News Today Time

Headline Today

Translate

Join us

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

याकूब की पत्नी को सांसद बनाने की गुहार लगाने वाले सपा नेता को पार्टी ने निकला

Written By News Today Time on Saturday, August 1, 2015 | 9:18 PM

      लखनऊ।। याकूब मेमन की की पत्नी को राज्य सभा सांसद बनाने की मांग करने वाले महाराष्ट्र समाजवादी पार्टी के अपाध्यक्ष फारूक घोसी को भारी पड़ी। पार्टी ने उन्हें उपाध्यक्ष पद से हटा दिया है। सपा ने कहा है कि उसका इस बयान से कोई लेना-देना नहीं है। बता दें कि घोसी ने अपनी इस मांग को लेकर मुलायम सिंह यादव को चिट्ठी भी लिखी थी।
    समाजवादी पार्टी ने महाराष्ट्र इकाई के उपाध्यक्ष मोहम्मद फारुख घोसी को पद से हटा दिया है। वहीं पार्टी के महासचीव रामगोपाल यादव ने कहा है कि फारुख पर अनुशासनात्म कर्रवाई भी होगी।
     सपा नेता ने लिखा था, ”मुंबई बम धमाके के मामले में याकूब के साथ उसकी पत्नी को भी अरेस्ट किया गया था। हालांकि, फिर राहीन को बरी कर दिया गया, लेकिन तब तक वह कई सालों तक जेल में रही। कितनी तकलीफ सही होगी। हम समाजवादियों की एक खूबी है कि मन में जो बात रहे, उसे कहना जरूरी है। आप हमारे नेता हैं, वह भी समाजवादी जिन्होंने मजलूम और असहाय लोगों का हमेशा साथ दिया है। आज मुझे राहीन याकूब मेमन असहाय लग रही है और इस देश में कितने असहाय होंगे, जिनकी लड़ाई हम सबको लड़नी है। मुसलमान आज अपने आपको असहाय समझ रहा है। हमें साथ देना चाहिए और राहीन याकूब को संसद सदस्य बनाकर मजलूम व असहाय लोगों की आवाज बनने देना चाहिए।”
9:18 PM | 0 comments | Read More

रंगे हाथों घूस लेते धरा गया लेखपाल


   गोंडा।। गुरुवार को फैजाबाद व गोरखपुर की विजिलेंस टीम ने मनकापुर तहसील के एक लेखपाल को पांच हजार रुपये घूस लेते हुए दबोच लिया। उसके खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
    मामला मनकापुर तहसील के ग्राम दौलतपुर माफी का है। यहां के निवासी अब्दुल कलाम ने विजिलेंस लखनऊ के अपर पुलिस अधीक्षक के पास दौलतपुरमाफी में तैनात लेखपाल जंग बहादुर ओझा पर वरासत के नाम पर सात हजार रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। अब्दुल कलाम के मुताबिक तहसीलदार मनकापुर ने वरासत दर्ज करने के लिए 25 जुलाई 2015 को आदेश जारी किये थे। जिसपर लेखपाल ने वरासत दर्ज करके किसान बही व खसरे की नकल देने के लिए रुपये मांगे थे। जिसपर अपर पुलिस अधीक्षक ने फैजाबाद व गोरखपुर की संयुक्त टीम गठित की थी। गुरुवार को फैजाबाद विजिलेंस टीम के इंस्पेक्टर सुंदर सिहं सोलंकी व गोरखपुर टीम के इंस्पेक्टर अशोक कुमार तिवारी ने दौलतपुर बाजार में एक पीपल के पेड़ के नीचे पांच हजार रुपये की घूस लेते हुए दबोच लिया। थानाध्यक्ष छपिया आलोक दूबे ने बताया कि लेखपाल के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
60 दिन में विजिलेंस की दूसरी कामयाबी
    जिले में घूसखोरी कितने चरम पर है। इसका अंदाजा लगाने के लिए विजिलेंस टीम की कार्रवाई काफी है। 60 दिनों के भीतर ये दूसरा मौका है जब किसी सरकारी कर्मी को घूस लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया है। इससे पहले एक जून को हलधरमऊ ब्लाक में तैनात खंड विकास अधिकारी एमपी प्रबल को विजिलेंस टीम ने 20 हजार रुपये की घूस लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा था।

5:04 PM | 0 comments | Read More

याकूब मेमन की पत्नी को सांसद बनाने के लिए सपा नेता ने मुलायम से लगाई गुहार


      नई दिल्ली।। 1993 मुंबई ब्लास्ट के आरोपी याकूब मेमन की फांसी के बाद से ही उसकी मौत पर राजनीति शुरू हो गई है। याकूब मेमन को फांसी के बाद उसकी पत्नी राहीन को सांसद बनाने की मांग की गई है। यह मांग मुंबई में समाजवादी पार्टी के नेता ने की है। प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद फारुक घोसी ने अपनी मांग को लेकर मुलायम सिंह यादव को लेटर भी लिखा है।
    उन्‍होंने कहा कि समाजवादियों की एक खूबी है कि मन में जो बात रहे, उसे कहना जरूरी है। मुलायम सिंह को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि आप हमारे नेता हैं वह भी समाजवादी जिन्होंने मजलूम और असहाय लोगों का हमेशा साथ दिया है।
    मुलायम सिंह को भेजे लेटर में लिखा है कि आप एक नेता हैं और आप गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए जाने जाते हैं। मेरे मुताबिक याकूब की पत्नी राहीन को इस समय मदद की जरूरत है और वह भारत में दयनीय हालत में अपनी जिंदगी गुजार रही है, हमें इन औरतों की मदद करनी चाहिए।
    फारूक घोसी का का कहना है, याकूब की पत्नी 21 सालों से अपने पति के बिना रह रही है और अगर वह राजनीति में आती है तो वह जरूरतमंद लोगों की आवाज बन सकती है। इसलिए मैंने मुलायम सिंह यादव से उसे सांसद बनाए जाने की मांग की है। उन्‍होंने कहा कि आप हमारे नेता हैं वह भी समाजवादी जिन्होंने मजलूम और असहाय लोगों का हमेशा साथ दिया है।
   आज उन्‍हें राहीन याकूब मेमन असहाय लग रही है। इस देश में कितने असहाय होंगे, जिनकी लड़ाई सपा के लोगों को लड़नी है। मुसलमान भी आज अपने आपको असहाय समझ रहा है। उनका भी साथ देना होगा।


     गौरतलब है कि 30 जुलाई को नागपुर की सेंट्रल जेल में याकूब को फांसी दे दी गई थी। इसके बाद उसके जनाजे पर मुंबई पुलिस की सख्‍त नजर थी। दरअसल उसके जनाजे में अपराधियों के आने की आशंका जताई जा रही थी।
    इसको ध्‍यान में रखते हुए पुलिस ने उसके जनाजे का वीडियो भी शूट करवाया। मेमन के परिवार वालों ने उसे मुंबई के बड़ा कब्रिस्तान में दफनाया। याकूब के लिए माहिम दरगाह पर दुआ पढ़ी गई. उसके बाद उसे मरीन लाइंस के बड़ा कब्रिस्तान के पास दफनाया गया। उसको दफनाने के वक्‍त हजारों लोगों की भीड़ थी. पुलिस को इस बात की आशंका थी कि जनाजे में कई अपराधी आए होंगे।
4:32 PM | 0 comments | Read More

फांसी देते वक्त जल्लाद क्या बोलता है ? जाने फांसी से जुड़े कुछ सवाल.....


    याकूब मेमन को 1993 मुंबई बम धमाकों के आरोप में गुरुवार, 30 जुलाई को सुबह फांसी पर लटका दिया गया। इस मामले में काफी राजनीती भी हुई, कुछ लोगों ने याकूब को फांसी देने पर खुशी का इजहार किया तो कुछ लोगो ने फांसी का विरोध भी किया जिसके बाद उन्हें देशद्रोही भी कहा गया। इस सब के बीच फांसी से जुड़े कुछ ऐसे सवाल है जिनके जवाब हर कोई जानना चाहता है जैसे फांसी देते वक्त जल्लाद क्या बोलता है ? कैदियों की आखिरी इच्छा क्या होती है? फांसी की सजा सुनाने के बाद जज पेन की निब क्यों तोड़ देते हैं ? फांसी सुबह के वक्त ही क्यों दी जाती है ? आइये जानते हैं इस सवालों के जवाब -
फांसी देते वक्त जल्लाद क्या बोलता है ?
    जल्लाद नाटा मालिक ने घंनजय चटर्जी को कोलकाता सेन्ट्रल जेल में फांसी देने से पहले कहा था कि "हमें माफ़ कीजिएगा, हिंदू भाई को राम-राम, मुस्लिम भाई को सलाम, हम तो हैं हुकुम के गुलाम"
फांसी की सजा सुनाने के बाद जज पेन की निब क्यों तोड़ देते हैं ?
    ज्युडिशियरी में फांसी को 'कैपिटल पनिशमेंट' कहते हैं ये सबसे बड़ी सजा है लेकिन क्योकि किसी का जीवन ख़त्म होता है इसलिए जज पेन की निब तोड़ देते हैं ताकि उस पेन का दुबारा उपयोग न हो
- जस्टिस आरसी गर्ग(पूर्व चीफ जस्टिस, आसाम हाईकोर्ट)
फांसी सुबह के वक्त ही क्यों दी जाती है ?
    जेल मैन्युअल के तहत, फांसी सूर्योदय के पहले दी जाती है। जेल की वोर्किंग सूर्योदय के बाद शुरू होती है, नियमित गतिविधियां प्रभावित न हों, इसलिए ऐसा किया जाता है।
- गोपाल ताम्रकार (अधीक्षक, भैरवगढ़, उज्जैन)
कैदियों की आखिरी इच्छा क्या होती है?
   "मुझे उम्मीद है आप मुझे दर्द नहीं कराओगे"- अफजल गुरु (9 फरवरी 2013 को तिहाड़ जेल में फांसी)
   'मेरी अम्मी को बता देना' - अजमल कसाब (21 नवंबर 2012 को पुणे की यरवडा जेल में फांसी)
   धनंजय अपना ब्लड, किडनी, आखे और शरीर डोनेट करना चाहता था - धनंजय चैटर्जी (14 अगस्त, 2004 को कोलकाता की अलीपुर जेल में फांसी)

