News Today Time

Headline Today



Recent Posts

Latest News

Follow us on facebook

Contact Form

Name

Email *

Message *

News Today Time

Powered by Blogger.

Google+ Followers

Blog Archive

Translate

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

सिंहस्थ घोटाले में फंसी भाजपा सरकार

Written By News Today Time on Saturday, July 23, 2016 | 8:12:00 PM



    “लगता है मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इस वर्ष का सिंहस्‍थ कुंभ बहुत भारी पड़ने वाला है। कांग्रेस ने इस सिंहस्‍थ में बड़े पैमाने पर घोटाले के आरोप लगाए हैं। पार्टी ने खर्चों को लेकर सारे आंकड़े मीडिया के सामने रखे हैं और इन खर्चों पर एक सरसरी नजर डालने से ही गड़बड़ियों की बू आने लगती है। ”
      एक बानगी देखें, सिंहस्‍थ का प्रचार करने के लिए यह कहते हुए अमेरिका में 180 करोड़ रुपये के विज्ञापन दिए गए वहां से बड़े पैमाने पर एनआरआई कुंभ में आएंगे जबकि वहां से एक भी एनआरआई नहीं आया। कांग्रेस का कहना है कि इतने पैसे में भारतीय मूल के हजारों अमेरिकियों को सरकार अपने खर्च पर सिंहस्‍थ भ्रमण करवा सकती थी।
    कांग्रेस का आरोप है कि सिंहस्‍थ आयोजन के कुल 5000 करोड़ रुपये के बजट में से तीन हजार करोड़ रुपये घोटाले के जरिये हजम कर लिए गए हैं। हजम करने वालों में नेता, अधिकारी, ठेकेदार सभी बराबर के भागीदार हैं। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि सिंहस्थ के दौरान 600 करोड़ रुपयों के निर्माण कार्यों की मॉनिटरिंग की जबावदेही लोक निर्माण विभाग के उसी इंजीनियर को सौंपी गई, जिसे मुख्यमंत्री के गृह जिले सीहोर में घटिया सड़क निर्माण कराने का दोषी पाया गया था और उसके वेतन से 42 लाख रुपयों की वसूली भी हो रही है। इसके अलावा मेला अधिकारी आईएएस अविनाश लवानिया को बनाया गया जो कि प्रदेश के रसूखदार कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा के दामाद हैं। यही नहीं खुद मुख्यमंत्री के भांजा और उज्जैन नगर निगम के उपायुक्त वीरेन्द्र सिंह चौहान की इस दौरान पाई गई संदिग्ध भूमिका को लेकर मेला के प्रभारी मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने नोटशीट जारी कर तत्काल प्रभाव से उनके स्थानांतरण का निर्देश दिया था मगर उनका स्थानांतरण न करते हुए सिर्फ उनके वित्तीय अधिकारों पर रोक लगाई गई। कांगेस का आरोप है कि 10 रुपये में बिकने वाली चीज को 20 रुपये में किराए पर लिया गया। हर चीज के दाम तीन गुने तक चुकाए गए। घोटाला करने के लिए मेले में दागी अफसरों की पोस्टिंग की गई और विज्ञापन के नाम पर 600 करोड़ का घोटाला किया गया।
      कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने मीडिया सामने जो तथ्य रखें हैं उसके अनुसार राज्य सरकार ने 5 करोड़ की स्वास्थ्य सामग्री के 60 करोड़ रुपये चुकाए हैं। रबड़ हैंड ग्लब्ज जिसका सरकारी रेट 150 रुपये है उसके लिए 1890 रुपये चुकाए गए। एक्सरे लैड फिल्म ब्यूवर सिंगल सेक्सशन जो 45 सौ रुपये में मिलता है उसके लिए 11,250 रुपये चुकाए गए। इसी प्रकार 11 हजार 500 रुपये वाला एक्सरे लैड फिल्म ब्यूवर डबल सेक्सशन 22 हजार 500 रुपये की दर से खरीदा गया।
     सिंहस्‍थ में बड़े पैमाने पर कूलर लगाए गए थे। कमाल की बात है कि जो कूलर थोक में 35 सौ रुपये की दर से खरीदे जा सकते थे उसके लिए 56 सौ रुपये किराए के रूप में चुकाए गए। यहां ध्यान रहे कि देश के किसी भी हिस्से में इस किराए में एक गर्मी सीजन के लिए एयरकंडीशनर किराए पर मिल जाता है।
     घोटाले यहीं नहीं रुके, सिंहस्‍थ के दौरान कुल 40 हजार शौचालय बनवाए गए मगर दिखाया गया कि 90 हजार शौचालय बने हैं। यादव ने कहा कि समूचे आयोजन स्थल, साधुओं की छावनियों में 35 हजार शौचालय, 15 हजार बाथरूम व 10 हजार मूत्रालयों का निर्माण होना था। इसके लिए 18 अगस्त, 2015 को टेंडर क्रमांक 1415 निकाला गया, जो मात्र 36 करोड़ रुपये का था। इसमें लल्लूजी एंड सन्स, सुलभ और 2004 के सिंहस्थ में अधूरा काम छोड़कर भागने वाले ब्लैक लिस्टेड ठेकेदार सिंटेक्स ने भी भाग लिया। अरुण यादव का सवाल था कि आठ महीने पहले जो टेंडर सिर्फ 36 करोड़ रुपयों का था वह अचानक 117 करोड़ रुपयों में कैसे बदल गया? कांग्रेस ने इसके अलावा प्याऊ और कचरा प्रबंधन में भी घोटाले का आरोप लगाया है। सिंहस्‍थ में ढाई लाख रुपये प्रति की दर से 750 प्याऊ बनवाए गए और यह लागत कहीं से भी सही नहीं मानी जा सकती। यही नहीं एक महीने के सिंहस्‍थ के लिए कचरा प्रबंधन का ठेका 40 करोड़ रुपये में दिया गया।
    अरुण यादव के अनुसार एक पुल जो 5 करोड़ में बनना था उसके लिए 15 करोड़ रुपये दिए गए। 66 करोड़ में बनने वाले अस्पताल के लिए 93 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया गया वो भी तब जबकि अस्पताल निर्धारित अवधि में पूर्ण भी नहीं हो सका था।
8:12:00 PM | 0 comments | Read More

धोनी-रैना का बेहद करीबी है सेक्स रैकेट मास्टरमाइंड !

     दिल्ली के सफदरजंग के एक घर में पकड़े गए इंटरनेशनल सेक्स रैकेट की जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। खबरों की मानें तो इस सेक्स रैकेट को चलाने वाले कर्नल अजय अहलावत भारतीय वनडे और टी-20 टीम के कप्तान एमएस धोनी के काफी करीबी हैं। बता दें कि सफदरजंग एन्क्लेव के ए-2 ब्लॉक में स्थित पीएन. सान्याल के घर में इनकम टैक्स की रेड की गई थी, इस दौरान एक रूसी लड़की बाथरूम में बंद मिली थी। 24 पासपोर्ट भी बरामद किए गए हैं।
    दरअसल, अजय का दिल्ली के ब्रिजवासन इलाके में एक बड़ा फॉर्म हाउस है। यहां कई नामी हस्तियों का आना जाना लगा रहता था। एक रिपोर्ट्स की मानें तो भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और सुरेश रैना भी कर्नल अहलावत से मिलते थे। कर्नल अहलावत अपने इस फॉर्म हाउस में पोलो क्लब चलाते थे। चौंकाने वाली बात ये है कि अहलावत के इसी फॉर्म हाउस में धोनी का बर्थ-डे भी मनाया गया था।
     डीसीपी साऊथ ईश्वर सिंह ने इस बारे में कहा- मामले की जांच के लिए टीम बनाई गई है। सिर्फ सेक्स रैकेट तक सीमित नहीं है ये मामाला। इसमें अभी और भी खुलासे हो सकते हैं। वहीं दूसरी ओर ब्रिजवासन के विधायक कर्नल देवेंद्र सहरावत ने फॉर्म हाउस को सील करने की मांग की है।
     कर्नल अजय का रिकॉर्ड दागी है। उस पर गोल्ड स्मगलिंग से लेकर प्रॉपर्टी को लेकर धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। आर्मी से वीआरएस लेने वाले कर्नल अहलावत के कई संगीन जुर्मों से संबंध रहे हैं।
     उन्हें इससे पहले हथियारों की सप्लाई LTTE को करने के मामले में भी शामिल पाया जा चुका है। 2015 में डीआरआई ने उसका संबंध गोल्ड स्मगलिंग में भी पाया था। पुलिस अब इस मामले में अहलावत और सान्याल को आमने सामने बैठाकर इस मामले की जांच कर रही है। अजय अहलावत के कई डिफेंस डीलरों से संबंध भी बताए जा रहे हैं।
     कर्नल अहलावत के इस कारोबार को पी एन सान्याल नामक शख्स चलाता था। वह विदेशी लड़कियों को यहां कई हाई-प्रोफाइल लोगों को सप्लाई करवाता था। सान्याल के घर से मिली विदेशी लड़की ने बताया कि यह सेंट्रल एशिया से भी कई लड़कियों को यहां बुलाता था। सान्याल के घर से मिली रूसी लड़की का कहना है कि वह टूरिस्ट वीजा पर भारत आयी थी।
    कर्नल अहलावत कहीं आर्मी अफसरों को तो लड़कियां सप्लाई नही करता था। अभी इस बात की भी जाँच की जा रही है। अगर ऐसा है तो बड़ा मामला हो सकता है। क्योंकि, इससे डिफेंस की जानकारियां लीक होने की संभावना बढ़ जाती हैं।




8:10:00 PM | 0 comments | Read More

शायद वो दिन मायावती जी भूल गयी जब बीजेपी नेताओ ने ही की थी मदत


जब मायावती की भरी सभा में लुटने वाली थी इज्जत, तब बीजेपी नेता ने ही बचाई थी इज्जत !
   2 जून 1995 को उत्तर प्रदेश की राजनीति में जो हुआ वह शायद ही कहीं हुआ होगा। मायावती उस वक्त को जिंदगी भर नहीं भूल सकतीं। उस दिन को प्रदेश की राजनीति का ‘काला दिन’ कहें तो कुछ भी गलत नहीं होगा। उस दिन एक उन्मादी भीड़ सबक सिखाने के नाम पर दलित नेता की आबरू पर हमला करने पर आमादा थी। उस दिन को लेकर तमाम बातें होती रहती हैं लेकिन, यह आज भी एक कौतुहल का ही विषय है कि 2 जून 1995 को लखनऊ के राज्य अतिथि गृह में हुआ क्या था? मायावती के जीवन पर आधारित अजय बोस की किताब ‘बहनजी’ में गेस्टहाउस में उस दिन घटी घटना की जानकारी आपको तसल्ली से मिल सकती है।   
    दरअसल, 1993 में हुए चुनाव में एक अब शायद ही कभी होने वाला गठबंधन हुआ था, सपा और बसपा के बीच। चुनाव में इस गठबंधन की जीत हुई और मुलायम सिंह यादव प्रदेश के मुखिया बने। लेकिन, आपसी मनमुटाव के चलते 2 जून, 1995 को बसपा ने सरकार से किनारा कस लिया और समर्थन वापसी की घोषणा कर दी। इस वजह से मुलायम सिंह की सरकार अल्पमत में आ गई।
     सरकार को बचाने के लिए जोड़-घटाव किए जाने लगे। ऐसे में अंत में जब बात नहीं बनी तो नाराज सपा के कार्यकर्ता और विधायक लखनऊ के मीराबाई मार्ग स्थित स्टेट गेस्ट हाउस पहुंच गए, जहां मायावती कमरा नंबर-1 में ठहरी हुई थीं। बताया जाता है कि, 1995 का गेस्टहाउस काण्ड जब कुछ गुंडों ने बसपा सुप्रीमो को कमरे में बंद करके मारा और उनके कपड़े फाड़ दिए, जाने वो क्या करने वाले थे. उस समय मायावती के साथ एक अनहोनी घटना घटने वाली थी. तब उस समय बीजेपी के ही एक नेता मायावती की इज्जत बचायी थी.शायद वो दिन मायावती जी भूल गयी.


