहा है कि यदि ऐसी कोई संभावना तलाशी जाती है तो जरूरी कार्रवाई करते हुए दिशानिर्देश पारित किए जाएं। मंत्री से मिले सुझावों का अनुपालन करते हुए मध्य प्रदेश के मुख्य प्रधान वन संरक्षक नरेन्द्र कुमार ने राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) और भारतीय वन्यजीव संस्थान को चिट्ठी लिखकर इस प्रस्ताव पर उनकी टिप्पणियां मांगी हैं। कुमार ने एक पत्र में लिखा है, '' कृपया इस संबंध में अपने सुझाव या टिप्पणियां दें ताकि मंत्री को इसके बारे में बताया जा सके। भोपाल निवासी वन्यजीव कार्यकर्ता अजय दुबे ने इस संबंध में एक आरटीआई आवेदन दाखिल किया था और उन्हें मंत्री के सुझाव और कुमार के पत्र वाली नोटशीट की कापी प्राप्त हुई है। पीटीआई द्वारा बार बार प्रयास किए जाने के बावजूद मेहदले से उनकी टिप्पणी जानने के लिए संपर्क नहीं हो सका। दुबे ने कहा, '' यह आश्चर्यजनक है कि एक वरिष्ठ मंत्री इस प्रकार का अजीबोगरीब सुझाव दे सकती हैं। वह राज्य के पन्ना क्षेत्र से ताल्लुक रखती हैं जो बाघों की आबादी के लिए जाना जाता है। मैं इस प्रकार के प्रस्ताव को खारिज करता हूं और केंद्र सरकार से अपील करता हूं कि वह बाघों को पालतू बनाने की अनुमति नहीं दे। मध्य प्रदेश में छह बाघ संरक्षण अभयारण्य हैं जहां 257 बाघ हैं। इनमें बांधवगढ़, कान्हा, पन्ना, बोरी सतपुड़ा , संजय ़ दुबरी और पेंच शामिल हैं। देश में वर्ष 21 में बाघों की अनुमानित संख्या 176 थी जो ताजा आंकड़ों के अनुसार 214 में 2226 बताई जाती है।
9:28 PM | 0 comments | Read More

केरल और बंगाल में खत्म हो जाएंगे हिंदू : तोगडि़या

    नई दिल्ली।। धर्म परिवर्तन से जुड़े विवाद में एक बार फिर कूदते हुए विश्व हिंदू परिषद ने रविवार को कहा कि घर वापसी कार्यक्रम में कुछ भी गलत नहीं है। यही नहीं, वीएचपी ने जबरन धर्म परिवर्तन' रोकने के लिए कानून बनाने की भी मांग की। वीएचपी ने कहा कि संसद को जबरन धर्म परिवर्तन पर अंकुश लगाने के लिए कानून पारित करना चाहिए। संगठन ने मत प्रकट किया कि जहां धर्म परिवर्तन (कन्वर्जन) गलत है, वहीं घर वापसी या हिंदुत्व में री-कन्वर्जन में कोई बुराई नहीं है। विश्व हिंदू परिषद की स्वर्ण जयंती के उपलक्ष्य में राजधानी दिल्ली में हो रहे विराट हिंदू सम्मेलन के अवसर पर अपने संबोधन में वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगडि़या ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और एसपी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव को धर्म परिवर्तन को रोकने के लिए संसद में विधेयक पारित करवाना सुनिश्चित करना चाहिए।
    तोगडि़या ने कहा कि कोई भी धर्म परिवर्तन नहीं होना चाहिए, लेकिन घर वापसी को स्वीकार करना चाहिए। तोगडि़या ने दावा किया कि भारत में हिंदू सुरक्षित नहीं हैं और अगर हम सचेत नहीं हुए तो असम, पश्चिम बंगाल और केरल जैसे राज्यों में हिंदू आबादी पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी। वीएचपी अध्यक्ष ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के धार्मिक असहिष्णुता के उनके बयान के लिए उन्हें आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हमें किसी के प्रवचन की जरूरत नहीं है, क्योंकि वे अमेरिका में मंदिर पर हमला रोकने में नाकाम साबित हुए हैं। हालांकि तोगडि़या ने सीधे तौर पर बराक ओबामा का नाम नहीं लिया।
9:26 PM | 0 comments | Read More