12:24 PM | 0 comments | Read More

एसडीएम चन्दौसी को भारी पड़ा सपा के फ्लैक्स हटवाना! हुआ तबादला

  सम्भल/चन्दौसी।। एसडीएम चन्दौसी संजय कुमार को अतिक्रमण हटाओ अभियान में पूर्ण ईमानदारी तथा निष्पक्षता बर्तते हुए अन्य लोगों के साथ साथ सत्ताधारी समाजवादी पार्टी के अवैध रुप से लगे फ्लैक्स उतरवाना भारी पड़ गया। शासन ने उनका तबादला हसनपुर कर दिया है। विदित हो अभी तीन माह पूर्व ही उन्होने एसडीएम चन्दौसी का कार्यभार ग्रहण किया था।
    लगता है कि प्रदेश में आम आदमियों के लिये कायदे, कानून व सरकारी निर्देश कुछ और हैं तथा सत्ताधारी पार्टी के लोगों के लिये कुछ और। अगर कोई भी ईमानदार अधिकारी पूर्ण निष्पक्षता से कोई कार्य करना चाहे तो उसकी गर्दन पर निलम्बन या स्थानान्तरण की तलवार लटकी रहती है। ऐसा ही कुछ एसडीएम चन्दौसी संजय कुमार के साथ हुआ।
    नवांगतुक डीएम के निर्देशानुसार उन्होने नगर से अतिक्रमण हटाने का बीड़ा उठाया था। सोमवार को उन्होने इसकी शुरुआत भी की थी। उन्होने सार्वजनिक स्थानों पर अनाधिकृत रुप से लगे सभी फ्लैक्स भी उतरवाने शुरु किये। जिनमें से अधिकांश फ्लैक्स सत्ताधारी समाजवादी पार्टी के थे। एक तो सत्ताधारी पार्टी के फ्लैक्स ऊपर से उन पर मुलायम सिंह यादव, धर्मेन्द्र यादव, प्रदीप यादव आदि के चित्र। एसडीएम संजय कुमार अपनी कर्तव्य निष्ठा एवं ईमानदारी के आगे यह भूल गये कि इसका अंजाम क्या होगा।
   अभी उनका अभियान फुब्बारा चैक से शुरु होकर कुछ आगे ही बढ़ा था कि कुछ स्थानीय समाजवादी नेताओं के हस्तक्षेप के बाद उन्हें अपना अभियान रोकना पड़ा।
   जो अभियान पूरे शहर को अतिक्रमण मुक्त करने तक जारी रहना था वह जहाँ का तहाँ रुक गया। इतना ही नहीं कुछ दिन बाद ही एसडीएम संजय कुमार के ट्रान्सफर आर्डर भी आ गये।
   इस ट्रान्सफर से एक ओर जहाँ अक्रिमणकारियों में खुशी की लहर है वहीं आम आदमी की जुबान पर एक ही चर्चा है कि इस सरकार में किसी भी अधिकारी को ईमानदारी एवं निष्पक्षता से कार्य करना कितना दूभर है।
12:21 PM | 0 comments | Read More

आज से शुरू हुआ सावन, शिव भक्‍तों की बढ़ी भीड़

    नई दिल्ली।। आज से सावन का महीना शुरू होने के साथ ही कांवडि़यों के आने और जाने का सिलसिला भी बढ़ गया है।
    शिव भक्तों की मंदिरों में लंबी-लंबी कतार देखी जा रही हैं। इसके अलावा काफी समय से सूने पड़े मंदिरों में भजन, कीर्तन और पूजा अर्चना भी शुरू हो गई है। इस मौके पर आने वाले श्रद्धालुओं की बड़ी संख्या के मद्देनजर मंदिरों में व्यापक तैयारियां की जा रही हैं।
    शहर के प्रमुख मंदिरों में श्रद्धालुओं के आगमन की तैयारियों को लेकर विशेष व्यवस्था की जा रही है। इसके साथ ही विभिन्न पर्व भी शुरू हो रहे हैं। इसी माह 14 अगस्त को श्रावणी अमावस्या, 17 अगस्त को हरियाली तीज, 19 को नागपंचमी, 22 को तुलसी जयंती तथा 29 अगस्त को रक्षाबंधन पर्व मनाया जाएगा।


10:51 AM | 0 comments | Read More

61,000 करोड़पतियों ने भारत को हमेशा के लिए छोड़ दिया

     नई दिल्ली।। पिछले साल में भारत से 61,000 करोड़पतियों ने एचएनआई, कर सुरक्षा एवं बच्चों की शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण कारणों के चलते विदेश पलायन कर भारत को हमेशा के लिए छोड़ दिया। न्यू वल्र्ड वेल्थ एवं एलआईओ ग्लोबल द्वारा संयुक्त रूप से जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दूसरे देश की नागरिकता के लिए आवेदनों एवं स्थान परिवर्तन में जबर्दस्त तेजी आई है।
    वर्ष 2000 से 2014 के बीच करीब 61,000 करोड़पति भारतीय विदेश पलायन कर गए। इस दौरान, चीन से विदेश पलायन करनेवाले करोड़पति लोगों की संख्या 91,000 रही। ज्यादातर भारतीय करोड़पति यूएई, ब्रिटेन, अमरीका और आस्ट्रेलिया की ओर रुख करते हैं।
10:47 AM | 0 comments | Read More

यूपी के मंत्री का बयान, कहा- केंद्र में आएगी सपा तो खुद मुसलमान बनाएंगे राममंदिर

    बस्‍ती।। राममंदिर को लेकर सपा के एक मंत्री ने विवादित बयान दिया है। कैबिनेट मंत्री राजकिशोर सिंह ने कहा कि देश में सपा की सरकार बनने के बाद मुसलमान खुद राममंदिर का निर्माण करेंगे। राजकिशोर के इस बयान को विपक्ष ने वोट की राजनीति करार दिया है। अभी तक ऐसा कभी नहीं हुआ कि किसी मंत्री ने यह बयान दिया हो कि राममंदिर मुसलमान बनाएंगे। 
   कैबिनेट मंत्री राजकिशोर ने ये बातें शुक्रवार को बस्ती के हर्रेया डाक बंगले पर पौधारोपण कार्यक्रम के दौरान कही। इस विवादित बयान पर सपा के ही अन्‍य लोग किनारा करते हुए कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। जाहिर है कि राजकिशोर के इस बयान से आगामी 2017 यूपी विधानसभा चुनाव में मुस्लिमों को लुभाने की पूरी कोशिश की जाएगी या की जा रही है।



10:44 AM | 0 comments | Read More

याक़ूब की फांसी से देश को कुछ नहीं मिला, बल्कि अंजाम बुरा होगा-रॉ चीफ

     नई दिल्ली।। आईबी के स्पेशल डायरेक्टर और रॉ के चीफ रह चुके एएस दुल्लत ने याकूब मेनन की फांसी पर बे-बाक बात की। उन्होंने कहा कि ‘याकूब मेमन और अफजल गुरू दोनों की ही फांसी सुरक्षा के नजरिए से हमारे किसी काम की नहीं। इससे देश को कोई फायदा नहीं होगा। इससे हमें कुछ हासिल नहीं हुआ। बल्कि इससे कुछ लोगों (माइनॉरिटी) का दिल जरूर दुखा है। इससे कश्मीर में भी बुरा असर पड़ सकता है। वहां के लोगों की साइकी पर असर पड़ेगा। इसका ये मतलब क़तई नहीं है कि वहां कोई गोलियां चल जाएंगी या उपद्रव होगा लेकिन ये बात उनके दिल में घर कर सकती है।’एएस दुल्लत वीरवार को अपनी किताब ‘कश्मीर: द वाजपेयी ईयर्स’ की लॉन्चिग के लिए चंडीगढ़ पहुंचे थे। याकूब के मामले में पूछने पर बेबाक होक कर बाेले। कहा-‘मैं मानता हूं कि ट्रायल फेयर रहा होगा। ज्यूडिशियरी भी फेयर है। लेकिन बात अगर उसकी फांसी की है तो दैट इज ए वेस्ट। हमारे किसी काम की नहीं। अगर सीबीआई चीफ कहते हैं कि कोई डील नहीं हुई तो मानना चाहिए कि नहीं हुई होगी।’ सवाल उठता है कि जब कोई आपकी मदद कर रहा है तो बदले में आपको भी उसके बारे में सोचना चाहिए या नहीं। इसी वजह से बी.रमन ने अपने लेख में लिखा होगा कि याकूब को फांसी नहीं होनी चाहिए क्योंकि उसने इस केस में हमारी मदद की है। मुझे अफसोस इस बात का है कि अगर वे याकूब के बारे में अपने विचार लिख गए थे तो उनका सम्मान किया जाना चाहिए था। यही हिम्मत उन्होंने 2007 में इसे सार्वजनिक करने में भी दिखाई होती तो बात कुछ और होती। 
    90 फीसदी आतंकी हथेली पर जान लेकर चलता है। वो मरने की बाद की ज़िंदगी पर भरोसा रखता है। उसका ब्रेन पूरी तरह साफ कर दिया जाता है... कि जिहाद करते हुए मरना.....सीधा जन्नती है....वो कामयाब और नाकामयाबी की परवाह नहीं करता....उसे सिर्फ मरने के बाद जन्नत दिखाई देती है। इसी लिए वो सुसाइड-बम भी बन जाता है। अब तक का इतिहास उठाकर देख लीजिए, जो भी आतंकी हमला करने आए वो पूरी तरह से ये मन बनाकर आए की उनको मरना है। उन्हें मौत से ज़्यादा जन्नतप्यारी है।
10:42 AM | 0 comments | Read More

