News Today Time


Pages

Recent Posts

Category 2

Slideshow

Category 5

Category 3

Category 4

World Update

Latest News



Follow us on facebook

Contact Form

Name

Email *

Message *

News Today Time

Powered by Blogger.

Google+ Followers

Blog Archive

Home Style



Translate

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Sunday, September 25, 2016

दर्द और खौफ की कहानी, एक पिता की जुबानी

      सीवान शहर में मेरी दो दुकानें थीं. एक किराने की और दूसरी परचून की. समृद्ध और संपन्न न भी कहें तो कम से कम खाने-पीने की कमाई तो होती ही थी. मैं छह संतानों का पिता था. चार बेटे, दो बेटियां. मैं उस दिन किसी काम से पटना गया हुआ था. अपने भाई के पास रुका हुआ था. मेरे भाई पटना में रिजर्व बैंक में अधिकारी थे. सीवान शहर में मेरी दोनों दुकानें खुली हुई थीं. एक पर सतीश बैठता था, दूसरे पर गिरीश. मेरे पटना जाने के पहले मुझसे दो लाख रुपये की रंगदारी मांगी जा चुकी थी. उस रोज किराने की दुकान पर डालडे से लदी हुई गाड़ी आई हुई थी.
      दुकान पर 2.5 लाख रुपये जुटाकर रखे थे. रंगदारी मांगने वाले फिर पहुंचे. दुकान पर सतीश था. सतीश ने कहा कि खर्चा-पानी के लिए 30-40 हजार देना हो तो दे देंगे, दो लाख रुपये कहां से देंगे. रंगदारी वसूलने आए लोग ज्यादा थे. उनके हाथों में हथियार थे. उन लोगों ने सतीश के साथ मारपीट शुरू की, गद्दी में रखे हुए 2.5 लाख रुपये ले लिए. राजीव यह सब देख रहा था. वह घर में गया. आम लोगों के पास घर में कौन सा हथियार होता है , बाथरूम साफ करने वाला तेजाब रखा हुआ था. मग में उड़ेलकर लाया, भाई को गुंडों से बचाने के लिए गुस्से में उसने तेजाब फेंक दिया जो रंगदारी वसूलने आए कुछ लोगों पर पड़ गया. तेजाब के छीटें मेरे बेटे राजीव पर भी आए. भगदड़ मच गई, अफरातफरी का माहौल बन गया.
      इसके बाद उन लोगों ने सतीश को पकड़ लिया. राजीव भागकर छुप गया. फिर मेरी दुकान को लूटा गया. जो बाकी बचा उसमें पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी गई. गिरीश दूसरी दुकान पर था. उसे इन बातों की कोई जानकारी नहीं थी. कुछ देर बाद उसके पास भी कुछ लोग पहुंचे और उसे भी उठाकर ले गए।
      थोड़ी देर में राजीव को भी ले गए, तीनों बेटे उनके कब्ज़े में थे। राजीव को बाँध दिया गया। राजीव की आंखों के सामने उसके छोटे भाइयों सतीश और गिरीश को तेजाब से जलाकर मार डाला गया. तेजाब से नहलाते वक्त वे लोग कहते रहे कि राजीव को अभी नहीं मारेंगे, इसे दूसरे तरीके से मारेंगे. सतीश और गिरीश को जलाने के बाद उन्हें कसाइयों की तरह काटा गया, फिर उनके शव पर नमक डालकर बोरे में भरकर फेंक दिया गया.
      मैं पटना में था मुझे फोन आया कि आपके दोनों बेटों को मार दिए हैं तीसरा मेरे कब्जे में है इसलिए सीवान में अभी नहीं आना। धमकी के बाद मैं पटना में रुक गया। तीसरा बेटा अकेला उनके कब्जे में था।
      दो दिनों बाद राजीव वहां से भागने में सफल रहा. गन्ने से लदे एक ट्रैक्टर से राजीव चैनपुर के पास उतर गया, फिर वहां से उत्तर प्रदेश के पड़रौना पहुंचा. राजीव वहीँ छुप गया। इस बीच मुझे झूठी खबर दी गयी पटना में ही कि राजीव छत से गिरकर pmch अस्पताल में भर्ती है, जल्दी से आ जाओ। असल में मुझे उस अस्पताल में ही बुलाकर मारने का प्लान बना लिया गया था।
     पर मैं समझ गया था इसलिए हिम्मत जुटाकर सीवान गया. वहां जाकर एसपी से मिलना चाहा. एसपी से नहीं मिलने दिया गया. थाने पर दारोगा से मिला. दारोगा ने कहा कि अंदर जाइए पहले. फिर कहा गया कि आप इधर का गाड़ी पकड़ लीजिए, चाहे उधर का पकड़ लीजिए, किधर भी जाइए लेकिन सीवान में मत रहिए. सीवान में रहिएगा तो आपसे ज्यादा खतरा हम लोगों पर है. पूरा प्रशासन खुद डर से काँप रहा था।
       मैं बिल्कुल अकेला पड़ गया था. अब तक मेरे बेटे राजीव के बारे में कुछ भी नहीं पता चला था कि वह जिंदा भी है या नहीं. है भी तो कहां है. मेरी पत्नी-बेटी और मेरा एक विकलांग बेटा कहां रह रहा है, वह भी नहीं पता था. मैं डर से पटना ही रहने लगा. साधु की तरह दाढ़ी-बाल बढ़ गए.
     किसी तरह भीड़ में घुस कर नेताजी (शायद लालू) से मिला तो वो भड़क गए, बोले सीवान का कंप्लेन करने तू सोनपुर कैसे आ गया। फिर ऐन दिल्ली चला गया कि सोनिया गांधी से मिलूंगा। राहुल जी मिले, उन्होंने कहा कि आप जाइए, बिहार में राष्ट्रपति शासन लगने वाला है, आपकी मुश्किलों का हल निकलेगा. फिर हिम्मत जुटाकर सीवान आया. दिल्ली भी फेल हो गयी थी।
      मैंने एएसपी साहब से चिट्ठी देने जाना था, कुछ लोगों को साथ चलने को कहा, सभी ने कहा नहीं हमें तुम्हारे साथ जाते देख लिया तो मरना तय है। फिर मैं अँधेरे मुंह सुबह में पांच बजे छुपते हुए एसएसपी के आवास पहुंचा। सुरक्षाबलों से बहुत कहने के बाद लुंगी-गंजी (बनियान) में एसपी साहब आए. मैंने कहा कि सुरक्षा चाहिए, यह चिट्ठी है. एसपी साहब ने कहा कि आप कहीं और चले जाइए, सीवान अब आपके लिए नहीं है. चाहे तो यूपी चले जाइए या कहीं और. ये भी शहाबुद्दीन के राज में उसके आदमी निकले।
      अब मैंने तय कर लिया कि सीवान में ही रहूँगा। कहाँ भागता फिरूँ ? डीआईजी साहब ने मदद की. उन्होंने एसपी साहब से कहा कि इन्हें सुरक्षा दीजिए, अगर आपके पास जिले में बीएमपी के जवान नहीं हैं तो मैं दूंगा लेकिन इन्हें सुरक्षा दीजिए. फिर मैं वहीँ रहने लगा, एक जीवित बचा बेटा राजीव लौट आया तो जीने की उम्मीद जागी। बेटे राजीव की शादी की.
      शादी के सिर्फ 18वें ही दिन और मामले में गवाही के ठीक तीन दिन पहले उसे मार दिया गया. मेरा बेटा राजीव चश्मदीद गवाह था. मेरा बेटा राजीव इसके पहले भी कोर्ट में अपना बयान देने गया था. जिस दिन बयान देने गया था उस दिन भी उसे कहा गया था, ‘हमनी के बियाह भी कराईल सन आउरी श्राद्ध भी.’
      जब गवाह ही नहीं बचते तो रिहाई होनी ही थी। मेरी आमदनी सिर्फ 6 हज़ार रुपये है। बीमार पत्नी और बाकी विकलांग लोगों का खर्च इसी में चलता है।
    शहाबुद्दीन ने हँसते खेलते परिवार को उजाड़ दिया। मैं अकेला नहीं हूँ, ऐसी कहानी के भुक्तभोगी अनगिनत हैं। ये बिहार है ।
 
 चन्दा बाबू, सिवान
स्रोत:- चुनचुन सिंह, (chunchunairtel@gmail.com)

दुनिया की सबसे बड़ी दूरबीन खोजेगी एलियन

Image may contain: mountain, outdoor and nature     दक्षिण-पश्चिमी चीन में स्थित दुनिया की सबसे बड़ी दूरबीन ने रविवार से स्थित काम करना शुरू कर दिया है. बीजिंग में चल रहे इस प्रोजेक्ट के मुताबिक, मानवता की मदद के लिए एलियंस लाइफ को खोजा जाएगा.
      500 मीटर व्यास की इस एकल एपर्चर रेडियो को दूरबीन विज्ञान के क्षेत्र में चीनी महत्त्वाकांक्षा का नतीजा माना जा रहा है. यह इस क्षेत्र में अमेरिकी खोजों की बराबरी का एक प्रयास समझा जा रहा है. साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट में छपी खबर के मुताबिक आधिकारिक रूप से इस दूरबीन का नाम फाइव हंड्रेड मीटर एपर्चर स्फेरिकल टेलीस्कोप (एफएएसटी) रखा गया है.

अखिलेश की रैली में महिलाओं को मिलेगा पेटीकोट- ब्लाउज, साथ में सिलाई के पैसे

Image may contain: 4 people , shoes    यूपी विधानसभा चुनाव को देखते हुए गाजीपुर के सैदपुर से सपा विधायक सुभाष पासी ने सीएम अखिलेश यादव की सोमवार को होने वाली सभा को सफल बनाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी हैं.
     यहां तक कि इस विधायक ने अखिलेश की रैली में महिलाओं की भीड़ जुटाने के लिए महिलाओं को पेटीकोट और ब्लाउज देने का ऐलान किया है.
      इसके लिए विधायक ने गांव-गांव जाकर साड़ियां बांटी हैं. साथ ही यह भी कहा है कि जो महिलाएं सभा में यही साड़ी पहनकर आएंगी, उन सबको पेटीकोट और ब्लाउज के कपड़े ही नहीं, बल्कि उसकी सिलाई के भी पैसे दिए जाएंगे.

मशहूर विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग नहीं चाहते हम एलियन्स से संपर्क करें! जानें क्यों...

Image may contain: 1 person , glasses    लंदन।। मशहूर ब्रिटिश भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग ने किसी भी एलियन सभ्यता, खासकर वैसी सभ्यता जो तकनीकी रूप से इंसानों से अधिक उन्नत हो, को हमारी मौजूदगी की घोषणा करने को लेकर आगाह किया है.
     हॉकिंग ने एक नई ऑनलाइन फिल्म में कहा कि किसी भी अधिक उन्नत सभ्यता से हमारे संपर्क की स्थिति में कुछ वैसा ही हो सकता है जब मूल अमेरिकियों ने पहली बार क्रिस्टोफर कोलंबस को देखा था...और चीजें तब बहुत अच्छी नहीं रही.
    ‘स्टीफन हॉकिंग्स फेवरिट प्लेसेज’ में लोग ब्रह्मांड के पांच अहम स्थानों को देख सकते हैं. फिल्म में हॉकिंग काल्पनिक तौर पर ग्लिज 832सी के पास से गुजरते हैं. यह करीब 16 प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित गैर-सौरीय ग्रह हैं, जहां संभावित तौर पर जीवन हो सकता है.

वैज्ञानिकों ने गंगाजल की पवित्रता पर लगाई मुहर, हैजा और टीबी का इलाज संभव

Image may contain: outdoor and one or more people    हिन्दू धर्म में विशेष महत्व रखने वाली गंगा नदी की पवित्रता पर अब वैज्ञानिकों ने भी मुहर लगा दी है.
      टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार चंडीगढ़ स्थित माइक्रोबियल टेक्नोलॉजी संस्थान (इमटेक) के वैज्ञानिकों ने अपने शोध में गंगा जल में एक खास तरह का बैक्टिरियोफेजेज वायरस की पहचान की है जो बैक्टिरिया खाता है.
     दुनिया के वैज्ञानिक हमेशा से गंगा जल के एंटीसेप्टिक गुण से हैरान थे. वर्ष 1896 में ब्रिटिश चिकित्सक ई हैनबरी हैनकीन ने कहा था कि हैजा रोगाणु इसके पानी में तीन घंटे के अंदर मर जाते हैं, लेकिन किसी डिस्टिल वाटर में जिंदा रहते हैं.
     इमटेक सीएसआईआर की प्रयोगशालाओं में से एक है. शोध में पाया गया है कि गंगा जल में करीब 20-25 वायरस ऐसे हैं, जिनका इस्तेमाल ट्यूबरोक्लोसिस (टीबी), टॉयफॉयड, न्यूमोनिया, हैजा-डायरिया, पेचिश, मेनिन्जाइटिस जैसे अन्य कई रोगों के इलाज के लिए किया जा सकता है.