बीफ बेचने पर 5 साल कैद और 10 हजार का जुर्माना, 20 साल बाद कानून मंजूर



   नई दिल्ली।। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने महाराष्ट्र एनिमल प्रिवेंशन (अमेंडमेंट) बिल को मंजूरी दे दी है। अब अगर कोई बीफ बेचते या अपने पास रखे पकड़ा गया तो उसे पांच साल की कैद हो सकती है। इसके अलावा, 10 हजार रुपए के जुर्माने का भी प्रावधान है। यह बिल 19 साल पहले बीजेपी और शिवसेना की सरकार ने 1995 में महाराष्ट्र विधानसभा में पारित किया था। बता दें कि राज्य में महाराष्ट्र एनिमल प्रिवेंशन एक्ट, 1976 के तहत गोहत्या और गोमांस बेचने पर पहले से ही प्रतिबंध है। नए एक्ट की वजह से अब बैल या सांडों को काटना भी कानूनन अपराध होगा।


9:23 PM | 0 comments | Read More

विशेष सुविधा चाहिए तो पाकिस्तान जाएं मुसलमान - शिवसेना

     मुंबई।। शिवसेना ने यहां मंगलवार को कहा कि भारत में रहने वाले मुसलमान यदि विशेष सुविधाएं चाहते हैं तो उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए। शिवसेना ने अपने मुखपत्र 'सामना' में कहा, 'यदि वे (मुसलमान) इस देश से कुछ चाहते हैं, तो पहले भारत को अपनी मातृभूमि स्वीकार करें और वंदे मातरम बोलें।' 'सामना' में यह लेख एक मार्च को ऑल इंडिया इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के नागपुर में दिए गए भाषण की प्रतिक्रिया में आया है, जहां उन्होंने महाराष्ट्र में मराठियों की तरह ही मुसलमानों को भी आरक्षण देने की मांग की थी।
     शिवसेना ने ओवैसी की बात पर रोष जताते हुए और अपना रुख दोहराते हुए कहा कि आरक्षण की नीति सामाजिक मानदंडों पर आधारित होनी चाहिए, न कि धर्म के तर्ज पर। शिवसेना ने कहा, 'गरीब मुसलमानों को आरक्षण दिया जाना चाहिए। इसलिए नहीं कि वे मुसलमान हैं, बल्कि इसलिए कि वे भारत के नागरिक हैं।' पार्टी ने सभी लोगों से, खासकर हिन्दुओं और मुसलमानों से यह विचारधारा को अपनाने की अपील करते हुए कहा कि इससे ही वोट बैंक और आरक्षण की राजनीतिक खत्म हो सकती है और देश की प्रगति में मदद मिल सकती है।
    शिवसेना ने कहा, 'ओवैसी कह रहे हैं कि चूंकि मराठी लोगों को आरक्षण मिला है, तो मुसलमानों को भी मिलना चाहिए। यह कट्टर मुसलमानों का वही हिंदू विरोधी जिद्दी रवैया है, जिसकी वजह से भारत का विभाजन हुआ था और उन्होंने पाकिस्तान बनाया था। लेकिन अब और नहीं।' लेख में कहा गया कि मुसलमानों को समान नागरिक संहिता स्वीकार करनी होगी, परिवार नियोजन अपनाना होगा और जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की मांग छोड़नी होगी।
    ओवैसी के भाषण को राष्ट्र विरोधी करार देते हुए शिवसेना ने इसकी जांच कराए जाने की मांग की कि कहीं उन्होंने महाराष्ट्र में सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए तो इस तरह का बयान नहीं दिया। पार्टी ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से इस पर मुद्दे पर कार्रवाई करने की मांग की।