5:27:00 PM | 0 comments | Read More

सपा नेता ने दलित युवक को पहले पीटा, फिर पिलाई पेशाब

     आगरा।।  एत्मादपुर में एक दलित युवक को रास्ते में साइड मांगना इतना महंगा पड़ गया कि समाजवादी पार्टी के नेता और उसके साथियों ने पहले उसे बुरी तरह पीटा फिर करीब पांच लोगों ने मिलकर उसे पेशाब पिला दिया। आरोपी नेता समाजवादी पार्टी का नगर अध्यक्ष बताया गया है। मामला थाना एत्मादपुर कस्बे का है। जहाँ का निवासी निरोत्तम सिंह रोजाना की तरह सब्जी बेचकर घर जा रहा था। तभी रास्ते में भीड़ होने के कारण सामने एक बुजुर्ग पुन्नी खां से निरोत्तम ने सामने से हटने को कहा। इस पर हटने के बजाय पुन्नी खां ने उल्टा जवाब दिया कि सड़क क्या तेरे बाप की है और गाली गलौच शुरू की।
    निरोत्तम ने जब इसका विरोध किया तो पुन्नी खां पहले तो वहां से घर चला गया और अपने बच्चों को बुला लाया। जिसके बाद पुन्नी खां के बड़े बेटे मुस्लिम खां ठेकेदार और अन्य परिजनों ने मिलकर निरोत्तम सिंह को बुरी तरह पीटा और लहुलूहान करने के बाद तीन चार लोगों ने मुह में पेशाब कर दिया तथा कार्यवाही करने पर पीड़ित को जान से मारने की धमकी दी।
     इस शर्मनाक कृत्य से पीडि़त इतना सहमा हुआ था कि वो थाने तक शिकायत करने तक की हिम्मत तक नहीं कर पाया। लेकिन शुक्रवार को कुछ संगठनों के लोगों ने मिलकर पीड़ित को साथ लेकर तहसील दिवस में शिकायत दर्ज कराई। आरोपी परिवा सत्ता पक्ष से ताल्लुक रखता है और मुख्य आरोपी मुस्लिम खां ठेकेदार वर्तमान नगर अध्यक्ष है।    अधिकारियों ने मामले को संज्ञान में लेते हुए थानाध्यक्ष एत्मादपुर को मामले की जांच के आदेश दे दिए। पीड़ित के साथ तहसील पहुंचे लोगों में अमानवीय कृत्य को लेकर भारी रोष था।उनका कहना था मुस्लिम खां ने एक हिंदू दलित का घोर अपमान किया है। हम प्रशासन से आग्रह करते हैं कि जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार कर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए अन्यथा इस असहनीय अमानवीय कृत्य के खिलाफ हिन्दूवादी संगठन के लोग पीड़ित को लेकर अपने तरीके से आन्दोलन करेंगे।
5:18:00 PM | 0 comments | Read More

जाकिर नाइक को अपना मुख्य सलाहकार नियुक्त करना चाहते हैं केजरीवाल

    नई दिल्ली।। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मुस्लिम धर्मगुरू जाकिर नाइक को अपना मुख्य सलाहकार नियुक्त करने का फ़ैसला किया है।केजरीवाल ने फ़ैसला इसलिए किया क्योंकि वो पार्टी की सेकुलर छवि को मजबूत करना चाहते हैं। ‘आप’ से जुड़े सूत्रों ने बताया कि पार्टी से मुसलमानों का जुड़ाव अभी उतना नहीं है जितना अरविंद केजरीवाल चाहते हैं।
     केजरीवाल का मानना है कि इस फ़ैसले के बाद मुस्लिमों का एक बड़ा वर्ग आप सपोर्टर बन सकता है। गौरतलब है कि इस महीने के शुरू में बांग्लादेश के ढाका के एक कैफे में हमला हुआ था।इसमें एक भारतीय लड़की समेत 28 लोग मारे गए थे। 
    बांग्लादेश की सरकार का कहना है कि इस हमले को अंजाम देने वालों में से कुछ लोग डॉक्टर ज़ाकिर नाईक से प्रेरित थे। इसके बाद से ही डॉक्टर नाइक की आलोचना शुरू हो गई और बांग्लादेश सरकार ने डॉक्टर ज़ाकिर नाइक के टीवी चैनल पीस टीवी पर प्रतिबंध लगा दिया है। महाराष्ट्र और केंद्र सरकार कई स्तरों पर डॉक्टर नाइक और उनकी संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन की जांच करा रही है.
4:46:00 PM | 0 comments | Read More

Kabul में छह हफ़्ते पहले अगवा हुई भारतीय महिला रिहा

    अफ़गानिस्तान की राजधानी Kabul में छह हफ़्ते पहले अगवा हुई भारतीय महिला रिहा हो गई है. भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करते हुए ये जानकारी दी है.
    उन्होंने एक और ट्वीट करते हुए लिखा है, “मैंने जूडिथ से बात की है. वो आज शाम राजदूत मनप्रीत वोहरा के साथ दिल्ली पहुंच रही है.”
     साथ ही उन्होंने ये भी लिखा, “जूडिथ को छुड़ाने में आपकी मदद और समर्थन के लिए, शुक्रिया अफ़गानिस्तान!” हालांकि सुषमा स्वराज ने अभी ये नहीं बताया है कि जूडिथ डिसूजा अगवा करने वालों की कैद से कैसे छूटी. 40 साल की जूडिथ को पिछले महीने उनके दफ़्तर के बाहर से अगवा कर लिया गया था.
    वे पिछले कई सालों से 30 देशों में शिक्षा और स्वास्थ्य पर काम करने वाली अंतर्राष्ट्रीय संस्था आगा ख़ान फ़ाउंडेशन के लिए काम कर रही थीं. डिसूजा के परिवार वालों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी पत्र लिखकर उनकी रिहाई में हस्तक्षेप करने की गुजारिश की थी.
    तब बहन एग्नेस डिसूज़ा ने ट्विटर पर कई टिप्पणियां कर भारतीय विदेश मंत्री से भी मदद की गुहार लगाई थी. बहन के मुताबिक़ जूडिथ डिसूजा पिछले एक साल से काबुल में रह रही है. जूडिथ डिसूजा का परिवार 30 सालों से कोलकाता में रह रहा है.




4:30:00 PM | 0 comments | Read More

मायावती सहित चार BSP नेताओं के खिलाफ FIR रजिस्‍टर्ड

    लखनऊ।। BSP सुप्रीमो मायावती समेत बसपा के 4 नेताओं पर लखनऊ के हजरत गंज थाने में मामला दर्ज किया गया है। इन नेताओं के खिलाफ दयाशंकर की मां और उनकी पत्नी ने तहरीर दी थी। पुलिस ने करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद इन नेताओं पर आईपीसी की धारा 504, 505, 409, 120बी 153ए तथा क्राइम 458/16 के तहत मुकद्दमा दर्ज किया है।
दरअसल, बीएसपी कार्यकर्ताओं ने दयाशंकर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में उनकी मां, बहन, पत्नी और बेटी को गाली दी थीं। गाली से दोनों आहत हैं। यहां तक कि दयाशंकर की बेटी ने स्कूल जाना छोड़ दिया।
मायावती सहित 4 नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज
    हजरत गंज थाने में बसपा अध्यक्ष मायावती, उपाध्यक्ष नसीमुद्दीन सिद्दीकी, रामअचल राजभर, राष्ट्रीय सचिव मेवालाल के खिलाफ आईपीसी की धारा 504, 505, 409, 120बी 153ए तथा क्राइम 458/16 के तहत मुकद्दमा दर्ज हुआ है।
मायावती से जान का खतरा
     इसके पहले दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति ने कहा कि वह बीएसपी नेताओं व मायावती पर एफआईआर दर्ज करायेंगी क्योंकि उन्होंने एक बच्ची को इस मामले में घसीटा है। दयाशंकर की पत्नी ने कहा कि कल को मुझे और मेरी बेटी को कुछ हो जाता है तो उसकी जिम्मेदारी क्या मायावती लेंगी। बसपा के लोग सार्वजनिक रूप से बयान जारी कर कह रहे हैं-‘उनकी पत्नी बेटी को पेश करो।’ इससे मेरी बेटी जबरदस्त सदमे की शिकार है। स्वाति ने कहा कि मायावती के उकसाने पर ही गाजी-गलौज की गई, उन्होंने कहा कि मुझे मायावती से जान का खतरा है। मुझे और मेरे परिवार को तत्काल सुरक्षा मिले। मायावती की शह पर चौराहे पर गाली दी गयी, मेरे बच्चों का मानसिक उत्पीड़न हो रहा है।
मेरी बेटी सदमें में-स्वाति
     स्वाति ने कहा कि उनका उनके पति दयाशंकर से कोई संपर्क नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि बसपा के कार्यकर्ताओं ने धरना-प्रदर्शन के दौरान मेरे पति दयाशंकर के साथ मेरे और मेरी बेटी के खिलाफ जिस भाषा का प्रयोग किया है, उसका जवाब कौन देगा। स्वाति ने कहा कि आज मेरे और मेरी बेटी के साथ कोई नहीं खड़ा है, क्या मैं महिला नहीं हूं। स्वाति ने कहा कि मेरी पति के बयान की सब ने निंदा की थी।
     इतना ही नहीं, मायावती ने कहा कि दयाशंकर ने जो कहा वो अपने मां-बीवी और बेटी के लिए कहा है। वहीं आज उनकी पार्टी के हजारों कार्यकर्ताओं ने जो बोल मेरे और मेरी बेटी के खिलाफ बोले हैं, उससे मेरी बेटी सदमें में है कि उसने घर से बाहर नहीं निकलने की ठानी और उसने स्कूल जाने से भी इंकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि बीसीएपी के कार्यकर्ताोओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराऊंगी क्योंकि उन्होंने एक बच्ची को इस मामले में घसीटा है।
4:00:00 PM | 0 comments | Read More

गुस्सैल बच्चों को कंट्रोल करने का आसान तरीका, हरियाली के बीच ले जाएं


Deepak Sharma's photo...... बच्चों को पार्क में ले जाने से उनका विकास बेहतर होता है लेकिन अमरीकन अकेडमी ऑफ चाइल्ड एंड एडोलेसेंट साइकेट्री में छपे एक शोध के मुताबिक बच्चों को पार्क में ले जाने या फिर उनके चारों ओर हरियाली रखने की जरूरत एक और महत्वपूर्ण वजह से है। शोधकर्ताओं ने पाया कि जो बच्चे हरियाली के आस-पास रहते हैं, वे कम गुस्सैल होते हैं।
     गुस्से पर हरियाली का असर शोधकर्ताओं ने 1,287 किशोरों पर अपना शोध किया, इन सभी का जन्म 90 के दशक में हुआ था। उन्होंने पेरेंट्स से बच्चों के 2000 और 2002 के बीच में किए गए व्यवहार के बारे में पूछा और बच्चों के लडऩे और चिल्लाने के बारे में जानकारी ली। उन्होंने पाया कि जो बच्चे हरियाली के आस-पास रहते थे, वे कम गुस्सैल और हिंसक थे। खास बात तो यह थी कि जब तक वे हरे-भरे वातावरण में रहे, तब तक उनका व्यवहार संतुलित बना रहा।
      इसी तरह से रोज पार्क में खेलने वाले बच्चों का व्यवहार भी अच्छा था।पॉश इलाकों में पेड़ ज्यादा वैसे यह भी महत्वपूर्ण है कि केवल पेड़ और घास ही खुशहाल जिंदगी के सही मायने नहीं दर्शाते। दूसरी कई चीजें भी महत्वपूर्ण हैं। शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि पॉश इलाकों में ज्यादा हरियाली थी, जबकि जिस हिस्से में अपेक्षाकृत कम आयवर्ग के लोग रहते थे, वहां हरियाली भी कम थी।
      वैसे चाहे जो भी हो, मुख्य बात यह है कि बच्चे का व्यवहार संतुलित रखने के लिए आपको अपने आस-पास पेड़-पौधे लगाने चाहिए। शोधकर्ताओं के अनुसार पेड़-पौधे हिंसक व्यवहार में 12 फीसदी तक की कमी लाते हैं फिर हरियाली से चारों ओर का वातावरण तो सुंदर लगता ही है। बच्चों से लगवाएं पौधे वैसे बच्चों की हरियाली से दोस्ती करवाने का सबसे अच्छा तरीका है कि उन्हें एक पौधा लगाने और उसकी देखभाल करने को कहें। आप देखेंगी कि बच्चे को उस पौधे से कितना लगाव हो गया है। पौधे को बढ़ता देख वह यकीनन खुश होगा।
3:51:00 PM | 0 comments | Read More

रेलवे ने कोहरे से निपटने हेतु 'त्रिनेत्र' नामक यन्त्र विकसित किया

     रेलवे ने कोहरे से निपटने हेतु जुलाई 2016 के दूसरे सप्ताह में 'त्रिनेत्र' नामक यन्त्र विकसित किया है। भारतीय ट्रेनों को जल्दी ही 'त्रिनेत्र' नामक यन्त्र से लैस किया जाएगा, जो ड्राइवर को घने कोहरे में भी आसानी से ट्रैक देखने में मदद करेगा।
     कोहरे में भी त्रिनेत्र की मदद से ड्राइवर दूर तक आसानी से चीजें देख सकेंगे। एक तरफ इससे रेल दुर्घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी, तो साथ ही लेट-लतीफी से भी छुटकारा मिलेगा।
      राडार के जरिए त्रिनेत्र को अपने सामने और आसपास मौजूद किसी भी तरह की वस्तु या जानवर, आदमी, पेड़ पौथे के बारे में घने कोहरे में भी जानकारी मिल जाती है। डॉप्लर तकनीक पर काम करने वाले रडार सिस्टम से उस वस्तु के गतिशील होने या स्थिर होने का भी पता चलता है।
इंफ्रा-रेड कैमरा: 
    कोहरे को भेदकर इंफ्रा-रेड के जरिए ये खास कैमरा किसी वस्तु के जीव जंतु होने या निर्जीव होने की भी जानकारी देता है। हाई-रिजॉल्यूशन टेरेन कैमरा: इन तीनों तकनीकों के जरिए मिलने वाले इनपुट का विश्लेषण ताकतवर कंप्यूटर के जरिए करके इसके जरिए स्क्रीन पर फाइनल इमेज भेजी जाती है।

3:44:00 PM | 0 comments | Read More

तो बसपा के सारे दाव जब अकेले स्वाति सिंह ने उलटे कर दिए

     अपनी बेटी के अपमान से बिफरीं दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह जब सामने आईं तो सबकी बोलती बंद कर दी। शाम को न्यूज़ चैनल पर स्वाति सिंह ने जो तेवर दिखाए, उसे देखकर हर कोई दंग रह गया। पढ़ी लिखी महिला, हर बात का बिल्कुल नपा तुला और सटीक जवाब। तल्खी से भरपूर, लेकिन मजाल नहीं कि एक भी लफ्ज में जुबान फिसले। गजब के सवाल भी उठाए-
1-नसीमुद्दीन सिद्दीकी जी, बताइए कहां पेश करूं मैं अपनी बेटी..?
2-मेरे पति ने जो कहा, गलत कहा, पार्टी ने सजा दी है, कानून जो भी सजा देगा वो मुझे मंजूर है, लेकिन इसमें मेरी बेटी का क्या कसूर है..?
3-मैं अपने पति की लड़ाई नहीं लड़ रही, अपनी बेटी और सास की लड़ाई लड़ रही हूं।
4-अगर मायावती जी की ये मेंटलिटी है तो क्या वो सबक सिखाने के लिए हमें मरवा देंगी? उनके कार्यकर्ता हमें मार भी देंगे और वो यही बोलेंगी कि सबक सिखाने के लिए किया गया?
      स्वाति सिंह ने दरअसल बीजेपी के नुकसान की कमोबेश भरपाई कर दी है। आज खुद मायावती जब स्वाति सिंह पर दिल्ली में बोल रही थीं तो एक ही बात तीन-तीन बार दोहरा रही थीं, गला सूख रहा था। पत्रकारों को कोई सवाल पूछने नहीं दिया, जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या आप दयाशंकर की बेटी को गाली देने वाले कार्यकर्ताओं की तरफ से खेद व्यक्त करेंगी, सवाल सुनते ही मायावती निकल लीं, फिर पलटकर नहीं देखा। बीजेपी के पारखियों ने भी स्वाति सिंह के तेवर देखे होंगे, महसूस किया होगा कि दयाशंकर को खोकर वो क्या पा सकते हैं..? 
स्वाती को मायावती से जान का खतरा, पुलिस ने मुहैया करायी सुरक्षा
      पुलिस महानिरीक्षक ए सतीश गणेश ने आज सुबह बताया कि भाजपा से निष्कासित नेता दया शंकर सिंह की पत्नी स्वाती सिंह को सुरक्षा प्रदान कर दी गयी है। दयाशंकर की पत्नी स्वाती सिंह ने कल मीडिया से कहा था कि मायावती से उन्हें जान का खतरा है। जिसके बाद उन्हें यह सुरक्षा प्रदान की गयी है।