99 हजार विद्यार्थियों में से 59 हजार फेल, स्टूडेंट्स ने यूनिवर्सिटी के खिलाफ खोला मोर्चा

Image may contain: 4 people , selfie    राजस्थान में सीकर के कटराथल में जब से शेखावाटी यूनिवर्सिटी खुली है, तब से विवादों में हैं. कभी अपने नाम को लेकर तो कभी अपने काम को लेकर.
      यह यूनिवर्सिटी पहले खुली तो कई साल तक चालू नहीं हुई. चालू हुई तो सबसे पहले कॉलेज संचालकों ने मोर्चा खोल दिया. अब पहली परीक्षा करवाने के बाद परिणाम आया तो विद्यार्थियों ने मोर्चा खोल दिया है.
     हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि परेशान विद्यार्थियों ने यूनिवर्सिटी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का मन बना लिया है. अब वे कहने लगे हैं कि उन्हें ऐसी यूनिवर्सिटी नहीं चाहिए. आपको बता दें कि परीक्षा परिणाम में बड़ी संख्या में लापरवाही का आरोप लगा है. अब तक यूनिवर्सिटी ने करीब 13 परीक्षाओं के परिणाम घोषित किए हैं, जिनमें फेल का प्रतिशत 59.15 है.
    यही नहीं कुल 99 हजार 890 विद्यार्थियों में से 59 हजार फेल हैं. सबसे बुरा परिणाम है बीकॉम प्रथम वर्ष का, जिसके पास आउट विद्यार्थी महज 28.52 प्रतिशत हैं. बात झुंझुनूं की करें तो झुंझुनूं के विद्यार्थियों का दावा है कि उनका बीएससी में 90 फीसदी अंक का टोटल था. जो अब एमएससी में मात्र 40 से 45 प्रतिशत हो गया है, जिससे उनका भविष्य चौपट हो गया है. विद्यार्थियों ने यूनिवर्सिटी के परिणाम की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई करने की मांग के साथ-साथ शेखावाटी यूनिवर्सिटी को बंद करने की मांग कर डाली है.
     शेखावाटी यूनिवर्सिटी के हालातों को लेकर गत दिनों झुंझुनूं आए खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने भी बड़ी टिप्पणी की थी, जिसमें उन्होंने कहा कि दबाव के कारण सरकार ने यूनिवर्सिटी बिना संसाधनों और स्टाफ के शुरू कर दी.

पाकिस्‍तान हम तुम्‍हें दुनिया मेंं अकेले रहने को मजबूर कर देंगे: पीएम मोदी

Image may contain: 1 person , outdoor      प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्‍तान को पूरे एशिया में रक्‍तरंजित करने वाला देश बताया है. उन्‍होंने बेहद तल्‍ख अंदाज में कहा कि पाकिस्‍तान कान खोलकर सुन ले हम तुम्‍हें पुरी दुनिया में अलग-थलग करके रहेंगे.
      केरल के कोझीकोड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उरी में शहीद 18 भारतीय जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी. आतंकवादी कान खोलकर सुन लें, यह देश इस घटना को कभी नहीं भूलेगा. मोदी ने पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर तंज कसते हुए कहा कि उस देश के हुक्‍मरान आतंकवादियों का लिखा भाषण पढ़ते हैं. साथ उन्‍होंने सीधे-सीधे कहा कि हिन्‍दुस्‍तान लड़ाई के लिए पूरी तरह से तैयार है.
प्रधानमंत्री मोदी के भाषण के मुख्‍य प्‍वाइंट पढ़ें
- हम एक स्‍वर में बोलते हैं, मैं भारत के उज्‍जवल भविष्‍य को देख रहा हूं, जिसे पूरा करने मेंं हम सब सफल होंगे.
- हमारा देश एकता के साथ है.
- पाकिस्‍तान जान ले हम तुम्‍हे दुनिया से अलग-थलग करके रहेंगे. वो दिन दूर नहीं जब पाकिस्‍तान की आवामा वहां के हुक्‍मरानों से लड़ेगी.
- पाकिस्‍तान सुन ले, हमारे 18 जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी.
- आओ हम नवजात और प्रसूता को मरने से बचाने की लड़ाई लड़ते हैं.
- मैं पाकिस्‍तान से लड़ने के लिए तैयार हूं, यह लड़ाई गरीबी, अशिक्षा और बेरोजगारी की होगी. देखते हैं कि दोनों देशों में कौन पहले इन समस्‍याओं को खत्‍म करता है.
- मैं पाकिस्‍तान की आवाम से कहना चाहता हूं कि आपके हुक्‍मरान आपको गुमराह करने के लिए हिन्‍दुस्‍तान से 1000 साल लड़ाई करनेे की बात करते हैं.
- पाकिस्‍तान की आवाम अपने हुक्‍मरान से पूछे कि दोनों देश एक साथ ही आजाद हुए थे, भारत सॉफ्टवेयर एक्‍सपोर्ट करता है तो आपका देश आतंकवाद.
- मैं पाकिस्‍तान के लोगों को याद दिलाना चाहता हूं कि 1947 से पहले आपके पूर्वज इस देश की मिट्टी को पूजते थे. पाकिस्‍तान की जनता अपने हुक्‍मरान से पूछेे, आप पूर्वी बांग्‍लादेश को नहीं संभाल पाए. पीओके, ब्‍लूचिस्‍तान और गिलगिट नहीं संभाल पाए. ये सारी जगहें तो आपके पास है. ऐसे में वे जम्‍मू-कश्‍मीर की बात कैसे करते हैं.
- मैं सीधे-सीधे पाकिस्‍तान की आवाम से बात करना चाहता हूं, न कि वहां के हुक्‍मरानों से जो आतंकियों के आकांओं के भेजे भाषण पढ़ते हैं.
- जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस हो या बीएसएफ या सीआरपीएफ या कोई भी सुरक्षा बल हों वे आज तक अपने युद्ध जीतते आए हैं. दुनिया भर में भारतीय फौज की ताकत और जोश सबसे ज्‍यादा है.
- पिछले एक महीने में 17 बार घुसपैठ की कोशिश हुई. हमारे जवानों ने भी 110 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया.
- हमारे पड़ोसी देश की करतूत के चलते उरी में हमारे 18 जवान शहीद हो गए. आतंकवादी कान खोलकर सुन लें, यह देश इस घटना को कभी नहीं भूलेगा.
- वह देश मानवता का दुश्‍मन है, पूरी दुनिया को एकजुट होकर मानवता विरोधी देश को रोकेगा.
- अफगानिस्‍तान हो या बांग्‍लादेश, कहीं भी आतंकी घटनाएं होती है तो या तो ऐसा करने वाला उस देश का होता है, या फिर ओसामा बिन लादेन की तरह उसी देश में जाकर छुप जाता है. यही वह देश है जो पूरी दुनिया में आतंकवाद एक्‍सपोर्ट करता है.
- 21 सदी एशिया की बने, इसके लिए हर देश योगदान कर रहा है, लेकिन एक देश ऐसा है जो नहीं चाहता है ऐसा हो. वह चाहता है कि पूरा एशिया रक्‍तरंजित हो. वह आतंक फैला रहा है.

पटना में दिनदहाड़े पुलिस एएसआई की हत्या, सर्विस पिस्टल भी लूटी

Image may contain: shoes and one or more people     बिहार में अपराधियों ने कानून-व्यवस्था को ठेंगा दिखाते हुए दिनदहाड़े एक पुलिस एएसआई की हत्या कर दी और सर्विस पिस्टल भी लूट ली.
       वारदात राजधानी पटना के फतुहा थानाक्षेत्र के फतुहा ओवरब्रिज के पास की है. अज्ञात अपराधियों ने एएसआई को निशाना बनाते हुए गोली मारकर हत्या कर दी. स्थानीय लोगों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर एएसआई को इलाज के लिए फतुहा पीएचसी भेजा जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.
      हत्यारों ने एएसआई का पिस्टल भी लूट लिया है. हालाकि घटनास्थल पर खून मौजूद नहीं होने से इस बात की भी आशंका जताई जा रही है कि एएसआई की कहीं और हत्या कर शव को ओवरब्रिज के पास फेंक दिया गया होगा. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है.
हाल के दिनों हत्‍या की बड़ी वारदातें
     मालूम हो कि नई सरकार गठन के बाद से ही राज्‍य में अपराध का ग्राफ बढ़ गया है. राज्‍य के थानों में दर्ज मुकदमों कि मानें तो नई सरकार गठन के दो महीने के भीतर बिहार में 578 हत्‍याएं हुई हैं.
- नौ सितबंर को पटना में ही डॉक्‍टर अफजल अली की गोली मारकर हत्‍या.
- दरंभगा जिले में दो इंजीनियरों की रंगदारी नहीं देने पर दिनदहाड़े हत्या, हत्यारे फरार.
- वैशाली में दो समुदायों में लड़ाई हुई, इस दौरान एक पुलिस इंस्पेक्टर अजीत कुमार की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई.
- दरभंगा में एएसपी विजय कुमार पासवान की चाकू मारकर हत्या की गई.
- इसी साल फरवरी में 24 घंटे के अंदर भाजपा के दो नेताओं की हत्या कर दी गई थी. छपरा में भाजपा नेता केदार सिंह की हत्या के बाद भोजपुर में इसी पार्टी के नेता विशेश्वर ओझा की गोलीमार कर हत्या कर दी गई थी. विशेश्वर ओझा पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ कुचे थे और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष थे.
- अगस्‍त में दानापुर में भाजपा नेता अशोक जायसवाल की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई.
- 13 मई की रात सीवान के टाउन थाना क्षेत्र में पत्रकार राजदेव रंजन की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

गर्लफ्रेंड ने की शरीर से दुर्गंध आने की शिकायत तो ब्वॉयफ्रेंड ने ले ली जान

    घटना राजधानी पटना के गर्दनीबाग के विशुनपुर की है. पुलिस के मुताबिक, मृतका निभा को भोला से प्यार हो गया था और दोनों पति-पत्नी की तरह साथ रहते थे.
     25 साल की निभा प्रेमी भोला के शरीर से आने वाली बदबू से परेशानी थी और वो बार-बार भोला से इसकी शिकायत करती थी. निभा की शिकायत को लेकर उससे भोला की हमेशा से अनबन होती थी.
    हत्या वाले दिन वो निभा के ताने से इतना परेशान हुआ कि उसने गला दबाकर उसकी हत्या कर दी और बेड पर शव छोड़कर निकल गया.
     इस हत्याकांड का खुलासा 3 दिन बाद हुआ जब पड़ोसियों को आसपास से दुर्गंध आने लगा. कमरे से बदबू आने लगी तो पड़ोसियों ने दरवाजे का ताला तोड़ा.

'पाकिस्तान में भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर लगाई जाए पाबंदी' संबंधी याचिका दायर

No automatic alt text available.    लाहौर।। कश्मीर मुद्दे का समाधान न होने तक भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर पाकिस्तान में रोक लगाने का आदेश जारी किए जाने संबंधी एक याचिका शनिवार को लाहौर हाईकोर्ट में दाखिल की गई।
      अजहर सिद्दिकी नामक एक वकील द्वारा दायर इस याचिका में लगाया है कि कश्मीर में भारतीय सेनाओं द्वारा अत्याचार किया जा रहा है और पाकिस्तान सरकार ने स्थानीय सिनेमाघरों में भारतीय फिल्मों को दिखाने की छूट दे रखी है, यह कृत्य न केवल कश्मीरियों बल्कि पाकिस्तान के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले हैं। याचिका में कहा गया भारतीय फिल्में पाकिस्तान की कश्मीर नीति के खिलाफ हैं और कश्मीरियों के आजादी के आंदोलन में बड़ी बाधा हैं।
     उन्होंने गुहार लगाई, "कश्मीरियों के साथ सहानुभूति व्यक्त करने के लिए पाकिस्तान सरकार को तुरंत ही देशभर में भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर पाबंदी लगाने का आदेश जारी किया जाए।"

15 उंगलियों और 16 अंगूठों वाला बच्चा हुआ पैदा, जिसने भी सुना हो गया शॉक्ड

     चीन के जोंगफिंग गांव में जन्‍में एक बच्चे होंघोंग के बारे में जो भी सुनता है तो वह कुछ देर के लिए शॉक्ड हो जाता है।
     होंघोंग की मां के भी उंगलियां और अंगूठे काफी अलग है। उनके 6 उंगलियां और 6 अंगूठे हैं।
     15 जनवरी 2016 को जन्‍में इस बच्चे का डॉक्‍टरों के अनुसार अभी सर्जरी करना काफी मुश्‍िकल है। साथ ही ये सर्जरी काफी महंगी भी है। डॉक्टरो के मुताबिक ये समस्या 1000 में से एक बच्चे में आती है।

इस शख्स के हाथ में होगी PM नरेंद्र मोदी की सुरक्षा की जिम्मेदारी

Image may contain: 2 people , car
    नई दिल्ली।। भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी राधाकृष्ण किनी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा व्यवस्था की निगरानी करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है. मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने 1981 बैच के बिहार कैडर के भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी किनी की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है. वह मंत्रिमंडलीय सचिवालय में सचिव (सुरक्षा) होंगे.
     कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा यह आदेश जारी किया गया था जिसे आज मंजूरी मिल गई. वर्तमान में राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो में महानिदेशक के पद पर कार्यरत किनी का कार्यकाल अगले साल नवंबर तक होगा. वे अपने ही बैच के मलय कुमार सिन्हा से यह प्रभार लेंगे. सिन्हा अगले शुक्रवार का सेवानिवृत्त हो रहे हैं.