9:21 PM | 0 comments | Read More

मप्र की सियासत में भूचाल

सत्ता-विपक्ष-राजभवन पंससा अपराध के भंवर में
भंवर से निकलने मंथन की रस्सा कसी
सड़कों पर लड़ने की तैयारियां
    भोपाल।। व्यापमं घोटाले की आंच में सत्ता पक्ष, विपक्ष, राजभवन सभी झुलस रहे हैं। 21 मार्च से शनि ग्रहों का राजा बनेगा। यही समय होगा, जब अहंकारी, भ्रष्टाचारी तथा अपराधियों पर शनि महाराज की गाज गिरेगी।
    सत्ता पक्ष-पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने व्यापमं घोटाले को लेकर आर-पार की लड़ाई लड़ने सबूतों के साथ एसआईटी के समक्ष शपथ पत्र देकर सत्ता पक्ष को निशाने पर लिया था। इसकी आंच में उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के परिवारजनों तथा स्टाफ को घेरा था। इसी लड़ाई में मप्र विधानसभा का बजट सत्र मात्र 7 दिनों में खत्म हो गया। वहीं पांच मिनट बाद बजट भी पास हो गया।
    राजभवन घेरे में-राज्यपाल रामनरेश यादव के पुत्रों ने भी व्यापमं में अवैध नियुक्तियां कराई थीं। राज्यपाल को उन्हें बचाने के आरोप में एसटीएफ ने राज्यपाल के खिलाफ भी 120 (बी) का मामला दर्ज कर लिया। राज्यपाल इस्तीफा देने के स्थान पर न्यायालय की शरण में जाने का मंसूबा बना रहे हैं। दिल्ली और भोपाल के वकीलों की सलाह पर वह सुप्रीम कोर्ट की शरण में जा रहे हैं। सत्ता पक्ष ने विपक्ष को घेरा-सत्ता पक्ष ने विधानसभा में 22 वर्ष पूर्व हुई नियुक्तियों को लेकर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्रीनिवास तिवारी, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह तथा अन्य 17 के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर जवाबी हमला कर दिया है। इस हमले से विपक्ष उत्तेजित होकर 2 मार्च से सड़कों पर व्यापमं की लड़ाई लड़ने जा रहा है। कांग्रेस ने 9 वर्ष पुरानी रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कराने की कार्यवाही को राजनैतिक बदले और सत्ता पक्ष को अपने गलत कामों को सही ठहराने का षड्यंत्र बताते हुए संसदीय व्यवस्था के लिए बड़ा खतरा बता दिया। सुप्रीम कोर्ट जाएंगे राज्यपाल-सत्ता पक्ष एवं विपक्ष की राजनीति में पहली बार राजभवन भी अपराधिक कृत्य का शिकार हो गया है। जिसके कारण मप्र की राजनैतिक सरगर्मी इन दिनों चरम पर पहुंच गई है। राज्यपाल पद पर रहते हुए रामनरेश यादव अब 120 (बी) की दर्ज एफआईआर के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में जाने की तैयारी कर रहे हैं। हाईकोर्ट के निर्देश पर कार्यवाही-व्यापमं घोटाले की जांच मप्र हाईकोर्ट की निगरानी में एसटीएफ कर रही है। हाईकोर्ट ने एसटीएफ को आदेश दिया था कि वह संदिग्ध हाई प्रोफाइल के खिलाफ कार्यवाही करने स्वतंत्र है। चूंकि यह हाईकोर्ट का निर्देश था। अत: राज्यपाल को सुप्रीम कोर्ट जाने अथवा इस्तीफा देने का ही विकल्प बचा है। राज्यपाल को सत्ता पक्ष का संरक्षण-राज्यपाल रामनरेश यादव को मप्र शासन के मुखिया शिवराज सिंह चौहान का संरक्षण होने से उनका इस्तीफा रुक गया। मुख्यमंत्री के राज्यपाल के बचाव में खड़े हो जाने से केंद्र सरकार ने भी अपना रुख तटस्थ कर लिया है। केंद्र ने उन्हें न्यायालयीन कार्यवाही का समय अप्रत्यक्ष रूप में दे दिया है। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्र को यह समझाने में सफल रहे कि विपक्ष, राज्यपाल के बहाने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साध रहा है। राज्यपाल ने इस्तीपेस से विपक्ष का दबाव सरकार पर बढ़ेगा।
    केंद्र ने इस स्थिति में राज्यपाल को सुप्रीम कोर्ट के भाग्य भरोसे छोड़कर अपना पल्ला झाड़ लिया। विपक्ष उत्तेजित-पिछले 3 दिनों के राजनैतिक घटना क्रम से कांग्रेस काफी उत्तेजित है। मप्र सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय को उनके जन्म दिन पर एफआईआर का तोहफा देकर दिग्गी राजा को और उग्र बना दिया है। 22 वर्ष पुराने मामले में उन्हें मुल्जिम बना देने से कांग्रेस इसे ब्लेक मेल करने और बदले की कार्यवाही मान रही है। इसको लेकर कांग्रेस ने प्रत्येक जिले में जवाबी हमले करने की रणनीति पर काम कर रही है। इससे मप्र की राजनैतिक सियासत में सत्ता विपक्ष तथा राजभवन एक दूसरे के निशाने पर है। इसमें शनै: शनै: एसटीएफ और हाईकोर्ट की निगरानी पर भी सवालिया निशान लग रहे हैं।
8:32 PM | 0 comments | Read More