35 फीट नीचे नदी में गिरी गाड़ी, बहन की तलाश में निकले भाई समेत 7 की मौत


    रांची/खूंटी।। ओड़िशा से इलाहाबाद जा रही एक स्कॉर्पियो गाड़ी शुक्रवार सुबह झारखंड के खूंटी जिले के तजना नदी में गिर गई। पुल की रेलिंग तोड़ते हुए गाड़ी करीब 35 फीट की ऊंचाई से नीचे गिरी, जिससे स्कॉर्पियो सवार सात लोगों की मौत हो गई। जबकि केदार प्रियदर्शी नामक ड्राइवर बच गया।
    ड्राइवर ने बताया कि विक्की सिंह की बहन का अपहरण हो गया है और उसके इलाहाबाद में होने की सूचना मिली थी। इसी सूचना पर विक्की अपने कुछ दोस्तों के साथ किराए पर स्कॉर्पियो लेकर इलाहाबाद के लिए निकला था कि बीच रास्ते में यह हादसा हो गया। मृतकों में अमित पांडेय, सुशील पांडेय, पिंटू शर्मा,सन्नी साहू, विक्की सिंह, जीवत्स यादव (सभी विरमित्रापुर, ओड़िशा ) व रंजीत झा(वेदव्यास, ओड़िशा ) शामिल हैं।
अचानक सामने आ गया ट्रक
     ड्राइवर ने बताया कि खूंटी के तजना नदी पर बने पुल से वे गुजर रहे थे कि रास्ते में अचानक एक ट्रक आ गया। बचने के क्रम में स्कॉर्पियो असंतुलित हो गई और पुल की रेलिंग तोड़ते हुए नदी में जा गिरी। इस हादसे के बाद मौके पर ग्रामीण जुट गए। लगातार बारिश होने की वजह से शवों को गाड़ी से बाहर निकालने में लोगों को काफी मशक्कत करनी पड़ी। शवों को खूंटी सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। हादसे के बाद मौके पर खूंटी डीसी पीके वाघमारे और एसपी अनीश गुप्ता पहुंचे और मामले का जायजा लिया।

10:38 AM | 0 comments | Read More

अब एमपी के भिंड में सामने आया शस्त्र लाइसेंस कांड, 300 बने एक रात में

    भिंड।। बैसे तो प्रशासन बड़ा सुस्त होता है। फाइलें वर्षों पेंडिंग पड़ी धुल फांकती रहतीं हैं। संविदा शिक्षक भर्ती घोटाले की पेंडुलम की तरह बस हिलती रहती है, लेकिन जब बात कुछ और हो तो यही प्रशासन बिजली की फुर्ती से काम करता है। प्रसाशन की चुस्ती तो तब पता चली जब सिर्फ एक रात में प्रशासन ने 300 शस्त्र लाइसेंस बना डाले। सुगबुगाहट हर कान में है, लेकिन जिक्र किसी भी जुबान पर नहीं है।
    सूत्रों के मुताबिक खबर है कि इन लाइसेंसों में बड़ी संख्या केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के सिफारिश वाले मामलों की है। अब जब मंत्री जी की सिफारिश पर थोकबंद लाइसेंस बनाए ही जा रहे थे तो कुछ मॉल मलाई वाली फाइलें भी निपटा डालीं गईं। आरोप है कि मंत्री जी ने अपनी जाति बिरादरी के लोगों को लाइसेंस दिलवा दिए हैं। आग सुलग रही है। अब देखते हैं ये आग भड़क पाएगी या दबा दी जाएगी।
 
 
(महेश मिश्रा)
10:32 AM | 0 comments | Read More

14 हजार लोगों को आधी रात को मिली आजादी, मना जश्‍न

    कोलकाता।। भारत और बांग्लादेश की सीमा पर बसे हजारों लोगों के लिए शुक्रवार की आधी रात एक नई सुबह लेकर आई। 'भूमि सीमा समझौते' के तहत एक अगस्त से दोनों मुल्कों के बीच बस्तियों के ऐतिहासिक आदान-प्रदान का काम शुरू हो रहा है। इसके साथ ही बांग्लादेशी गलियारे में रहने वाले 14 हजार लोगों को भारत की नागरिकता देने का काम भी शुरू हो गया। अगले 11 महीनों तक कई चरणों में बस्तियों की अदला-बदली का काम पूरा किया जाएगा। प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि 'भारत और बांग्लादेश के बीच बहुप्रतीक्षित गलियारों का हस्तांतरण आज से शुरू हो रहा है। हमारे लिए यह एक ऐतिहासिक और यादगार दिन है।'
     पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के निधन के बाद राष्ट्रीय शोक के चलते इस ऐतिहासिक मौके पर कोई जश्न नहीं मनाया जाएगा। भूमि हस्तांतरण को लेकर दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच अंतिम बैठक शुक्रवार को राज्य के कूचबिहार जिले में हुई। इस दौरान दोनों देशों के बीच दस्तावेजों का आदान-प्रदान किया गया।
अदला-बदली पर एक नजर
-भारत अपने क्षेत्र के 111 एनक्लेव बांग्लादेश को सौंपेगा। इन बस्तियों का क्षेत्रफल 17,160 एकड़ है।
-भारत को बांग्लादेश से 51 गलियारा मिलेगा। इसके तहत भारत को 7,110 एकड़ भूमि प्राप्त होगी।
दशकों से नहीं था कोई देश
-इन बस्तियों में रहने वाले तकरीबन 51 हजार लोगों के पास दशकों से कोई देश नहीं था।
-यहां के लोगों को अब अपनी पसंद के हिसाब से नागरिकता हासिल हो सकेगी।
-भारतीय सीमा में मौजूद 51 बांग्लादेशी एनक्लेव के लोगों ने यहीं रहने का फैसला किया है।
-बांग्लादेश स्थित भारतीय एनक्लेव के 979 लोग भारतीय सीमा में आएंगे। इनमें से 163 मुसलमान हैं।
1974 में हुआ था समझौता
     एनक्लेव का यह आदान-प्रदान इसी साल छह जून को ढाका में भारत और बांग्लादेश के बीच एक करार पर दस्तखत के बाद हो रहा है। हालांकि, मूल रूप से भूमि समझौता 1974 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और उनके बांग्लादेशी समकक्ष शेख मुजीब के बीच हुआ था। 1975 में मुजीब की हत्या के बाद लंबे अरसे तक करार पर प्रगति रुकी रही। बाद की सरकारें बस्तियों के आदान-प्रदान पर सहमत नहीं हो पाईं।
बदहाल था जीवन
    इन बस्तियों में रहने वाले लोग जन सुविधाओं से वंचित थे और काफी खराब हालत में जीवन व्यतीत कर रहे थे। करार होने के बाद यहां रहनेवाले लोगों को अपना देश चुनने की आजादी दी गई। पिछले महीने दोनों देशों के अधिकारियों ने साझा अभियान चलाकर इन इलाकों में रहनेवाले एक-एक आदमी से उनकी नागरिकता के बारे में राय मांगी। उनकी इच्छा के आधार पर उन्हें भारत या बांग्लादेश में रहने की इजाजत दी गई।
10:21 AM | 0 comments | Read More

मुंबई ट्राफिक पुलिस का एक और फर्जीवाडा, एक ही नंबर की गाडी को टेंडर लिस्ट में दो जगह लिख दिया

Written By News Today Time on Friday, July 31, 2015 | 7:14 PM

    मुबंई।। मुबंई ट्राफिक पुलिस का टोविंग कनेक्शन का एक और झूट सामने आया है जिसे सुनकर आप हैरान होजाऐंगे मुंबई के 23 ट्राफिक पुलिस थानों में 61 टोविंग क्रेन अलार्ट की गई हैं |ट्राफिक पुलिस की तरफ से जो टेंडर लिस्ट दी गई हैं उसमे हर पुलिस थाने को कितनी टोविंग क्रेन दी गई हैं इसका उल्लेख किया गया है लेकिन ताज्जुब की बात यह कि टोविंग क्रेन नंबर MH-02-B9597 इस नंबर की क्रेन जो कि ट्राफिक के जरिए दी गई लिस्ट में डीएन नगर ट्राफिक पुलिस थाने के सुपुर्द की गई हैं | लेकिन यहीं क्रेन नंबर वाकोला ट्राफिक पुलिस थाने मे भी तैनात की गई है दोनों का नंबर एक ही है |
    अब सवाल यह उठता है कि 61 प्राइवेट टोविंग क्रेन की लिस्ट तो ट्राफिक पुलिस ने दे दी लेकिन एक ही टोविगं क्रेन दो जगह पर कैसे होसकती हैं | इससे साफ जाहिर होता है कि अपनी कमियां छुपाने के लिए ट्राफिक पुलिस नें 61 टोविंग क्रेन की जो टेंडर लिस्ट दी है उसमें 61 तो दिखाया हैं लेकिन एक क्रेन को दो पुलिस थानों में तैनात की गई हैं तो इस तरह से टोविंग क्रेन की तादाद 60 ही होती है तो आखिर एक टोविंग क्रेन कहां है |
   इस से पहले भी के हुए खुलासे में अपने पढ़ा है कि किस तरह से टेंडर के अलावा बाहर की गैर कानूनी टोविंग क्रेन का इस्तेमाल कर बडे पैमाने पर टोविंग वैन से ट्राफिक पुलिस नो पार्किंग में खडी गाडियों को टो कर के उनसे जमकर मलाई खाती है और जिस शख्स की गाडी ट्राफिक पुलिस टो करती है उसे बात की जानकारी ही नहीं होती कि आखिर उनकी गाडी टो करने वाला असली ट्राफिक पुलिस जुस टोविंग क्रेन के जरिए उनकी गाडी टो करत हैं वह टोविंग क्रेन गैर कानूनी है |



7:14 PM | 0 comments | Read More

अनाज खरीद घोटाले को उजागर करने वाले जीएम ने की खुदकुशी

ग्वालियर के निवासी थे सुरेंद्र कुमार शाक्य
    भोपाल।। करोड़ों रुपये के अनाज खरीद घोटाले को उजागर करने वाले मध्य प्रदेश वेयर हाउजिंग ऐंड लॉजिस्टिक कॉर्पोरेशन (MPWLC) के जनरल मैनेजर ने आत्महत्या कर ली। 52 साल के सुरेंद्र कुमार शाक्य जबलपुर के अपने घर में मृत पाए गए।
    सुरेंद्र कुमार शाक्य ग्वालियर के रहने वाले थे और जबलपुर के शाहपुरा में पोस्टेड थे। उन्होंने सल्फास की गोलियां खाकर आत्महत्या कर ली। 15 मार्च को शाहपुरा में ब्रांच मैनेजर का पद जॉइन करते ही उन्होंने 3 करोड़ रुपये के अनाज घोटाले का खुलासा किया था।
    14 जून 2014 को हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने रिपोर्ट की थी कि 2013-14 के दौरान आठ जिलों के लिए खरीदा गया 2 लाख क्विंटल अनाज गायब है। जबलपुर जिले में 2013-14 के दौरान 23 हजार क्विंटल अनाज गायब हुआ था।
    MPWLC के कर्मचारी अशोक तिवारी ने शाक्य की मौत की सूचना पुलिस को दी थी। पुलिस ने उनकी लाश के पास से सल्फास की गोलियां और दो पन्नों का सूइसाइड नोट पाया है। शाक्य कुछ देर पहले ही ग्वालियर से लौटे थे।
   पुलिस ने सूइसाइड नोट में लिखी बात का खुलासा करने से इनकार कर दिया। अडिशनल सूपरिंटेंडेंट संजय साहू ने कहा, 'पहली नजर में यह आत्महत्या का मामला लगता है। हमने सूइसाइड नोट को हैंडराइटिंग जांच के लिए भेजा है और नोट में जो नाम हैं, हम उनकी जांच कर रहे हैं। इस समय और ज्यादा कुछ नहीं बताया जा सकता है।'
6:42 PM | 0 comments | Read More