पाक पीएम अब उडी हमले पर खुलेआम कर रहे हैं आतंकियों की वकालत



    नई दिल्ली।। पाकिस्तान अपनी जमीन पर चल रहे आतंकवादी संगठनों का किस किस हद तक समर्थन करता यह फिर पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बयान में दिखा है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उडी में हुए आतंकी हमले को कश्मीर के गुस्से के बाद की प्रतिक्रिया बताया है। पाक पीएम ने कहा 'उरी हमला कश्मीर में ज्यादतियों की प्रतिक्रिया हो सकता है, क्योंकि पिछले दो महीनों में मारे गए लोगों और अपनी आंखें गंवाने वाले लोगों के प्रियजन व करीबी रिश्तेदार आहत और गुस्से में हैं।'
     नवाज शरीफ के बयान के बाद एक बात साफ़ हो गई है उडी में हुए आतंकी हमले का शरीफ समर्थन कर रहे हैं। गौरतलब है कि संयक्त राष्ट्र में अपने भाषण के दौरान शरीफ ने हिजबुल के कमांडर बुरहान वानी को निर्दोष बताकर समर्थन किया था। वहीँ जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर में पकडे गए पाकिस्तानी आतंकवादी कयूम ने इस बात को माना कि लश्कर को पाकिस्तानी फ़ौज द्वारा ट्रेनिंग दी जाती है। उसने अपने कबूलनामे में कहा कि उसे पाकिस्तानी फ़ौज ने ट्रेनिंग दी थी।

एक वीरांगना का नितीश को जवाब मेरा पति कोई शराब पिके नहीं मरा, अपने पांच लाख अपने पास रखो

     भोजपुर में शहीद अशोक कुमार की पत्नी ने बिहार सरकार का 5 लाख रूपए का मुआवज़ा लेने से मना कर दिया. उन्होंने कहा - मेरा पति शराब पी कर नहीं मरा है, जो शहादत की ये कीमत लगा रहे हो.
    शहादत पर हम मुआवज़ा क्यों देते हैं ? शहादत पर तो ईनाम मिलना चाहिए. फिर मुआवज़ा क्यों ?
     सड़क पे कोई आपको टक्कर मार जाए तो मुआवज़ा मिलता है. किसी बनते पुल का हिस्सा टूट के आप पर गिर जाए तो मुआवज़ा मिलता है. चलती ट्रेन में आपके साथ कोई हादसा हो जाए तो मुआवज़ा मिलता है. इसके अलावा तमाम तरह के प्रावधान हैं जिनमें मुआवज़ा मिलता है. लेकिन शहादत के लिए मुआवज़ा? 
    जिन शहीदों के घरवालों को उनकी अनुपस्थिति में हम बेहतर जीवन देना चाहते हैं, उन्हें वो जीवन सम्मान के साथ भी तो दे सकते हैं, तरस खा के मुआवज़े की तरह क्यों देते हैं ?
     खिलाड़ी पदक जीत के आते हैं, होड़ लग जाती है पैसों में तोलने की. एक राज्य कहता है जन्म हमारे यहां हुआ, दूसरा कहता है ट्रेनिंग हमारे यहां ली, तीसरा कहता है स्पॉन्सरशिप तो हमारे यहां की कंपनी ने की थी.
    शहीदों को अपनाने के लिए ऐसे होड़ क्यों नहीं मचती ? शहादत पे सौदेबाज़ी की संभावनाओं को खत्म करने के लिए सरकार को कोई बड़ा फैसला लेना चाहिए.

जाने भारतीय सैना में “मुस्लिम रेजिमेंट” क्यों नहीं है, ऐसा क्या किया था मुसलमानो ने?

Image result for muslim regiment in indian army 1965कहानी तो बहुत लंबी है लेकिन संक्षिप्त में बया की जा रही है
    जब 1965 के युद्ध मे अमेरीका के दिये हुये अजेय समझे जाने वाले पैटन टेंको के छक्के अब्दुल हमीद ने नही छुडाये थे, वे कहते थे डा० भाभा ने उस समय अणु से कुछ ऐसे बम बनाये थे उन्ही से अन्य सैनिको ने अमेरिकी पैटन टेंको को तोडा था, पाकिस्तान को हुयी उस अपार क्षति से अमेरीका भी विचलित हो गया था तथा भारत के मुस्लिमो मे गुस्सा भडक गया था, उस गुस्से को शांत करने के लिये अब्दुल हमीद का नाम आगे कर दिया गया था।
      सच तो यही है कि पंजाब रेजिमेंट, मद्रास रेजिमेंट, मराठा रेजिमेंट, राजपूत रेजिमेंट, जट रेजिमेंट, सिख रेजिमेंट, असाम रेजिमेंट, नागा रेजिमेंट इत्यादि तो मौजूद हैं मगर मुस्लिम रेजिमेंट नहीं है? क्या भारतीय मुस्लिम देश के प्रति अपनी जान देने का जज्बा नहीं रखते? या वह भरोसे के लायक ही नहीं हैं?
    वजह चाहे जो भी हो मगर इस बात से कई प्रकार के सवाल उत्पन्न होते हैं जो बहुत कुछ सोचने पर विवश कर देते हैं!!!
मुस्लिम रेजिमेंट या मुस्लिम राईफल्स नाम क्यूँ नहीं है????
     ऐसी बात नहीं है की इंडियन आर्मी में मुस्लिम नहीं है। भारतीय मुस्लिम इंडियन आर्मी जरूर है लेकिन ‘मुस्लिम रेजिमेंट’ आज भी नहीं है। ये अलग बात है की सन 1965 तक ‘मुस्लिम रेजिमेंट’ होता था, मगर जब सन 1965 में भारत-पाकिस्तान की पहली जंग हुई थी तो इस रेजिमेंट ने पाकिस्तान के खिलाफ जंग लड़ने से साफ इंकार कर दिया था जबकि इंडियन आर्मी ने मुस्लिम राईफल्स और मुस्लिम रेजिमेंट के ऊपर बहुत ज्यादा यकीन कर के इनको सबसे आगे भेजा गया था। लगभग बीस हजार मुस्लिम सेना ने पाकिस्तान के सामने अपने हथियार डाल दिए थे जिस वजह से उस वक्त भारत को काफी मुश्किलों सामना करना पड़ा था! इस वजह से इनकी पूरी की पूरी रेजिमेंट पर ही बैन लगा दिया गया।
     और पूरे रेजिमेंट को ही खत्म कर दिया गया, क्योंकि भारत की असली जंग तो हमेशा ही पाकिस्तान के साथ होती है, और फिर यदि जंग के अहम मौके पर आकर कोई रेजिमेंट जंग लड़ने से मना कर देगी फिर पाकिस्तान से जंग कैसे जीती जाएगी ?
      हो सकता है आपको हमारी इस बात पर विश्वास ना हुआ हो! यदि आपके घर में कोई बड़े-बुजुर्ग हों जो 1965 के आस-पास सेना में रहें हों या सन 1965 की जंग में भाग लिया हो, तो आप उनसे जाकर पूछ सकते हैं.. यकीन मानिए ये जानकर जनता को बहुत बड़ा धक्का लगा था, कि ऐसे भी हमारी कोई रेजिमेंट कर सकती है क्या? पर वो किसी ने कहा है ना कि दुनिया में नामुकिन जैसी कोई चीज़ नहीं है, वो भी तब यदि मामला ”पाकिस्तान” से जुड़ा हो! क्योंकि भारत की असली जंग तो हमेशा ही पाकिस्तान के साथ होती है, और फिर यदि जंग के अहम मौके पर आकर कोई रेजिमेंट जंग लड़ने से मना कर देगी फिर उसे रखने से क्या फायदा?
       1971 में पाकिस्तान के साथ फिर युद्ध हुआ उस वक्त सेना में एक भी ‘मुस्लिम’ (बताने की जरुरत नहीं है क्यों?) नहीं था उस वक्त भारत ने पाकिस्तान की नब्बे हज़ार सेना से हथियार डलवा कर उनको बंदी बना लिया था और लिखित तौर पर आत्मसमर्पण करवाया था!
     अब आप ही बताइए क्या देश भक्ति ऐसी होती है?? फिर क्यों जब भी किसी मुस्लिम को आतंकवादी कहा जाता है तो सारे मुस्लिम समुदाय को बेचेनी होती है??

भारत समझौता तोड़ रहा है तो पाकिस्तान में मच गया है हाहाकार...!!

Image result for sindhu river treaty can be cancel by india    उड़ी attack के बाद India ने इशारों में Pakistan से 56 साल पुरानी सिंधु जल संधि जारी रखने पर सवाल उठाए तो इस पर पाकिस्तानी Media में चिंता जताई गई है।
  संयुक्त राष्ट्र के एक बड़े अधिकारी ने कहा है कि पानी शांति का स्रोत होना चाहिए, टकराव का नहीं। भारत ने कहा है कि ऐसी किसी संधि के काम करने के लिए आपस में 'विश्वास और सहयोग' महत्वपूर्ण है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने गुरुवार को कहा था कि यह एकतरफा नहीं हो सकता। इससे पहले भी कई बार भारत-पाक में तनाव होने पर संधि को खत्म करने की मांग उठी। रिपोर्ट्स हैं कि 1948 में एक बार भारत ने पाकिस्तान का पानी बंद भी कर दिया था, लेकिन उसे तुरंत खोलना पड़ा था।
संधि का इतिहास....
    भारत और पाकिस्तान के बीच 1960 में सिंधु जल संधि हुई थी। विश्व बैंक की मध्यस्थता के बाद पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने इस पर दस्तखत किए थे। संधि के तहत छह नदियों के पानी का बंटवारा तय हुआ, जो भारत से पाकिस्तान जाती हैं। तीन पूर्वी नदियों (रावी, व्यास और सतलज) के पानी पर भारत का पूरा हक दिया गया। बाकी तीन पश्चिमी नदियों (झेलम, चिनाब, सिंधु) के पानी के बहाव को बिना बाधा पाकिस्तान को देना था। भारत में पश्चिमी नदियों के पानी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन संधि में तय मानकों के मुताबिक। इनका करीब 20 फीसदी हिस्सा भारत के लिए है। संधि पर अमल के लिए सिंधु आयोग बना, जिसमें दोनों देशों के कमिश्नर हैं। वे हर छह महीने में मिलते हैं और विवाद निपटाते हैं।
संधि खत्म करने की दलीलें...
    पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के खिलाफ दबाव बनाने के लिए इस संधि का इस्तेमाल करता रहा है। वह बगलीहार और किशनगंगा के मामले में इंटरनैशनल फोरम में जा चुका है। वह जम्मू-कश्मीर में विकास के प्रॉजेक्टों को रोकने के लिए इस संधि का इस्तेमाल करता है। वह चाहता है कि विकास न होने से वहां असंतोष भड़के। जम्मू-कश्मीर में भी संधि को खत्म करने की मांग होती है।
पानी बंद करने के खतरे...
    माना जाता है कि कश्मीर के लिए पाकिस्तान की कोशिशें इसी बात से जुड़ी हैं कि वह वहां की नदियों के पानी पर कंट्रोल कर सके। अगर पाक को यह संधि खत्म होती दिखेगी तो वह कश्मीर में विध्वंसक गतिविधियां तेज कर सकता है। पानी की कमी से पाकिस्तान आर्थिक तौर पर तबाह हो जाएगा। पाकिस्तान की खेती का बड़ा हिस्सा इन्हीं नदियों के पानी पर निर्भर है। वहां की अशांति का एक पड़ोसी देश होने के नाते भारत पर भी असर होगा। भारत-पाक के बीच जंग होने और लगातार तनाव के बावजूद संधि कायम रही। इसे सहयोग के ग्लोबल मॉडल के तौर पर पेश किया जाता रहा है। दुनिया भर में भारत की छवि को नुकसान हो सकता है।
    पानी को रोकने से पहले इन नदियों के किनारे बसे शहरों को डूबने से बचने का भी इंतजाम करना होगा। जम्मू, श्रीनगर समेत पंजाब के कई बड़े शहर इसके दायरे में आ जाएंगे। भारत के पास स्टोरेज क्षमता नहीं है। अगर भारत ने पाकिस्तान का पानी बंद किया तो चीन भी भारत के साथ वही कर सकता है। सतलज और सिंध का उद्गम चीन में है। चीन ब्रह्मपुत्र के साथ भी वही कर सकता है।
क्या है उपाय...?
    एक उपाय यह भी बताया जा रहा है कि भारत पश्चिमी नदियों का पानी को अपने हक के मुताबिक पूरी तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दे। संधि के तहत भारत पाकिस्तान को सूचना देकर काफी पानी स्टोर कर सकता है और बिजली बना सकता है। इससे पाकिस्तान में कड़ा संदेश जाएगा।

Saturday, September 24, 2016

कश्मीर समस्या के पीछे कही चीन तो नहीं ? जानिये पूरा सच !