सरकार ने मंत्रालयों से कहा, वेबसाइटों पर भर्ती नियम जारी करें

    नई दिल्ली।। अधिक से अधिक पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए केन्द्र सरकार ने सभी मंत्रालयों को अपने वेबसाइट पर अधिसूचित भर्ती नियमों को जारी करने के लिए कहा है। यह पाए जाने के बाद कि मंत्रालयों या विभागों द्वारा अपने अधिकारिक वेबसाइटों पर विभिन्न पदों के लिए इन नियमों को जारी नहीं किया जाता है, यह आदेश सामने आया है। 
    कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा जारी एक आदेश में बताया गया है ''अधिक से अधिक पारदर्शिता सुनिश्चित करने और सरकारी कर्मचारी बनने के लिए तैयारी करने वालों को उनके कैरियर के संबंध में सूचना मुहैया कराने के लिए सभी मंत्रालयों या विभागों से 15 मार्च 215 तक अपने मंत्रालय या विभाग के विभिन्न पदों के अधिसूचित भर्ती नियमों को जारी करने का आग्रह किया गया है। उन्हेंं अपने अधीनस्थ कार्यालयों के लिए उपयुक्त निर्देश जारी करने और इन नियमों को अपलोड करने के लिए उनके प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन काम करने वाले कार्यालयों को संलग्न करने के लिए भी सूचित किया गया है। सभी मंत्रालयों या विभागों से 31 मार्च से पहले इन निर्देशों का पालन करने के लिए कहा गया है।
8:28 PM | 0 comments | Read More