3:38:00 PM | 0 comments | Read More

डाक्टरों की टीम ने पेट का आपरेशन कर निकाले 2245 पत्थर के टुकडे


  नासिक के निफाड के श्री सा ई मल्टी स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल मे डाक्टरों की टीम ने मरीज के पेट का आपरेशन कर निकाले 2245 पत्थरो के टुकडे


    स्टोरी नासिक से 40 किलो मीटर दूर निफाड के श्री साई मल्टी स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल मे डाक्टर सचिन देवरे डाक्टर रोहित धोक्र्ट डाक्टर विशाल दलबी की टीम ने 65 वर्षीय कार भारी जाधव नाम के मरीज जिसे कई वर्षों से पेट दर्द की तकलीफ थी, उसका आपरेशन तीन घंटों तक करते हुये जीवन दान दिया।
      कारभारी जाधव के पेट से आपरेशन के दौरान पत्थर के छोटे छोटे कण निकलने शुरू हुये, जो की डाक्टरों की टीम के लिये एक चुनौती पूर्ण विषय बनता जा रहा था, क्योंकि कार भारी जाधव के पेट से कोई एक दो नही 2245 पत्थरो के कण टुकडे निकल रहे थे। श्री साई मल्टी स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल की डाक्टरों की टीम ने महाराष्ट्र का यह पहला इतना बडा आपरेशन कर लिम्का बुक की दावेदार बन गई है। जब की इस हॉस्पिटल की पुरी टीम युवा है।





3:07:00 PM | 0 comments | Read More

सभी सरकारी कर्मचारी अपने बच्चों को सरकारी विद्यालयों में पढ़ाएं : इलाहाबाद हाईकोर्ट


    इलाहाबाद।। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मंगलवार को एक बड़ा फ़ैसला सुनाते राज्य सरकार को निर्देश दिया कि सभी नौकरशाहों और सरकारी कर्मचारियों के लिए उनके बच्चों को सरकारी प्राथमिक विद्यालय में पढ़वाना अनिवार्य किया जाए।
    हाईकोर्ट ने निर्देश दिया कि ऐसी व्यवस्था की जाए कि अगले शिक्षा-सत्र से इसका अनुपालन सुनिश्चित हो सके।
   न्यायमूर्ति सुधीर अग्रवाल की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने शिवकुमार पाठक की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह बात कही। याचिका में कहा गया कि सरकारी परिषदीय स्कूल में शिक्षकों की नियुक्ति पर नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है जिसके चलते अयोग्य शिक्षकों की नियुक्ति हो रही है। इसके चलते बच्चों को स्तरीय शिक्षा नहीं मिल पा रही है। इसकी चिंता ना तो सम्बंधित विभाग के अधिकारियों को है और ना ही प्रदेश के उच्च प्रशासनिक अधिकारियों को है।
   इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मुख्य सचिव से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि सरकारी कर्मचारी, निर्वाचित जनप्रतिनिधि, न्यायपालिका के सदस्य एवं वे सभी अन्य लोग सरकारी खजाने से वेतन एवं लाभ मिलता है, अपने बच्चों को पढ़ने के लिए राज्य के माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा संचालित प्राथमिक विद्यालयों में भेजें।
2:55:00 PM | 0 comments | Read More

कश्मीर में अशांति के बीच करगिल में 'ऑपरेशन-13'

Written By News Today Time on Friday, July 22, 2016 | 9:10:00 PM

   कश्मीर में सड़कें सुलग रही हैं, आर्मी और अलगाववादी आमने सामने हैं, नतीजा जम्मू कश्मीर के कई हिस्सों में कर्फ्यू और आगजनी जारी है. पिछले कई दिनों से कश्मीर से कोई अच्छी खबर नहीं आई, लेकिन घाटी के ही ऊपरी हिस्से से ऐसे ऑपरेशन की खबर है, जो इंसानियत सिखाती है और बताती है कि घाटी में झगड़े फसाद के अलावा भी करने के लिए बहुत कुछ है. करगिल में लोगों को ईलाज मुहैया करने के इरादे से दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के डॉक्टरों की एक टीम घाटी के शिखर पर पहुंची है.
      जो ऑपरेशन या सर्जरी दिल्ली में भी आसान नहीं होती, उन सर्जरी को करगिल जैसे इलाके में करना किसी चुनौती से कम नहीं था. लेकिन मरीज़ों की उम्मीद भरी आंखों ने डॉक्टर्स की टीम में भी जोश भर दिया. एम्स के ऑर्थोपेडिक्स डिपार्टमेंट के डॉ. सीएएस यादव की अगुवाई में तीन दिन में 13 मरीजों के घुटनों का रिप्लेसमेंट किया गया और तीन दिन में मरीज अपने पैरों पर खड़े होने में कामयाब हो गए. डॉ यादव का नाम 11 हजार फीट की ऊंचाई पर ज्यादा से ज्यादा नी रिप्लेसमेंट करने के लिए लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज है. डॉ. यादव के मुताबिक 'करगिल में ऑपरेशन करने का मतलब था कि करीब आधा टन वजनी ऑपरेशन थियेटर का सामान अपने साथ दिल्ली से ले जाना पड़ा, जिसमें महंगे इम्लांट भी शामिल थे.'
     26 जुलाई को देश करगिल विजय दिवस मनाएगा, लेकिन करगिल में मरीजों के होंठों पर मुस्कान लाकर डॉक्टर्स ने करगिल का दिल जीत लिया और सच्ची श्रद्धांजलि उन जवानों को दी, जिन्होंने करगिल पर कब्जे के पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को नाकाम करने में अपनी जान न्योछावर कर दी थी.




9:10:00 PM | 0 comments | Read More

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री मुझ पर लाइन मारकर मेरा मोबाइल नंबर मांगते है

   पाकिस्‍तान के लोकप्रिय रियलिटी टीवी शो ओवर द एज में कराची की रहने वाली असमा राजपूत ने पाक प्रधानमंत्री पर यह सनसनीखेज आरोप लगाए। युवती का यह भी कहना था कि पाक प्रधानमंत्री ने उसका फोन नंबर भी मांगा। इतना ही नहीं उसने पाक के पूर्व तानाशाह और राष्ट्रपति रहे परवेज मुशर्रफ पर भी ऐसे ही आरोप मढ़े। कहा वो भी खूबसूरत लड़कियों को देखकर लाइन मारते हैं।
    यू ट्यूब पर यह इंटरव्यू बीते 7 जुलाई को ही अपलोड किया गया है। जिसमें दिख रहा है कि कार्यक्रम में ऑडिशन देने आई युवती असमा राजपूत से उनके एक अनुभव के बारे में शो प्रजेंटर वकार जाका ने पूछा था कि आपने इसमें लिखी है लाइन मारने वाली बात। क्या मतलब है इसका। 
    इसके जवाब में असमा राजपूत ने कहा हां यह मेरा अनुभव है मुझ पर किसी ने लाइन मारी थी। वकार जाका ने पूछा कि क्या आप उसका नाम बात सकती हैं, इस पर असमा का जवाब था कि अगर मैं उनका नाम बता दूंगी तो आपका शो बंद भी हो सकता है।
9:09:00 PM | 0 comments | Read More

सोशल मीडिया पोस्ट पर नहीं होगी जेल, धारा 66A रद

   नई दिल्ली।। सुप्रीम कोर्ट ने आज सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66A पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए इसे अंसवैधानिक घोषित करते हुए रद कर दिया। न्यायालय ने अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि आईटी एक्ट की यह धारा संविधान के अनुच्छेद 19(1) A का उल्लंघन है, जोकि भारत के हर नागरिक को "भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार" देता है। कोर्ट ने कहा, धारा 66A अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार का हनन है।
     अदालत के आदेश के बाद अब फेसबुक, ट्विटर, लिंकड इन, व्हाट्स एप सरीखे सोशल मीडिया माध्यमों पर कोई भी पोस्ट डालने पर किसी की गिरफ्तारी नहीं होगी। इससे पहले धारा 66A के तहत पुलिस को ये अधिकार था कि वो इंटरनेट पर लिखी गई बात के आधार पर किसी को गिरफ्तार कर सकती थी। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में आईटी एक्ट की धारा 66A को चुनौती दी गई थी।
    याचिकाकर्ता श्रेया सिंघल ने इस फैसले को बड़ी जीत बताते हुए कहा, सुप्रीम कोर्ट ने लोगों के भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को कायम रखा है।
      सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में कहा गया कि यह कानून अभिव्यक्ति की आज़ादी और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मौलिक अधिकारों के खिलाफ है, इसलिए यह असंवैधानिक है। याचिकाओं में ये मांग भी की गई है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी से जुड़े किसी भी मामले में मजिस्ट्रेट की अनुमति के बिना कोई गिरफ़्तारी नहीं होनी चाहिए।
    सुप्रीम कोर्ट ने 16 मई 2013 को एक एडवाइजरी जारी करते हुए कहा था कि सोशल मीडिया पर कोई भी आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले व्यक्ति को बना किसी सीनियर अधिकारी जैसे कि आईजी या डीसीपी की अनुमति के बिना गिरफ्तार नहीं किया जा सकता।
    दूसरी तरफ सरकार की दलील थी कि इस कानून के दुरूपयोग को रोकने की कोशिश होनी चाहिए। इसे पूरी तरह निरस्त कर देना सही नहीं होगा। सरकार के मुताबिक इंटरनेट की दुनिया में तमाम ऐसे तत्व मौजूद हैं जो समाज के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। ऐसे में पुलिस को शरारती तत्वों की गिरफ़्तारी का अधिकार होना चाहिए।
     अनुच्छेद 66A के तहत दूसरे को आपत्तिजनक लगने वाली कोई भी जानकारी कंप्यूटर या मोबाइल फ़ोन से भेजना दंडनीय अपराध है। सुप्रीम कोर्ट में दायर कुछ याचिकाओं में कहा गया है कि ये प्रावधान अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के ख़िलाफ़ हैं, जो हमारे संविधान के मुताबिक़ हर नागरिक का मौलिक अधिकार है।
    इस बहस के बीच सरकार ने अपना पक्ष सुप्रीम कोर्ट के सामने रखा। सरकार ने अदालत से कहा कि भारत में साइबर क्षेत्र पर कुछ पाबंदियां होनी ज़रूरी हैं क्योंकि सोशल नेटवर्किंग साईट्स का इस्तेमाल करने वालों की तादाद लगातार बढ़ रही है।......
उच्च न्यायालय दिल्ली
9:06:00 PM | 0 comments | Read More

पहले मगरमच्छ को मारा फिर डीजे पर उसकी शव यात्रा निकली

   मोकामा।। जिले के खुसरुपुर प्रखण्ड में अजब नजारा देखने को मिला। यहां दहशतजदा ग्रामीणों ने पहले एक मगरमच्छ को मारा और बाद में उसकी शव यात्रा निकाली। और तो और शव यात्रा में डीजे भी बजा और मगरमच्छ का अंतिम संस्कार भी किया गया।
    बरसात के पानी में बहकर आए मगरमच्छ को लोगों ने पहले तो मार डाला बाद में अंतिम संस्कार भी किया। डीजे की धुनपर शवयात्रा में शामिल लोगों ने गंगा नदी किनारे मगरमच्छ का अंतिम संस्कार किया। 
    जानकारी के मुताबिक खुसरुपुर प्रखंड के मोसिमपुर गांव में बुधवार को एक मगरमच्छ भटक कर आ गया था। ग्रामीणों की मानें तो गंगा नदी से चलकर मगरमच्छ मोसिमपुर गांव आ गया था। बताया जा रहा है कि मगरमच्‍छ ने एक कुत्‍ते को खा लिया और एक बच्‍चे को भी मगरमच्छ ने झपटने की कोशिश की थी।
तीन दिन से गांव में फैला था डर :
     मगरमच्छ तीन दिन से गांव में था और वन विभाग के अधिकारी कुछ नहीं कर पा रहे थे। तीसरे दिन जब मगरमच्छ आक्रामक हो गया तो गांव वालों ने उसे मार दिया। आशंका जताई जा रही है कि बुधवार रात में स्थानीय लोगों ने गोली मारकर मगरमच्छ की हत्या कर दी।
     सहमे लोगों ने मगरमच्छ के बस्ती में आने की जानकारी प्रशासन को दी थी। सुबह में खुसरुपुर प्रखंड के अधिकारी जब तक कोई कार्रवाई करते तब तक मगरमच्छ मारा जा चुका था। आशंका जताई जा रही है कि बुधवार रात में स्थानीय लोगों ने गोली मारकर मगरमच्छ की हत्या कर दी।
हमने नहीं मारा :
    वहीं गांव के लोग मगरमच्छ को मारने से इंकार कर रहे हैं। स्थानीय लोग मारना तो दूर मगरमच्छ के मारे जाने की जानकारी होने तक से इंकार कर रहे हैं। बता दें कि सावन माह में हजारों लोग गंगा में स्‍नान को जाते हैं। संबंधित अधिकारी मौके पर पहुंचकर मामले की पड़ताल कर रहे हैं।
4:28:00 PM | 0 comments | Read More