Image result for china behind pakistan terrorism     सामान्यतः यह समझा जाता है कि कश्मीर समस्या के पीछे पाकिस्तान है जो आतंकवादियों और अलगाववादी नेताओं को शह देता है. उन्हें हथियार, विस्फोटक, ट्रेनिंग और वित्तीय मदद प्रदान करता है. आतंकवादियों को शरण देता है.
    लेकिन एक अलग कोण से सोचने पर लगता है कि कश्मीर समस्या के पीछे कहीं गुप्त रूप चीन तो नहीं ? कन्धा पाकिस्तान का और पीछे से बन्दूक चलाने वाला चीन हो सकता है.
      आखिर ऐसा क्या है कश्मीर में जिसके पीछे पाकिस्तान इतने सालों से बौराया हुआ है? शायद नदियों का स्त्रोत? ना तो कश्मीर कोई अमीर प्रदेश है , न ही उद्योग, न ही खनिज, न ही वाणिज्य. न उच्च खेती, न मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर, न सर्विस सेक्टर.
    जो भी गरीब कश्मीरियों की आय है वह टूरिज्म से, केसर से या शाल बेचने से होती है. भारत सरकार के करोड़ों रूपये मासिक अनुदान से राज्य चलता है. अब ऐसे खस्ताहाल प्रदेश को कोई आर्थिक रूप से कंगाल देश क्यों लेना चाहेगा जो उस पर बहुत बड़ा आर्थिक बोझ बने. निश्चित ही पाकिस्तान का कश्मीर को लेने में कोई वित्तीय हित नहीं हो सकता.
    चीन प्रतिदिन 30 लाख बैरल कच्चा तेल खाड़ी देशों से खरीदता है, और समुद्र के मार्ग द्वारा परिवहन कर चीन ले जाता है. खाड़ी देशों के बंदरगाह से चीन के बंदरगाह 13000 किलोमीटर दूर है. यह रास्ता चीन के बंदरगाह से दक्षिण चीन सागर होते हुए – फिलिपीन्स और वियतनाम के बीच से – सिंगापुर होकर – मलेशिया और इंडोनेशिया के बीच से – हिंद महासागर से अरब की खाड़ी होकर फारस की खाड़ी पहुचता है, जहाँ ईरान, कुवैत, मस्कट, इराक से कच्चा तेल मिलता है.
     और एक जहाज को इतनी दूरी तय करने में अधिकतम 45 दिन का समय लग जाता है. अब यदि चीन एक रास्ता (रेल या सड़क मार्ग) बना ले, जो चीन से पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह तक जाए तो इस मार्ग की लम्बाई होगी मात्र 3000 किलोमीटर. और इस मार्ग से कच्चा तेल परिवहन का समय मात्र 3 दिन होगा!!!
     खाड़ी और अफ़्रीकी देशों को चीन का व्यापारिक माल भी इसी लम्बे सामुद्रिक मार्ग से जाता है, जिसमे अत्यधिक परिवहन समय और परिवहन खर्च लगता है. यह समुद्री मार्ग चीन के दुश्मन देशों ताइवान, वियतनाम और फिलीपीन्स से गुजरता है, इनमे कई स्थानों पर समुद्री सीमा विवाद चल रहा है.
     तो चीन के लिए पाकिस्तान होकर खाड़ी तक थल व रेल मार्ग बनाना उसके व्यापारिक हित में रहेगा. यह मार्ग पाक अधिकृत कश्मीर से गुजरेगा. चीन ने पहले काराकोरम हाइवे बनाया, 1300 किलोमीटर का यह हाइवे चीन के काशगर से पाक अधिकृत कश्मीर के गिलगित में खुन्जेराब दर्रे को जोड़ता है. खुन्जेराब दर्रे से आगे यह गिलगित तक है.
    बाद में पाकिस्तान की प्रार्थना पर चीन ने इसे गिलगित से बढाकर एबोटाबाद तक कर दिया. इस हाई वे के निर्माण में पूरा पैसा चीन का लगा, पाकिस्तान जैसा कंगाल देश इतने बड़े प्रोजेक्ट की धन राशि लगा भी नहीं सकता.
     जून 2011 में ओसामा बिन लादेन एबोटाबाद में मारा गया, और यह राजमार्ग एबोटाबाद तक नवम्बर 2011 में पहुचा!!! यानी कुछ महीने और अमेरिका की कार्यवाही न होती तो इसी रास्ते से ओसामा बिन लादेन चीन पंहुचा दिया जाता!!!
     चीन ने 1989 से पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह में दिलचस्पी दिखाना शुरू किया, और यह संयोग नहीं है कि इसी समय से कश्मीर में उग्रवाद तेज हुआ. चीन ने पाकिस्तान के खस्ताहाल ग्वादर बंदरगाह का विकास कर उसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बंदरगाह बना दिया.
     अब चीन एक नए प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है जिसे ‘चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा’ या CPEC (China–Pakistan Economic Corridor) कहा जाता है. यह 8600 करोड़ डालर की परियोजना है. इसमें चीन के काश्गर शहर को पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से 6 लेन के हाइवे और रेल मार्ग से जोड़ दिया जाएगा.
ग्वादर से मस्कट मात्र 500 किलोमीटर दूर है, इस प्रकार चीन को ईरान, कुवैत, मस्कट, इराक से तेल लेने और खाड़ी देशों में अपना सामान बेचने में अत्यधिक सुविधा हो जायेगी.
     मूर्ख पाकिस्तानियों को यह समझ नहीं आता कि इस CPEC प्रोजेक्ट के बन जाने पर हर रोज चीनी माल के हजारों ट्रक और चीनी मालगाड़ियाँ पाकिस्तान के शहरों से गुजरेंगी. पाकिस्तान के उद्योग धंधे ठप्प होंगे और पाकिस्तानी बाज़ारों में सिर्फ चीनी माल नज़र आएगा. इस प्रकार पाकिस्तान, चीन का प्रदेश बन के रह जाएगा.
      कश्मीर की समस्या के पीछे चीन का यह उदेश्य रहा कि भारत को कश्मीर घाटी में उलझा कर रखो. अगर कश्मीर घाटी में शान्ति हुई तो भारत ‘पाक अधिकृत कश्मीर’ को हासिल करने में अपनी शक्ति लगाएगा जिससे कि काराकोरम हाइवे भारत के पास जा सकता है और ‘चीन पकिस्तान आर्थिक गलियारा’ का काम नहीं हो सकेगा.
   अतः यह संभव है कि कश्मीरी आतंकवादी संगठनों और हुर्रियत की फंडिंग गुप्त रूप से चीन कर रहा हो. अगर भारत पाकिस्तान का सीधे युद्ध हुआ तो पाकिस्तान का ध्वस्त होना निश्चित है, मगर चूंकि इससे चीन का महत्वपूर्ण व्यापारिक हित प्रभावित होगा अतः चीन भी इस युद्ध में पाकिस्तान के समर्थन में कूद सकता है.
      तब भारत को चीन को सामरिक टक्कर देना मुश्किल हो जायेगा. अगर भारत चीन का युद्ध हुआ तब भारत को कौन सपोर्ट करेगा? अमेरिका? कभी नहीं. अमेरिका की सैकड़ों कम्पनियां चीन में कार्यरत है और हजारों करोड़ डॉलर का व्यापार कर रहीं हैं. ऐसे में कम्युनिस्ट चीन, अमेरिका की कम्पनियों का ‘राष्ट्रीयकरण‘ करने की धमकी देकर उसको तुरंत बैठा देगा.
     रूस? कभी नहीं. देश की अनेक समस्याओं से घिरे पुतिन खस्ता अर्थव्यवस्था के चलते चीन से युद्ध नहीं कर सकते. ख़राब आर्थिक हालत के चलते पुतिन को सीरिया से अपनी सेना वापिस बुलानी पड़ी. तो फिर विकल्प क्या है?
     मोदी –  डोभाल कूटनीति ही सर्वश्रेष्ठ विकल्प है. बलोचिस्तान, सिंध और पाक अधिकृत कश्मीर की आज़ादी को समर्थन देना. बलोचिस्तान के स्वतंत्र होते ही ग्वादर बंदरगाह बलोचिस्तान का हिस्सा हो जाएगा और काराकोरम हाइवे भी पकिस्तान से अलग हो जाएगा. अब चीन की कारीडोर योजना टांय टांय फिस्स. बचे खुचे पकिस्तान में चीन को अपना कोई हित नज़र नहीं आएगा. तब पाकिस्तान से ‘ठीक’ से निपटा जाएगा.

हिन्द - पाक युद्ध के आसार : सीमाओं के दोनों ओर सैनिकों की हलचल तेज

Image may contain: 7 people , people smiling    जम्मू।। उड़ी में हुए आतंकी हमले को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव लगातार बढ़ रही है। अपने 18 सैनिकों की शहादत के बाद मोदी सरकार पाकिस्तान को हर मामले में इस हमले का जवाब देने के लिए तैयार है, जो तैयारियां जम्मू सीमा चौकियों से लेकर कश्मीर में स्थित क्रॉसिंग तक देखी जा रही हैं।
       जम्मू डिवीजन के मैदानों में तोपों की तैनाती के साथ सैकड़ों टैंक ब्रिगेड तैनात की जा चुकी हैं। सीमा कठुआ और सांबा जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा क्षेत्र में पड़ने वाले सभी बरसाती नालों और नदियों टैंक तेजी से पाकिस्तानी सीमा तक आसानी से परिवहन करने के लिए अभ्यास में व्यस्त हैं। दूसरी ओर, सभी नियंत्रण रेखा पर पर बड़ी तोपों, जिनमें बोफोर्स तोपें भी शामिल हैं, को तैयार कर दिया गया।
     सीमा सुरक्षा बल के जवानों की संख्या दोगुनी कर दी गई है, वहीं सेना के नियंत्रण वाली हिन्द- पाक सीमा रेखा (एलओसी) पर सेना के जवानों की अतिरिक्त तैनाती देखी जा रही है। सीमा पार से साफ तौर पर यह भी देखा जा सकता है कि पाकिस्तानी सेना ने भी अपनी एकमात्र बढ़ाना शुरू कर दिया है। पिछले दिनों पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल रअहील शरीफ द्वारा दिए गए बयान के बाद से ही यह हलचल देखी जा रही है। जनरल रअहील शरीफ ने साफ कर दिया था कि उनकी सेना हर तरह के हमले का जवाब देने के लिए तैयार है।
     जिस तरह की स्थिति उस समय बनी हुई है, इससे सीमा निवासियों में चिंता बढ़ती जा रही है। इसी तरह बीएसएफ के जवानों को आशंका है कि ऐसे माहौल में घुसपैठ की कोशिशें तेज हो सकती हैं। इस संबंध में भारतीय खुफिया एजेंसियों ने पहले ही अलर्ट जारी कर दिया है कि आतंकवादी बसनतर नदी और देविका सहित सीमा पार मिलने वाली नदियों, नालो और आज नदी के रास्ते घुसपैठ की फिराक में हैं। सीमावर्ती क्षेत्रों में आग आई बड़ी बड़ी घासों और सरकंडों का लाभ भी घुसपैठी उठा सकते हैं, ऐसी चिंता सुरक्षा बलों को है, जिसकी वजह से पूरे क्षेत्र में ड्रोन और हेलीकाप्टरों से निगरानी रखी जा रही है। रक्षा सूत्रों के अनुसार, पठानकोट एयर बेस में वायुसेना पूरी तरह तैयार है। सामरिक दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण ाखनोर सेक्टर में चीनाब नदी पर बने पुल की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। सेना की टाइगर डिवीजन पूरी स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए है।
     इस बीच, सूत्रों ने यहां बताया कि पाकिस्तान निराशा और बेबसी के कारण आगामी दिनों में सीमा पर हिन्दमखाल्फ़ गतिविधियां अंजाम दे सकता है। न केवल पाकिस्तानी सेना, बल्कि देश विरोधी तत्वों (आतंकवादी) और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई नियंत्रण रेखा (एलओसी) और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर विध्वंसक कार्रवाई कर सकती हैं।
      सूत्रों ने बताया कि आगामी दिनों में सीमा पार से संघर्ष विराम के उल्लंघन में वृद्धि, घुसपैठ के प्रयासों और मुकाबला आपरेशनों को संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। सूत्रों ने बताया कि सरकार ने सीमा पर अधिक आतंकवादी हमलों के संबंध में खुफिया रिपोर्टों के मद्देनजर रक्षा बलों को सतर्क रहने के लिए कहा है।
सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद के अपने प्रशिक्षण केन्द्रों को कहीं ले जाने की कोशिश करेंगे, लेकिन उन्हें नष्ट किया जाना चाहिए। सूत्रों ने बताया कि पिछले दो दिनों से नियंत्रण रेखा पर आतंकवादियों की आवाजाही में वृद्धि देखने में आया है और पाकिस्तान से प्रशिक्षित आतंकवादियों को भारतीय क्षेत्र में भेजने की कोशिशें की गई हैं।
     सूत्रों ने आगे किया कि पाकिस्तान भारत को उत्तेजित करने की हर संभव कोशिश करेंगे, लेकिन भारतीय सेना पहले से ही सावधान और सतर्क है। रक्षा सूत्रों ने यह भी कहा कि जहां तक ​​सुरक्षा का सवाल है, हम किसी की समझ नहीं रहे हैं और नियंत्रण रेखा की सुरक्षा सतर्कता बरत रहे हैं। 

शुरू हुई पहली इस्लामिक बैंकिंग सेवा, बैंक से कर्ज लेने वालों को नहीं देना होगा इंटरेस्ट