पढाई का वज़ूद कितना ..भारत में सॉफ्टवेर इंजिनियर से अधिक वेतन बाल काटने वाला का

  ”रोहन को उसके माता पिता ने एक प्राइवेट इंजीनियरिंग संस्थान से बी.टेक कराया लगभग 10 लाख रुपए का खर्चा आया कोर्स पूरा करने में, पहले तो रोहन के लिए प्लेसमेंट की प्रॉब्लम और अगर ले दे कर कहीं जॉब लग भी गयी तो वो 20 हजार से अधिक की नही. एक साल दिल्ली में 18 हज़ार रुपए प्रति महिना की नौकरी करने के बाद परेशान रोहन ने एम् टेक करने की सोची लगभग 4 लाख रुपए का खर्चा एम् टेक करने में आया.अब रोहन एक प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर 30 हज़ार रुपए प्रति महिना का नौकरी कर रहा है, वैसे शिक्षा अनमोल है लेकिन देखा जाये तो उसे अपनी शिक्षा पर हुए खर्च हुई धनराशी के बराबर कमाई करने में 4-5 वर्ष का समय लगेगा.”
सच्चा किस्सा
    कोहराम की टीम मेम्बर को अपना घर में कंस्ट्रक्शन कराने के लिए एक दिहाड़ी मजदूर की आवश्यकता थी, टीम मेम्बर पहुँच गये मजदूरों की टोली में जहाँ मजदूर ने अपनी दिहाड़ी 350 रुपए बताई, मेम्बर ने कहा 300 रुपए ले लेना इस पर मजदूर का कहना था की ”साब हम तो इतने में ही काम करेंगे अगर सस्ता चाहिए तो कोई पढ़ा लिखा पकड़ लो “
    आपके माता-पिता आपसे उम्मीद करते हैं कि आप बड़े होकर डॉक्टर, इंजीनियर, वकील या कोई ऐसी ही प्रतिष्ठित नौकरी करेंगे. ज़्यादातर मौकों पर ऐसी नौकरियों से उनका तात्पर्य अच्छे वेतन से होता है.
    लेकिन मान लीजिए आपका सपना कारपेंटर बनने का हो या फिर क्रेन ऑपरेटर बनने का तो परेशान मत होइए, इन कामों के जरिए भी आप आकर्षक वेतन कमा सकते हैं. कई बार प्रतिष्ठित नौकरियों से भी ज़्यादा.
   हमने इंटरनेट साइट क्योरा से यही जानने की कोशिश की, हमने साइट से पूछा कि वो कौन कौन सी नौकरियां हैं जिसके बारे में लोग सोचते नहीं कि उसमें इतना भी पैसा होगा.
    भारत में हेयर ड्रेसर की कमाई सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री के कर्मचारियों से ज्यादा होता है. हाल ही में भारतीय सैलून में कृतिका गोसुकुंडा ने कुछ हेयर स्टाइलिस्ट से उनकी कमाई के बारे में पूछा.
    कृतिका ने कहा, “जूनियर हेयर ड्रेसर के तौर पर सैलून में काम करने वाले को हर महीने 90 हजार से एक लाख रुपये तक की कमाई हो जाती है. ख़ास दिन हो तो एक दिन में ये 30 हज़ार रुपये तक कमा लेते हैं.”
   कृतिका ने कहा, “हम सोचते थे कि सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री के कर्मचारियों का वेतन सबसे ज़्यादा होता है, ये धारणा उस दिन टूट गई.”
वेतन को लेकर पुरानी रिपोर्ट क्या कहती है
   एक इलेक्ट्रिशन की शुरुआती सैलरी 11,300 रुपए प्रति माह है, जबकि एक डेस्कटॉप इंजिनियर की सैलरी इससे महज 3,500 रुपए ज्यादा। अब दोनों की काबिलियत की तुलना कर ली जाए। इलेक्ट्रिशन एक अकुशल कर्मचारी है और वह महज बारहवीं पास है जबकि डेस्कटॉप इंजिनियर इंजिनियरिंग में ग्रैजुएट है।
   हैरत की बात तो यह है कि एक खास अवधि में दोनों की सैलरी में इजाफे का अंतर भी लगभग बराबर ही है- इलेक्ट्रिशन की 5 साल में लगभग 19,000 रुपए और डेस्कटॉप इंजिनियर की 8 साल में 30,000 रुपए। यानी, 8 साल में इलेक्ट्रिशन भी 26,000 हजार रुपए प्रति माह कमा लेगा।
   वेतन के अंतर में इतनी कमी इसलिए है, क्योंकि एक ओर जहां फिटर्स, वेल्डर्स, इलेक्ट्रिशंस और प्लंबर्स की भारी कमी है। वहीं, आईटी सेक्टर में अपनी किस्मत आजमाने वाले इंजिनियरों की एक बड़ी फौज है।
   श्रम बाजार के व्यापक आकलन के तहत टीमलीज के ताजे और शुरुआती आंकड़ों में इस तरह के परिणाम सामने आए हैं। टीमलीज सर्विसेज की को-फाउंडर और सीनियर वाइस प्रेसिडेंट रितुपर्णा चक्रबर्ती कहती हैं, ‘पिछले 6-7 सालों में वेतन ढांचे के अध्ययन के दौरान हमने पाया कि इलेक्ट्रिशन की तरह प्लबंर्स और वेल्डर्स जैसे दूसरे कामगारों के वेतन में सिर्फ इजाफा ही हुआ है। दूसरी ओर इस अवधि में इंजिनियर्स और खासकर आईटी इंजिनियर्स का शुरुआती वेतन कमोबेश बराबर ही रहा है।’ संयोग से टेक सेक्टर की रैंकिंग में डेस्कटॉप इंजिनियर सबसे निचले पायदान पर आता है।
   उनका कहना है कि एक दशक पहले जब आईटी सेक्टर सबाब पर था, तब इंजिनियर्स की मांग बहुत ज्यादा थी। लेकिन, अब मांग वहीं है, करीब 4 लाख के आसपास। लेकिन, आईटी सेक्टर में जाने की जद्दोजहद में जुटे इंजिनियरों की तादाद बढ़कर 15 लाख हो गई है। इसका परिणाम बेमेलपन के रूप में आया है।
   इंडियन स्टाफिंग फेडरेशन की भी अध्यक्ष चक्रबर्ती के मुताबिक, ‘इंडस्ट्री को जहां 10 इलेक्ट्रिशंस की जरूरत है, वहां हमें 2 को खोजने में भी मशक्कत करनी पड़ती है। हाल ही में एक विशाल इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने हमसे कहा कि अगर हम उन्हें 1 लाख वेल्डर्स, फिटर्स, पल्बंर्स और इलेक्ट्रिशंस मुहैया करवा सकें, तो उन्हें इन सबको को काम पर रखने में खुशी होगी। तो कामगारों की ऐसी मांग है।’
   दरअसल, इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में तेजी की वजह से कामगारों की जरूरत बढ़ी है। उदाहरण के तौर पर टाटा स्टील अभी ओड़िशा के कलिंगनगर में 60 लाख टन हरित क्षेत्र समेकित स्टील परियोजना स्थापित कर रहा है। कंपनी के एक आधिकारिक प्रवक्ता के मुताबिक, ‘स्टील प्लांट के निर्माण में इलेक्ट्रिशन, वेल्डर्स, फिटर्स जैसे कौशल की बड़ी तादाद में जरूरत है। भले ही इनमें कुछ की जरूरत बहुत कम समय के लिए ही हो।’
   गोदरेज ऐंड बॉयस में इंडस्ट्रियल रिलेशंस के सीनियर वाइस प्रेजिडेंट जी आर दस्तूर मानते हैं कि शहरी और अर्ध-शहरी इलाकों में सामाजिक-सांस्कृतिक बाधाएं युवाओं को पेशेवर कौशल हासिल करने से रोकते हैं। उनकी कहना है कि औद्योगिक समूहों को सरकार और स्वयंसेवी संगठनों के साथ मिलकर ऐसे कौशल हासिल करने के प्रति युवाओं को बढ़ावा देना होगा। साथ ही उनके कौशल के मुताबिक उन्हें और ज्यादा सम्मान और महत्व देना होगा।
   रैंडस्टैड इंडिया के सीईओ मूर्ति के उप्पालुरी का कहना है, ‘समाज के हरेक वर्ग में शिक्षा का स्तर बढ़ने से अपेक्षाएं बढ़ी हैं। औसतन, ऐसे पेशे में योग्यता ज्यादातर अनुभव आधारित होता है, क्योंकि कॉलेजों से तैयार प्रतिभाएं नहीं मिलती हैं।
   व्यावसायिक शिक्षा संस्थानों से निकले हुए ग्रैजुएट कैंडिडेट ऑटो निर्माण जैसी कंपनियों में काम करने पसंद करते हैं या खाड़ी के देशों का रुख कर लेते हैं।’ उनका कहना है कि मांग और मुद्रास्फीति में वृद्धि से कामगारों के वेतन में सालाना औसतन 15 से 20 फीसदी का इजाफा होता है।