राष्ट्रपति के दरबार में पहुंचे केजरीवाल

    नई दिल्ली।। केंद्र सरकार द्वारा बिना किसी सूचना के दिल्ली सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के तबादले, उपराज्यपाल नजीब जंग से टकराव व अन्य समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बृहस्पतिवार शाम राष्ट्रपति के दरबार में पहुंचे। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत शाम साढ़े छह बजे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिलने पहुंचे। एक घंटे की मुलाकात के दौरान सियासी मुद्दों पर चर्चा की।
सूत्रों के अनुसार केजरीवाल ने दिल्ली सरकार के कामकाज में हो रही परेशानी को राष्ट्रपति से साझा किया। अधिकारियों की नियुक्ति व विभागों के बंटवारे को लेकर उपराज्यपाल व सरकार के बीच टकराव पर भी चर्चा हुई। दिल्ली पुलिस की कार्यप्रणाली व आनंद पर्वत इलाके में मीनाक्षी हत्याकांड के बाद पार्टी के कार्यकर्ताओं पर पुलिसिया बर्बरता की जानकारी राष्ट्रपति को दी गई। मुख्यमंत्री ने राष्ट्रपति से गुजारिश की कि दिल्ली सरकार अपना काम ठीक से कर सके, इसके लिए वह सीधे हस्तक्षेप करें।
    मालूम हो कि बुधवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को बेहद तल्ख पत्र लिखकर एतराज जताया था कि दिल्ली से संबंधित सारे फैसले गृह मंत्रालय करता है। यह भी उतना ही सच है कि प्रधानमंत्री कार्यालय से डिक्टेट किया जाता है। मुख्यमंत्री ने यह भी लिखा था कि उपराज्यपाल नजीब जंग ने दिल्ली सरकार के 25 फैसलों को अवैध ठहराया है, कानून विशेषज्ञों के अनुसार उन्हें ऐसा करने का अधिकार नहीं है।



6:05 PM | 0 comments | Read More

शिवराज को बचाने हाईकोर्ट में भी झूठ बोल गया मप्र शासन


    इंदौर। एक धार्मिक आयोजन जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल थे, के जुलूस से लगे जाम को मप्र शासन ने हाईकोर्ट में स्वीकारने से ही इंकार कर दिया। सफेद झूठ बोल दिया कि ऐसा कोई आयोजन ही नहीं था, बल्कि स्कूल बसों के कारण जाम लगा था। आप जानकर चौंक जाएंगे कि जिस दिन की बात हो रही है उस दिन रविवार था। स्कूल तो बंद थे।
जवाब पर खड़े हुए सवाल
    रविवार के दिन स्कूल की बसें तभी चलतीं हैं जब स्कूल में कोई आयोजन हो या शिक्षा संबंधी कोई बड़ा आयोजन हो। जिला शिक्षा विभाग के अफसरों के मुताबिक इस दिन स्कूलों का ऐसा कोई आयोजन नहीं था जिसमें बड़े पैमाने पर बसों का इस्तेमाल हुआ हो। ऐसे में सरकार के इस जवाब पर सवाल खड़े हो गए हैं।
6:04 PM | 0 comments | Read More

सलमान खान ने अपने फायदे के लिए बताया था याकूब को निर्दोष


    याकूब मेनन को निर्दोष बताने का फायदा सलमान खान को मिल रहा है। जैसे ही उन्होंने 26 जुलाई को याकूब मेनन के पक्ष में ट्वीट किया फेसबुक और ट्विटर पर उनके Followers की संख्या बहुत तेजी से (तीन गुना) बढ़ने लगी। पिछले हप्ते 26 जुलाई को जहाँ उनका फेसबुक पेज लाइक करने वालों की संख्या में 8.8 फीसदी की गिरावट आ रही थी वहीं याकूब मेनन का पक्ष रखने और उसे निर्दोष बताने के बाद सलमान खान का फेसबुक पेज लाइक करने वालों की संख्या में 23.7 फीसदी की तेजी आ गयी। देशी मीडिया को सलमान खान के ट्वीट के बाद ही इस बात की आशंका हुई थी कि बड़े बड़े स्टार नादानी की वजह से विवादास्पद ट्वीट नहीं करते बल्कि इसके पीछे कोई ना कोई प्लान होता है।
     सलमान खान के केवल सोशल मीडिया पर Followers की संख्या नहीं बढ़ी है बल्कि उनकी फिल्म बजरंगी भाईजान देखने वालों के संख्या में भी बृद्धि हुई है और ये फिल्म सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म बनने जा रही है। इन सब बातों को देखकर ऐसा लग रहा है कि सलमान खान ने वो त्वीट किसी ख़ास वर्ग को ध्यान में रखकर ही किया था।
पढ़िए विवादास्पद ट्वीट पर रिसर्च की पूरी खबर
    26 जुलाई 2015 को सलमान खान का पेज लाइक करने वालों की कुल संख्या 2,61,40,474 थी। फिल्म बजरंगी भाईजान की रिलीज़ के बाद भी उनका पेज लाइक करने वालों की संख्या में 8.8 फीसदी की कमी देखी गयी और पिछले हप्ते केवल 1,77,076 लोगों ने ही उनका पेज लाइक किया।
     लेकिन जैसे ही सलमान खान ने याकूब मेनन पर त्वीट करके इस मामले में विवाद पैदा किया उनका फेसबुक पेज तेजी से लाइक किया जाने लगा और उनके Followers की संख्या में 23.7 फीसदी की तेजी आ गयी। इस हफ्ते कुल 2,66,337 लोगों ने उनका पेज लाइक किया। 31 जुलाई 2015 को सलमान खान के फेसबुक पेज पर followers की कुल संख्या 2,62,60,714 पहुँच गयी। इसके अलावा सलमान खान की मूवी बजरंगी भाईजान के दर्शकों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है और इस फिल्म की कुल कमाई 450 करोड़ पार कर चुकी है।
      कभी कभी हम सोचते हैं बड़े बड़े फिल्म स्टार क्यूँ विवादों में पड़ते हैं और विवादास्पद त्वीट या अंट शंट बयानबाजी करते हैं। इस रिसर्च का आकलन करेंगे तो आपकी शंका का समाधान हो जाएगा। करोड़ों में खेलने वाले स्टार इतने भी नादान नहीं होते कि किसी सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा पाए आतंकवादी को निर्दोष बताकर बिना मतलब के विवादों में फंसें।
Photo 1: Facebook Page ScreenSot 26 July 2015


Photo 2:Facebook Page ScreenSot 31 July 2015




6:01 PM | 0 comments | Read More

शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा को शर्मिदा किया'

    नई दिल्ली।। समय-समय पर अपने अप्रत्याशित सियासी कदमों से भाजपा नेतृत्व को असहज करते रहे शत्रुघ्न सिन्हा एक बार फिर निशाने पर हैं। फांसी पर लटकाए गए मुंबई धमाकों के दोषी याकूब मेमन की सजा माफी के लिए राष्ट्रपति को सौंपी दया याचिका पर हस्ताक्षर कर फिर उन्होंने पार्टी को असहज किया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के अनुसार याकूब की फांसी के खिलाफ राष्ट्रपति को भेजी याचिका पर दस्तखत कर सांसद शत्रुघ्न सिन्हा पार्टी को शर्मिदा किया है। वित्त मंत्री का कहना है कि यह बेहद दुखद है कि सिन्हा ने पार्टी लाइन के खिलाफ जाने का काम किया है।
     जेटली से पूछा गया था कि क्या याचिका पर हस्ताक्षर कर भाजपा सांसद ने पार्टी को शर्मिदा किया है? इस पर वित्त मंत्री ने कहा, सच में ऐसा ही हुआ है। बकौल जेटली, यह पार्टी की लाइन नहीं है। यह बहुत दुख की बात है कि भाजपा के किसी सदस्य ने इस तरह की याचिका पर हस्ताक्षर किया है। वह एक समाचार चैनल पर सवालों का जवाब दे रहे थे।
    ध्यान रहे कि सिन्हा उन नामचीन हस्तियों में शामिल थे, जिन्होंने रविवार को अपनी हस्ताक्षरित याचिका राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सौंप कर याकूब को दी गई सजा पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया था।


5:54 PM | 0 comments | Read More

नूतन ठाकुर ने अखिलेश सरकार की मुश्किलें बढ़ाई......

    लखनऊ।। यादव सिंह बहुचर्चित मामले में की जांच सीबीआई से कराने के मामले में उच्च नयायालय की लखनऊ खंडपीठ से आये आदेश का अध्ययन उत्तर प्रदेश की सरकार करवा रही है. इसके लिए सुप्रीम कोर्ट में नूतन ठाकुर ने एक कैवियट दाखिल कर रखी है. 
    अब यदि राज्य सरकार उच्चतम न्यायालय में अपील करती है, तो न्यायालय आदेश देने के पहले नूतन ठाकुर को भी सुनेगा. इस सम्बन्ध में विपक्ष ने अखिलेश सरकार पर यह आरोप लगाया है कि प्रदेश सरकार यह जांच सीबीआई से नहीं कराना चाहती है, इसलिए इस प्रकार के हथकंडे अपना रही है. कांग्रेस के सत्यदेव त्रिपाठी ने भी राज्य सरकार की भूमिका को संदेहास्पद बताया है.