No automatic alt text available.    महाराष्ट्र/सोलापुर।। महाराष्ट्र के सोलापुर की लोकमंगल बैंक की बाश्री शाखा में देश की पहली इस्लामिक बैंकिंग सेवा शुक्रवार को शुरू हुई। इस बैंक में पैसा जमा करने पर न तो कोई ब्याज मिलेगा और न ही बैंक से कर्ज लेने वालों को इंटरेस्ट देना पड़ेगा। इस बैंक ने पहले दिन ही 12 लोगों को एक लाख और 50 हजार का ब्याज मुक्त लोन दिया गया। इन लोगों को कर्ज देने की शिफारिस जमाकर्ताओं ने की थी, जिससे कर्ज वितरित करना आसान हो गया।
      आपको बता दें की कुछ दिन पहले रिजर्व बैंक ने केंद्र सरकार के समक्ष इस तरह के बैंक का प्रस्‍ताव रखा था। केंद्र सरकार ने इसे 11 सितंबर को मंजूरी प्रदान की। इस कॉन्सेप्ट को मूर्त रूप देने का निर्णय महाराष्ट्र के सहकारिता, विपणन व उद्योग मंत्री सुभाष देशमुख की और से किया गया। वे लोकमंगल बैंक के चेयरमैन भी हैं। शुक्रवार को मंत्री सुभाष देशमुख ने बाश्री में लोकमंगल बैंक की शाखा का उद्घाटन किया और यहीं इस्लामिक बैंक की सेवा शुरू की।
आखिर क्या है इस्लामिक बैंक
     इस्लामी कानून यानी शरिया के सिद्धांतों पर काम करने वाली बैंकिंग व्यवस्था को इस्लामिक बैंकिंग कहा जाता है। इन बैंकों की खासियत यह है कि इनमें किसी तरह का ब्याज न तो लिया जाता है और न ही दिया जाता है। इसमें बैंक को होने वाले लाभ को इसके खाताधारकों में बांट दिया जाता है। नियम के मुताबिक, इन बैंकों के पैसे गैर इस्लामी कार्यों में नहीं लगाए जा सकते।
      इस तरह के बैंक जुए, शराब, बम-बंदूक, सुअर के मांस वगैरह के कारोबार में लगे लोगों का न तो खाता खोलते हैं और न ही उन्हें कर्ज देते हैं। कुछ देशों में इन बैंकों को चलाने के लिए इस्लामी विद्वानों की एक कमिटी होती है जो इनका मार्गदर्शन करती है। सबसे पहले मलेशिया में खुला था पहला इस्लामिक बैंक दुनिया भर में पहला इस्लामिक बैंक मलेशिया में 1983 में स्थापित हुआ था।
     इस्लामिक बैंकिंग स्कीम के तहत 1993 में कॉमर्शियल, मर्चेंट बैंकों और वित्तीय कंपनियों ने इस्लामिक बैंकिंग प्रॉडक्ट और सर्विसेज प्रस्तुत करने शुरू किए। आज वैश्विक स्तर पर इस्लामिक फाइनेंस इंडस्ट्री का आकार बढ़ कर 1.6 लाख करोड़ डॉलर के पार पहुंच चुका है।
कैसे काम करता है इस्लामिक बैंक
1. इस्लामी बैंकिंग का कॉन्सेप्ट इस्लाम के बुनियादी उसूल इंसाफ और सामाजिक न्याय पर आधारित है।
2. इस्लाम ब्याज के खिलाफ इसलिए है क्योंकि ब्याज की बुनियाद पर बने निजाम में बहुत सारे लोगों के पैसे कुछ चंद लोगों के हाथ में आ जाते हैं।
3. इसके मुकाबले जकात (बचत के एक हिस्से का दान) की व्यवस्था है, जिसमें कुछ लोगों का पैसा बहुत सारे लोगों के पास जाता है।
4. लेकिन इससे भारतीय कारोबारियों को किस तरह की मदद मिलेगी?
5. एक कारोबारी मेहनत करता है, उसकी मेहनत की भी कीमत लगनी चाहिए।
6. ब्याज की व्यवस्था के मुकाबले इस्लाम ये कहता है कि नफे और नुकसान में क़र्ज़ देने और लेने वाले दोनों ही बराबर के हिस्सेदार हैं।
7. यानी इस्लामिक बैंकिंग साझेदारी वाली व्यवस्था है। ऐसी व्यवस्था किसको कबूल नहीं होगी।”

पाकिस्तान दुनिया का पांचवा सबसे खतरनाक आतंकी देश : सर्वे

Image result for CTI on pakistan terrorism    न्यूयार्क।। पाकिस्तान चाहे कितनी भी सफाई दे लेकिन अंतरराष्ट्रीय मंच पर उसे अब भी आतंकवादी मुल्क के रूप में जाना जाता है , ये हम नहीं अमेरिका की एक रिपोर्ट बता रही है। अमेरिकी इंटेलीजेंस थिंकटैंक इंटेलसेंटर के कंट्री थ्रेट इंडेक्स यानी सीटीआई ने बताया कि पाकिस्तान दुनिया के आतंकी देशों में से 5वें स्थान पर है। यह रिपोर्ट 18 सितंबर तक विभिन्न देशों में आतंकवादी और विद्रोही गतिविधियों के आधार पर बनाई गई है।
    नाइजीरिया, यमन और मिस्र देश पहले टॉप-10 देशों में शामिल थे जो अब बाहर हो गए हैं, जबकि पाकिस्तान 10 महीनों के अंदर ही सबसे खतरनाक शीर्ष पांच देशों में शामिल हो गया है। बाकी सभी देशों के स्कोर में 3 से 6 गुना तक की गिरावट रही।

Friday, September 23, 2016

जल्द स्मार्ट सिटी घोषित होंगे जम्मू और श्रीनगर शहर




    राज्य की दोनों राजधानियां जम्मू और श्रीनगर शहर स्मार्ट बनेंगे। आवास एवं शहरी विकास विभाग के प्रवक्ता ने साफ किया है कि जम्मू और श्रीनगर शहरों को केंद्र की स्मार्ट शहरों की सूची में शामिल कर लिया गया है। इसकी औपचारिक घोषणा जल्द होगी।
    विभाग के प्रवक्ता ने बताया भारत सरकार ने 100 शहरों को स्मार्ट बनाने के लिए योजना शुरू की थी जिसमें रियासत से केवल एक शहर लेने की बात कही गई। राज्य सरकार ने इसके लिए विशेष प्रयास किए जिसके बाद रियासत के एक की बजाय दो शहरों को सूची में शामिल करने पर केंद्र सरकार राजी हो गई।
    वर्तमान में जम्मू और श्रीनगर शहरों की डीपीआर पर काम चल रहा है। डीपीआर की प्रक्रिया चूंकि एक औपचारिकता है जिसे पूरा करने के बाद केंद्र को सौंप दिया जाएगा।
    प्रवक्ता ने कहा हाल ही में जारी की गई स्मार्ट शहरों की सूची शुरूआती चरण की प्रक्रिया का हिस्सा है। उल्लेखनीय है कि स्मार्ट शहरों की ताजा सूची में जम्मू और श्रीनगर के नाम का कहीं कोई जिक्र नहीं है। इसके पीछे औपचारिकताएं पूरी नहीं करने की वजह से बताई गई है।


वॉट्सऐप पर 'लगाम' कसने की तैयारी, दिल्ली हाई कोर्ट ने की पहल

   नई दिल्ली।। अपनी नई प्रिवेसी पॉलिसी को लेकर दुनियाभर में विवादों का सामना कर रहे वॉट्सऐप की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। दिल्ली हाई कोर्ट ने सरकार और ट्राई को वॉट्सऐप और इस जैसे अन्य प्लैटफॉर्म्स को रेग्युलेटरी फ्रेमवर्क के तहत लाने की संभावनाएं तलाशने के लिए कहा है। कोर्ट ने वॉट्सऐप को भी आदेश दिया है कि यूजर के अकाउंट डिलीट करते ही उसकी सारी इन्फर्मेशन हटा दी जाए और इसे फेसबुक के साथ शेयर न किया जाए।
    एक जनहित याचिका पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने नई प्रिवेसी पॉलिसी को तो बरकरार रखा, मगर यह कहा कि 25 सितंबर से पहले यूजर्स ने जो भी डेटा शेयर किया है, वॉट्सऐप उसे इस्तेमाल नहीं कर सकता। नई प्रिवेसी पॉलिसी यूजर्स द्वारा 25 सितंबर के बाद शेयर किए जाने वाले डेटा पर ही लागू होगी।
    फेसबुक के इन्स्टंट मेसेजिंग और वॉइस कॉलिंग ऐप वॉट्सऐप ने 25 अगस्त को नई प्रिवेसी पॉलिसी जारी की थी, जिसके खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में दो छात्रों की तरफ से जनहित याचिका दाखिल की गई थी। कर्मण्य सिंह सरीन और श्रेया सेठी नाम के इन स्टूडेंट्स का कहना था कि नई पॉलिसी के तहत यूजर्स के अधिकारों का उल्लंघन करते हुए उनकी गोपनीय जानकारी को वॉट्सऐप से संबंधित कंपनियों को शेयर किया जा सकता है।
याचिका में कहा गया था, '7 जुलाई, 2012 से अब तक जो वॉट्सऐप की प्रिवेसी पॉलिसी चली आ रही थी, उसे 25 अगस्त को बदल दिया गया। नई पॉलिसी यूजर्स के अधिकारों के साथ समझौता करती है और उनके प्रिवेसी राइट्स को खतरे में डालती है।' हाई कोर्ट ने इस याचिका को स्वीकार करते हुए सुनवाई शुरू करते हुए वॉट्सऐप ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया था और जवाब मांगा था।
     दरअसल 25 सितंबर से लागू होने वाली इस पॉलिसी से यूजर्स की डीटेल्स और डेटा के प्रॉटेक्शन वाला फीचर हटा दिया जाएगा। इसके बाद वॉट्सऐप इन जानकारियों को फेसबुक या अपने ग्रुप की संभी कंपनियों के साथ शेयर कर सकता है। यह जानकारी कमर्शल ऐडवर्टाइजिंग और मार्केटिंग में भी इस्तेमाल की जा सकती है।
     वॉट्सऐप ने कोर्ट में हलफनामा देते हुए अपनी पॉलिसी का बचाव किया था। कंपनी ने कहा था कि यूजर्स द्वारा वॉट्सऐप में डाला गया कोई भी कॉन्टेंट फेसबुक या अन्य सिस्टर कंपनी के साथ शेयर नहीं किया जाएगा। वॉट्सऐप ने कहा था कि यूजर्स विज्ञापनों और प्रॉडक्ट एक्सपीरियंस के लिए अपनी इन्फर्मेशन फेसबुक के साथ शेयर न करने का ऑप्शन भी चुन सकते हैं। वॉट्सऐप ने कहा था कि इस इन्फर्मेशन को स्पैमिंग को खत्म करने और अपनी सर्विसेज को बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

कुवारी मायावती शादीशुदा होतीं तो न जाने कितने रुपए लेतीं - साक्षी महाराज

गाय और बकरी के मांस में कोई अंतर नहीं तो तो मुसलमान सुअर का मांस खाकर दिखाएं
    फतेहपुर. हमेशा की तरह अपने विवादित बयान के कारण सुर्खियों में रहने वाले बीजेपी उन्नाव सांसद साक्षी महाराज ने इस बार सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधा है. बुधवार को उन्होंने कहा, 'मायावती इस समय टिकट देने के नाम पर 7 करोड़, 5 करोड़, 4 करोड़ रुपए ले रही हैं. इसलिए उनकी पार्टी के बड़े-बड़े नेता पार्टी छोड़कर भाग रहे हैं. बहन कुमारी मायावती कुंवारी हैं तो करोड़ों ले रही हैं, अगर शादीशुदा होतीं तो न जाने कितने रुपए लेतीं.' आपको बता दें साक्षी महाराज फतेहपुर के शिवपुर गांव में बीजेपी कार्यकर्ताओं और ग्रामीणों को संबोधित करने के दौरान ऐसा कहा. इससे पहले भी कई बार साक्षी महाराज अपने विवादित बयानों की वजह से घिर चुके हैं. मायावती पर साक्षी महाराज की यह टिप्पणी उनके लिए विवाद खड़ा कर सकती है. साक्षी महाराज के विवादित बयान : -
बयान नंबर 1. इस साल अप्रैल महीने में उन्‍होंने कहा, 'इस्लाम में महिलाओं की हालत जूती की तरह है. इस मामले में कोर्ट को दखल देना चाहिए.
बयान नंबर 2. उन्होंने बीते साल अक्‍टूबर के महीने में मुसलामानों के ऊपर निशाना साधते हुए कहा था, 'कुछ लोग कहते हैं गाय और बकरी के मांस में कोई अंतर नहीं होता. मांस तो मांस होता है. अगर सभी मांस एक जैसे होते हैं तो मुसलमान भी सुअर का मांस खाकर दिखाएं'.
बयान नंबर 3. दिसंबर 2015 में उन्‍होंने कहा, 'दुनिया की कोई भी ताकत अयोध्या में मस्जिद नहीं बना सकती है. चाहे सारा विश्व बाबरी कहते-कहते बाबरा हो जाए. किसी की हिम्मत हो तो वह कहकर दिखाए कि अयोध्या में मंदिर नहीं बनने देंगे.
'बयान नंबर 4. साक्षी ने अगस्त 2015 में एक ओवैसी भाइयों पर निशाना बनाते हुए कहा था, 'असदुद्दीन ओवैसी मोहम्मद साहब का भी दुश्मन है. मैं ओवैसी से पूछना चाहूंगा कि बाबर उनका बाप था क्या. असदुद्दीन और अकबरुद्दीन ओवैसी आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले हैं. अगर मैं ये कहूं कि वे आतंकवादी हैं तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी.
बयान नंबर 5. पाकिस्तान की नापाक हरकत पर निशाना साधते हुए साक्षी महाराज ने कहा, 'पाकिस्तान उस कुत्ते की पूंछ की तरह है, जिसे चाहे जितने साल तक उसकी पूंछ से डंडा बांधकर रखो पर वो पूंछ सीधी नहीं हो सकती. उस पूंछ को सीधा करने का मंत्र साक्षी महाराज ने कहा उनके पास है, वो मंत्र है चाकू लेकर पूंछ को काट दो, पूंछ सीधी हो जाएगी.