अब तीन साल में होगी पीएचडी

   पीएचडी या डीफिल की डिग्री हासिल करने में अब न्यनूतम तीन साल लगेंगे। इसमें कोर्स वर्क की छह महीने की अवधि भी शामिल होगी। वहीं एमफिल एक साल में किया जा सकेगा। मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) ने पीएचडी या डिफिल के लिए शोध पर्यवेक्षक के लिए भी मानक में बदलाव किया है। इसके अंतर्गत अब संबंधित विश्वविद्यालय और संस्थान के ही अध्यापक शोध करा सकते हैं। विशेष परिस्थिति में दूसरे संस्थान के अध्यापक को सहायक शोध पर्यवेक्षक बनाया जा सकेगा।
     एमएचआरडी ने पीएचडी/डीफिल तथा एमफिल उपाधि प्रदान करने के न्यूनतम मानदंड और प्रक्रिया की अधिसूचना जारी कर दी है। इसे नियमावली-2016 नाम दिया गया है। इसके अनुसार पीएचडी करने में न्यूनतम तीन साल लगेंगे। पहले यह अवधि दो साल थी। पीएचडी के लिए अधिकतम छह वर्ष मिलेंगे। दिव्यांग तथा महिला अभ्यर्थियों को दो साल की छूट दी गई है। हालांकि विशेष परिस्थियों में रिसर्च की अवधि बढ़ाई जा सकती है। एमफिल पूर्व की भांति एक साल में किया जा सकेगा। अधिकतम अवधि दो साल होगी। नई नियमावली के अंतर्गत दूरस्थ शिक्षा पद्धति तथा अंशकालिक शिक्षा पद्धति के संस्थान एमफिल और पीएचडी नहीं करा सकेंगे। हालांकि, सभी मानक पूरे करने वाले संस्थानों को अंशकालिक आधार पर पीएचडी पाठ्यक्रम चलाने की अनुमति होगी।
      पीएचडी / डीफिल पाठ्यक्रम में प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही प्रवेश होगा। मंत्रालय ने यह भी स्पष्ट किया है कि परीक्षा क्वालीफाइंग होगी। इसे पास करने के लिए अभ्यर्थी को न्यूनतम 50 फीसदी अंक हासिल करने होंगे। पेपर में भी 50 फीसदी प्रश्न शोध पद्धति तथा अन्य सवाल संबंधित विषय के होंगे। नेट और जेआरएफ अभ्यर्थियों को विश्वविद्यालय की ओर से निर्धारित मानक के अनुसार प्रवेश परीक्षा से छूट दी जाएगी।
1:36:00 PM | 0 comments | Read More

कांग्रेस बोली, राहुल गांधी सदन में सो नहीं रहे थे बल्कि अपना मोबाइल देख रहे थे

    लोकसभा में राहुल गांधी की 'झपकी' वाली तस्वीर के सामने आने के बाद कांग्रेस ने पार्टी उपाध्यक्ष का बचाव करते हुए कहा कि वह अपना मोबाइल देख रहे थे.
     लोकसभा में बुधवार को जब सदस्य गुजरात में दलितों पर हमले के मुद्दे पर अपनी बात रख रहे थे तब राहुल गांधी झपकी लेते प्रतीत हुए. इसे लेकर भाजपा और बसपा ने कांग्रेस उपाध्यक्ष पर जमकर निशाना साधा.
     इस पर कांग्रेस ने इन खबरों को गलत बताते हुए पिछले वर्ष नवंबर की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की एक तस्वीर को भी पेश किया और दावा किया कि इसमें लग रहा है कि वह भी सदन में सो रहे थे.
    कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने राहुल का बचाव करते हुए कहा कि यह गलत कहानी गढ़कर मामले को हलका करने का प्रयास है. उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से गलत है और वह मोबाइल देख रहे थे जो कोई अपराध नहीं है.
     मालूम हो कि लोकसभा टीवी के प्रसारण में राहुल गांधी की आंखें बंद दिखीं और ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जब गुजरात में दलितों पर हमले के मुद्दे पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह जवाब दे रहे थे तब राहुल गांधी झपकी लेते प्रतीत हुए.
     भाजपा ने राहुल पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष की रूचि दलित पीड़ितों पर केवल राजनीति करने की है और उनके न्याय से कोई लेनादेना नहीं है. केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा, ‘‘इससे स्पष्ट होता है कि उनका दिल दलितों पीड़ितों को न्याय प्रदान करने में रूचि नहीं रखता और वह केवल राजनीति करना चाहते हैं. अगर उन्हें दलितों को न्याय दिलाने में वास्तव में रचि होती तो वह सो नहीं रहे होते.’’
      इस पर निशाना साधते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि यह प्रदर्शित करता है कि राहुल दलितों के प्रति कितने गंभीर हैं. उन्होंने कहा कि प्रचार किया जा रहा है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष गुजरात में घटनास्थल पर जायेंगे लेकिन सदन में इस मुद्दे पर चर्चा के दौरान वे सो रहे थे.
10:48:00 AM | 0 comments | Read More

मध्य प्रदेश के इंदौर में दो जगहों से एक क्विंटल भांग बरामद, महिलाएं चलाती थीं अवैध कारोबार

    मध्य प्रदेश के इंदौर में आबकारी विभाग ने दो जगहों पर छापा मारकर एक क्विंटल भांग बरामद की और इसके अवैध कारोबार के आरोप में दो महिलाओं को गिरफ्तार किया.
      आबकारी विभाग की उप निरीक्षक निधि शर्मा ने बताया कि नंदा नगर के दो घरों पर मारे गये छापे के दौरान गिरफ्तार आरोपियों की पहचान लक्ष्मी और सोनम के रूप में हुई है. दोनों महिलाएं एक दूसरे की नजदीकी रिश्तेदार हैं और इनकी उम्र 30 से 35 वर्ष के बीच है.
     उन्होंने बताया कि इनमें से एक महिला के घर से 30 किलोग्राम पिसी हुई गीली भांग बरामद की गयी, जबकि दूसरी महिला के घर से 70 किलोग्राम सूखी भांग बरामद की गयी. आबकारी अधिकारी ने कहा, ‘दोनों महिलाएं अपने घरों से भांग की गोलियां बेच रही थीं. हम उनसे विस्तृत पूछताछ कर रहे हैं.’
     उन्होंने बताया की मध्यप्रदेश में शराब के ठेकों की तरह नीलामी प्रक्रिया के तहत भांग की दुकानों का आवंटन किया जाता है. इन दुकानों के अलावा किसी अन्य स्थान पर भांग को बिक्री के लिये जमा करना और इसे बेचना आबकारी अधिनियम के तहत कानूनन अपराध है.



10:40:00 AM | 0 comments | Read More

गुजरात के उना पहुंचे राहुल गांधी, पीड़ित दलित युवकों के परिजनों से मिले

     कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को गुजरात के उना के मोटा समढियाला गांव पहुंचे. यहां उन्होंने पीड़ित दलित युवकों के परिजनों से मुलाकात की.
    गिर सोमनाथ जिले में ऊना कस्बे के एक गांव में दलितों को बर्बरता से पीटे जाने को लेकर गुजरात के कुछ हिस्सों में विरोध प्रदर्शन गुरुवार को भी जारी रहा. कई राजनीतिक नेताओं ने पीड़ितों और उनके परिजनों से मुलाकात की.
      कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पीड़ितों के परिजनों से मिलने ऊना के मोटा समढियाला गांव पहुंचे. इस दौरान उनके साथ कांग्रेस नेता कुमारी शैलजा भी थीं.
     पुलिस ने बताया कि राजकोट एवं मेहसाणा में बुधवार देर रात हिंसा की घटनाएं दर्ज की गईं और प्रदर्शनकारियों ने लिम्बडी और सूरत में मार्च निकाला.
      उन्होंने बताया कि राजकोट में बीआरटीएस बस अड्डे को क्षतिग्रस्त किया गया और मेहसाणा जिले के ऊंझा में एक सार्वजनिक परिवहन बस में बुधवार देर रात तोड़फोड़ की गई. हालांकि इस दौरान किसी को चोट नहीं पहुंची. छिटपुट घटनाओं को छोड़कर गुरुवार को अभी तक कोई बड़ी घटना दर्ज नहीं की गई.
अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शन के मद्देनजर बुधवार को निलंबित रहने वाली राज्य परिवहन बस सेवा गुरुवार को बहाल कर दी गई.
      दलित प्रदर्शनकारियों ने सूरत के ऊधना में एक रेलवे स्टेशन के निकट एक ट्रेन को कुछ देर के लिए रोकने की कोशिश की. हजारों प्रदर्शनकारियों ने रैली निकाली और कुछ देर के लिए अहमदाबाद आने वाली नवजीवन एक्सप्रेस का मार्ग बाधित कर दिया. बाद में पुलिस ने पटरियां खाली कराईं.
सुरेंद्रनगर जिले के लिम्बडी में भी एक रैली निकाली गई.
      दलितों द्वारा बुधवार को आहूत बंद के दौरान हुए नुकसान और जबरन दुकानें बंद कराए जाने के मद्देनजर अरावली जिले के मोडासा में गुरुवार को दुकानें बंद रहीं. पुलिस ने बताया कि बंद लागू कराने की कोशिश करते हुए कुछ दलितों ने बुधवार को कई दुकानों को क्षतिग्रस्त कर दिया था जिसके बाद दुकानदारों एवं प्रदर्शनकारियों दोनों के खिलाफ प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं.
      इस बीच, राकांपा नेता प्रफुल पटेल, गुजरात में उनकी पार्टी के विधायक, जयंत पटेल और कंधाल जडेजा ने पीड़ितों के परिजनों से मुलाकात की और दो लाख रुपए का मुआवजा देने का प्रस्ताव रखा. इसके बाद वे अस्पताल में भर्ती पीड़ितों से मिलने के लिए राजकोट रवाना हो गए.
     बाद में पटेल ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल को पीड़ितों तक पहुंचने में नौ दिन लग गए जो एक लंबा समय है. उन्होंने कहा, ‘‘जब पूरा राज्य जल रहा हो और लोगों के भीतर अविश्वास की भावना हो तो जन प्रतिनिधि होने के नाते, हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम पीड़ित परिवार के सदस्यों के प्रति सहानुभूति प्रकट करें और उन्हें अहसास कराएं कि हम मुश्किल के समय उनके साथ हैं.’’




10:38:00 AM | 0 comments | Read More

ABVP ने लड़कियों के दुपट्टे उतरवाए, विवाद गहराया

उन्होंने कहा कि धूल और धूप से बचने के लिए चेहरा ढंककर रखती हैं
     भोपाल।। प्रदूषण से अपने चेहरे को बचाने के लिए लड़कियां अक्सर दुपट्टे से अपना चेहरा छुपा लेतीं हैं परंतु टीकमगढ़ में ABVP के कार्यकर्ताओं ने दुर्गा वाहिनी की महिला कार्यकर्ताओं को साथ लेकर दुपट्टों के खिलाफ अभियान छेड़ दिया। एक्सीलेंस कॉलेज में उन्होंने कई लड़कियों के दुपट्टे उतरवाए। इसके बाद यह विवाद गहरा गया। युवक कांग्रेस ने इसे तालिबानी हरकत करार दिया है।
    टीकमगढ़ शहर के एक्सीलेंस कॉलेज में बुधवार 20 जुलाई 2016 को एबीवीपी और दुर्गा वाहिनी कार्यकर्ता पहुंचे। उन्होंने कॉलेज परिसर में छात्राओं के दुपट्टे से चेहरा ढंकने का विरोध किया। कॉलेज प्रबंधन से चर्चा की। इसके बाद छात्राओं के चेहरों से दुपट्टे निकलवा दिए गए। इस दौरान कॉलेज की कुछ छात्राओं ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि धूल और धूप से बचने के लिए चेहरा ढंककर रखती हैं लेकिन कॉलेज प्राचार्य डॉ. एनएम अवस्थी सहित किसी प्रोफेसर ने उनकी कार्रवाई का विरोध नहीं किया।
      एबीवीपी के जिला संयोजक प्रशांत शुक्ला ने बताया कि घर से कॉलेज तक चेहरा ढंककर आना ठीक है, लेकिन कॉलेज परिसर के भीतर चेहरा ढंकना गलत है। दुर्गा वाहिनी की प्रियंका ने लड़कियों को समझाइश देकर कहा कि छात्राओं को किसी से डरने की जरूरत नहीं है। अगर उन्हें छेड़छाड़ का डर है तो पुलिस की मदद लें। शिक्षण संस्थानों के भीतर चेहरा ढंककर रखने की जरूरत नहीं है।
     युवक कांग्रेस ने इस मामले की कड़ी निंदा करते हुए दोनों संगठनों पर बैन लगाने की मांग की है। युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने इसे तालिबानी मानसिकता करार देते हुए संगठन पर बैन लगाने की मांग की है। चौधरी ने कहा कि, ऐसे संगठन स्वयंभू सरकार की तरह काम कर रहे हैं। किसी की आजादी का हनन करने की अनुमति भारत का कानून नहीं देता।
10:35:00 AM | 0 comments | Read More

नालंदा जिले में एक घर पर लगाया गया कथित पाकिस्तानी झंडा जब्त

     बिहार में नालंदा जिला मुख्यालय बिहारशरीफ की खराडी कॉलोनी में एक घर पर पाकिस्तान के जैसा झंडा लगे होने की खबर से पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी हरकत में आ गए और कथित पाकिस्तानी झंडे को जब्त कर लिया.
     बिहारशरीफ की खराडी कॉलोनी निवासी अनवारुल हक के घर पर लगे पाकिस्तान के जैसे झंडे को एक निजी टीवी चैनल द्वारा दिखाए जाने पर अनुमंडल अधिकारी सुधीर कुमार और पुलिस उपाधीक्षक सैफुर्रहमान गुरुवार को मौके पर पहुंचे और उक्त झंडे को जब्त कर लिया.
    परिस्थिति को भांपते हुए हक के परिजनों ने अधिकारियों के पहुंचने से पहले ही उक्त झंडे को उतार लिया था. अधिकारी इस झंडे को अपने साथ ले गए. अनुमंडल अधिकारी सुधीर कुमार ने कहा कि इस बारे में जांच की जा रही है कि उक्त झंडा पाकिस्तान का झंडा है या नहीं और इसे घर के ऊपर किसलिए लगाया गया था.
     हक समारोह आयोजन के लिए टेंट, फर्नीचर और अन्य सामग्री आपूर्ति करने का काम करता है. उसकी बेटी शबाना अनवर ने पीटीआई-भाषा से कहा कि वह मुहर्रम को लेकर पिछले पांच साल से अपने घर पर झंडा लगाते रहे हैं. उल्लेखनीय है कि नालंदा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह जिला है.