5:49 PM | 0 comments | Read More

केजरीवाल को हुई याकूब मेनन से हमदर्दी, पुलिस से नाराज


Faansi Politics:
   नई दिल्ली।। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी आखिरकार याकूब की फांसी पर अपना दर्द दिखा दिया। हो सकता है अरविन्द केजरीवाल याकूब के समर्थकों पर हमदर्दी दिखाकर वोट बैंक पॉलिटिक्स खेलना चाह रहे हों क्यों मुंबई नगरपालिका के चुनाव होने वाले हैं और ख़ास लोगों पर हमदर्दी दिखाने से उनके वोट मिलना तय है। अरविन्द केजरीवाल ने मुंबई पुलिस का नकारात्मक चेहरा दखाते हुए ट्वीट किया कि याकूब मेनन को श्रद्धांजली देने वाले काफी लोग उनका चेहरा देखना चाहते थे लेकिन पुलिस ने उन्हें मना कर दिया।
    अरविन्द केजरीवल ने अपने ट्वीट में इंडियन एक्सप्रेस की खबर का लिंक दिया है लेकिन उन्होंने एक तरह से इशारों इशारों में महाराष्ट्र पुलिस का विरोध भी किया है। उनका ट्वीट देखकर कुछ लोगों ने कहा कि अरविंद केजरीवाल भी इस मामले में राजनीतिक गोटियां सेंकना चाहते हैं एसलिये उन्होंने याकूब को चाहने वालों से हमदर्दी दिखा दी और मुंबई पुलिस पर हमला कर दिया।
    केजरीवाल इससे पहले दिल्ली पुलिस को भी ठुल्ला बोल चुके हैं और दिल्ली पुलिस से उनकी नोंक झोंक भी होती रहती है। लगता है कि दिल्ली पुलिस के बाद केजरीवाल अब मुंबई पुलिस के भी पीछे पड़ने वाले हैं।
पढ़ें केजरीवाल का त्वीट

5:38 PM | 0 comments | Read More

जहां पढ़े उसी स्कूल की धरती की गोद में सो गए कलाम

Written By News Today Time on Thursday, July 30, 2015 | 9:44 PM

    रामेश्वरम्।। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को पूरे राजकीय सम्मान के साथ गुरूवार को सुपुर्द-ए-खाक कर दिय गया। मंत्री नरेन्द्र मोदी, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, संसदीय मंत्री वैंकेया नायडू, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई नेता कलाम को अंतिम विदा कहने पहुंचे।
     अंतिम विदाई देने के लिए हजारों लोग, जिनमें बच्चे, बूढ़े और महिलाएं शामिल थी, पहुंचे और जिसे जहां जगह मिली वह वहीं खड़ा हो गया। अब्दुल कलाम की पार्थिव देह को बुधवार दोपहर गृहनगर रामेश्वरम् लाई गई। इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का पार्थिव शव रामेश्वरम् से 50 किमी दूर रामनाथपुरम् के उसी श्वार्टज स्कूल में रखा गया है जहां उन्होंने पढ़ाई की थी। स्कूल में कलाम की बड़ी फोटो लगी है। प्रिंसिपल बताते हैं कि कलाम समय मिलने पर स्कूल में आकर छात्रों से जरूर मिलते थे। कलाम के 96 साल के बड़े भाई माराईयार बताते हैं कि कलाम अक्सर उन्हें फोन करते थे।उनकी बेटी बताती हैं कि कलाम जब भी फोन करते तो मुझसे कहते कि फोन का स्पीकर ऑन कर दो, ताकि वे उनसे ठीक से बात कर सकें। कलाम कहते थे कि कभी मेरे नाम का इस्तेमाल नहीं करना। गौरतलब है कि अब्दुल कलाम का निधन सोमवार को मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग में हुआ। वे वहां पर आईआईएम शिलॉन्ग में लेक्चर देने के लिए गए हुए थे, इसी दौरान वे अचानक बोलते-बोलते गिर पड़े। वे देश के 11वें राष्ट्रपति थे और जनता के बीच बेहद लोकप्रिय थे।


9:44 PM | 0 comments | Read More

राजीव के हत्यारों को नहीं होगी फांसी, केन्द्र की दलील खारिज

    नई दिल्ली।। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को फांसी नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को केन्द्र की क्यूरेटिव पिटीशन को खारिज कर दिया। याचिका सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले को लेकर दाखिल की गई थी जिसमें राजीव गांधी के हत्यारों की फांसी की सजा को उम्र कैद में तब्दील किया गया था। केन्द्र का कहना था कि राजीव गांधी के हत्यारे दया के पात्र नहीं है,उन्हें फांसी ही होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने 18 फरवरी 2014 को राजीव गांधी की हत्या के दोषी संथन, मुरूगन और पेरारिवलन की सजा को उम्र कैद में तब्दील किया था। तीनों ने दया याचिकाओं के निपटारे में देरी के आधार पर सजा-ए-मौत को उम्र कैद में बदलने का अनुरोध किया था। केन्द्र सरकार ने इसका विरोध किया था। उस वक्त मुख्य न्यायाधीश पी.सदाशिवम की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बैंच ने दोषियों की दया याचिका पर फैसला लेने में केन्द्र सरकार की ओर से हुई 11 साल की देरी का जिक्र किया था। सुप्रीम कोर्ट में केन्द्र की ओर से पेश हुए उस वक्त के अटॉर्नी जनरल जी.ई.वाहनवती ने दलील दी थी कि राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका का निपटारा करने के लिए कोई समय सीमा तय नहीं है,ऎेसे में इसे देरी नहीं कहा जा सकता। इस पर कोर्ट ने कहा था, हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह दया याचिकाओं पर निर्णय लेने के लिए राष्ट्रपति को उचित समय में सलाह दें। इसके बाद केन्द्र ने रिव्यू पिटीशन दाखिल की थी,जो खारिज हो गई थी। आखिर में क्यूरिटीव पिटीशन दाखिल की गई।

9:34 PM | 0 comments | Read More

सुबह 3:45 बजे जागा और 7:01 बजे मृत घोषित हुआ याकूब

     नागपुर।। सुप्रीम कोर्ट से क्यूरेटिव पिटीशन खारिज होने के बाद याकूब मेमन को बृहस्पतिवार सुबह यहां की सेंट्रल जेल में फांसी पर लटका दिया गया। फांसी पर लटकाए जाने से पहले याकूब की अंतिम सुबह कुछ ऐसी थी:-
सुबह 3.45 बजे:याकूब को जगाया गया। नहाने के बाद उसे पहनने के लिए नए कपड़े दिए गए।
सुबह 4.15 बजे: उससे कहा गया कि वह जिस धर्म को मानने वाला है, उसके अनुसार प्रार्थना कर ले। तब उसने नमाज अदा की।
सुबह 4.45 बजे: डॉक्टरों की टीम ने उसका मेडिकल चेकअप किया।
सुबह 5.00 बजे:उसे उसकी पसंद का नाश्ता कराया गया।
सुबह 6.00 बजे: उसे उसकी पसंद की धार्मिक किताब पढ़ने के लिए दी गई।
सुबह 6.20 बजे: उसे फांसी के फंदे तक ले जाया गया।
सुबह 6.25 बजे: याकूब फांसी के फंदे के सामने खड़ा करके उसे फांसी देने की वजह बताई गई।
सुबह 6.30 बजे: उसका चेहरा काले कपड़े से ढक दिया गया और हाथ पीछे की तरफ बांध दिए गए। इसके बाद उसको फांसी दे दी गई।
सुबह 7.01 बजे: चिकित्सकों ने औपचारिक तौर पर याकूब को मृत घोषित कर दिया गया।
सुबह 8.15 बजे: याकूब की फांसी की सूचना गृह मंत्रालय को दी गई और कानूनी कार्रवाई के बाद उसके अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू हुई।


9:33 PM | 0 comments | Read More

जाने कलाम के ''गुरु मंत्र'' को

    नई दिल्ली।। पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम हमेशा से युवाओं को उर्जावान बनाने के लिए उनका हौंसला बढ़ाते रहते थे। युवाओं के उज्जवल भविष्य के लिए उनकी कहीं कुछ बातें ऐसी हैं जिसे अपनाकर कोई भी छात्र बुलंदियों को छू सकता है। उनकी कही बातें हमेशा युवाओं का मार्गदर्शन करती रहेंगी।
कलाम ने कहा था
- चलो हम अपना आज कुर्बान करते हैं जिससे हमारे बच्चों को बेहतर कल मिले।
- भगवान उसी की मदद करता है जो कड़ी मेहनत करते हैं। यह सिद्धान्त स्पष्ट होना चाहिए।
- सपने सच हों इसके लिए सपने देखना जरूरी है।
- छात्रों को प्रश्न जरूर पूछना चाहिए. यह छात्र का सर्वोत्तम गुण है।
- अगर एक देश को भ्रष्टाचार मुक्त होना है तो मैं यह महसूस करता हूं कि हमारे समाज में तीन ऐसे लोग हैं जो ऐसा कर सकते हैं.. ये हैं पिता, माता और शिक्षक।
- मनुष्य को मुश्किलों का सामना करना जरूरी है क्योंकि सफलता के लिए यह जरूरी है।
- महान सपने देखने वालों के सपने हमेशा श्रेष्ठ होते हैं।
- जब हम बाधाओं का सामना करते हैं तो हम पाते हैं कि हमारे भीतर साहस और लचीलापन मौजूद है जिसकी हमें स्वयं जानकारी नहीं थी और यह तभी सामने आता है जब हम असफल होते हैं। जरूरत है कि हम इन्हें तलाशें और जीवन में सफल बनें।
- युवाओं के लिए कलाम का विशेष संदेशः अलग ढंग से सोचने का साहस करो, आविष्कार का साहस करो, अज्ञात पथ पर चलने का साहस करो, असंभव को खोजने का साहस करो और समस्याओं को जीतो और सफल बनो.. ये वो महान गुण हैं जिनकी दिशा में तुम अवश्य काम करो।
- हमें हार नहीं माननी चाहिए और समस्याओं को हम पर हावी नहीं होने देना चाहिए।