पाकिस्तान पहुंची रूसी सेना, करेगी संयुक्त अभ्यास

   इस्लामाबाद।। रूसी सेना पाकिस्तान के साथ संयुक्त  अभ्यास के लिए पहुंच चुकी है। यह जानकारी सेना के एक प्रवक्ता ने दी। पाकिस्तान और रूस की जॉइंट ड्रिल शनिवार से शुरू होनी है। इस बीच रूस द्वारा ड्रिल कैंसल किए जाने की खबर भी आई थीं जो गलत साबित हुईं।
     पाकिस्तानी सुरक्षाबलों के मीडिया विंग के इंटर सर्विस पब्लिस रिलेशंस के डीजी (ISPR) लेफ्टिनेंट जनरल आसिम सलीम बाजवा ने ट्वीट किया, 'रूसी सेना की एक टुकड़ी पाकिस्तान और रूस की पहली जॉइंट ड्रिल के लिए पहुंच चुकी है।' इस मिलिटरी एक्सरसाइज में लगभग 200 रूसी सैनिक हिस्सा लेंगे। इससे पहले ऐसी रिपोर्ट्स आईं थी कि उड़ी में 18 भारतीय सैनिकों के मारे जाने के बाद रूस ने ड्रिल कैंसल कर दी है। हांलाकि ऐसा नहीं हुआ।
      दोनों देशों की सेनाओं के बीच यह संयुक्त अभ्यास दो हफ्ते तक चलेगा। इसे 'फ्रेंडशिप 2016' नाम दिया गया है। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ड्रिल 7 अक्टूबर तक चलेगी। दोनों देशों की सेनाओं ने इस एक्सरसाइज के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताया है लेकिन कहा जा रहा है कि वे समरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण पर्वतीय इलाकों में भी अभ्यास करेंगे। यह जॉइंट ड्रिल इस बात की ओर भी इशारा करती है कि पाकिस्तान और रूस आपसी सैनिक सहयोग बढ़ा रहे हैं।
    रूस में पाकिस्तानी ऐंबैस्डर काजी खलीलुल्लाह ने पिछले हफ्ते कहा था कि संयुक्त अभ्यास का संदेश साफ है- दोनों देश आपस में मिलिटरी और टेक्निकल सहयोग बढ़ा रहे हैं।

यदि घर में लगा रखा है मनी प्लांट तो ध्यान रखें ये बाते.......

Image result for money plant    वास्तु शास्त्र में हर पौधे के लिए एक दिशा निर्धारित है। अगर सही दिशा में पौधा लगाया जाए तो उससे कई फायदे मिल सकते हैं, लेकिन गलत दिशा में लगाए पौधे फायदे की जगह नुकसान पहुंचा सकते हैं। घर में मनी प्लांट लगाने से धन और सुख-समृद्धि बढ़ती है, लेकिन गलत दिशा में रखे मनी प्लांट की वजह से आपको पैसों का नुकसान भी झेलना पड़ सकता है।
*मनी प्लांट के लिए वास्तु टिप्स*
*इस दिशा में न रखें*-
    मनीप्लांट को कभी ईशान कोण (उत्तर-पूर्व दिशा) में ना रखें। इससे पैसों का नुकसान तो होगा ही, सेहत और रिश्तों पर भी नेगेटिव असर पड़ेगा।
*जमीन पर ना फैलाएं*-
     हमेशा ध्यान रखें मनी प्लांट की बेलें कभी भी जमीन पर नहीं फैलानी चाहिए। ऐसा होना भी घर में कई तरह के नुकसान का कारण बन सकता है।
*घर के अंदर लगाएं*-
    मनी प्लांट को घर के बाहर लगाने की जगह घर के अंदर ही लगाना शुभ होता है। इसे गमले या बोतल में लगाया जा सकता है।
*मुरझाने ना दे पौधा*-
     मनी प्लांट के पत्तों का मुरझाना या सफ़ेद हो जाना भी अशुभ माना जाता है। रोज़ मनी प्लांट को पानी दें और सफ़ेद या मुरझाई पत्तियों को कांट दें।
*यहा ना लगाएं पौधा*-
    मनी प्लांट धन के साथ-साथ रिश्तों में मधुरता लाने का काम भी करता है। इसे भूलकर भी पूर्व-पश्चिम में न लगाए वरना पति-पत्नी के बीच तनाव हो सकता है।
*यहां मिलेगा फायदा*-
    मनी प्लांट के लिए आग्नेय कोण (दक्षिण-पूर्व दिशा) को श्रेष्ठ माना जाता है। इसे गणेशजी की दिशा मानी जाती है। यहां रखा मनीप्लांट सुख-समृद्धि बढ़ाता है।

पाकिस्तान के खिलाफ अब दाऊद ने खोला मुंह, कहा-रोज मारे जा रहे मेरे अपने

    पाकिस्तान के खिलाफ अब दाऊद ने मुंह ने खोला है। उसने कहा है कि पाकिस्तान की सेना मेरे अपनों को मार रही है। दाऊद का यह बयान पाकिस्तान स्थित बलूचिस्तान में आर्मी की कट्टर कार्रवाई के खिलाफ आया है।
पाकिस्तान के खिलाफ नया बयान
     आपको बता दें कि यह दाऊद इंटरनेशनल आतंकी नहीं बल्कि महाराजा हैंं। इनका पूरा नाम मीर सुलेमान दाऊद जन अहमदजई है। दाऊद पिछले एक दशक से पाकिस्‍तान छोड़कर ब्रिटेन में स्‍वनिर्वासित होकर रह रहे हैं।
    पाकिस्‍तान के सबसे बड़े रियासती राज्‍य के शासक परिवार के उत्‍तराधिकारी दाऊद का कहना है उनका एक ही लक्ष्‍य है और वो है बलूचिस्‍तान की आजादी, जो बंदूक की नोक पर छीन ली गई थी।
    बलूचिस्‍तान के अन्‍य नेताओं की तरह दाऊद जो फिलहाल ‘खान और कलत’ कहे जाते हैं उन्‍होंने पाकिस्‍तान द्वारा बलूचिस्‍तान में की जा रही लगातार हत्‍याओं के खिलाफ भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साहसपूर्ण और लंबे समय से प्रतिक्षारत बयान का स्‍वागत किया है।
    दाऊद कहते हैं कि अगर बलूचिस्‍तान की आजादी की मांग दबा दी गई तो चीन और पाकिस्‍तान ईकोनॉमिक कॉरिडोर पूरा होते ही यह दोनों देश भारत को घरे लेंगे। इसी वजह से वह भारत से बलूचिस्तान को आजाद कराने की मदद मांग रहे हैं।

यह है "Honey Bee" Lady

   मधुमक्खियों को देखते ही लोग वहां से दूर भागने लगते है लेकिन ऐसे में अगर आपको हजारों मधुमक्खियों के साथ छोड़ दिया जाए तो?
     आपको बता दें कि इस दुनिया में एक ऐसी महिला है जो कपड़ों की जगह मधुमक्खियां पहनती हैं। जी हां हम आपको बताने जा रहे हैं खुद को ‘मधुमक्खियों की रानी’ कहने वाली इस महिला के बारे में। यह महिला 12 हजार मधुमक्खियों से बना ब्लाउज पहनती है। 
     अमेरीका में रहने वाली साराह मैपली खुद को ‘मधुमक्खियों की रानी‘ कहती हैं। आपको बता दें कि हाल ही में साराह ने कैमरा के सामने टॉपलेस अपीयरेंस देकर सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा था। उनके लुक और खास कर ‘बी ब्लाउज’ ने सबको हैरान कर दिया था। मधुमक्खियां उनकी बॉडी पर चिपकी हुई थीं और सारा उन्हें नार्मल कपड़ों की तरह पहनकर घूम रही थी।

पास्को एक्ट में आरोपित बसपा नेताओं को बचा रहा प्रदेश सरकार - दयाशंकर

   मऊ।। बसपा प्रमुख मायावती पर टिप्पणी और बीजेपी से निष्कासित होकर जेल जाने के बाद पहली बार मऊ जिले में पहुंचे दयाशंकर सिंह ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर सीधे निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पास्को एक्ट में आरोपित बसपा नेताओं को प्रदेश सरकार बचा रही है। इस दौरान शहर के एक प्लाजा में आयोजित प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए दयाशंकर सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार ने मायावती के कहने पर उनकी गिरफ्तारी कराई थी। उन्होंने कोई अभद्र टिप्पणी माया पर नहीं की थी। हालांकि ठेस पहुंचने पर उन्होंने माफी तक मांग ली थी। 
    बसपा के प्रदेश अध्यक्ष रामअचल राजभर, नसीमुद्दीन सिद्दकी समेत अन्य नेताओं ने लखनऊ में खुलेआम प्रदर्शन करके उनके परिवार पर अपशब्दों का प्रयोग किया था। लेकिन दोषी बसपा नेताओं पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इस अवसर पर मुख्य रुप से पूर्व जिलाध्यक्ष विजय नारायन शर्मा, डॉ. एचएन सिंह, अधिवक्ता अजय सिंह, आनंद सिंह, हरेन्द्र सिंह आदि उपस्थित रहे।


कांग्रेस को अब घर से बेघर करने की तैयारी, कांग्रेस इसको लोकतंत्र पर खतरा बता सकती है

    मोदी सरकार कांग्रेस को राष्ट्रीय राजधानी के 24, अकबर रोड और लुटियन जोन के तीन अन्य बंगलों से बाहर करने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। 24, अकबर रोड कांग्रेस का मुख्यालय है। यहां कांग्रेस का मुख्यालय 1976 से है।
     इस प्रस्ताव में कांग्रेस से इन प्रॉपर्टीज के लिए जून 2013 से मार्केट रेट पर रेंट लेने की बात भी कही गई है। करीब दो साल पहले मोदी सरकार ने इन बंगलों को खाली करने का नोटिस कांग्रेस को भेजा था क्योंकि लीज खत्म हो गई थी।
     अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा ने आज कहा कि पार्टी को शहरी विकास मंत्रालय की तरफ से एक नोटिस मिला जिसमें इससे चार बंगले खाली करने को कहा गया। अन्य बंगले जिन्हें खाली करने को कहा गया हैं वे हैं 26, अकबर रोड, 5 रायसीना रोड और सी2-109 चाणक्यपुरी शामिल है।

BJP का बड़ा मंत्री GB रोड़ चला रहा है SEX का धंधा: स्वाति मालीवाल

    नई दिल्ली।। महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल पर ACB द्वारा मामला दर्ज करने के बाद आज स्वाति मालीवाल ने मीडिया के सामने आकर कई चौकाने वाले बयान दिए । स्वाति मालीवाल ने GB रोड़ पर चल रहे सेक्स के कारोबार के पीछे केंद्र सरकार के मंत्री का संरक्षण होने का आरोप लगाया है।
     स्वाति का आरोप है की वो GB रोड पर चल रहे सेक्स के कारोबार के खिलाफ काम कर रही थी इस लिए उसने खिलाफ ये कार्यवाही की गयी है । स्वाति के मुताबिक उनको GB रोड पर कार्यवाही ना करने को लेकर उनको धमकी दी गयी थी और इस कारोबार में केंद्रीय मंत्री का संरक्षण है ।
     स्वाति के मुताबिक दिल्ली में हजारों करोड़ का धंधा जीबी रोड़ में चल रहा है एक केंद्रीय मंत्री और एक राष्ट्रीय पार्टी का नेता है इस रैकेट का संरक्षण दाता है जल्द ही उस नाम का खुलासा करुँगी । स्वाति ने ये भी कहा की मैं डीसीडब्ल्यू में रहूँ या नहीं लेकिन मैं जीबी रोड़ का मामले को नहीं छोडूंगी।
      आपको बता दें की स्वाति मालीवाल पर ACB ने महिला आयोग में हुई कर्मचारियों की भर्ती में धांधली करने के आरोप में FIR दर्ज की है जिसके बाद स्वाति ने बयान दिए हैं।

10 वीं की छात्रा के पीछे पड़ा था सिपाही, पुलिस ने उतारा दिया भूत

    मध्य प्रदेश के ग्वालियर स्थित इंद्रमणि नगर के सन राइज़ में पढ़ने वाली दसवीं क्लास की नाबालिग छात्रा बीते एक महीने से एक मनचले सिपाही से परेशान थी। लड़की ने बताया कि, सिपाही राजकुमार की छोटी भतीजी भी इसी स्कूल में पढ़ती है। राजकुमार भतीजी को स्कूल छोड़ने के बहाने रोज आने लगा और उसे तंग करने लगा। जब छात्रा ने राजकुमार को नजरअंदाज कर दिया तो उसने छात्रा का हाथ पकड़ लिया। छात्रा खुद को छु़ड़ाकर घर भाग गई और अपने परिजनों को सारा मामला बताया।
     इस घटना के बाद छात्रा के परिजन और स्कूल संचालक गुरुवार को उसे लेकर गोला का मंदिर थाना पहुंचे, छात्रा की तरफ से सिपाही राजकुमार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई, थोड़ी देर में गोला का मंदिर पुलिस ने आरोपी सिपाही राजकुमार गर्ग को गिरफ्तार कर लिया। उधर, पुलिस की गिरफ्त में आते ही सिपाही के सिर से प्यार का भूत उतर गया और वो खुद को बेगुनाह बताने लगा। आरोपी का कहना है कि वो अपनी भतीजी को स्कूल छोड़ने गया था, छात्रा उस पर झूठा आरोप लगा रही है।
     विवेचना अधिकारी सुरुचि शिवहरे ने बताया कि, छात्रा की शिकायत पर गोला का मंदिर पुलिस ने आरोपी सिपाही राजकुमार के खिलाफ छेड़छाड़ और पास्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। साथ ही राजकुमार को इस मामले में गिरफ्तार भी कर लिया है। सिपाही राजकुमार डीआरपी लाइन में पदस्थ है। लिहाजा, मामला दर्ज होने के बाद राजकुमार पर विभागीय कार्रवाई भी होगी।