8:25 PM | 0 comments | Read More

निशानदेही पर चोरी का माल बरामद करने आर्इ मध्य प्रदेश पुलिस से हाथापार्इ, हड़कम्प

    सिकन्दराराव।। ट्रेनों में अटैची पार करने वाले एक गिरोह के एक शातिर को पकड़कर बैचे गये लाखों के माल के बारे में कस्बा में एक सर्राफ से पूछताछ करने आर्इ मध्य प्रदेश पुलिस से व्यापारियों की जमकर तीखी नोंकझोंक हो गर्इ साथ ही मध्य प्रदेश पुलिस से कुछ लोागों ने हाथापार्इ भी कर दी। जिससे पूरे बाजार में हडकम्प मच गया और मौके पर कोतवाली पुलिस भी पहुंच गर्इ।
    बताया जाता है कि ट्रेनों में यात्रियों को सूटकेस आदि पार कर देने वाले गिरोह के एक शातिर युवक को मध्य प्रदेश के जबलपुर जीआरपी द्वारा गिरफ्तार किया गया है। आरोपी युवक कस्बा का ही निवासी है और पूछताछ में उसने पुलिस को लाखों रूपये कीमत का माल यहां एक सर्राफ को बेचे जाने की जानकारी दी। जिस पर पुलिस आज उक्त आरोपी को अपने साथ लेकर जहां उक्त माल की बरामदगी व पूछताछ हेतु आर्इ थी तथा पुलिस के उक्त ज्वैलर्स के यहां पहुंचने पर व्यापारी व व्यापार मण्डल के लोगों की वहां पर भीड़ लग गर्इ और लोगों की पुलिस से तीखी नोंकझोंक के साथ हंगामा व हाथापार्इ हो गर्इ। जिससे बाजार में हड़कम्प मच गया। वहीं सर्राफ अपनी दुकान बंद कर भाग गया। 
    मध्य प्रदेश के जबलपुर जीआरपी के इंस्पैक्टर एस.एस. कुशवाहा ने बताया कि गत 16 दिसम्बर 2014 को ट्रेन से यात्रा के दौरान व्यापारी अन्नत: कुमार अग्रवाल निवासी जगमोहन गार्डन कटनी मध्य प्रदेश का सूटकेस पार कर दिया गया था। जिसमें उनके लाखों के जेबरात रखे हुये थे और मौके से मनोज पुत्र मोहन निवासी मौहल्ला दमदपुरा कस्बा सिकन्द्राराव पकड़ा गया था और उसके तीन साथी भाग गये थे। जीआरपी इंस्पेक्टर ने बताया कि पकड़े गये आरोपी मनोज ने अपने साथियों के नाम राजेश निवासी गांव मौहारी, जितेन्द्र निवासी दमदपुरा व सूरज बताये हैं। जिनकी तलाश की जा रही है। उक्त चोरी का माल यहां 49 हजार में बेचा जाना बताया है। कस्बा के मुख्य बाजार में मध्य प्रदेश पुलिस से हाथपार्इ की सूचना पाकर मौके पर तत्काल कोतवाली पुलिस पहुंच गर्इ और भीड़ को खदेड़ दिया। समाचार लिखे जाने तक पुलिस कोतवाली पर मुकद्दमा दर्ज करने की तैयारी में थी । बताया जाता है कि मध्य प्रदेश पुलिस कोतवाली पुलिस को सूचना दिये बिना सीधे छापा मारने पहुंच गर्इ थी।
8:17 PM | 0 comments | Read More