7:02 PM | 0 comments | Read More

हम मिलकर पूरा करेंगे कलाम का सपना : नरेंद्र मोदी


    नरेंद्र मोदी: एपीजे अब्दुल कलाम के रूप में भारत ने एक हीरा खो दिया है। लेकिन उस हीरे की चमक और रोशनी हमें उस मंजिल तक पहुंचाएगी, जो उस स्वप्नद्रष्टा ने देखी थी। उन्होंने ख्वाब देखा था कि भारत एक नालेज सुपरपावर (ज्ञान शक्तिपुंज) के रूप में पहली कतार के देशों में शुमार हो।
     हम उस लक्ष्य की ओर बढ़ेंगे। वैज्ञानिक पृष्ठभूमि से चलकर राष्ट्रपति पद तक पहुंचे कलाम सच्चे मायनों में जनता के राष्ट्रपति थे और यही कारण था कि उन्हें जनता से अथाह प्यार और सम्मान मिला और शायद उनके लिए सफलता का अर्थ भी यही था।
    उनकी हर कथनी-करनी में इसी की झलक मिली। गरीबी से लड़ने का उनका हथियार था ज्ञान और इसे फैलाने में उन्होंने कभी कोई कसर नहीं छोड़ा। रक्षा कार्यक्रम के वैज्ञानिक के रूप में उन्होंने क्षितिज को पार किया तो एक सच्चे संत के रूप में उन्होंने बताया कि सद्भाव का आकाश सबसे बड़ा है।
यथार्थ पर टिका था उनका आदर्शवाद
     हर बड़ी शख्सियत का जीवन एक प्रिज्म की तरह होता है। रोशनी उससे होकर गुजरती है तो हम पर सतरंगी किरणों की वर्षा होती हैै। कलाम का आदर्शवाद यथार्थ के आधार पर टिका था। सही मायनों में हर वंचित बच्चा यथार्थवादी होता है। गरीबी से भ्रम पैदा नहीं होता है।
     गरीबी एक ऐसी डरावनी विरासत है जिसके बोझ तले बच्चा सपना भी नहीं देख सकता है। वह उससे पहले ही परास्त हो जाता है। लेकिन कलाम जी को परिस्थितियों से हार मानना स्वीकार नहीं था। उनका बचपन भी कठिन था। अपनी पढ़ाई के लिए उन्होंने अखबार भी बेचा। आज सभी अखबार उनकी याद और श्रद्धांजलि से पटे पड़े हैैं।
     उन्होंने कभी खम ठोककर यह नहीं कहा कि उनका जीवन दूसरों के लिए रोल माडल है, लेकिन यह सच्चाई है कि उनसे प्रेरणा लेकर गरीबी और अंधकार से भ्रमित और ग्रसित किसी असहाय बच्चे को बाहर निकलने में मदद मिल सकती है। कलाम मेरे मार्गदर्शक हैैं। उसी तरह जैसे हर बच्चे के।
चापलूसी कभी रास नहीं आई
     उनका आचरण, समर्पण और उनकी प्रेरणादायी सोच उनके पूरे जीवन से प्रस्फुटित होती है। अहं उन पर कभी हावी नहीं हो सका और चापलूसी कभी रास नहीं आई। हाई प्रोफाइल मंत्री हों या उच्च सामाजिक वर्ग के श्रोता या फिर युवा छात्र, उन पर इसका कभी कोई फर्क नहीं दिखा।
     वह हर किसी के लिए एक समान थे। उनके व्यक्तित्व में अदभुत बात थी- वह था एक छोटे बच्चे की ईमानदारी, युवा होते एक बच्चे का उत्साह और एक वयस्क की परिपक्वता का मिश्रण। यह हर क्षण उनके व्यक्तित्व में झलकता था। संसार से उन्होंने जो कुछ लिया वह पूरा समाज पर लुटा दिया। गहरी आस्था रखने वाले कलाम हमारी सभ्यता के तीनों गुण - दम(आत्म नियंत्रण), दान और दया से भरपूर थे।
व्यक्तित्व में थी प्रयत्नशीलता की आग
     लेकिन इस व्यक्तित्व में प्रयत्नशीलता की आग थी। राष्ट्र के लिए उनकी दृष्टि का निर्माण स्वतंत्रता, विकास और शक्ति के तीन स्तंभों पर हुआ था। हमारे इतिहास में स्वतंत्रता का मतलब राजनीतिक स्वतंत्रता से है। परंतु इसमें वैचारिक व बौद्धिक स्वतंत्रता भी शामिल है। वह भारत को विकासशील देश से विकसित राष्ट्र के रूप में परिवर्तित होते और समवेत आर्थिक विकास के जरिये गरीबी को समाप्त करना चाहते थे।
चाहते थे 70 फीसद समय विकास में लगाएं नेता
     इसीलिए उन्होंने कहा था कि नेताओं को केवल 30 फीसद समय राजनीति में और 70 फीसद विकास में लगाना चाहिए। वह अक्सर सांसदों को बुलाकर उनके साथ उनके क्षेत्र की सामाजिक-आर्थिक समस्याओं पर चर्चा किया करते रहते थे।
     उनके मुताबिक, राष्ट्र की शक्ति का तीसरा स्तंभ यानी क्षमता केवल आक्रामकता से नहीं, बल्कि समझ विकसित करने से मजबूत होता है। एक असुरक्षित राष्ट्र शायद ही कभी समृद्धि के रास्ते पर जा सकता है। शक्ति से सम्मान प्राप्त होता है। हमारी नाभिकीय एवं अंतरिक्ष संबंधी उपलब्धियों में उनके योगदान ने ही भारत के अंदर विश्व में उचित स्थान पाने की शक्ति व भरोसा पैदा किया है।
पेड़ों में कविता देखते थे कलाम
     हम ऐसी सर्वश्रेष्ठ संस्थाएं खड़ी कर उनकी याद को सम्मान दे सकते हैं जो विज्ञान एवं तकनीक को बढ़ावा देती हों और प्रकृति की आश्चर्यजनक शक्ति के साथ तादात्म्य स्थापित करने में हमारी मदद करें। अक्सर हम लालच के वशीभूत होकर प्रकृति का शोषण करने लगते हैं। लेकिन कलाम जी को पेड़ों में कविता, जबकि पानी, हवा और सूरज में ऊर्जा दिखाई देती थी। हमें अपनी दुनिया को उनकी आंखों और उन्हीं के जैसे उत्साह से देखने का अभ्यास करना होगा।
वह हर भारतीय बच्चे के थे पिता
    मनुष्य अपने जीवन को अपनी इच्छा, संकल्प, क्षमता और साहस के अनुसार संचालित कर सकता है। परंतु उसे अपने जन्म का स्थान और मृत्यु का समय तय करने का अधिकार नहीं मिला है। परंतु यदि कलाम जी को यह अधिकार मिलता तो अवश्य ही वह कक्षा में अपने प्रिय छात्रों को पढ़ाते हुए संसार से रुखसत होना पसंद करते। यदि कोई कहता है कि अविवाहित होने के नाते उनके कोई संतान नहीं थी, तो यह सही नहीं होगा।
    वस्तुत: वह प्रत्येक भारतीय बच्चे के पिता थे। जिन्हें वह न केवल पढ़ाते और मनाते थे, बल्कि उनका जोश बढ़ाते थे और अपनी दृष्टि की आभा और स्नेह से उनके भीतर से अज्ञान के अंधेरे को दूर करते थे। उन्होंने खुद भविष्य को देखा और दूसरों को रास्ता दिखाया।
प्रेरणा देगा उनका व्यक्तित्व
     मैैंने जब उस कमरे में प्रवेश किया, जहां उनका पार्थिव शरीर रखा गया था तो मेरी नजर द्वार के पास लटकी एक पेंटिंग पर पड़ी। उस पर कलाम की किताब इग्नाइटेड माइंड्स की कुछ प्रेरणादायी पंक्तियां लिखी थीं। उनका काम उनके साथ समाप्त नहीं होगा। यह अनंत के लिए है। उनकी प्रेरणा बच्चों के जीवन और काम को दिशा दिखाएगी और फिर आगे उनके बच्चों के लिए भी मार्गदर्शक बनेगी।
7:01 PM | 0 comments | Read More

बिल्ली के बाद अब कुत्ते से शादी

    खुशनुमा जिंदगी जीने के लिए एक साथी का होना बहुत जरूरी होता है। जो सुख-दुख में हमारा साथ दे सके। इसी लिए कहा जाता है कि कोई भी शख्स अकेला नही रह पाता। आज हम आपको एक ऐसा ही किस्सा बता रहे हैं।
    एक महिला ने अपने पति की मौत के बाद इस गम को भुलाने के लिए एक कुत्ते से शादी का फैसला किया।
    डोमिनिक लेस्बीरेल ने आठ साल पहले एक बिल्ली से शादी की थी। बिल्ली की मौत के बाद अब वह फिर अकेली हो गयी है तो अब वह अपने प्रिय कुत्ते के साथ शादी कर रही है।
     वो कहती हैं कि वह जल्द ही कुत्ते से शादी करेंगे। उन्होंने खुद तो अपने पालतू जीवों के साथ शादी की ही है साथ ही वो दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करती हैं।
     वो कहती हैं कि शादी करने का एकमात्र मकसद ये है कि आप अपने पालतू जीव से प्यार करें और उसकी भी इज्जत करें। उन्हें इसके लिए लोगों की आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ता है। उनका होने वाला पति एक कुत्ता है जिसका नाम ट्रैविस है। वो डोमेनिक के बहुत करीब है। डोमेनिक खुद मानती हैं कि ट्रैविस के साथ उनका संबंध बहुत मजबूत है और वो इसका जश्न मनाना चाहती हैं।





6:59 PM | 0 comments | Read More

कदम तक झुकेगी कामयाबी यदि याद रहे कलाम के ''गुरु मंत्र''

    नई दिल्ली।। पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम हमेशा से युवाओं को उर्जावान बनाने के लिए उनका हौंसला बढ़ाते रहते थे। युवाओं के उज्जवल भविष्य के लिए उनकी कहीं कुछ बातें ऐसी हैं जिसे अपनाकर कोई भी छात्र बुलंदियों को छू सकता है। उनकी कही बातें हमेशा युवाओं का मार्गदर्शन करती रहेंगी।
कलाम ने कहा था
- चलो हम अपना आज कुर्बान करते हैं जिससे हमारे बच्चों को बेहतर कल मिले।
- भगवान उसी की मदद करता है जो कड़ी मेहनत करते हैं। यह सिद्धान्त स्पष्ट होना चाहिए।
- सपने सच हों इसके लिए सपने देखना जरूरी है।
- छात्रों को प्रश्न जरूर पूछना चाहिए. यह छात्र का सर्वोत्तम गुण है।
- अगर एक देश को भ्रष्टाचार मुक्त होना है तो मैं यह महसूस करता हूं कि हमारे समाज में तीन ऐसे लोग हैं जो ऐसा कर सकते हैं.. ये हैं पिता, माता और शिक्षक।
- मनुष्य को मुश्किलों का सामना करना जरूरी है क्योंकि सफलता के लिए यह जरूरी है।
- महान सपने देखने वालों के सपने हमेशा श्रेष्ठ होते हैं।
- जब हम बाधाओं का सामना करते हैं तो हम पाते हैं कि हमारे भीतर साहस और लचीलापन मौजूद है जिसकी हमें स्वयं जानकारी नहीं थी और यह तभी सामने आता है जब हम असफल होते हैं। जरूरत है कि हम इन्हें तलाशें और जीवन में सफल बनें।
- युवाओं के लिए कलाम का विशेष संदेशः अलग ढंग से सोचने का साहस करो, आविष्कार का साहस करो, अज्ञात पथ पर चलने का साहस करो, असंभव को खोजने का साहस करो और समस्याओं को जीतो और सफल बनो.. ये वो महान गुण हैं जिनकी दिशा में तुम अवश्य काम करो।
- हमें हार नहीं माननी चाहिए और समस्याओं को हम पर हावी नहीं होने देना चाहिए।