रावण संहिता के प्राचीन तांत्रिक उपाय, जो चमका देगे आपकी किस्मत


Image result for ravan sanhita     रावण एक असुर था, लेकिन वह सभी शास्त्रों का जानकार और प्रकाण्ड विद्वान भी था। रावण ने ज्योतिष और तंत्र शास्त्र संबंधी ज्ञान के लिए रावण संहिता की रचना की थी। रावण संहिता में ज्योतिष और तंत्र शास्त्र के माध्यम से भविष्य को जानने के कई रहस्य बताए गए हैं। इस संहिता में बुरे समय को अच्छे समय में बदलने के लिए भी चमत्कारी तांत्रिक उपाय बताए हैं। जो भी व्यक्ति इन तांत्रिक उपायों को अपनाता है उसकी किस्मत बदलने में अधिक समय नहीं लगता है।
     रावण एक असुर था, लेकिन वह सभी शास्त्रों का जानकार और प्रकाण्ड विद्वान भी था। रावण ने ज्योतिष और तंत्र शास्त्र संबंधी ज्ञान के लिए रावण संहिता की रचना की थी। रावण संहिता में ज्योतिष और तंत्र शास्त्र के माध्यम से भविष्य को जानने के कई रहस्य बताए गए हैं। इस संहिता में बुरे समय को अच्छे समय में बदलने के लिए भी चमत्कारी तांत्रिक उपाय बताए हैं। जो भी व्यक्ति इन तांत्रिक उपायों को अपनाता है उसकी किस्मत बदलने में अधिक समय नहीं लगता है।
1. धन प्राप्ति के लिए उपाय – किसी भी शुभ मुहूर्त में या किसी शुभ दिन सुबह जल्दी उठें। इसके बाद नित्यकर्मों से निवृत्त होकर किसी पवित्र नदी या जलाशय के किनारे जाएं। किसी शांत एवं एकांत स्थान पर वट वृक्ष के नीचे चमड़े का आसन बिछाएं। आसन पर बैठकर धन प्राप्ति मंत्र का जप करें।
धन प्राप्ति का मंत्र: ऊँ ह्रीं श्रीं क्लीं नम: ध्व: ध्व: स्वाहा।
    इस मंत्र का जप आपको 21 दिनों तक करना चाहिए। मंत्र जप के लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग करें। 21 दिनों में अधिक से अधिक संख्या में मंत्र जप करें। जैसे ही यह मंत्र सिद्ध हो जाएगा आपके लिए धन प्राप्ति के योग बनेंगे।
2. यदि किसी व्यक्ति को धन प्राप्त करने में बार-बार रुकावटें आ रही हों तो उसे यह उपाय करना चाहिए। यह उपाय 40 दिनों तक किया जाना चाहिए। इसे अपने घर पर ही किया जा सकता है। उपाय के अनुसार धन प्राप्ति मंत्र का जप करना है। प्रतिदिन 108 बार।
     मंत्र: ऊँ सरस्वती ईश्वरी भगवती माता क्रां क्लीं, श्रीं श्रीं मम धनं देहि फट् स्वाहा। इस मंत्र का जप नियमित रूप से करने पर कुछ ही दिनों महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त हो जाएगी और आपके धन में आ रही रुकावटें दूर होने लगेंगी।
महालक्ष्मी की कृपा तुरंत प्राप्त करने के लिए यह तांत्रिक उपाय करें।
3. दीपावली के लिए उपाय
     किसी शुभ मुहूर्त जैसे दीपावली, अक्षय तृतीया, होली आदि की रात यह उपाय किया जाना चाहिए। दीपावली की रात में यह उपाय श्रेष्ठ फल देता है। इस उपाय के अनुसार दीपावली की रात कुमकुम या अष्टगंध से थाली पर यहां दिया गया मंत्र लिखें।
      मंत्र: ऊँ ह्रीं श्रीं क्लीं महालक्ष्मी, महासरस्वती ममगृहे आगच्छ-आगच्छ ह्रीं नम:।
      इस मंत्र का जप भी करना चाहिए। किसी साफ एवं स्वच्छ आसन पर बैठकर रुद्राक्ष की माला या कमल गट्टे की माला के साथ मंत्र जप करें। मंत्र जप की संख्या कम से कम 108 होनी चाहिए। अधिक से अधिक इस मंत्र की आपकी श्रद्धानुसार बढ़ा सकते हैं।
     इस उपाय से आपके घर में महालक्ष्मी की कृपा बरसने लगेगी।
4. यदि आप दसों दिशाओं से यानी चारों तरफ से पैसा प्राप्त करना चाहते हैं तो यह उपाय करें। यह उपाय दीपावली के दिन किया जाना चाहिए।
     दीपावली की रात में विधि-विधान से महालक्ष्मी का पूजन करें। पूजन के बाद सो जाएं और सुबह जल्दी उठें। नींद से जागने के बाद पलंग से उतरे नहीं बल्कि यहां दिए गए मंत्र का जप 108 बार करें। मंत्र: ऊँ नमो भगवती पद्म पदमावी ऊँ ह्रीं ऊँ ऊँ पूर्वाय दक्षिणाय उत्तराय आष पूरय सर्वजन वश्य कुरु कुरु स्वाहा।
    शय्या पर मंत्र जप करने के बाद दसों दिशाओं में दस-दस बार फूंक मारें। इस उपाय से साधक को चारों तरफ से पैसा प्राप्त होता है।
5. यदि आप देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर की कृपा से अकूत धन संपत्ति चाहते हैं तो यह उपाय करें।
उपाय के अनुसार आपको यहां दिए जा रहे मंत्र का जप तीन माह तक करना है। प्रतिदिन मंत्र का जप केवल 108 बार करें।
मंत्र: ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रवाणाय, धन धन्याधिपतये धन धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा।
मंत्र जप करते समय अपने पास धनलक्ष्मी कौड़ी रखें। जब तीन माह हो जाएं तो यह कौड़ी अपनी तिजोरी में या जहां आप पैसा रखते हैं वहां रखें। इस उपाय से जीवनभर आपको पैसों की कमी नहीं होगी।
6. यदि आपको ऐसा लगता है कि किसी स्थान पर धन गढ़ा हुआ है और आप वह धन प्राप्त करना चाहते हैं तो यह उपाय करें।
    गड़ा धन प्राप्त करने के लिए यहां दिए गए मंत्र का जप दस हजार बार करना होगा।
मंत्र: ऊँ नमो विघ्नविनाशाय निधि दर्शन कुरु कुरु स्वाहा।
     गड़े हुए धन के दर्शन करने के लिए विधि इस प्रकार है। किसी शुभ दिवस में यहां दिए गए मंत्र का जप हजारों की संख्या करें। मंत्र सिद्धि हो जाने के बाद जिस स्थान पर धन गड़ा हुआ है वहां धतुरे के बीज, हलाहल, सफेद घुघुंची, गंधक, मैनसिल, उल्लू की विष्ठा, शिरीष वृक्ष का पंचांग बराबर मात्रा में लें और सरसों के तेल में पका लें। इसके बाद इस सामग्री से गड़े धन की शंका वाले स्थान पर धूप-दीप ध्यान करें। यहां दिए गए मंत्र का जप हजारों की संख्या में करें।
     ऐसा करने पर उस स्थान से सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियों का साया हट जाएगा। भूत-प्रेत का भय समाप्त हो जाएगा। साधक को भूमि में गड़ा हुआ धन दिखाई देने लगेगा। ध्यान रखें तांत्रिक उपाय करते समय सलाह लेना बहुत जरुरी है
7. यदि आप घर या समाज या ऑफिस में लोगों को आकर्षित करना चाहते हैं तो बिल्वपत्र तथा बिजौरा नींबू लेकर उसे बकरी के दूध में मिलाकर पीस लें। इसके बाद इससे तिलक लगाएं। ऐसा करने पर व्यक्ति का आकर्षण बढ़ता है।
8. अपामार्ग के बीज को बकरी के दूध में मिलाकर पीस लें, लेप बना लें। इस लेप को लगाने से व्यक्ति का समाज में आकर्षण काफी बढ़ जाता है। सभी लोग इनके कहे को मानते हैं।
9. सफेद आंकड़े के फूल को छाया में सुखा लें। इसके बाद कपिला गाय यानी सफेद गाय के दूध में मिलाकर इसे पीस लें और इसका तिलक लगाएं। ऐसा करने पर व्यक्ति का समाज में वर्चस्व हो जाता है।
10. शास्त्रों के अनुसार दूर्वा घास चमत्कारी होती है। इसका प्रयोग कई प्रकार के उपायों में भी किया जाता है। कोई व्यक्ति सफेद दूर्वा को कपिला गाय यानी सफेद गाय के दूध के साथ पीस लें और इसका तिलक लगाएं तो वह किसी भी काम में असफल नहीं होता है।

आप नेताओं की जेब भरने के लिए बनाए मोहल्ला क्लीनिक : माकन

Image result for ajay makan on arvind kejriwal104 क्लीनिकों पर हर माह दो करोड़ हो रहा खर्च, नेताओं को सीधा फायदा
    नई दिल्ली।। दिल्लीकांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने दिल्ली सरकार के मोहल्ला क्लीनिकों को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की छवि चमकाने और आप के कार्यकर्ताओं की जेब भरने का जरिया करार दिया है। माकन ने गुरुवार को पार्टी की तरफ से दिल्ली सरकार द्वारा खोले गए 104 मोहल्ला क्लीनिकों के सर्वेक्षण को मीडिया के लिए जारी करते हुए कहा कि इनको स्थापित करने का मकसद जन स्वास्थ्य को बेहतर बनाना नहीं बल्कि केजरीवाल की छवि और पार्टी के कार्यकर्ताओं को लाभ पहुंचाने पर अधिक नजर आया। 
    कई मोहल्ला क्लीनिक पहले से ही चल रहे दिल्ली सरकार और निगमों के स्वास्थ्य केन्द्रों के पास खोले गए और इन्हें खोलने के लिए जगह मोटे किराए पर ली गई। 104 मोहल्ला क्लीनिकों पर करीब दो करोड़ रुपए महीना खर्च किए जा रहे हैं जिसका सीधा-सीधा फायदा आप के नेताओं को पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने मांग की कि मोहल्ला क्लीनिकों का समय बढ़ाकर कम से कम 12 घंटे किया जाए और आपात सेवाएं 24 घंटे मुहैया कराई जाएं। निजी डॉक्टरों की सेवाएं लेने की बजाय डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों के रिक्त पदों को भरा जाए। मोहल्ला क्लीनिक की पायलट परियोजना सितंबर में खत्म हो गई है। इसके क्या परिणाम रहे, इसकी जानकारी सार्वजनिक की जानी चाहिए।

Thursday, September 22, 2016

शहीदों के बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाएंगे गुजरात के बिजनेसमैन महेश

   अहमदाबाद।। पूरा देश उरी आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों के परिवार के साथ खड़ा हुआ है। वहीं, गुजरात के सूरत में रहने वाले एक व्यापारी महेश सवानी ने शहीदों के परिवार की मदद की पेशकश की है।
     उन्होंने की घोषणा की है सभी शहीदों के बच्चों की पढ़ाई सहित पूरा खर्च वह उठाएंगे। अपने परोपकारी कामों के लिए सवानी पहले से ही मशहूर हैं। उन्होंने कहा कि मैंने हमारे भारतीय सैनिक की बेटी को टीवी पर यह कहते हुए सुना था कि खूब मेहनत करना और मन लगाकर पढ़ना।
     पिता की मौत के बाद दुखी हुई वह लड़की रो रही थी। उसी क्षण मैंने तय किया कि मैं उरी हमले में मारे गए बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाऊंगा। उन्होंने कहा कि पीपी सवानी इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने के इच्छुक बच्चों को शिक्षा के साथ ही होस्टल और अन्य सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी।
     गौरतलब है कि रविवार 18 सितंबर को सुबह करीब पांच बजे के आस-पास पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के आतंकियों ने उरी के आर्मी हेडक्वाटर में हमला किया था। आतंकियों ने प्रशासनिक भवन में आग लगा दी थी।
     इसकी वजह से वहां सो रहे करीब 18 सैनिकों की जलने से मृत्यु हो गई और करीब 20 जवान झुलस गए थे। इस मुठभेड़ में 4 आतंकी भी मारे गए थे। आतंकियों के पास से पाकिस्तान में बने हथियार, गोला-बारूद, दवाएं और अन्य सामान बरामद हुए।