बीमारियों से बचाती है खाने योग्य वनस्पति

    मुंबई।। वनस्पतियों के सेवन से आनुवांशिक तथा उन जैविक कारकों को नियंत्रित किया जा सकता है, जिनकी वजह से गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। खाद्य योग्य वनस्पतियों के सेवन से वैंससर और अन्य गंभीर बीमारियों से बचा जा सकता है। इन वनस्पतियों में काली मिर्च, दालचीनी, लहसुन, मसूर, जैतून, कद्दू, जलकुंभी और अजवायन आदि मुख्य हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार पिछले कुछ वर्षों कके दौरान हुई मौत के 63 फीसद मामलों में कारण गैर संचारी गंभीर बीमारियां जैसे कार्डियोवैस्कुलर डिजीज, वैंससर के कुछ प्रकार, टाइप 2 मधुमेह और मोटापा आदि था। 
   इसके लिए जिम्मेदार वह आहार था, जिसमें शरीर के लिए आवश्यक तत्वों की मात्रा बहुत ही कम थी। विशेषज्ञों ने दावा किया है कि वनस्पति आधारित आहार में पाए जाने वाले एंटी ऑक्सीडेंट उन कारकों से सीधा मुकाबला करते हैं, जिनकी वजह से तेज जलन होती है और कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है।
10:54 AM | 0 comments | Read More

प्रियंका गांधी नहीं बनेंगी कांग्रेस की महासचिव

     नई दिल्ली।। प्रियंका गांधी के कांग्रेस पार्टी की महासचिव बनने की खबरें मीडिया में आते ही उनके दफ्तर ने इसका खंडन कर दिया है। प्रियंका के दफ्तर की ओर से कहा गया है कि इस बारे में कोई चर्चा नहीं है। इससे पहले खबर आई थी कि प्रियंका को महासचिव बनाए जाने को लेकर कांग्रेस के अंदर और बाहर चर्चा का बाजार गर्म है। रिपोर्टों के मुताबिक, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ही बहन प्रियंका को पिछले लगभग तीन महीनों से पार्टी में लाना चाह रहे हैं। राहुल का कांग्रेस अध्यक्ष बनना तय माना जा रहा है, ऐसे में वह प्रियंका को पार्टी में अहम जिम्मेदारी देना चाहते हैं। 
   सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी के इस प्रयास पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने भी गंभीरता दिखाई है। दूसरी ओर पार्टी राहुल गांधी की अचानक 'गुमशुदगी' से उठ रहे सवालों के भी जवाब देगी, क्योंकि इस मुद्दे पर मीडिया में कई हार्ड हिटिंग हेडलाइन्स बन चुकी हैं। इनमें कभी तो यह बताया जा रहा है राहुल उत्तराखंड के किसी जगह पर हैं तो कभी उनके भारत से बाहर होने के दावे किए जा रहे हैं। लेकिन, सूत्रों की मानें तो राहुल जल्द ही दिल्ली लौटने वाले हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि वह छुट्टी की मियाद पूरी होने से पहले ही वापस आ रहे हैं।
10:34 AM | 0 comments | Read More

Jaipur News

Crime News

Industry News

The Strategist

Commodities

Careers