10:25:00 AM | 0 comments | Read More

हाई-प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, बुजुर्ग गिरफ्तार



     दिल्ली पुलिस ने एक बार फिर हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है. दक्षिण दिल्ली के सफदरजंग इलाके में पुलिस ने इस सेक्स रैकेट को पकड़ा है.
     पुलिस ने सेक्स रैकेट चलाने के आरोप में 63 साल के पी एन सान्याल को गिरफ्तार किया है, जिसे इन्कम टैक्स विभाग की रेड के बाद शक के आधार पर पुलिस को हैंड ओवर किया गया. ये रेड सेक्शन 132 ऑफ इनकम टैक्स एक्ट के तहत की गई थी. सान्याल प्राइवेट एक्सपोर्ट इम्पोर्ट में काम करता था. ये रेड आय से अधिक संपत्ति के चलते हुई थी.
    सफदरजंग एन्क्लेव के घर के अलावा वसंतकुंज में और लखनऊ में एक ठिकाने पर रेड हुई थी. रेड के दौरान इनके घर से एक विदेशी लड़की भी मिली जो खुद को बेकसूर बता रही थी. इंकमटैक्स वालों को ये मामला सैक्स रैकेट से जुड़ा लगा तो केस स्थानीय पुलिस को हैंड ओवर किया गया.
     ऐसा अंदेशा है कि सान्याल विदेशी लड़कियां वीआईपी नेताओं को और सेना के बड़े अधिकारियों को सप्लाई करता था. करीब दर्जन भर से ज्यादा वीआईपी मोबाइल और लैंड लाइन नंबर मिले हैं, जिनके ये संपर्क में था. ये डिटेल्स वैरिफाई की जा रही हैं.
     सान्याल ने नरेश अग्रलवाल सांसद का नाम लेकर फोन किया था. इसके पास से जगदम्बिका पाल का लैटर हैड घर से मिला है, वह असली है या नकली इसकी जांच चल रही है. लैटरहेड पर उनके नाम के सिग्नेचर हैं जिसे वैरिफाई कराया जाना बाकी है.
     सान्याल के घर में मिली रशियन लड़की मिली फरवरी में बाहर से आई थी. वह सान्याल से आर्मी से रिटायर एक कर्नल अजय अहलावत के जरिए मिली थी. लड़की के मुताबिक, वह यहां जबरन रखी गई थी. उसके ट्रैवल डॉक्यूमेंट इन लोगों ने रखे हुए थे. रेड के दौरान परेशान होकर उसने दोनों हाथ की नसें भी काट ली थीं जिसका इलाज कराया गया.
     वहीं सान्याल के घर से कई विदेशी लड़कियों के पासपोर्ट मिले हैं, जिसे देख के अंदेशा लगाया जा रहा है कि ये बहुत बड़ा रैकेट हो सकता है. पुलिस अधिकारियों का दावा है कि सान्याल को रिमांड पर लिया है और उसके वाट्सऐप मैसेज और फोन चैक किए जा रहे हैं, जिसके लिए एक स्पेशल टीम बुलाई गई है.
     सान्याल लखनऊ का रहने वाला है. तीन साल पहले वह इस इस फ्लैट में रहने आया था. सान्याल ने खुद को एक्सपोर्ट इम्पोर्ट में कन्सलटेन्ट बताया लेकिन कोई डॉक्यूमेंट नहीं दे पाए है. वहीं इसके साथी कर्नल से पूछताछ चल रही है. कर्नल पर पहले से तीन केस चल रहे है, जो चीटिंग के केस हैं.
10:23:00 AM | 0 comments | Read More

"भारतीय सेना" को दुनिया की सबसे "खुंखार" सेना बनाने की दिशा में मिशन शुरु हो चूका है

Written By News Today Time on Thursday, July 21, 2016 | 7:11:00 PM


पैलट गन ... जरुरी जानकारी

1. पेलेट गन से तेज़ गति से छोटे लोहे के बॉल फायर किए जाते हैं और एक कारतूस में 500 तक ऐसे लोहे के बॉल हो सकते हैं।
2. फायर करने के बाद कारतूस हवा में फूटते हैं और छर्रे एक जगह से चारों दिशाओं में जाते हैं.

3. पैलट गन इसराइल से आयातित है। एक पैलट गन की कीमत लगभग 1.5 लाख रुपये है।

4. इसको भारतीयों के हिस्से वाले 15 - 15 लाख रुपयों की मदद से इजराइल से मंगाया गया है।
5. इसके छर्रे "सुवर" की "चर्बी" में लपेटकर सुखाये जाते हैं ताकि देशद्रोही आतंकियों जन्नती हुर्रें प्राप्त न कर पायें

6. पेलेट गन- मारती नहीं, 'ज़िंदा लाश' बना देती है.. घायल को इलाज के लिए कश्मीर के बाहर ले जाना पड़ता है. आंखों की रौशनी वापिस आना लगभग मुमकिन नहीं होता.. भारी कीमत चुकानी पडती है.
     जिनको झुठ लग रहा हो उनका कोइ इलाज नहीं है, लेकिन हकीकत ये है कि ये पेलेट गन की खातिरदारी से 620 लोग अंधे हो चूके है और 3600+ लोग इस तरह घायल "छेदिया" बन गए है कि वो अब आतंकी "गिलानी" की पथ्थर फेंकने की 40,000 रु कि ओफर स्वीकार करने को तैयार नहीं है.. जो पहले सिर्फ 500 रु लेकर पथ्थर फेंका करते थे... (Info coming from RAW agents)
      वैसे पर्रिकर, मोदी, अजीत डॉवल अपनी स्टाईल में देशद्रोहीयों की खातिरदारी कर रहे है ... इससे अगर कई लोगो के पिछवाडे जलन होती हो ... तो याद रहें .. जलन और ज्यादा बढने वाली है.. "भारतीय सेना" को दुनिया की सबसे "खुंखार" सेना बनाने की दिशा में मिशन शुरु हो चूका है।





7:11:00 PM | 0 comments | Read More

विदेशों में डॉलर में बिक रहा निम का दातुन और भारतीय भाग रहे है ब्रांड के पीछे !




     लखनऊ।। हाल ही में हल्दी की काफी के विदेशों में बिकने की खबर ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं। इस कड़ी में अब नीम का दातून भी शामिल हो गया है। देश में चौराहों, रेलवे स्टेशनों के किनारे दस रुपए के तीन बिकने वाले दातून विदेश में 668 रुपए के 6 बिक रहे हैं। ये खबरें इस ओर भी इशारा करती हैं कि कैसे भारत को अपनी प्राकृतिक चिकित्सीय पद्धतियों के व्यावसायिकरण के अधिकारों को बचाने के लिए जल्दी चेतने की ज़रूरत है।
     स्वदेशी प्रचारक राजीव दीक्षित जी के विचारों को इन्टरनेट पर फैलाने वाले हरियाणा के Rinku Kaushik ने facebook पर लिखा “अमेरिका के मॉल में नीम के दातुन बिक रहे है डॉलर में और भारत के पढ़े लिखे मूर्ख लोग स्मार्ट बनने के चक्कर मे कोलगेट, क्लोजप इस्तेमाल करके Sodium Lauryl Sulphate एवम् Flouride जैसे प्राणघातक कैमिकलों का शिकार होते जा रहे हैं और ऐसा ये सब इसलिए करते हैं क्योंकि टेलीविजीन उन्हें बताता है… धिक्कार है !” देश के जाने माने कृषि एवं खाद्य नीति विश्लेषक देविंदर शर्मा ने नीम के दातून के बारे में दुनिया की सबसे मशहूर माइक्रो ब्लागिंग साइट्स में से एक ट्वीटर पर लिखा, “अजीब प्रथा है। भारतीय लोगों ने नीम की दातून इस्तेमाल करना बंद करके उसे कोलगेट से रिप्लेस कर दिया। पश्चिम को ये (दातून) काम का लगा।”
       ट्विटर पर साझा हो रही तस्वीरों में छह दातूनों की एक पैकिंग की कीमत लगभग सात डालर यानि छह सौ रुपए से भी ज्यादा दिखाई पड़ रही है। यही नहीं इंटर पर सर्च करने से कई आनलाइन स्टोर भी मिलते हैं जो विदेशों में दातून बेच रहे हैं।


     “नीम के दातून में अज़ाडेरेक्टिन (Azadirachtin) नामक प्राकृतिक रासायनिक तत्व होता है, जिसके जीवाणुओं से लड़ने की क्षमता को चिकित्सा जगत ने भी माना है। मुंह में खाने के अवशेषों के कारण सबसे ज्यादा कीटाणु पनपते हैं जो मसूड़ों और दातों से संबंधित तमाम बीमारियों का कारण बनते हैं, नीम का दातून इन सब से निपटने में कारगर है। पश्चिमी देशों ने यह बात समझ ली है” वनस्पति वैज्ञानिक डॉ दीपक आचार्य ने बताया।
    डॉ आचार्य, अभुमका प्राइवेट लि. नामक एक ऐसी कंपनी के डायरेक्टर हैं जो आयुर्वेदिक के साथ-साथ आदिवासी चिकित्सकीय ज्ञान को दवाईयों के रूप में भारतीय बाजार तक ला रहे हैं।
      हाल ही में ये खबर भी आई थी कि कैसे आस्ट्रेलिया से लेकर अमेरिका तक, विदेशों में हल्दी, बादाम, काजू और नारियल से बना पेय मशहूर हो रहा है। विदेशी लोग इसे काफी का विकल्प मानकर पीते हैं। इसके बाद भारत के प्रबुद्ध लोगों में पारंपरिक ज्ञान को बचाने की चर्चा शुरू हुई थी।

     दातून के बारे में डॉक्टर सुमन सहाय ने ट्वीट किया, “पहले हल्दी की काफी अब नीम दातून। पश्चिम देशों की भारत के बारे में खोज जारी है।”
    हाल के समय में ऐसे कई उदाहरण देखने को मिलते हैं जहां भारत के पारंपरिक ज्ञान का दूसरे देशों ने व्यावसायिकरण कर दिया हो। इस बारे में डॉ दीपक आचार्य ने कहा, “कोई बड़ी बात नहीं कि आने वाले समय में कोई बाहरी देश नीम की दातून का पेटेंट करा ले और तब हम जागें। विदेशी अब प्राकृतिक चिकित्सीय पद्धति की उपयोगिता को समझ रहे हैं पर हम नज़रअंदाज़ करते जाते हैं, ये दिक्कत है।”
5:30:00 PM | 0 comments | Read More

नेताओं के बिगड़े बोले- ठुमके लगाने वाली से लेकर टंच माल तक

     यूपी बीजेपी के एक नेता के बयाने से देश की सियासत में उबाल है। दयाशंकर सिंह की मायावती पर की गई भद्दी टिप्पणी को राजनीतिक के गिरते स्तर का एक और नमूना कहा जा रहा है। हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। एक नजर कुछ नेताओं के ऊंटपटांग बयानों पर -
>> दिसंबर 2012 में जब गुजरात विधानसभा के चुनाव नतीजे आए थे, तब कांग्रेस के पूर्व सांसद संजय निरूपम ने स्मृति ईरानी को ठुमके वाली कह डाला था। निरूपम ने कहा था- आप तो टीवी पर ठुमके लगाती थीं और आज चुनावी विश्लेषक बन गई हैं।
>> कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह अपनी ही पार्टी की तत्कालीन सांसद मीनाक्षी नटराजन (मंदसौर) को सौ टंच माल करार दिया था।
>> वर्तमान में केंद्रीय मंत्री और पूर्व सेना प्रमुख वीके सिंह ने मीडिया को presstitutes कह कब संबोधित किया था।
>> दिल्ली से भाजपा विधायक ओपी शर्मा ने सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की विधायक अल्का लांबा को रात में घुमने वाली करार दिया था। (निमिषा की मां ने कहा, मेरी बेटी को जबरन कबूल करवाया इस्लाम)
>> 2015 में जदयू नेता शरद यादव ने राज्यसभा में दक्षिण भारतीय महिलाओं पर अजीब टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था, दक्षिण भारत की महिलाएं दिखने में काली होती हैं, लेकिन उनका शरीर सुंदर होता है। ऐसा यहां नजर नहीं आता।
>> 2014 में मुंबई के शक्ति मील में दो महिलाओं से गैंग रेप में कोर्ट के फैसले पर मुलायम सिंह यादव यह कह बैठे थे कि लड़के तो लड़के हैं। गलतियां करेंगे ही। जब भी दोस्ती खत्म होती है, लड़की के लिए लड़का रेपिस्ट बन जाता है।
>> राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी का यह बयान भी खासा विवादों में रहा, जिसमें उन्होंने निर्भया गेंगरेप कांड के दौरान कहा था कि जो लड़कियां यहां हाथों में मोमबत्तियां लेकर प्रदर्शन कर रही हैं, वो रात में डिस्को जाती हैं।
4:48:00 PM | 0 comments | Read More

जानवरों के साथ ज़िहाद : कब्रिस्तान में युवकों ने तीन पिल्लों को जिंदा जलाया

    दिल दहला देने वाली एक घटना में युवकों के एक समूह ने तीन पिल्लों को कथित तौर पर जिंदा जला दिया और एक युवक ने इस कुकृत्य की वीडियो बनाई. 
     कुत्तों के पिल्लों पर यह दर्दनाक हमला 16 जुलाई की दोपहर हैदराबाद के मुशीराबाद इलाके में एक कब्रिस्तान में किया गया और इस घटना का वीडियो कल सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मामला प्रकाश में आया.
    पशु अधिकारों के लिए आवाज उठाने वाली श्रेया परोपकारी ने मुशीराबाद पुलिस में कल एक शिकायत दर्ज कराई जिसमें कहा गया कि युवकों के एक समूह ने आवारा कुत्तों के तीन पिल्लों को पकड़कर उन्हें एक साथ बांध दिया और उन्हें कुछ दूरी तक घसीटकर ले गए और जूट के थैले और सूखी घास में आग लगाकर उन्हें उस आग में जिंदा जला दिया.
    शिकायत में कहा गया, 'समूह के एक लड़के ने पूरी घटना की वीडियो बनाई और उसे अन्य युवकों को पिल्लों को आग में जलाने के लिए निर्देश देते और उकसाते सुना गया. ये रिकार्डिंग मुशीराबाद में मछली बेचने वाले एक दुकानदार के पास से बरामद की गई.'
     उप निरीक्षक बी. भास्कर राव ने कहा कि इस शिकायत के बाद आईपीसी की धारा 429 और पशुओं के साथ क्रूरता रोधी कानून की संबद्ध धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और इस घटना में शामिल लोगों को पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं.