कैबिनेट के ऐतिहासिक फैसले से टूटी 92 साल पुरानी परंपरा

Image may contain: 4 people , indoor      प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट ने बुधवार को एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए 92 साल से चली आ रही रेल बजट की परंपरा को खत्म कर दिया है। कैबिनेट ने रेल बजट को आम बजट में मिलाने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है। इसके साथ ही अब संसद की मंजूरी के बाद आगामी साल से एक ही बजट पेश किया जाएगा। यानी अब अलग से रेल बजट पेश करने की जरूरत नहीं होगी।
     इसे भारत की जीवनरेखा भारतीय रेल के लिए राहत भरा फैसला कहा जा रहा है। 7वें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद रेलवे उच्‍च स्‍तरीय वेतन पर 40,000 करोड़ रुपए के अतिरिक्‍त भार से दबा हुआ है। रेलवे को 35,000 करोड़ रुपए का सब्सिडी बोझ भी उठाना पड़ता है।
     रेल बजट के आम बजट में विलय के बाद, रेलवे को वार्षिक लाभांश नहीं चुकाना पड़ेगा, जो कि अभी उसे सरकार द्वारा सकल बजटीय समर्थन के लिए चुकाना पड़ता है।
     कैबिनेट के फैसले के बाद रेलवे एक विभाग बन जाएगा जो व्‍यापारिक उपक्रम चलाता है, हालांकि इसकी अलग पहचान और काफी हद तक वित्‍तीय स्‍वायत्‍ता बनी रहेगी। अन्‍य उपक्रमों से रेलवे को अलग करने वाले प्रावधानों को खत्‍म कर दिया जाएगा। रेलवे को पूंजी खर्च करने के लिए आम बजट से बजटीय सहायता मिलती रहेगी।

इधर नवाज़ शरीफ कश्मीर-कश्मीर रो रहे थे और उधर उनकी बेटी का वायरल हो गया वीडियों


   नवाज शरीफ UN में कश्मीर कश्मीर कर रहे हैं पाकिस्तान में उनकी बेटी मरियम का MMS लीक हो गया है। पाकिस्तान में ही उन्हें शर्मिंदगी झेलनी पड़ सकती है। और इस बार उनकी शर्मिंदगी का कारण उनकी खुद की बेटी होंगी।
वायरल हो रहा है MMS
    नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें उनके सेक्स स्कैंडल होने का दावा किया गया है।
यूट्यूब अकाउंट का दावा
    वीडियो में साफ पता नहीं चल रहा है कि वो मरियम नवाज ही हैं या कोई और। यूट्यूब अकाउंट का दावा है कि वो मरियम नवाज ही हैं।
पाकिस्तान में काफी पॉपुलर
    नवाज शरीफ की बेटी पाकिस्तान में काफी पॉपुलर हैं और युवा भी उनको काफी पसंद करते हैं। मरियम अपनी अच्छी राजनीतिक समझ के कारण काफी अपने पिता के काफी नजदीक हैं।
पार्टी में बड़ा है कद
    नवाज की पार्टी में भी मरियम का कद काफी बड़ा है और उनकी बातें काफी सुनी जाती हैं।वे अक्सर अपने पिता के साथ सार्वजनिक मंच पर दिखाई देती हैं और लोग उनको नवाज का राजनीतिक उत्तराधिकारी भी मानते हैं। 

Wednesday, September 21, 2016

युद्ध की जरूरत ही नहीं, भारत के इन 10 कूटनीतिक कदमों से दुनिया में निपट अकेला हो जाएगा पाक..!

Image result for pakistan is beggar cartoon    जम्‍मू-कश्‍मीर के उड़ी में आर्मी बेस कैंप में हुए आतंकी हमले में हमारे 18 जवानों के शहीद हो जाने के बाद पूरे देश की जनता में पाकिस्‍तान के खिलाफ गुस्‍सा आैर रोष दिखाई दे रहा है। ऐसे में सोशल मीडिया से लेकर सड़कों पर उतरे बहुत से लोग यह सलाह दे रहे हैं कि कश्मीर में बढ़ते पाकिस्तान प्रायोजित हमलों के ख़िलाफ़ मोदी सरकार को बिना वक़्त गंवाए पाकिस्तान पर हमला कर देना चाहिए।
     यकीनन अपने जवानों की लगातार मौतों से गुस्साए लोगों कि यह प्रतिक्रिया स्वाभाविक है, लेकिन दुनिया के ज्यादातर लोगों की तरह मुझे भी लगता है कि आज की दुनिया में युद्ध किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। विनाशकारी परमाणु हथियारों और दूर तक मार करने वाले मिसाइलों के इस युग में युद्ध लड़े तो जा सकते हैं, जीते हरगिज़ नहीं जा सकते।
     दरअसल, इससे दोतरफ़ा विनाश के सिवा कुछ भी हासिल नहीं होने वाला। वैसे भी पाकिस्तान आपके विरुद्ध सीधा नहीं, प्रॉक्सी युद्ध लड़ रहा है। सीधे युद्ध में उतरने के सिवा भारत के पास भी ऐसे बहुत सारे कूटनीतिक विकल्प उपलब्ध हैं, जिनके सहारे वह चाहे तो कुछ ही अरसे में पाकिस्तान को उसकी औक़ात बता दे सकता है। मेरी दृष्टि में भारत को राजनीतिक इच्छाशक्ति का परिचय देते हुए पाकिस्तान के ख़िलाफ़ तत्काल ये क़दम उठाने चाहिए।
1-पाकिस्तान के साथ सभी तरह के राजनीतिक और कूटनीतिक रिश्तों को तत्काल स्थगित कर दिए जाएं। भारत अविलंब पाकिस्तान का अपना दूतावास बंद करे और सभी पाकिस्तानी राजनयिकों को वापस पाकिस्तान भेज दे।
2-पाकिस्तान से 'मोस्ट फेवर्ड नेशन' का दर्ज़ा छीनकर उसे 'शत्रु राष्ट्र' घोषित करे। इससे भारत के आर्थिक हित पाकिस्तान से थोड़े ज्यादा ज़रूर प्रभावित होंगे, लेकिन राष्ट्रीय अस्मिता के लिए इतना घाटा बर्दाश्त करना होगा।
3-पाकिस्तान के ज्यादातर विमान भारतीय वायु सीमा से होकर ही गुज़रते हैं। भारत पाकिस्तानी विमानों के भारत से होकर गुजरने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दे। जब पाक विमानों को लंबे समुद्री मार्ग से होकर जाना पड़ेगा तो उसकी अर्थव्यवस्था घुटनों के बल आ जाएगी। 1971 के युद्ध में बांग्लादेश की घेराबंदी के दौरान यह काम भारत सफलतापूर्वक कर चुका है।
4-पाकिस्तान के साथ किसी भी स्तर की बातचीत को हतोत्साहित किया जाए ।
5-पाकिस्तान में आयोजित सार्क सम्मेलन का भी भारत को बहिष्कार करना चाहिए।
6-भारत को बलूचिस्तान की आज़ादी के समर्थन का अभियान सिर्फ धन्यवाद-ज्ञापन तक सीमित न रह जाए। भारत को उनकी नैतिक, आर्थिक और कूटनीतिक मदद और उसके विद्रोही नेताओं को भारत में शरण देने के अलावा वैश्विक स्तर पर उसका समर्थन तेज कर देना चाहिए।
7-पाक अधिकृत कश्मीर चूंकि भारत का अभिन्न अंग है, इसलिए उसके सांसदों के लिए आबादी के हिसाब से संसद में सीटें सुरक्षित कर दी जाएं। जब तक उस पर भारत का कब्ज़ा बहाल नहीं हो जाता, राष्ट्रपति पाक अधिकृत कश्मीर के लोगों को संसद में नामित करें।
8-भारत पाकिस्तान में रहने वाले हाफ़िज़ सईद, मसूद अज़हर, लखवी, दाऊद सहित अपने सभी वांछित आतंकियों पर भारी ईनाम की घोषणा करे और इसे दुनिया भर में प्रचारित करे।
9-पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित कराने का अभियान पूरे सबूतों के साथ भारत को संयुक्त राष्ट्र सहित दुनिया भर में तेज कर देना चाहिए। इससे भारत को कम से कम यह तो पता लग ही जाएगा कि आतंक के ख़िलाफ़ उसकी लड़ाई में दुनिया के कितने देश उसके साथ खड़े हैं।
10-और अंतिम सुझाव थोड़ा अमानवीय ज़रूर लग सकता है, लेकिन जब सारे उपाय असफल सिद्ध हो जाएं तो सिन्धु नदी समझौते को रद्द कर पाकिस्तान को पानी बंद करना सबसे कारगर उपाय होगा! पाकिस्तान की कृषि का बड़ा हिस्सा सिन्धु नदी के पानी पर ही निर्भर है। भारत के इस क़दम से पाक की कृषि व्यवस्था चौपट हो जाएगी।

डीजीएमओ लेफ्टिनेंट ने कहा- जैश ए मोहम्मद के थे सभी आतंकवादी

    नई दिल्ली।। जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में रविवार तड़के हमला करने वाले आतंकवादी जैश-ए-मोहम्मद के थे। इस हमले के बारे में जानकारी देते हुए डीजीएमओ ने कहा कि कैंप के अंदर 13-14 सैनिकों की जलकर मौत हुई। डीजीएमओ ने कहा कि उरी में सेना पर हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।
      डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने बताया कि प्रारंभिक जांच के बाद पता चला है कि आतंकियों के पास से जो सामान बरामद हुए हैं उन पर पाकिस्तान में बने होने के निशान मिले हैं। उन्होंने कहा, 'हमें मारे गए आतंकवादियों के पास से 4 एके 47 राइफल, 4 अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर्स और अन्य युद्ध सामग्री मिली है।'
डीजीएमओ के मुताबिक आतंकियों ने आग भड़काने वाली सामग्री के साथ गोलीबारी करनी शुरू की जिससे टेंट और अस्थायी शरणस्थल में आग लग गई। 'मैं भरोसा देता हूं कि भारतीय सेना किसी भी प्रतिकूल परिस्थिती का सामना करने के लिए तैयार है और हमला करने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।'
     गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में बारामूला के उरी सेक्टर में रविवार तड़के सेना के इनफैंट्री बटालियन कैंप पर बड़ा आतंकी हमला हुआ। इस हमले में 17 जवान शहीद हो गए और कई घायल हो गए। मुठभेड़ में सभी 4 आतंकी भी ढेर गए। पीएम मोदी ने इस घटना पर ट्वीट किया, ह्यहम उरी में हुए कायराना आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हैं।' पीएम ने कहा कि हमला करने वाले बख्शे नहीं जाएंगे।

Tuesday, September 20, 2016

उरी आतंकी हमले का बदला, एलओसी पर इंडियन आर्मी ने मारे आठ आतंकी

Image result for indian soldier killed 8 terrorist in uri    रविवार को आतंकी हमले के बाद मंगलवार को पाकिस्‍तान की ओर से उरी में युद्धविराम तोड़ा गया। मंगलवार को उरी सेक्‍टर में एलओसी पर पाक की ओर से फायरिंग की गई। इसके जवाब में भारत ने भी जवाबी फायरिंग की है। इस जवाबी फायरिंग में अब तक आठ आतंकियोंं के मारे जाने की खबरें हैं।
     बताया जा रहा है कि कुल 15 आतंकी इस इलाके में मौजूद हैं और अब तक आठ के मारे जाने की खबरें हैं। पाक ने उरी के लच्‍छीपुरा में फायरिंग की है। आपको बता दें कि रविवार को उरी के आर्मी बेस पर हुए हमले में भारतीय सेना के 18 जवान शहीद हो गए हैं।
बीकानेर की बॉर्डर पार बढ़ी पाक सेना की सरगर्मियां, बीएसएफ ने बढ़ाई पेट्रोलिंग
    पिछले दिनो उड़ी में हमले के बाद भारतीय सेना की ओर से माकूल जवाब देने की बयान के साथ ही भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा की राजस्थान से सटी पश्चिमी सीमा पर आज हलचल बढ़ गई है। बीकानेर से सटे बॉर्डर के सामने पाकिस्तान की सेना की सेना ने बहावलपुर क्षेत्र में जमावड़ा बढ़ाना शुरू किया है। इसी के साथ बॉर्डर पर तैनात बीएसएफ ने पेट्रोलिंग बढ़ा दी है।
    रक्षा अधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार उड़ी हमले के बाद पश्चिमी सीमा पर सीमा सुरक्षा बल को अलर्ट किया हुआ है। इसी के साथ बॉर्डर पार की गतिविधियों पर बीएसएफ की खुफिया शाखा नजर रखे हुए हैं।
     रक्षा सूत्रों के अनुसार बॉर्डर पार पाकिस्तान के बहावलपुर में पाक सेना की हलचल बढ़ी है। कल सोमवार को भारत के सेना अधिकारी की ओर से उड़ी हमले का पाकिस्तान को माकूल जवाब देने की बात कहने के बाद से पाक सेना की गतिविधियां तेज हुई है।
   इसके बाद बीएसएफ ने बॉर्डर पर घुसपैठ की आशंका के चलते पेट्रोलिंग भी बढ़ाई है। पाक के बहावलपुर का एरिया हमारे श्रीगंगानगर-बीकानेर सेक्टर के सामने पड़ता है।

Criminal News

Industry News

The Strategist

Commodities