6:53 PM | 0 comments | Read More

इजरायल की कुछ खासियतें, जो शायद आप नहीं जानते हैं –

• इजरायल मिडल-ईस्ट का एकमात्र लोकतांत्रिक देश है.
• इजरायल की आधिकारिक भाषा तीन हैं – हिब्रू, अंग्रेजी और अरबी.
• इजरायल यूरोविजन सॉन्ग कॉन्टेस्ट 3 बार जीत चुका है.
• इजरायल के पास दुनिया में प्रति व्यक्ति बड़ी केंद्रीकृत हाई-टेक कंपनियां हैं.
• दुनिया में प्रति व्यक्ति नई किताबें प्रकाशित करने में इजरायल का स्थान दूसरा है.
• एनएएसडीएक्यू से जुड़ी कंपनियों की संख्या को लेकर इजरायल का अमेरिका के बाद दूसरा स्थान है.
• दुनिया में प्रति व्यक्ति अधिक संख्या में साइंटिफिक आर्टिकल्स प्रकाशित करने में इजरायल सबसे आगे है.
• इंटेल प्लैटिनम प्रोसेसर को इजरायल में डिवेलप किया गया.
• इजरायल का आकार लगभग मिजोरम के समान है.
• दुनिया के किसी भी देश की तुलना में इजरायल के पास प्रति व्यक्ति म्यूजियम की संख्या सबसे अधिक है.
• दुनिया में प्रति व्यक्ति पेटेंट कराने वालों में इजरायलियों का स्थान पहला है.
• हाइफा में मोटोरोला का सबसे बड़ा रिसर्च सेंटर है. यहां पहले सेल्युलर फोन का विकास भी हुआ था.
• दुनिया में किसी भी देश की तुलना में प्रति व्यक्ति इंजीनियर और साइंटिस्ट की संख्या इजरालय में सबसे अधिक है.
• माइक्रोसॉफ्ट ने माइक्रोसॉफ्ट विंडो एक्सपी को इजरायल डिवेलपमेंट सेंटर में विकसित किया था.
• पहला एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर साल 1979 में इजरायल में डिवेलप किया गया था.
• इजरायल की फॉर्मास्युटिकल कंपनी टीईवीए दुनिया की 20 सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है.
• पूरी दुनिया में संकट की घड़ियों में इजरायल कई बार मानवीय सहायता भेज चुका है. जैसे, तुर्की का ट्रेन हादसा, भारत में सुनामी, हैती भूकंप, पेरु भूंकप आदि.
• मृत सागर पृथ्वी पर सबसे निचला स्थान है. इस सागर में औषधिय तत्व पाए जाते हैं.
6:34 PM | 0 comments | Read More

सलमान खान और ओवैसी के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज

Written By News Today Time on Monday, July 27, 2015 | 9:01 PM

     इलाहाबाद।। मुम्बई हमले के गुनहगार याकूब मेनन के समर्थन में बयानबाजी करने वाले फिल्म अभिनेता सलमान खान और एमआईएम सांसद असदउद्दीन ओवैसी के खिलाफ इलाहाबाद की जिला अदालत में आईपीसी की गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है। ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट की कोर्ट इस मामले में कल से ही सुनवाई करेगी।
     सलमान खान और ओवैसी दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 124 ए, 153 (देशद्रोह) के साथ ही मानहानि की धारा 500 के तहत केस दर्ज किया गया है। कल इस मामले में सबसे पहले शिकायतकर्ता इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील सुशील मिश्र और दो गवाहों का बयान होगा। इन बयानों से संतुष्ट होने के बाद अदालत सलमान और ओवैसी को समन जारी कर उन्हें कोर्ट में तलब कर सकती है।
    दोनों चर्चित हस्तियों के खिलाफ जिला अदालत में दर्ज मुक़दमे का नंबर 1287/15 है। ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट टू स्वाति सिंह की कोर्ट ने सोमवार को शिकायत पेश होने पर इस मामले को सुनवाई के लायक मानते हुए मुकदमा दर्ज करने की मंजूरी दी है।
    सलमान खान और सांसद असदउद्दीन ओवैसी के खिलाफ यह केस इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील और आरटीआई एक्टिविस्ट सुशील कुमार मिश्र ने दर्ज कराया है। अर्जी में कहा गया है कि सलमान खान और ओवैसी ने याकूब मेनन का समर्थन कर देशद्रोह का काम किया है और तो साथ ही देश की सबसे बड़ी अदालत के फैसले पर सवालिया निशान खड़े कर अदालत की अवमानना भी की है, इसलिए इन दोनों के खिलाफ देशद्रोह और मानहानि की धाराओं के तहत केस दर्ज कर इन्हे सजा दी जानी चाहिए।
(Anil Dwivedi)
9:01 PM | 0 comments | Read More

इमाम बुखारी के खिलाफ फिर होगी जांच

     जयपुर।। जयपुर के एसीएमएम कोर्ट-2 ने जामा मस्जिद दिल्ली के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बयान देने और देश में अशांति फैलाने के मामले में जालूपुरा पुलिस की एफआर लौटाते हुए फिर से जांच के आदेश दिए हैं।
     पुलिस ने यह कहते हुए एफआर लगाई थी कि मामला दिल्ली का है और यह उसके क्षेत्राधिकार में भी नहीं है। इस पर कोर्ट ने कहा कि पुलिस को मामला 156 (3) के तहत जांच के लिए भेजा गया था। क्षेत्राधिकार तय करने का अधिकार पुलिस को नहीं है।
    गौरतलब है कि कोर्ट ने नवंबर 2014 में रफीक खान के परिवाद पर शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी के खिलाफ जालूपुरा पुलिस थाने में केस दर्ज कर जांच का आदेश दिया था। बुखारी पर 31 अक्टूबर को नवाज शरीफ को बुलाने और मोदी को निमंत्रण न देने पर आपत्ति जताई गई थी।
    परिवाद में बुखारी के उस बयान पर भी कड़ी आपत्ति जताई गई थी जिसमें उन्होंने कहा था कि मोदी को देश के मुसलमानों ने स्वीकार नहीं किया, वह हमें पसंद नहीं करते। इसलिए निमंत्रण नहीं भेजा। इस बयान को मुसलमानों को बदनाम करने और सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश व देशद्रोह बताया गया था।



8:52 PM | 0 comments | Read More

स्कूलों में शौचालय के लिए मशक्कत कर रही है सरकार



    नई दिल्ली।। देशभर के स्कूलों को एक साल में शौचालय से युक्त करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वादे को पूरा करने के लिए सरकार मशक्कत कर रही है। 4.19 लाख शौचालय बनाने के लक्ष्य से सरकार काफी पीछे है।
     मोदी ने पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में एक साल के अंदर सभी स्कूलों में शौचालय निर्माण का वादा किया था। स्वतंत्रता दिवस समारोह में अभी बमुश्किल तीन सप्ताह ही बाकी हैं। लेकिन सरकार ने पिछले सप्ताह संसद में बताया कि अब तक 2.86 लाख शौचालयों का ही निर्माण किया गया है। बहरहाल अंडमान एवं निकोबार, दमन एवं दीव, दादरा एवं नगर हवेली, केरल, पुडुचेरी और सिक्किम जैसे राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों ने सौ फीसद लक्ष्य हासिल कर लिया है।
     मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में लिखित जवाब में बताया कि गुजरात और कर्नाटक इस लक्ष्य को हासिल करने के बेहद करीब हैं। 'स्वच्छ विद्यालय' पहल के तहत 4.19 लाख शौचालयों को पूरा करने का लक्ष्य है। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों ने 1.67 लाख शौचालयों, जबकि निजी क्षेत्र ने 4,562 शौचालयों के निर्माण में सहयोग की प्रतिबद्धता दिखाई है।
     बहरहाल, मंत्रालय लक्ष्य को हासिल करने के लिए आशान्वित है। अभियान शीघ्र पूरा करने के लिए वरिष्ठ अधिकारी भी राज्यों का दौरा कर रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर पर निरंतर इसकी प्रगति पर निगरानी की जा रही है। स्मृति ने बताया कि इसके अलावा, 'स्वच्छ विद्यालय' पहल के तहत इसकी प्रगति की समीक्षा के लिए 310 केंद्रीय पर्यवेक्षकों को भी नियुक्त किया गया है।
8:50 PM | 0 comments | Read More

याकूब का पक्ष लेने वाले देश के शत्रु - रामदेव

     हिसार।। योग गुरु स्वामी रामदेव ने कहा कि याकूब मेनन मानवता और राष्ट्र का शत्रु है। उसे हर हाल में फांसी की सजा होनी चाहिए। मेनन के प्रति आत्मीयता रखना राष्ट्र के साथ खिलवाड़ है और उसके पक्ष में मानवाधिकार की दुहाई देने वाले राष्ट्र के शत्रु हैं।
     योग गुरु रविवार को यहां पतंजलि योग समिति व भारत स्वाभिमान ट्रस्ट की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इससे पूर्व हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय ने रामदेव और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि से अलंकृत किया है। योग, आयुर्वेद और कृषि में उनके योगदान पर यह उपाधि दी गई है।
     रामदेव ने कहा कि विश्वविद्यालय का यह सम्मान हृदय से स्वीकार है। सरकार द्वारा शराब कारोबार को प्रश्रय देने के सवाल उन्होंने कहा कि सरकार दोहरी चाल चलती और चल भी रही है। ऐसे में समाज को सजग होना है। सब कुछ सरकार पर छोडऩा समाज हित में नहीं। नशा, गाय व स्वदेशी की लड़ाई खुद समाज को लडऩी होगी और मजबूत आयाम स्थापित करना होगा।
     कालाधन पर चुप्पी साधे रहने के सवाल पर उन्होंने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन हुआ है। कालाधन, किसान और शिक्षा सरीखे मुद्दे प्राथमिकता पर है। आवाज उठाई गई है और उठ भी रही है। अन्ना हजारे द्वारा वन रैंक वन पेंशन आंदोलन के प्रश्न पर कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार इसे प्रभावी करने में जुटी है। वह अन्ना या फिर किसी के दबाव में नहीं आने वाली है। बिहार में दो माह बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में अपनी भूमिका के सवाल पर वे चुप्पी साध गए। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल फकीर के माफिक हैं।