10:43:00 AM | 0 comments | Read More

महिला के साथ दुर्व्यवहार करने को उकसाने के लिए सोमनाथ भारती के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

     आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती के खिलाफ एक महिला के साथ दुर्व्यवहार करने के लिए तीन लोगों को उकसाने का मामला दर्ज किया गया है.
     पुलिस ने बुधवार को बताया कि ईद मिलन समारोह के दौरान महिला के साथ यह घटना हुई, समारोह में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी मौजूद थे.
     गैर सरकारी संगठन के लिए काम करने वाली इस शिकायतकर्ता ने पुलिस को बताया कि वह समारोह में मुख्यमंत्री से मिलने गयी थी, जहां कुछ पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोका.
     पुलिस के अनुसार, तभी तीन लोग वहां आए, अचानक उनके साथ धक्का-मुक्की करने लगे और पीछे धकेलने के दौरान उन्हें गलत तरीके से छुआ. महिला का आरोप है कि उन्होंने उसे धमकी दी और गालियां भी दीं. महिला का आरोप है कि उसने सोमनाथ भारती को तीनों पुरूषों को ऐसा करने का निर्देश देते हुए देखा.
    मालवीय नगर से विधायक सोमनाथ भारती ने आरोप लगाया है कि शिकायतकर्ता महिला और उसके सहयोगियों ने आठ जुलाई को आयोजित समारोह के दौरान मुख्यमंत्री के सुरक्षा घेरे को तोड़ने का प्रयास किया. और उनके खिलाफ लगे सभी आरोप आधारहीन हैं.
     उन्होंने कहा, 'लड़कियों ने मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा तोड़ने का प्रयास किया, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें रोका. मेरे खिलाफ लगे आरोप आधारहीन हैं और भाजपा के कहने पर लगाए गए हैं. भाजपा देश में हुए हालिया घटनाक्रमों से बौखलायी हुई है.'
    पुलिस ने कहा, महिला के साथ कथित रूप से दुर्व्यवहार करने के आरोप में तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पुलिस ने पहले तीनों लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था. बाद में सोमनाथ भारती के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 109 (अपराध के लिए उकसाने) के तहत मामला दर्ज किया गया.


10:40:00 AM | 0 comments | Read More

कॉलेज का पहला दिन : नए विद्यार्थियों का हुआ फूलों से स्वागत




     दिल्ली विश्वविद्यालय सम्बद्ध कॉलेजों में बुधवार को सेशन के पहले दिन नए विद्यार्थियों का स्वागत फूलो से हुआ.
     उनके माथे पर टीका लगाया गया. साथ ही मुंह मीठा करने के लिए मिश्री, चाकलेट तो कहीं मिठाई खिलाई गई. कॉलेज में पहले दिन विद्यार्थी फैशनेबल परिधानों में पहुंचे थे.
     हालांकि पहले दिन फ्रेशर्स की ज्यादा भीड़ नहीं दिखी. कॉलेजों में पहले दिन ओरियंटेशन और सीनियर्स के साथ नए विद्यार्थियों का इंट्रोडक्शन हुआ. दूसरी ओर कॉलेज में पांचवीं कटऑफ लिस्ट के साथ दाखिले भी चलते रहे.
      डीयू में बुधवार से कॉलेजों में नया सेशन 2016-17 शुरू हो गया. पहले दिन नए विद्यार्थी अपने अभिभावकों के साथ कॉलेज पहुंचे. पहले दिन एबीवीपी व एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने नए विद्यार्थियों का कॉलेज के गेट पर ही स्वागत किया. रैगिंग न हो, इसके लिए पुलिस व डीयू की टीम लगातार कॉलेजों में दौरे पर रही.
    पहले दिन ओरियंटेशन कार्यक्रम में विद्यार्थियों को कॉलेज के नियम कायदे व परिचय दिए गए. रामजस कॉलेज में पहले दिन विद्यार्थियों को पुलिस आयुक्त आलोक कुमार वर्मा ने संबोधित किया. उन्होंने नये विद्यार्थियों से कहा कि वह अब स्कूलों के नियमों से बाहर निकलकर स्वतंत्रता का अनुभव करेंगे. वर्मा विद्यार्थियों से कॉलेज से ज्यादा से ज्यादा सीखकर समाज के भले के लिए कार्य करने के लिए प्रेरित किया.
     इस मौके कर कॉलेज की प्रबंध समिति के चेयरमैन अनिल कुमार अग्रवाल व प्रधानाचार्य डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने भी नए विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन किया. इस मौके पर नये फिल्मी गानों की धमाकेदार प्रस्तुति पर सभी झूम उठे. उधर, लक्ष्मीबाई कॉलेज, आईपी कॉलेज, रामलाल आनंद कॉलेज आदि कॉलेजों में ओरियंटेशन कार्यक्रम हुए.


10:37:00 AM | 0 comments | Read More

अब भारत में किराए पर मिलेगी बीवियां, पति, बच्चे और अंडरगारमेंट्स


    नई दिल्ली।। लोग अकसर किराए पर गाड़ियां, घर और टीवी जैसी चीजों को ही लेते आए हैं। किसी ने उमीद भी की होगी कि अब बच्चें, पति, पत्नी और अंडरगारमेंट्स भी किराए पर मिलेंगे। जी हां चौंकिए मत।
    आपको यह बात जानकर खुशी होगी कि आप अब पति, पत्नि, बच्चे और अंडरगारमेंट्स किराए पर पा सकेंगे। वो भी बड़े आराम से। जी हां, आप ये जानकार फुले नहीं समाएंगे कि भारत में जल्द ही एक ऐसी वेबसाईट शुरू होने जा रही है, जहां आपके मतलब की सारी चीजे किराए पर उपलब्ध होगी। वो भी किफायती दामो पर।
      मान लीजिए कि आप ने शादी नहीं की है पर आप अपना कुछ समय किसी ऐसी महिला के साथ बिताना चाहते है, जो आपके साथ पत्नि की तरह पेश आए। वो महिला आपके साथ बिलकुल उस तरह बर्ताव करे जैसा कि पत्नियां पेश आती है।
    यकीन मानिए, आपकी ये मनोकामना पुरी हो सकती है वो भी बेहद जल्द। बतादे कि पिछले 7 सालो से जापान ये वेबसाइट इस तरह की अनोखी सेवाएं प्रदान कर रही है और अब अपनी एक शाखा भारत में भी लॉन्च करने के प्रयास में है। जापान में ये http://www.rent-a-wife-ottawa.com/ के नाम सेवाएं दी जा रही है।
     इस वेबसाइट में सिर्फ बीवी ही नहीं बल्कि प्रेमिका, माता-पिता, बच्चे जैसे वो सभी रिश्ते किराए पर मिलेंगे जो आपकी मुलभुत ज़रूरत है। मज़े की बात तो ये है कि आप अंडरगारमेंट्स भी इस वेबसाइट से किराए पर ले सकते है, बस कुछ रुपए डिपोजिट के तौर पर रखने पड़ेंगे।
    इस वेबसाइट ने ये दावा किया है कि किराए पर बीवी तो मिलेगी पर अश्लीलता जैसी गंदगी इनके वेबसाइट से कोसो दूर है। इस वेबसाइट का मकसद सिर्फ ऐसे लोगो का ख्याल रखना है जिन्हें कुछ समय के लिए ही रिश्तो की ज़रूरत है। ये रिश्ते किराये पर देनेवाली वेबसाइट उन लोगो के लिए खासतौर पर बनाई गई है जिन्हें रिश्तो से एलर्जी है. जिन्हें रिश्ते सिर्फ नाममात्र ही चाहिए। खैर इन वेबसाइट को देखकर ये समझा जा सकता है कि सच में दुनिया बड़ी आगे निकल चुकी है।
10:34:00 AM | 0 comments | Read More

जनसुरक्षा की दृष्टि से लॉन्च की गई "निडर"

Written By News Today Time on Wednesday, July 20, 2016 | 9:32:00 PM



    आपको बता दें कि 'निडर' का वजन मात्र 250 ग्राम है, जो कि महिलाओं के लिए बनी रिवॉल्वर 'निर्भीक' से आधा है. राइफल फैक्ट्री के अधिकारी के मुताबिक, 'निडर' को इसलिए तैयार किया गया है, जिससे कामकाजी पुरुष और महिलाएं खुद को रास्ते में होने वाली किसी वारदात से बचा सकें.
   22 बोर कैलिबर वाली 'निडर' रिवॉल्वर को कोई भी व्यक्ति जिसके पास लाइसेंस हो, खरीद सकता है. और तो और इसकी कीमत .32 बोर वाली 'निर्भीक' से एक तिहाई कम है. 'निर्भीक' की कीमत 1.22 लाख है जबकि 'निडर' की कीमत मात्र 35 हजार है. 
    सबसे खास बात यह है कि यह राइफल एक राउंड में आठ फायर कर सकती है जबकि 'निर्भीक' की क्षमता मात्र छह गोलियों की है. 'निडर' को आसानी से पर्स, हैंडबैग या पैंट और जैकेट की पॉकेट में रखा जा सकता है.
9:32:00 PM | 0 comments | Read More

Npt पर दस्तखत नहीं करेगा भारत, एनएसजी में चीन ने खड़ी की प्रक्रियागत बाधाएं

    सुषमा स्वराज ने साफ कहा है कि भारत एनपीटी पर दस्तखत नहीं करेगा और एनएसजी में चीन ने प्रक्रियागत बाधाएं खड़ी की.
      परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) की सदस्यता के भारत के प्रयासों में चीन द्वारा प्रक्रियागत बाधाएं खड़ी करने की बात को स्वीकार करते हुए सरकार ने बुधवार को कहा कि वह चीन के साथ मतभेदों को दूर करने का प्रयास कर रही है. साथ ही उसने स्पष्ट किया कि भारत परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर कभी हस्ताक्षर नहीं करेगा, हालांकि वह निरस्त्रीकरण के लिए प्रतिबद्ध है.
      लोकसभा में बुधवार को सुप्रिया सुले, सौगत बोस के पूरक प्रश्न के उत्तर में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा ‘‘मैंने पहले भी कहा था, आज भी कह रही हूं, सदन में कह रही हूं कि चीन ने प्रक्रियागत विषयों को उठाया था. चीन ने कहा था कि एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं करने वाला देश एनएसजी का सदस्य कैसे बन सकता है. इस तरह से चीन ने प्रक्रियागत बाधा खड़ी की.’’
     चीन के बहाने कांग्रेस को घेरे में लेते हुए सुषमा ने कहा कि एक बार कोई नहीं माने तो हम यह नहीं कह सकते कि वह कभी नहीं मानेगा. ‘‘हमारे कांग्रेस के मित्र जीएसटी पर नहीं मान रहे हैं. अन्य सभी दल मान गए हैं. केवल कांग्रेस नहीं मान रही है. हम मनाने में लगे हैं.’’
    विदेश मंत्री ने कहा कि लेकिन वह (कांग्रेस) एक बार नहीं माने तो क्या हम यह कहें कि वे कभी नहीं मानेंगे. हम मनाने में लगे हैं, हो सकता है कि जीएसटी इसी सत्र में पास हो जाए. सुषमा स्वराज ने कहा कि 2008 में असैन्य परमाणु संबंधी जो छूट हमें मिली थी, उसमें एनपीटी का सदस्य बने बिना ही इसे आगे बढ़ाने की बात कही गई थी.
     उन्होंने स्पष्ट किया, ‘‘हम एनपीटी पर कभी हस्ताक्षर नहीं करेंगे. लेकिन इसके लिए हमारी पूर्ण प्रतिबद्धता है. हम इसके लिए पूर्व की सरकार को भी श्रेय देते हैं. 2008 के बाद से छह वर्ष इस प्रतिबद्धता को पूर्व की सरकार ने पूरा किया और इसके बाद वर्तमान सरकार इस प्रतिबद्धता को पूरा कर रही है.’’  विदेश मंत्री ने कहा कि एनएसजी की सदस्यता के लिए भारत ने आधा अधूरा नहीं बल्कि भरपूर प्रयास किया.
    सुषमा ने कहा कि एनएसजी की सदस्यता के प्रयास में भारत को सफलता नहीं मिलने को कूटनीतिक विफलता नहीं माना जा सकता. यह सही नहीं है. उन्होंने कहा कि पहले यह कहा जाता था कि क्या भारत एनएसजी का सदस्य बन पायेगा और अब यह पूछा जाने लगा है कि भारत एनएसजी का सदस्य कब तक बनेगा.
    विदेश मंत्री कहा कि एक बार सफलता नहीं मिले तो इसे कूटनीतिक विफलता नहीं बल्कि आगे सफलता का रास्ता माना जाता है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2008 में जो छूट मिली थी, उसके माध्यम से हम बरामदे तक पहुंच गए और सदस्य बनने पर हम कमरे में पहुंच जाते. जब आप कमरे से बाहर रहते हैं तब आप अपने हितों की रक्षा नहीं कर सकते.
    सुषमा ने कहा कि एनएसजी का सदस्य बने बिना संवेदनशील प्रौद्योगिकी हस्तांतरण नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि अभी हम नियमों का अनुपालन करने वाले (रूल टेकर) हैं, नियम बनाने वाले (रूल मेकर) नहीं.
    उन्होंने कहा कि हमने एनसीजी की सदस्यता के संबंध में कोई हाइप नहीं बनाया. 12 मई 2016 को आवेदन करने के बाद हमने भरपूर प्रयास किया. आधा अधूरा प्रयास नहीं किया बल्कि लक्ष्य साधने के लिए पूरा प्रयास किया.