8:49 PM | 0 comments | Read More

अवैध संपत्ति मामले में जयललिता समेत चार को SC का नोटिस

    नई दिल्ली।। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को आय से अधिक सम्पति के मामले में बरी करने के खिलाफ कर्नाटक सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले में जयललिता सहित 4 लोगो को नोटिस जारी किया। इस मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट उन्हें बरी कर चुका है।
    गौरतलब है कि सुब्रमण्यम स्वामी ने 1996 में जयललिता के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मुकदमा दर्ज कराया था। तक़रीबन 67 करोड़ रुपये के आय से अधिक संपत्ति के 1996 के मामले में उन्हें बेंगलुरु की विशेष अदालत ने 4 साल की जेल और 100 करोड़ रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई थी। जयललिता 1991 से 1996 तक तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं। मुख्यमंत्री के रूप में वो सिर्फ एक रुपए महीने की तनख्वाह लेती थीं।
    मगर स्वामी का आरोप था कि 1991 से 1996 के बीच जयललिता की दौलत 22 गुना बढ़ गई। स्वामी का कहना था कि 1991 में जयललिता के पास तीन करोड़ रुपए की संपत्ति थी, जबकि 1996 में ये बढ़कर 66.65 करोड़ हो गई। मामले में हाईकोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया है। इसके खिलाफ ही अब कर्नाटक सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है।
8:48 PM | 0 comments | Read More

नक्सली मनाएंगे शहीद सप्ताह, बालाघाट में बांटे पर्चे


   बालाघाट।। मध्यप्रदेश में नक्सल प्रभावित बालाघाट जिले में सक्रीय माओवादी नक्सलियों ने शहीदी सप्ताह के 1 दिन पूर्व ही ग्रामीण क्षेत्रों में नक्सली पर्चे और बैनर बंटवाकर अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी, जबकि नक्सली नेता दिलीप उर्फ गुहा की गिरफ्तारी के बाद से पुलिस का कहना था कि नक्सलियों की गतिविधियों में कमी आई है।
    माओवादी नक्सलियों के द्वारा प्रतिवर्ष 27 जुलाई से 3 अगस्त तक पुलिस मुठभेड में मारे गये अपनी नेताओं की याद में शहीदी सप्ताह मनाते हैं। इस दौरान इन लोगों के द्वारा विभिन्न प्रकार की सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन करते हैं। वहीं अपने नेताओं की स्टेच्यु बनाकर श्रध्दांजली देते हैं।
    इस वर्ष भी नक्सलियों के द्वारा वनांचल क्षेत्र के नक्सल प्रभावित गांव में टांगे गये बैनर, चिपकाये गये पोस्टरों में शहीदी सप्ताह मनाये जाने का उल्लेख किया है। नक्सलियों ने अपनी सशक्त गतिविधियों का अहसास दिलाते हुये दक्षिण बैहर क्षेत्र के गांव में जहां परचे वितरित किये हैं वहीं उसी क्षेत्र के चौक चौराहों और मुख्य मार्ग पर बैनर टांग दिये है हांलाकि इसकी सूचना मिलने पर जब चिन्हित गांव का दौरा कर जमीनी जानकारी ली गई तो बैनर पोस्टर नही मिले किन्तु ग्रामीणों ने इसकी पुष्टि करते हुये बताया की सोनगुडडा बिठली मार्ग के बंजारी मंदिर के समीप सडक के किनारे एक बडा पोस्टर लगाया गया था।
    इसी तरह बिठली पाथरी मार्ग के ग्राम नव्ही ग्राम पंचायत मुख्यालय के समीप एक पेड में बैनर बांध दिया गया था जो 26 जुलाई की शाम 7 बजे तक लगा हुआ था जिसे पुलिस के कुछ आदमी उक्त बैनर को उतार ले गये।
    नक्सलियों के द्वारा वनांचल क्षेत्र के प्रभावित गांव में वितरीत किये गये पोस्टर और टांगे गये बैनरों में यह उल्लेख किया है कि जंगल जमीन पर आदिवासियों का अधिकार होना चाहिये। वहीं ग्रामीणों से आव्हान करते हुये कहा की मध्यप्रदेश और केन्द्र की सरकार मजदूर विरोधी है तथा इन दोनो सरकारों की नीतियों की आलोचना की आलोचना की है। वहीं नव्ही के आगे ग्राम पिपरटोला में वितरित किये गये परचों में नक्सली नेता दिलीप उर्फ गुहा के बारे में उल्लेख किया है कि उसे दल से निष्कासित कर दिया था। जिसे पुलिस द्वारा वाहवाही लुटने के आशय से उसे नक्सली और पुलिस की मुठभेड में गिरफ्तार किया जाना बताया जा रहा है।
    नक्सलियों के द्वारा क्षेत्र में बैनर और पर्चे बाटे और बांधे जाने की खबर लगने पर जब ग्राम नव्ही, जगला, पिपरटोला, जालदा, मण्डवा आदि गांवों का दौरा कर जानकारी ली गई तो हैरत की बात यह समझ में आई कि इन क्षेत्रों में नक्सलियों की गतिविधियां होने के बावजूद भी पुलिस सर्चिंग देखने को नही मिली।
   ग्रामीणों से यह भी जानकारी मिली है कि वर्तमान में नक्सलियों की संख्या 80 के करीब हैं जिनमें अधिकांश चेहरे नये हैं जो छत्तीसगढ और महाराष्ट्र से आये हुये हैं। शहीदी सप्ताह के 2 दिन पूर्व से ही उनकी सक्रीयता को यह अहसास दिलाता है कि उन क्षेत्र की पुलिस चौकियों में भारी संख्या में सशस्त्र बल होने के बावजूद भी सर्चिंग व्यवस्था नगण्य है। हांलांकि वरिष्ठ पुलिस अधिकारी यह कह रहे हैं कि पुलिस की सर्चिंग जारी है।
    पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी ने बताया की नक्सलियों की उपस्थिति की जानकारी मिल रही है। नव्ही और बिठली सोनगुडडा मार्ग के बंजारी घाट पर बैनर बांधे जाने की भी सूचना मिली है जिसे स्थानीय ग्रामीणों के सहयोग से नक्सलियों के द्वारा बैनर, पोस्टर एवं पर्चे वितरीत किये गये हैं सूचना पर पुलिस सर्चिंग बढा दी गई है।

8:41 PM | 0 comments | Read More

उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी को प्याज के भाव बेच रहे कांग्रेसी



    लखनऊ।। केंद्र की सत्ता गंवाने के बाद अब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का भाव प्याज जैसा हो गया है। अब राहुल गांधी को प्याज के भाव बेचा जा रहा है। इनको भाजपा, बसपा या फिर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता नहीं बल्कि कांग्रेसी ही बेच रहे हैं। जी हां गोरखपुर में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने महंगाई के विरोध में आज पांच रुपये किलो राहुल गांधी प्याज को जमकर बेचा।
      बाजार में प्याज का दाम 40 रुपये प्रति किग्रा होने से खफा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने गोरखपुर में नायाब उदाहरण पेश किया। इन उत्साही कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह पर राहुल गांधी प्याज को पांच रुपये किलो में बेचा। जगह-जगह पर राहुल गांधी की तस्वीर लगी जगहों पर राहुल गांधी प्याज को पांच रुपये किलो और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्याज को 40 रुपये किलो में बेचा गया। कांग्रेस के कार्यकताओं का आज का अनूठा प्रदर्शन गोरखपुर जिले में चर्चा का विषय रहा।
    जिलाध्यक्ष सैयद जमाल के नेतृत्व में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने चेतना तिराहे पर राहुल गांधी प्याज की दुकान लगाकर उसको पांच रुपये किलो बेचकर महंगाई को लेकर गुस्से का इजहार किया। कांग्रेसियों की इस दुकान पर एक घंटे में लगभग तीन क्विंटल प्याज बिक गई। जिलाध्यक्ष ने आरोप लगाया कि उद्योगपतियों के इशारे पर काम कर रही मोदी सरकार को आम आदमी की चिंता नहीं है।
इतनी सस्ती प्याज कहां मिली
     जिलाध्यक्ष सैयद जमाल एवं महासचिव अनवर हुसैन बताते हैं कि कांग्रेस ने कार्यकर्ताओं के सहयोग से मंडी से प्याज खरीदी और उसे सस्ते दर पर बेचकर विरोध जताया। हम जानते हैं कि जब बाजार में 40 रुपये से कम मूल्य पर प्याज उपलब्ध नहीं है तो हमें भी पांच रुपये में नहीं मिलेगी, लेकिन पांच रुपये में प्याज बेचकर हमने सरकार को जिम्मेदारी का अहसास कराया। उसे बढते मूल्य पर नियंत्रण के लिए तत्काल आवश्यक कदम उठाना चाहिए।



8:17 PM | 0 comments | Read More

मैं उनको खदेड़ कर ही दम लूंगा...................

  गुरदासपुर।। मैं उनको खदेड़ कर ही दम लूंगा...................यही आखिरी शब्द थे गुरदासपुर आतंकी हमले में शहीद हुए एसपी बलजीत सिंह के............आतंकवादियों कि गोलियां लगातार एसपी के पास से निकल रही थीं। बलजीत थाने की छत पर एक टंकी के पीछे छुप कर उनको जवाब दे रहे थे। 
   जब एएसआई सिंह ने उनसे संभलकर रहने के लिए कहा तो उनका जवाब था- आप मेरी चिंता मत करो और आगे बढ़ कर लड़ो......मैं इनको खदेड़ कर ही रहूंगा। तभी एक गोली बलजीत के सिर को छेदते हुए निकल गई। उन्‍हें अस्‍पताल ले जाया गया, जहां उन्‍होंने दम तोड़ दिया। कपूरथला के रहने वाले बलजीत सिंह डेढ़ महीने पहले ही प्रमोशन पाकर एसपी बने थे। शहीद हुए एसपी बलजीत सिंह और मारे गए सभी नागरिको को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित है।
8:15 PM | 0 comments | Read More

Jaipur News

Crime News

Industry News

The Strategist

Commodities

Careers