9:28:00 PM | 0 comments | Read More

छेड़छाड़ से परेशान आप कार्यकर्ता ने की खुदकुशी, जांच के आदेश

     दिल्ली सरकार ने बाहरी दिल्ली के नरेला इलाके में आम आदमी पार्टी की एक महिला कार्यकर्ता की कथित खुदकुशी के मामले में बुधवार को मजिस्ट्रेट जांच का आदेश दिया.
     उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उत्तर दिल्ली के जिला मजिस्ट्रेट को मामले की जांच करने का आदेश दिया है.
     महिला के परिवार के सदस्यों ने दावा किया है कि उसके साथ कथित तौर पर छेड़छाड़ करने वाले को जमानत पर रिहा किये जाने से वह अवसाद में थी. कथित आरोपी पार्टी का कार्यकर्ता था.
    सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘नरेला में आप कार्यकर्ता की खुदकुशी के मामले में मजिस्ट्रेट जांच का आदेश दिया गया है. उत्तरी जिले के डीएम जांच करेंगे’. पुलिस ने बताया कि महिला ने नरेला के अपने घर में जहरीला पदार्थ खा लिया और एलएनजेपी अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी.
     एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि महिला ने जून में पार्टी कार्यकर्ता रमेश वाधवा के खिलाफ छेड़छाड़ की शिकायत दर्ज कराई थी और आरोपी को गिरफ्तार किया गया था. महिला के परिवार के सदस्यों ने पुलिस को बताया कि आरोपी को जमानत मिलने के बाद वह अवसाद में चली गयी थी. उसने आरोप लगाया था कि स्थानीय विधायक उसे संरक्षण दे रहे हैं.
     दिल्ली भाजपा ने आरोप लगाया था कि आप नेताओं ने उसके ‘उत्पीड़न’ की शिकायत को नजरअंदाज किया. दिल्ली भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने मंगलवार को एक बयान में कहा, ‘उल्लेखनीय है कि लड़की कई महीने से अपने उत्पीड़न का मुद्दा उठा रही थी लेकिन आप नेताओं ने इसे दरकिनार किया. यह घटना आप सरकार के महिला विरोधी चरित्र को दर्शाती है’.
     उन्होंने आरोप लगाया था, ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्थानीय विधायक शरद चौहान उसकी मौत के जिम्मेदार हैं’. आप ने आरोपों को खारिज किया और आरोप लगाया कि भाजपा उसकी मौत पर राजनीति कर कर रही है.
      आप के प्रवक्ता दीपक वाजपेयी ने कहा था, ‘किसी भी शिकायत में विधायक के नाम का उल्लेख नहीं किया गया है. जिस व्यक्ति पर महिला को परेशान करने का आरोप है, उसका पार्टी से कोई लेना..देना नहीं है. भाजपा को इतना नीचे नहीं गिरना चाहिए और एक गरीब लड़की की मौत पर राजनीति नहीं करनी चाहिए. हम आरोपी के खिलाफ कार्रवाई भी चाहते हैं’.


9:20:00 PM | 0 comments | Read More

15 साल से अधिक पुराने डीजल वाहनों के लिए कोई अनापत्ति प्रमाणपत्र नहीं : एनजीटी

    राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने बुधवार को कहा कि दिल्ली में 15 साल से अधिक पुराने डीजल वाहनों का पंजीकरण रद्द किया जाए और इनको दिल्ली-एनसीआर से बाहर चलने के लिए अनापत्ति प्रमाणपत्र नहीं मिलेगा.
      अधिकरण ने कहा कि 15 साल से कम पुराने डीजल वाहनों का पंजीकरण रद्द होने के बाद दिल्ली-एनसीआर से बाहर कुछ चुनिंदा इलाकों में चलने के लिए अनापत्ति प्रमाणपत्र मिलेगा और इस संदर्भ में फैसला उन राज्यों को करना है जहां वाहनों की संख्या कम होगी.
    न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, '15 साल से ज्यादा पुराने सभी डीजल वाहन, जो बीएस-1, बीएस-2 हैं उनको हटाया जाएगा और कोई अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी नहीं होगा.' पीठ ने अपने उस पहले के आदेश को स्पष्ट किया जिसमें उसने दिल्ली सरकार को आदेश दिया था कि वह शहर में चलने वाले 10 साल से ज्यादा पुराने सभी डीजल वाहनों का पंजीकरण रद्द करे.
     इस पीठ ने कहा, 'हम यह स्पष्ट करते हैं कि डीजल वाहनों का पंजीकरण रद्द करने का काम बिना किसी दिक्कत के प्रभावी ढंग से होना चाहिए. बहरहाल, पंजीकरण अधिकारियों को निर्देश दिया जाता है कि प्रक्रिया की शुरूआत सबसे पुराने वाहनों से होनी चाहिए. 15 साल से अधिक पुराने वाहनों का पंजीकरण पहले रद्द होना चाहिए.'
     एनजीटी पीठ ने यह भी स्पष्ट किया कि 15 साल से कम पुराने वाहनों का पंजीकरण रद्द होने के बाद उनको दिल्ली-एनसीआर में चलने की इजाजत नहीं होगी और अधिकारी उनको अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी करेंगे ताकि वे ऐसे किन्हीं दूसरे स्थानों पर पंजीकृत हो सकें जहां वाहनों की संख्या कम है.
   एनजीटी ने राज्यों से कहा कि वे ऐसे इलाकों की पहचान करें जहां खुली हवा हो और वाहनों की संख्या कम हो. पीठ ने कहा कि दिल्ली के क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी उन्हीं इलाकों के लिए अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी करें जिनकी पहचान राज्यों द्वारा की जाए.
    हरित अधिकरण की पीठ ने भारी उद्योग मंत्रालय से कहा कि वह वाहनों को हटाने और ऐसी नीति का अनुसरण करने वालों को प्रदान किए जाने वाले लाभ के संदर्भ में पैनल के विचारों का संज्ञान ले. उसने दिल्ली सरकार से भी कहा कि वाहनों की पहचान के संदर्भ में जवाब दे.
    दिल्ली विकास प्राधिकरण से पीठ ने कहा कि वह पंजीकरण रद्द होने के बाद वाहनों को खड़ा करने के लिए दिल्ली परिवहन निगम और दिल्ली यातायात पुलिस को स्थान मुहैया कराए. एनजीटी ने दिल्ली सरकार से कहा कि वह सार्वजनिक यातायात व्यवस्था को सुधारने और मजबूत बनाने तथा सीएनजी, हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक बसों को लाने के लिए तत्काल कदम उठाए.
    बीते 18 जुलाई को एनजीटी ने दिल्ली सरकार को आदेश दिया था कि 10 साल से अधिक समय से शहर में चल रहे सभी डीजल वाहनों का पंजीकरण रद्द किया जाए. पीठ ने दिल्ली के परिवहन विभाग को निर्देश दिया था कि पंजीकरण रद्द होने के बाद इस संदर्भ में वह सार्वजनिक सूचना जारी करेगी और ऐसे वाहनों की सूची दिल्ली यातायात पुलिस को सौंपेगी ताकि अधिकरण के आदेश के अनुपालन के लिए उचित कदम उठाया जा सके.


9:18:00 PM | 0 comments | Read More

राजीव गांधी हत्याकांड की दोषी नलिनी की याचिका पर सुनवाई से मद्रास हाई कोर्ट का इनकार



    मद्रास हाई कोर्ट ने राजीव गांधी की हत्या के मामले की दोषी नलिनी श्रीहरन की समय पूर्व रिहाई संबंधी याचिका पर सुनवाई करने से बुधवार को इनकार कर दिया.
    कोर्ट कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के समक्ष एक संबंधित मामला लंबित होने के मद्देनजर उसकी याचिका पर सुनवाई नहीं कर सकता.
      न्यायमूर्ति एम सत्यनारायण ने यह स्पष्ट किया कि आजीवन कारावास की सजा भुगत रही नलिनी के आग्रह पर तब तक विचार नहीं किया जा सकता, जब तक सुप्रीम कोर्ट के समक्ष मौजूद मामले पर फैसला नहीं हो जाता.
     नलिनी ने याचिका में तमिलनाडु सरकार को संविधान के अनुच्छेद 161 के तहत समय पूर्व रिहाई की उसकी याचिका पर विचार करने का निर्देश दिए जाने का अनुरोध किया है. न्यायाधीश ने साथ ही कहा कि कोर्ट राज्यपाल को यह निर्देश नहीं दे सकती कि वह किसी विशेष तरीके से अपने संवैधानिक काम करें.
     कोर्ट ने कहा, ‘‘सीबीआई के नौ जुलाई, 2014 के आदेश के साथ..साथ इस तथ्य के मद्देनजर कि (इस मामले की) जांच सीबीआई कर रही है, यह कोर्ट याचिकाकर्ता के अभिवेदन पर विचार करने के लिए राज्य सरकार को फिलहाल निर्देश नहीं दे सकती. कोर्ट की सुविचारित राय के अनुसार जब तक सुप्रीम कोर्ट के समक्ष लंबित रिट याचिका पर फैसला नहीं हो जाता, तब तक याचिकाकर्ता के अनुरोध पर विचार नहीं किया जा सकता.’’
     न्यायमूर्ति सत्यनारायण ने याचिका का निपटारा कर दिया और राज्य के गृह सचिव को लंबित मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के परिणाम के आधार पर, कानून के अनुसार याचिकाकर्ता के अभिवेदन पर विचार करने की स्वतंत्रता दी. संविधान के अनुच्छेद 161 के तहत समय पूर्व रिहाई का आग्रह करते हुए नलिनी ने कहा था कि वह जेल में 25 साल गुजार चुकी है, जबकि समय पूर्व रिहाई के लिए कानूनी जरूरत केवल 20 साल की है.


9:17:00 PM | 0 comments | Read More

मायावती पर अभद्र टिप्पणी करने वाले दयाशंकर को भाजपा ने उपाध्यक्ष पद से हटाया

    बसपा प्रमुख मायावती पर अभद्र टिप्पणी करने वाले भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह को पद से हटाकर उन्हें सभी जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया गया.
     भाजपा के प्रान्तीय अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने संवाददाताओं से कहा दयाशंकर सिंह को उपाध्यक्ष पद से हटा दिया गया है. उन्हें पार्टी की जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया गया है. ऐसी भाषा का उपयोग करने वाले व्यक्ति का भाजपा में कोई स्थान नहीं है.
    उन्होंने पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को बयान देने में भाषा का ध्यान रखने की ताकीद करते हुए कहा है कि किसी पर टिप्पणी करने में मर्यादा का ध्यान रखें.
    भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने बसपा अध्यक्ष मायावती पर बुधवार को अभद्र टिप्पणी करते हुए उन पर ज्यादा से ज्यादा धन देने वालों को पार्टी का चुनाव टिकट बेचने का आरोप लगाया था. हालांकि मामला तूल पकड़ने पर उन्होंने माफी भी मांग ली थी.
    सिंह ने बलिया में कहा कि मायावती छोटे परिवार से निकली बड़ी नेता हैं. उनका मकसद किसी को दुख या किसी के सम्मान को ठेस पहुंचाना नहीं था. अगर उनके मुंह से कोई ऐसी बात निकल गयी हो, तो वह इसके लिये माफी चाहते हैं.


9:14:00 PM | 0 comments | Read More

सरकार हर जिले में खोलेगी आयुष अस्पताल और योग केंद्र!

    सरकार प्रत्येक जिले में आयुष अस्पताल तथा योग स्वास्थ्य केंद्र खोलने की योजना बना रही है. इस बारे में उसने विभिन्न राज्य सरकारों से प्रस्ताव मांगे हैं.
     आयुष राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि इसके अलावा सरकार सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों तथा उपकेंद्रों पर एक आयुष चिकित्सक तैनात करने की भी संभावना तलाश रही है.
      नाइक ने दिल्ली में हमदर्द लैबोरेटरीज के एक कार्यक्रम के मौके पर अलग से कहा, ‘हम विभिन्न राज्य सरकारों से प्रस्ताव मांगे हैं. कुछ राज्यों ने इसमें रूची दिखाते हुए जवाब भी दिया है. इसके अलावा हम प्रत्येक जिले में योग वेलनेस केंद्र खोलने पर भी काम कर रहे हैं.’
     उन्होंने बताया कि मंत्रालय को इस बारे में 14 राज्यों से प्रस्ताव मिला है. नाइक ने बताया कि सरकार अगले दो-तीन माह में दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का उद्घाटन करेगी. यह अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) जैसा होगा.
     उन्होंने कहा कि दो प्रस्तावित आयुष केंद्रों अखिल भारतीय यूनानी संस्थान तथा अखिल भारतीय होम्योपैथी संस्थानों के लिए जमीन आवंटित कर दी गई है. सरकार ने यूनानी केंद्र के लिए गाजियाबाद तथा होम्योपैथी केंद्र के लिए नरेला में जमीन दी है.



9:13:00 PM | 0 comments | Read More

जीएसटी के बाद क्या सस्ता और क्या महंगा ?


    देश में गुड्स एंड सर्विस टैक्स यानी जीएसटी का लागू होना टैक्स सुधार की दिशा में आज़ादी के बाद सबसे बड़ा कदम होगा.
     पिछले कुछ दिनों में कांग्रेस और भाजपा कम से कम इस मुद्दे पर बात कर रही हैं जिससे उम्मीद की जा रही है कि संसद के इस सत्र में ये बिल राज्य सभा से भी पास हो जाएगा.
सरकार नागरिकों से दो तरह के कर लेती है. प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष. इनकम टैक्स यानी आयकर प्रत्यक्ष कर है और किसी सामान पर लगा हुआ कर या टैक्स अप्रत्यक्ष कर माना जाता है.
      अप्रत्यक्ष कर से सरकार की कमाई प्रत्यक्ष कर के मुकाबले कहीं ज़्यादा है और इसका एक हिस्सा राज्यों को भी मिलता है. लेकन इस कर प्रणाली में एक दिक्कत है. कई सामानों पर अप्रत्यक्ष टैक्स की दरों में एक राज्य से दूसरे राज्य में ही फर्क है. एक चीज़ के अलग अलग प्रोडक्ट पर कर की दर भी अलग अलग है. अब राज्यों के बीच इस टैक्स की दरों में फर्क ख़त्म होने से कुछ सामानों की कीमतों में थोड़ा फेरबदल हो सकता है.
खाने के कई सामान पर टैक्स नहीं लगाया जाता है और जीएसटी लागू होने के बाद कोई बदलाव की उम्मीद नहीं है. इसलिए अनाज की कीमतों में कोई बदलाव नहीं आएगा.
      लेकिन जब भी किसी खाने की वस्तु को ब्रांड के रूप में बनाया जाएगा तो उस पर टैक्स ज़रूर लगेगा. तो गेहूं पर टैक्स नहीं लगेगा लेकिन अगर आटे का इस्तेमाल बिस्कुट के लिए किया जाएगा तो उस पर पहले की तरह ही जीएसटी लगेगा.
       छोटी गाड़ियों पर फिलहाल एक्साइज ड्यूटी 8 फीसदी लगती है जबकि एसयूवी जैसी बड़ी गाड़ियों पर ये दर 30 फीसदी है. साफ़ है अगर सभी राज्यों ने मिलकर जीएसटी की दर को 18 फीसदी तय किया तो छोटी गाड़ियां महंगी हो जाएंगी और बड़ी गाड़ियां सस्ती. राज्यों के बीच टैक्स दरों में फर्क ख़त्म होने के कारण अलग राज्य में गाडी रजिस्टर करके कम टैक्स देने की प्रथा भी अब ख़त्म हो जायेगी.
       सभी सर्विसेज यानी सेवाएं अब महंगी हो जाएंगी. टेलीकॉम, रेस्टोरेंट में खाना, हवाई टिकट, अस्पताल, स्टॉक ब्रोकर, ब्यूटी पार्लर, बीमा, ड्राई क्लीनिंग जैसी सेवाओं पर केंद्र सरकार सर्विस टैक्स लगाती है. स्वच्छ भारत टैक्स और किसान कल्याण सेस (उपकर) मिलाकर ऐसी 100 से भी ज़्यादा सेवाएं हैं जिन पर टैक्स देना पड़ता है. अगर सभी राज्य मिल कर 18 फीसदी की जीएसटी रेट तय करते हैं तो चपत सभी की जेब पर लगेगी.
     इसके अलावा राज्यों को ये छूट दी गयी है कि वो ज़्यादा से ज़्यादा दो साल तक अपनी तरफ से ऐसे सामान पर ज़्यादा से ज़्यादा एक फीसदी टैक्स लगा सकते हैं जो उनके राज्य की अधिकार क्षेत्र में आ रहा है लेकिन बन रहा है किसी और राज्य में. इन कुछ राज्यों में सामान की खरीदारी पर सीमित समय के लिए आपको टैक्स भरना पड़ सकता है.
     कई रिपोर्ट के अनुसार डर है कि तामिलनाडु जैसे राज्य को करीब 3500 करोड़ रुपये का सालाना नुकसान हो सकता है क्योंकि जीएसटी आने के बाद 1 फीसदी सेंट्रल सेल्स टैक्स को बंद करना पड़ेगा.
     महाराष्ट्र को सालाना 14000 करोड़ की कमाई आक्ट्राई यानी चुंगी (शहर में बाहर से आने वाले माल पर लगने वाला कर) से होती है. चुंगी यदि हट जाती है तो छोटे बिज़नेस के लिए काम करना ज़रूर थोड़ा सस्ता हो जाएगा. जब किसी छोटे बिज़नेस का सामान एक छोटे ट्रक में महाराष्ट्र जाएगा तो उसे राज्य की सीमा पर कर देने के लिए इतंजार नहीं करना पड़ेगा. और इससे ऐसे बिज़नेस के लिए परेशानी भी जरूर कम होगी.
      लेकिन इन सब के जाने से राज्यों को एक नया हथियार मिलेगा. मौजूदा क़ानून के अनुसार सर्विस पर टैक्स लगाने का अधिकार सिर्फ केंद्र सरकार के पास है. जीएसटी आने के बाद ये अधिकार राज्यों को भी मिल जाएगा.
     तो अब कुछ वैसे नए सर्विस पर टैक्स देने के लिए तैयार हो जाइये जिसके पैसे सिर्फ राज्य सरकारों को जाएंगे. यह अधिकार राज्यों को मिल रहा है. इसलिए वो सेंट्रल सेल्स टैक्स और ऑक्ट्राई से होने वाली मोटी कमाई की अनदेखी करने को तैयार हैं.
    हिंदी भाषी इलाके में कई जगह लोग खिचड़ी बड़े चाव से खाते हैं. वहां एक कहावत है, खिचड़ी के चार यार- घी, पापड़, दही, अचार. जीएसटी की कहानी कुछ ऐसी ही हो गयी है. अब अलग अलग राज्यों की मांग अलग है. गुजरात में पापड़ पसंद किया जाता है तो हरियाणा में दही और पंजाब में घी. लेकिन ये सभी को नहीं चाहिए. हां, जिन्हें वो मिल गया है उनके लिए अचार के बिना काम भी नहीं चलेगा. उससे अगर और कुछ ज़्यादा मिल सकता है तो और बढ़िया!
जीएसटी के असर को लेकर संशय के कई कारण भी हैं.
     जीएसटी का सबसे बड़ा फायदा जो दिख रहा है वो है कई करों के बजाय एक कर लगेगा. लेकिन इसका दूसरा पहलू भी है. आर्टिकल 246 ए संसद और सभी राज्यों के विधानसभाओं को ये अधिकार देता है कि वो सामान और सेवाओं पर कर लगा सकते हैं. ऐसे में कर को लेकर एक संससदीय कानून और 28 राज्य कानून हैं जो जीएसटी वसूल करेंगे. ऐसे में सबमें तालमेल नहीं बैठा तो नतीजे बुरे हो सकते हैं.
     नौ साल बाद भी जीएसटी को आसान करने के संविधान संशोधन का काम पूरा नहीं हुआ है. ये बस शुरुआत है. केन्द्रीय जीएसटी, राज्य जीएसटी और अंतरराजकीय जीएसटी का खाका या ड्राफ्ट बनाना एक बेहद जटिल काम है, जो अभी पूरा होना बाकी है. शेयरधारकों की सलाह के बिना इसका खाका तैयार करने से भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है.
     जीएसटी की दर क्या होगी इसे लेकर अभी तक कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया है. राज्य सरकारें जहां इसकी दर 26 फीसदी करना चाहती हैं वहीं केन्द्र 16 से18 फीसदी दर के पक्ष में है. अगर 16 फीसदी की दर से भी कर वसूला जाता है तो ग्राहक के लिए एक भारी बोझ हो सकता है. नतीजतन फुटकर स्तर पर बड़े पैमाने पर कर चोरी हो सकती है.
    लेकिन जीएसटी को लागू करना अभी थोड़ी टेढ़ी खीर लग रही है. राज्य सभा में बिल के पास होने के बाद उसे आधे राज्यों की विधानसभा में पास कराना होगा क्योंकि जीएसटी बिल के कारण संविधान में संशोधन करना पड़ रहा है.
    पिछले कुछ दिनों में राज्य सरकारों के रुख को देखें तो अभी सभी राज्य इसके लिए सहमत नहीं हुए हैं. जीएसटी की खिचड़ी खाने के लिए सरकार को राज्यों के लिए थोड़ी घी शायद और मिलानी होगी.


6:04:00 PM | 0 comments | Read More

भाजपा नेता ने दिया विवादित बयान, वेश्या से की मायावती की तुलना

    भाजपा नेता ने मायावती को लेकर एक विवादित बयान देकर राजनीतिक गलियारे में सनसनी मचा दी है। भाजपा नेता दयाशंकर सिंह ने एक विवादित बयान देकर मायावती की तुलना वेश्या से की है।
    जो सपना काशीराम ने देखा था उस सपने को मायावती चूर-चूर कर रही हैं। मायावती को अपने बयान में नेता ने वेश्या से भी बद्दतर चरित्र का बताया है। दयाशंकर स‌िंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मायावती दिन में जो टिकट 1 करोड़ का बेचती हैं। वही टिकट अगर कोई दो करोड़ का चाहे तो उसे दे देती हैं।
     बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने भाजपा नेता के आपत्तिजनक बयान पर टिप्पणी करते हुए कहा कि भाजपा के नेता बसपा के जनाधार से बौखला गए हैं। ऐसे बयान भाजपा और उनके नेताओं की हताशा को दिखाता है।
    भाजपा के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्या ने कहा कि दयाशंकर की तरफ से दिए गए बयान के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। अगर उनके बयान में कुछ भी गलत पाया जाता है तो ‌पार्टी उसी अनुसार कार्रवाई करेगी।
    भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्या ने कहा कि मैं मानना है कि मायावती पर की गई टिप्पणी गलत है और मैं उसके लिए माफी मांगता हूं। इस तरह के शब्दों का प्रयोग नहीं होना चाह‌िए।




5:00:00 PM | 0 comments | Read More

पाकिस्तान ने टेके थे घुटने, भारतीय सेना ने लाहौर में घुसकर फहराया था तिरंगा

    इंडियन एयरफोर्स के डॉक्युमेंट्स में नया खुलासा हुआ है। इसमें बताया गया है कि कारगिल की जंग के दौरान भारत पाकिस्तान के बेस को पूरी तरह से तबाह कर सकता था। 13 जून 1999 को इंडियन एयरफोर्स के फाइटर जेट हमला करने के लिए पाकिस्तान के बेस से कुछ मिनट की दूरी पर थे। बता दें कि 1965 की इंडो-पाक वॉर के दौरान भारतीय सैनिकों ने लाहौर में घुसकर तिरंगा फहराया था। दरअसल, पाकिस्तानी सेना ने भारतीय एयरबेस में घुसपैठ की थी। पाक ने भारत के एयरबेस को तबाह करने के लिए कई सीक्रेट ऑपरेशन भी चलाए।
     चीफ ऑफ पाक आर्मी स्‍टाफ जनरल मुहम्‍मद मूसा के मुताबिक, सात सितंबर 1965 को स्‍पेशल सर्विसेस ग्रुप के कमांडो पैराशूट के जरिए भारतीय इलाके में घुसे। करीब 135 कमांडो भारत के तीन एयरबेस (हलवारा, पठानकोट और आदमपुर) पर उतारे गए। हालांकि, पाक सेना को इस दुस्‍साहस की भारी कीमत चुकानी पड़ी थी।
    पाक के केवल 22 कमांडो ही अपने देश लौट सके। 93 पाकिस्‍तानी सैनिकों को बंदी बना लिया गया। इनमें एक ऑपरेशन के कमांडर मेजर खालिद बट्ट भी शामिल थे। पाकिस्‍तानी सेना की इस नाकामी की वजह तैयारियों में कमी को बताया जाता है।
     हालांकि, इतनी बड़ी नाकामी के बावजूद पाकिस्‍तानी सेना का दावा था कि उसके कमांडो मिशन से भारतीय सेना के कुछ ऑपरेशन प्रभावित हुए। भारतीय सेना की 14वीं इन्‍फ्रैंट्री डिवीजन को पैराट्रूपर्स को पकड़ने के लिए डायवर्ट किया गया, तो पाकिस्‍तानी वायु सेना ने भारतीय सैनिकों के कई वाहनों को निशाना बनाया।
    इसी बीच, पाकिस्‍तान में यह खबर जंगल की आग की तरह फैली कि भारत ने पाकिस्‍तान के गुप्‍त ऑपरेशन का जवाब भी उसी की तर्ज पर दिया है और पाकिस्‍तानी जमीन पर कमांडो भेजे हैं। सात सितंबर को चीन में पाकिस्‍तानी राजदूत ने चीन के तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति लियू शाओकी से मुलाकात की और अयूब खान की चिट्ठी दिखाते हुए उनसे चीन की मदद मांगी।
    इसके अगले दिन ही भारत पर 'चिट्ठी बम' की बरसात शुरू हो गई। चीन ने भारत पर आरोप लगाया कि उसने अक्‍साई चीन और सिक्‍किम में असल नियंत्रण रेखा के चीनी इलाके में सैनिकों को भेज दिया है। 1962 की जंग के बाद पहली बार ऐसे कथित घुसपैठ को कश्‍मीर के हालात से जोड़ा गया।




4:58:00 PM | 0 comments | Read More

Jaipur News

Criminal News

Industry News

The Strategist

Commodities

Careers